मनोविज्ञान विचारधारा के प्रवर्तक किसे माना जाता है?...


user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनोवैज्ञानिक धारा के प्रवर्तक वैसे तो औरत के विलेन वंश को ही मानते हैं जो एटींथ सेंचरी में थे लेकिन उसके बाद धीरे-धीरे यह फ्राइड की तरफ आ गया प्राईड एक बहुत बड़े साइकोएनालिटिक थे जो साइकोलॉजी को एक्सपेरिमेंटल बेस में लिबर्टी तक ले जाना चाहते थे वह चाहते थे कि कुछ ऐसे टेस्ट बनाए जाए जिससे व्यक्ति के मन मस्तिष्क का विश्लेषण हो सके विश्लेषण यानी हर चीज को खोल के समझ समझा जा सके तो उन्होंने एक मेथड चलाया था यह अपने टेशन या नहीं हटा देते थे व्यक्ति को और कुछ इस तरीके के अगड़म बगड़म कुछ बोलते थे मंत्र और कुछ मशीन उसके सिर के ऊपर चलाई जाती थी गोल-गोल जैसे व्यक्ति अनकॉन्शियस थोड़ा सा अवचेतन अवस्था में आ जाता था और अचेतन अवस्था में आने पर उसे जो सवाल पूछे जाते थे वह उनका सही सही जवाब देने लग जाता था तो एक्सपेरिमेंटल साइकोलॉजी कि अगर क्रेडिट दिया जाए किसी को तो फ्राइडे को है उसके बाद जब 1920 के आसपास 16 से लेकर 20 के बीच में अंग्रेजों का रास्ता मारे ऊपर ईस्ट इंडिया कंपनी आ चुके जी तब बंगाल में बहुत बड़े साइंटिस्ट है उनका नाम था नरेंद्र नाथ सेनगुप्ता उन्होंने हमारे देश में साइकोलॉजी और उसके लिए व्हाट्सएप का सबसे पहला मनोविज्ञान की शाला उन्होंने वहां पर स्थापित की तो उन्हें हम जाना या प्रवर्तक मान सकते हैं अपने देश के लिए

manovaigyanik dhara ke pravartak waise toh aurat ke villain vansh ko hi maante hain jo eighteenth century me the lekin uske baad dhire dhire yah fried ki taraf aa gaya praid ek bahut bade saikoenalitik the jo psychology ko eksaperimental base me liberty tak le jana chahte the vaah chahte the ki kuch aise test banaye jaaye jisse vyakti ke man mastishk ka vishleshan ho sake vishleshan yani har cheez ko khol ke samajh samjha ja sake toh unhone ek method chalaya tha yah apne teshan ya nahi hata dete the vyakti ko aur kuch is tarike ke agadam bagdam kuch bolte the mantra aur kuch machine uske sir ke upar chalai jaati thi gol gol jaise vyakti anakanshiyas thoda sa avachetan avastha me aa jata tha aur achetan avastha me aane par use jo sawaal pooche jaate the vaah unka sahi sahi jawab dene lag jata tha toh eksaperimental psychology ki agar credit diya jaaye kisi ko toh friday ko hai uske baad jab 1920 ke aaspass 16 se lekar 20 ke beech me angrejo ka rasta maare upar east india company aa chuke ji tab bengal me bahut bade scientist hai unka naam tha narendra nath sengupta unhone hamare desh me psychology aur uske liye whatsapp ka sabse pehla manovigyan ki shala unhone wahan par sthapit ki toh unhe hum jana ya pravartak maan sakte hain apne desh ke liye

मनोवैज्ञानिक धारा के प्रवर्तक वैसे तो औरत के विलेन वंश को ही मानते हैं जो एटींथ सेंचरी में

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  1476
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!