मेरा आँख का हॉस्पिटल है और चश्मे का दुकान है, वह क्यों नहीं चलते हैं, कोई उपाय बताएं?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

5:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मीरा हॉस्पिटल है और चश्मे का दुकान है वह क्यों नहीं चलते हैं कोई उपाय बताएं आप हॉस्पिटल और रखने का दुकान दोनों अगर आपने रखा है तो लोगों को सकता है कि आपके बारे में अलग-अलग डालना हो सकती है कि आपको चश्मा भी बेचते हैं और आपके नंबर भी निकालते हैं क्योंकि वैसे तो आजकल आपके नंबर चश्मे की दुकान वाले भी निकाल लेते हैं उसका मशीन जो आता है लेकिन जहां तक हो सके लोग कहते हैं कि आंख के डॉक्टर से ही चश्मे का नंबर आपका नंबर निकलवाया आंख में सीट नंबर ही नहीं होते बहुत सारी समस्याएं होती आपका जो मुखिया होता है वह समस्या होती है मोतियाबिंद इसके अलावा रूप से भी ज्यादा होते हैं लेजर टेक्निक भी आ गई है 20 बिहार के नंबर उतारे जाते हैं तो अब चाहे तो चश्मे की दुकान के बजाय आप सिर्फ आंख के रोग और आप के नंबर उतारने की जो लेटर टेक्निक का अगर आपको कर सके तो ले जा भाई सेंटर जो बना सके तो उसे सस्ता कर कर सकें क्योंकि आज चलो धीमे-धीमे सस्ता तो हो रहा है लेकिन अभी भी पोर्टेबल नहीं है और दूसरे की आंख का नंबर से उस ठीक हो जाता है तभी वह लेजर टेक्निक से आंख का नंबर उतारा जाता लेकिन आंख के रोग बहुत से होते हैं और उसका उपचार करने में आप आई का कैंप लगाइए उसमें अपनी सेवा दीजिए इसके द्वारा रक्तदान के लिए लोगों को प्रेरणा दीजिए तो यह सब होता है तो सेवा की सेवा भी होती है और आपको पसंद आई कैंप लगाने से आप सेवा देते हैं लेकिन आपका नाम बहुत ही आगे चलते होता है यह सेवा भाभी डॉक्टर की और डॉक्टर का पता ही ऐसा है कि सेवा जरूरत होती है और आप जैसा कीमती जो अंग इंसान का उसे बहुत ही इस पैसे को नोबल प्रोफेशन माना गया तो आप जरूर आई कैंप लगाएं इसके अलावा देवा भी देव लोगों और हो सके तो सरकारी अस्पताल में भी एक दिन अपनी सेवा दी और अगर आपकी जो आंख की हॉस्पिटल ऐसी जगह पर है तो उसी जगह भी बदल सकते हैं क्योंकि चश्मे में ज्यादा ज्यादा कमाई कितनी है ज्यादा ज्यादा चश्मे में 810 फिल्म दे सकते हैं बाकी गोगल्स होता है तो गूगल की बिक्री ज्यादा होती है धूप के चश्मे इसे कहते हैं तो उसने रोज का आपको हजार पंद्रह सौ कमाने के बजे उसकी जगह पर आपको एक ही अपनी जो स्पेशलिटी है जो आपकी डॉक्टर की डिग्री जो आपको मिली है आपके सर्जन के रूप में तो उसे आप ज्यादा पेपर करें और उसी पर ज्यादा ध्यान दें और यह चश्मे की दुकान पर आंख के डॉक्टर को ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं सिर्फ अपने प्रोफेशन पर जान देते हैं तो उनके लिए फायदेमंद होता है क्योंकि चश्मे की दुकान काफी ज्यादा मिल जाएंगे वह कोई भी खोल सकता लेकिन आंख के डॉक्टर बहुत कम होते हैं ऑटो आंख के डॉक्टर के तौर पर अब ज्यादा अगर उस पैसे पर ध्यान देंगे तो जरूर आपको फायदा पहुंचने की पूरी उम्मीद क्योंकि मैं भी पहले चश्मे के पास बनाता था और चश्मा भी बना चुका हूं लेकिन उसमें जो मैन्युफैक्चर से ज्यादा डीलर कोई प्रॉफिट मिलता है रिटेल काम होता है लेकिन आप स्वयं से ज्यादा दिखती हो इस तरह से उसने हजार ₹2000 से ज्यादा कोई बहुत ज्यादा प्रॉफिट नहीं होता लेकिन आप कल डॉक्टर होता है उसकी कंसल्टेंसी कम से कम कम से कम 300 ₹400 तो खाली कंसलटेंसी नियर की आंख का प्रेशर चेक करते हैं आपके नंबर निकालते हैं या और भी जो आपकी तकलीफ है तो सब में ज्यादा एक तरफ से कमाई भी कर सकते हैं और उसे विश यू ऑल द बेस्ट थैंक्यू

