नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बढ़ा है या नहीं?...


play
user

Ravi Sharma

Advocate

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने की पहली सीढी थी उसकी दूसरी सीढ़ी सीजीएसटी जिसके माध्यम से केवल मध्यवर्गीय करदाताओं को राहत प्रदान करने के लिए जोकर का जवाब था वह अन्य वर्ग पर भी स्थानांतरित किया गया अकस्मात थी करदाताओं की संख्या पूरे भारतवर्ष में पढ़ती चली गई और आज के समय में अगर हम देखें तो मैं आ पाएंगे करदाता ना केवल मध्यमवर्ग अथवा निम्न आय वर्ग से आते हैं बल्कि कुछ स्वर्ग से भी लोग कर देने के लिए बाध्य हो चुके हैं इस की तीसरी और सबसे महत्वपूर्ण CD ज्योति बात चली नोटबंदी के पश्चात जबकि आपको हर चीज आधार से अपना हर प्रकार की जो आर्थिक क्रियाकलाप थे वह आधार कार्ड से जोड़ना अनिवार्य कर दिया क्या जिससे कि आप जो बड़े करदाता थे अथवा वह लोग जो कर नहीं देते थे उनको BF कर देने के लिए बाध्य होना पड़ेगा तो मैं मानता हूं कि यह सारी चीजें आपस में जुड़ी है जीएसटी हो जइबा आधार से अपने आर्थिक क्रियाकलापों को जोड़ना हो चाहे वह नोटबंदी हो उससे भ्रष्टाचार पर कुल मिलाकर के अंकुश लगा है वह आने वाले समय में बहुत ही प्रभावी ढंग से इसको जो है हम लागू कर पाएंगे तथा भ्रष्टाचार में आमूलचूल परिवर्तन आएंगे भ्रष्टाचार के लिए जिस प्रकार की कानून बने बने सख्ती से लागू नहीं किया जा सका इन छोटे-छोटे माध्यमों के द्वारा हम ना केवल यह सुनिश्चित करेंगे Kick करदाताओं को कुछ राहत मिले उनके ऊपर से कोई जवाब कम हो साथ ही साथ अनैतिक तरह से करना देने वाले जो व्यवसाई भरते व्यापारी वक्त है उन पर भी दबाव बढ़ेगा तो था वह चीज के लिए बाध्य होंगे कि वह जिस प्रकार का आर्थिक भ्रष्टाचार भारतीय अर्थव्यवस्था में फैला रहे थे उस से भारतीय अर्थव्यवस्था को निजात मिलेगी तथा भारत की विकास दर आने वाले समय में इन सभी कदमों के माध्यम से भरने की अपेक्षा है धन्यवाद

notebandi bhrashtachar par ankush lagane ki pehli sidhi thi uski dusri sidhi CGST jiske madhyam se keval madhyawargiya kardataon ko rahat pradan karne ke liye joker ka jawab tha vaah anya varg par bhi sthanantarit kiya gaya akasmat thi kardataon ki sankhya poore bharatvarsh mein padhati chali gayi aur aaj ke samay mein agar hum dekhen toh main aa payenge kardata na keval madhyamavarg athva nimn aay varg se aate hain balki kuch swarg se bhi log kar dene ke liye badhya ho chuke hain is ki teesri aur sabse mahatvapurna CD jyoti baat chali notebandi ke pashchat jabki aapko har cheez aadhaar se apna har prakar ki jo aarthik kriyakalap the vaah aadhaar card se jodna anivarya kar diya kya jisse ki aap jo bade kardata the athva vaah log jo kar nahi dete the unko BF kar dene ke liye badhya hona padega toh main manata hoon ki yah saree cheezen aapas mein judi hai gst ho jaiba aadhaar se apne aarthik kriyaklapon ko jodna ho chahen vaah notebandi ho usse bhrashtachar par kul milakar ke ankush laga hai vaah aane waale samay mein bahut hi prabhavi dhang se isko jo hai hum laagu kar payenge tatha bhrashtachar mein amulchul parivartan aayenge bhrashtachar ke liye jis prakar ki kanoon bane bane sakhti se laagu nahi kiya ja saka in chhote chhote maadhyamon ke dwara hum na keval yah sunishchit karenge Kick kardataon ko kuch rahat mile unke upar se koi jawab kam ho saath hi saath anaitik tarah se karna dene waale jo vyavasai bharte vyapaari waqt hai un par bhi dabaav badhega toh tha vaah cheez ke liye badhya honge ki vaah jis prakar ka aarthik bhrashtachar bharatiya arthavyavastha mein faila rahe the us se bharatiya arthavyavastha ko nijat milegi tatha bharat ki vikas dar aane waale samay mein in sabhi kadmon ke madhyam se bharne ki apeksha hai dhanyavad

नोटबंदी भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने की पहली सीढी थी उसकी दूसरी सीढ़ी सीजीएसटी जिसके माध्यम स

