मैं घर में अकेला हूँ, मेरा मन नहीं लग रहा है, क्या करूँ??...


user

Abhishek Kumar Yadav

Expert In Account & Finance, Motivational Speaker& Life Coach

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार में विश्व कुमार है तुम उसके साथ शिकारी अकाउंट इन थाने तक तो जैसे कोई क्वेश्चन है कि आप घर में बिल्कुल अकेले आपका मन नहीं लग रहा क्या करें हर व्यक्ति के जीवन में कुछ ना कुछ होता है कुछ कुछ करना चाहता है बिना लटके जीवन ऐसा ही है जैसे कि आप समझ लीजिए कि जानवर का जीवन जानवर के जीवन आपने देखा उसके जीवन में कोई लक्ष्य नहीं होता है भगवान ने मनुष्य को इसलिए बनाया है ताकि वह अपने जीवन में कुछ ऐसा कर सके कुछ ऐसा विशिष्ट कर सके जिससे उसकी जीवन जो है जो भगवान ने दी है वह सार्थक हो जाए तो हर व्यक्ति के जीवन में क्लर्क होना चाहिए हम ऐसे न जीने जैसे कि जानवरों की तकदीर हैं हम मनुष्य हैं भगवान ने हमें किसी विशिष्ट कार्य के लिए हमें भेजा है यह हमें सोचने समझने की जरूरत है और हमारे जीवन में एक लक्ष्य होना चाहिए क्योंकि बिना लक्ष्य के जीवन सार्थक नहीं होता है तो अपने जीवन की सार्थकता को बनाइए अपने जीवन में कुछ लक्ष्य निर्धारित करिए और आगे बढ़ने की प्रयास कर लिया करते रहिए एक लक्ष्य पूरा हो जाए तो रुक कर बैठी मैं दूसरा नक्शा बनाइए दूसरा उसे 36 साल से बनाइए हमेशा छोटे से बड़े की ओर कर्म की ओर बढ़ते जाइए मान लेते हैं कि आपको बिजनेसमैन बनना पड़ता है आप डिसाइड कर लिया कि मुझे बहुत धनी व्यक्ति बनना है बिजनेसमैन बनना तो ठीक है छोटे बिजनेस स्टार्ट करिए उसके बाद बड़ा बिजनेस उसके बाद उससे बड़ा बिजनेस तो इस तरह से करके आगे बढ़ते रहिए क्योंकि जीवन हो या पानी दोनों का जो है बहना अत्यंत आवश्यक है अगर रुकेंगे तो बात है आएगी जीवन में और बाधा आएगी जीवन निरस्त आएगी इसलिए हमेशा बैठे रहना चाहिए बहते हुए पानी की तरह जीवन में बढ़ते रहना चाहिए आगे और अपने लक्ष्य की ओर अधिक रहना चाहिए इस तरह से जीवन जीने का कोई अर्थ नहीं है जिसका कोई उद्देश्य नहीं है तो घर में सीरियल मत बैठी है अपने जीवन का एक उद्देश्य बनाइए चार पढ़ाई में हो या व्यवसाय में हो जाना कोई एक उद्देश्य बनाई उसको पाने की कोशिश करिए और स्ट्रगल करिए ताकि आपका जीवन जो है जो भगवान ने जिस उद्देश्य दिया वह देश की पूर्ति हो सके धन्यवाद

namaskar me vishwa kumar hai tum uske saath shikaaree account in thane tak toh jaise koi question hai ki aap ghar me bilkul akele aapka man nahi lag raha kya kare har vyakti ke jeevan me kuch na kuch hota hai kuch kuch karna chahta hai bina latke jeevan aisa hi hai jaise ki aap samajh lijiye ki janwar ka jeevan janwar ke jeevan aapne dekha uske jeevan me koi lakshya nahi hota hai bhagwan ne manushya ko isliye banaya hai taki vaah apne jeevan me kuch aisa kar sake kuch aisa vishisht kar sake jisse uski jeevan jo hai jo bhagwan ne di hai vaah sarthak ho jaaye toh har vyakti ke jeevan me clerk hona chahiye hum aise na jeene jaise ki jaanvaro ki takdir hain hum manushya hain bhagwan ne hamein kisi vishisht karya ke liye hamein bheja hai yah hamein sochne samjhne ki zarurat hai aur hamare jeevan me ek lakshya hona chahiye kyonki bina lakshya ke jeevan sarthak nahi hota hai toh apne jeevan ki sarthakta ko banaiye apne jeevan me kuch lakshya nirdharit kariye aur aage badhne ki prayas kar liya karte rahiye ek lakshya pura ho jaaye toh ruk kar baithi main doosra naksha banaiye doosra use 36 saal se banaiye hamesha chote se bade ki aur karm ki aur badhte jaiye maan lete hain ki aapko bussinessmen banna padta hai aap decide kar liya ki mujhe bahut dhani vyakti banna hai bussinessmen banna toh theek hai chote business start kariye uske baad bada business uske baad usse bada business toh is tarah se karke aage badhte rahiye kyonki jeevan ho ya paani dono ka jo hai bahna atyant aavashyak hai agar rokenge toh baat hai aayegi jeevan me aur badha aayegi jeevan nirast aayegi isliye hamesha baithe rehna chahiye bahte hue paani ki tarah jeevan me badhte rehna chahiye aage aur apne lakshya ki aur adhik rehna chahiye is tarah se jeevan jeene ka koi arth nahi hai jiska koi uddeshya nahi hai toh ghar me serial mat baithi hai apne jeevan ka ek uddeshya banaiye char padhai me ho ya vyavasaya me ho jana koi ek uddeshya banai usko paane ki koshish kariye aur struggle kariye taki aapka jeevan jo hai jo bhagwan ne jis uddeshya diya vaah desh ki purti ho sake dhanyavad

नमस्कार में विश्व कुमार है तुम उसके साथ शिकारी अकाउंट इन थाने तक तो जैसे कोई क्वेश्चन है क

Romanized Version
Likes  126  Dislikes    views  1439
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!