meera hospital hai aur chashme ka dukaan hai vaah kyon nahi chalte hain koi upay bataye aap hospital aur rakhne ka dukaan dono agar aapne rakha hai toh logo ko sakta hai ki aapke bare me alag alag dalna ho sakti hai ki aapko chashma bhi bechte hain aur aapke number bhi nikalate hain kyonki waise toh aajkal aapke number chashme ki dukaan waale bhi nikaal lete hain uska machine jo aata hai lekin jaha tak ho sake log kehte hain ki aankh ke doctor se hi chashme ka number aapka number nikalavaya aankh me seat number hi nahi hote bahut saari samasyaen hoti aapka jo mukhiya hota hai vaah samasya hoti hai motiyabind iske alava roop se bhi zyada hote hain laser technique bhi aa gayi hai 20 bihar ke number utare jaate hain toh ab chahen toh chashme ki dukaan ke bajay aap sirf aankh ke rog aur aap ke number utarane ki jo letter technique ka agar aapko kar sake toh le ja bhai center jo bana sake toh use sasta kar kar sake kyonki aaj chalo dhime dhime sasta toh ho raha hai lekin abhi bhi portable nahi hai aur dusre ki aankh ka number se us theek ho jata hai tabhi vaah laser technique se aankh ka number utara jata lekin aankh ke rog bahut se hote hain aur uska upchaar karne me aap I ka camp lagaaiye usme apni seva dijiye iske dwara raktadan ke liye logo ko prerna dijiye toh yah sab hota hai toh seva ki seva bhi hoti hai aur aapko pasand I camp lagane se aap seva dete hain lekin aapka naam bahut hi aage chalte hota hai yah seva bhabhi doctor ki aur doctor ka pata hi aisa hai ki seva zarurat hoti hai aur aap jaisa kimti jo ang insaan ka use bahut hi is paise ko noble profession mana gaya toh aap zaroor I camp lagaye iske alava deva bhi dev logo aur ho sake toh sarkari aspatal me bhi ek din apni seva di aur agar aapki jo aankh ki hospital aisi jagah par hai toh usi jagah bhi badal sakte hain kyonki chashme me zyada zyada kamai kitni hai zyada zyada chashme me 810 film de sakte hain baki gogals hota hai toh google ki bikri zyada hoti hai dhoop ke chashme ise kehte hain toh usne roj ka aapko hazaar pandrah sau kamane ke baje uski jagah par aapko ek hi apni jo speciality hai jo aapki doctor ki degree jo aapko mili hai aapke Surgeon ke roop me toh use aap zyada paper kare aur usi par zyada dhyan de aur yah chashme ki dukaan par aankh ke doctor ko zyada dhyan nahi dete hain sirf apne profession par jaan dete hain toh unke liye faydemand hota hai kyonki chashme ki dukaan kaafi zyada mil jaenge vaah koi bhi khol sakta lekin aankh ke doctor bahut kam hote hain auto aankh ke doctor ke taur par ab zyada agar us paise par dhyan denge toh zaroor aapko fayda pahuchne ki puri ummid kyonki main bhi pehle chashme ke paas banata tha aur chashma bhi bana chuka hoon lekin usme jo mainyufaikchar se zyada dealer koi profit milta hai retail kaam hota hai lekin aap swayam se zyada dikhti ho is tarah se usne hazaar Rs se zyada koi bahut zyada profit nahi hota lekin aap kal doctor hota hai uski consultancy kam se kam kam se kam 300 Rs toh khaali kansalatensi near ki aankh ka pressure check karte hain aapke number nikalate hain ya aur bhi jo aapki takleef hai toh sab me zyada ek taraf se kamai bhi kar sakte hain aur use wish you all the best thainkyu

मीरा हॉस्पिटल है और चश्मे का दुकान है वह क्यों नहीं चलते हैं कोई उपाय बताएं आप हॉस्पिटल औ

Romanized Version
Likes  404  Dislikes    views  5658
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR. MANISH

MULTI TASKER & DR.M.D (A.M.), B-PHARMA, PGDM-M

1:13
Play

Likes  75  Dislikes    views  878
WhatsApp_icon
user

Pramod Kushwaha

famous Motivational Guru N Painter

1:37
Play

Likes  57  Dislikes    views  1481
WhatsApp_icon
user

Shikha Gogia

weight Lose / Gain / Weight Maintain Wellness Coach Profil..5 pillers... Physical /Mental /Spiritual/Social/Emotional Health.. Some Lifstyle Changes And Environment

1:17
Play

Likes  19  Dislikes    views  262
WhatsApp_icon
user

shailesh prajapati Gkp

business consultant and all creative youth supporter

4:39
Play

Likes  6  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!