भारत के प्रथम फ्रीडम फाइटर कौन थे?...


user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

3:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा कि भारत के प्रथम फ्रीडम फाइटर कौन थे रिदम स्वतंत्रता सेनानी अंग्रेजों ने 1819 में जो शादी थी अट्ठारह सौ खत्म हुआ था 1901 के बाद ही वह उससे पहले ही हमारे देश में आ गए थे और उन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी नामक एक कंपनी खोल दी थी उस कंपनी में वह केवल बिजनेस करने के उपाय इंटरव्यू से आए थे लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने देखा कि हमारे देश के लोग कमजोर हैं और यहां पर अज्ञानता की बहुत प्रभुता है और यहां के लोगों में दम नहीं है तो हम इनके ऊपर राज्य कर सकते हैं तो तभी से उन्होंने अट्ठारह सौ सत्तावन से पहले 1820 30 40 में बहुत ही ज्यादा अन्याय और भारतीय क्रूर पना जो है वह हमारे इंडियंस के साथ किया तो महारानी लक्ष्मीबाई जो थी वह अमरों जीवन की बेटी थी और अपने नाना साहब के पास पल रही थी अपने रिश्तेदार क्या क्योंकि उनकी मां नहीं थी तो वह वहां पलते हुए देखती थी दरबार में कि जब भी अंग्रेज जाते हैं सब लोग उनके सामने झुक झुक के प्रणाम करते हैं और जब कि अंग्रेजों की शक्ल पर तो इतना गर्व और इतना वह देखता है कि वह इंडियन स्कोर कुछ नहीं मानते हैं तो कई बार उन्होंने भारतीयों को अंग्रेजों की पेंट की बेल्ट से मार खाते हुए देखा था और मजदूरों को मजदूरी कर आते समय भी कोड़े बरसाए जाते थे तो उन्होंने अपनी एक टीम बनाई और अपनी टीम से वह तेरा 14 साल की उम्र में जुड़ गई और उन्होंने स्वतंत्रता की पहली अलग लोगों के मन में यह बात डाली कि तुम अपने हिंदुस्तान को क्यों दूसरों के हाथ में सौंप रहे हो और ऐसे करते-करते अट्ठारह सौ सत्तावन तक आते-आते उनकी शादी हो गई थी और वह राजा आपके पास पहुंच चुकी थी गंगाधर राव के पास और वहां उन्होंने एक नारी सेना बनाई जिसको कहा जाता है कि पहली चिंगारी अगर स्वतंत्रा सेनानी के रूप में लगी तो वह महारानी लक्ष्मीबाई ने लगाई तात्या तोपे थे उनके साथ मंगल पांडे थे फिर उनकी लगाई हुई चिंगारी मेरठ तक आ गई दिल्ली तक आ गई पूरे देश में फैल गई और बहादुर शाह जफर तब हमारे लास्ट के मुगलकालीन वो थे मुगल राजा उनके मन में भी अब आ जाएगी क्योंकि उन्हें अपने सारा राज्य अंग्रेजों को सौंप दूं तो यह चिंगारी प्रथम स्वतंत्रता सेनानी के रूप में हमारी महारानी लक्ष्मीबाई वीरांगना ने लगाई थी हम उसके बाद 1857 से लेकर 1947 तक को भी लोग इतने जागरूक हो गए थे कि हमें 90 साल लग गए अपनी स्वतंत्रता को प्राप्त करने के लिए बीच में फिर यह महात्मा गांधी और सब लोग भी उन्हें शो में आ गए थे तो इस तरीके से यह धीरे-धीरे अभी चलता रहा

aapne poocha ki bharat ke pratham freedom fighter kaun the ryhthm swatantrata senani angrejo ne 1819 me jo shaadi thi attharah sau khatam hua tha 1901 ke baad hi vaah usse pehle hi hamare desh me aa gaye the aur unhone east india company namak ek company khol di thi us company me vaah keval business karne ke upay interview se aaye the lekin dhire dhire unhone dekha ki hamare desh ke log kamjor hain aur yahan par agyanata ki bahut prabhuta hai aur yahan ke logo me dum nahi hai toh hum inke upar rajya kar sakte hain toh tabhi se unhone attharah sau sattawan se pehle 1820 30 40 me bahut hi zyada anyay aur bharatiya krur pana jo hai vaah hamare indians ke saath kiya toh maharani lakshmibai jo thi vaah amaron jeevan ki beti thi aur apne nana saheb ke paas pal rahi thi apne rishtedar kya kyonki unki maa nahi thi toh vaah wahan palate hue dekhti thi darbaar me ki jab bhi angrej jaate hain sab log unke saamne jhuk jhuk ke pranam karte hain aur jab ki angrejo ki shakl par toh itna garv aur itna vaah dekhta hai ki vaah indian score kuch nahi maante hain toh kai baar unhone bharatiyon ko angrejo ki paint ki belt se maar khate hue dekha tha aur majduro ko mazdoori kar aate samay bhi kode barsaye jaate the toh unhone apni ek team banai aur apni team se vaah tera 14 saal ki umar me jud gayi aur unhone swatantrata ki pehli alag logo ke man me yah baat dali ki tum apne Hindustan ko kyon dusro ke hath me saunp rahe ho aur aise karte karte attharah sau sattawan tak aate aate unki shaadi ho gayi thi aur vaah raja aapke paas pohch chuki thi gangadhar rav ke paas aur wahan unhone ek nari sena banai jisko kaha jata hai ki pehli chingaari agar swatantra senani ke roop me lagi toh vaah maharani lakshmibai ne lagayi tatya tope the unke saath mangal pandey the phir unki lagayi hui chingaari meerut tak aa gayi delhi tak aa gayi poore desh me fail gayi aur bahadur shah jafar tab hamare last ke mugalakalin vo the mughal raja unke man me bhi ab aa jayegi kyonki unhe apne saara rajya angrejo ko saunp doon toh yah chingaari pratham swatantrata senani ke roop me hamari maharani lakshmibai virangana ne lagayi thi hum uske baad 1857 se lekar 1947 tak ko bhi log itne jagruk ho gaye the ki hamein 90 saal lag gaye apni swatantrata ko prapt karne ke liye beech me phir yah mahatma gandhi aur sab log bhi unhe show me aa gaye the toh is tarike se yah dhire dhire abhi chalta raha

आपने पूछा कि भारत के प्रथम फ्रीडम फाइटर कौन थे रिदम स्वतंत्रता सेनानी अंग्रेजों ने 1819 मे

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  1087
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!