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  233
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह आपको किसने बता दिया कि नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बढ़ा है या भ्रष्टाचार कम हुआ है अब देखिए आतंकवादी आतंकवादियों को उनकी औकात समझ में आ गई है मसूद अजहर का अपने न्यूज़ सुना होगा अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी बना दिया गया उसे घोषित कर दिया गया यूनाइटेड नेशन में घोषित हो गए हो और आदेश दे दिया गया जहां दिखाई दे उसको गोली मारो यह प्रधानमंत्री मोदी जी की कूटनीतिक जीत है आज आपका देश विश्व स्तर पर बहुत तेजी से आगे बढ़ने वाला देश है और रही बात नोटबंदी की नोटबंदी अगर सफल नहीं होता ना तो उत्तर प्रदेश में 325 सीट भारतीय जनता पार्टी की नहीं आती नोटबंदी से जो जाली नोटों का कारोबार होता था सब बंद हो गया आज देखिए जम्मू कश्मीर में कितने लोग अच्छे से रह रहे हैं किसके वजह से मोदी जी की वजह से पहले पत्थर मारते थे लोग आर्मी भाइयों के ऊपर अब कोई पत्थर नहीं मारता है धीरे-धीरे हमारा देश आगे बढ़ेगा चुनाव चल रहा है हम सभी लोगों को अपना वोट कमल के फूल पर देना होगा कमल को आप वोट देंगे तो आप समझ लीजिए कि विश्व स्तर पर आप आगे बढ़ेंगे आपका देश आगे बढ़ेगा हम सभी लोगों को मिलजुल कर अपना वोट भारतीय जनता पार्टी को देना होगा भारतीय जनता पार्टी को देने के बाद आप यह समझ लीजिए कि आतंकवाद का अगले 5 साल में पूरा नाम ओ निशान मिट जाएगा धन्यवाद

yah aapko kisne bata diya ki notebandi ke baad bhrashtachar badha hai ya bhrashtachar kam hua hai ab dekhiye aatankwadi aatankwadion ko unki aukat samajh mein aa gayi hai masood azhar ka apne news suna hoga antararashtriya aatankwadi bana diya gaya use ghoshit kar diya gaya united nation mein ghoshit ho gaye ho aur aadesh de diya gaya jaha dikhai de usko goli maaro yah pradhanmantri modi ji ki kutanitik jeet hai aaj aapka desh vishwa sthar par bahut teji se aage badhne vala desh hai aur rahi baat notebandi ki notebandi agar safal nahi hota na toh uttar pradesh mein 325 seat bharatiya janta party ki nahi aati notebandi se jo jaali noton ka karobaar hota tha sab band ho gaya aaj dekhiye jammu kashmir mein kitne log acche se reh rahe hain kiske wajah se modi ji ki wajah se pehle patthar marte the log army bhaiyo ke upar ab koi patthar nahi maarta hai dhire dhire hamara desh aage badhega chunav chal raha hai hum sabhi logo ko apna vote kamal ke fool par dena hoga kamal ko aap vote denge toh aap samajh lijiye ki vishwa sthar par aap aage badhenge aapka desh aage badhega hum sabhi logo ko miljul kar apna vote bharatiya janta party ko dena hoga bharatiya janta party ko dene ke baad aap yah samajh lijiye ki aatankwad ka agle 5 saal mein pura naam o nishaan mit jaega dhanyavad

यह आपको किसने बता दिया कि नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बढ़ा है या भ्रष्टाचार कम हुआ है अब देख

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  365
WhatsApp_icon
user

Abhay Pratap

Advocate | Social Welfare Activist

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार कम तो नहीं हुआ पर सरकार को एक बड़ी जोड़ी मिल गई भ्रष्टाचारियों की फौज की जिससे वह राष्ट्रीय विकास में निरंतर प्रयत्नशील है अर्थात नोटबंदी के बाद अवैध रूप से जमा किए गए पैसों को सरकार छानबीन के द्वारा आज तक पूरा पूरा नहीं कर पाई और पूरा करने में उसे आर्थिक और मानसिक सहयोग प्राप्त हो रहा है अतः नोट बंदी का फैसला सही था और भ्रष्टाचार पर उसका एक सर्जिकल स्ट्राइक गुड रहा

notebandi ke baad bhrashtachar kam toh nahi hua par sarkar ko ek badi jodi mil gayi bharashtachariyo ki fauj ki jisse vaah rashtriya vikas mein nirantar prayatnashil hai arthat notebandi ke baad awaidh roop se jama kiye gaye paison ko sarkar chanbin ke dwara aaj tak pura pura nahi kar payi aur pura karne mein use aarthik aur mansik sahyog prapt ho raha hai atah note bandi ka faisla sahi tha aur bhrashtachar par uska ek surgical strike good raha

नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार कम तो नहीं हुआ पर सरकार को एक बड़ी जोड़ी मिल गई भ्रष्टाचारियों क

Romanized Version
Likes  95  Dislikes    views  991
WhatsApp_icon
user

Saaim Israr

Journalist , Digital Marketer, Lawyer, Social Activist ,Political Campaign Strategist ,Poet, Author ,MotivationalSpeaker

2:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी से भारत के अंदर भ्रष्टाचार पर ना तो लगाम लग सकती है और ना ही इसमें कोई कमी आई है नोटबंदी सरकार की एक गलत नीति के तौर पर सामने आई है सबसे महत्वपूर्ण बात आपको समझ नहीं होगी कि नोटबंदी को जिस चीज के लिए लाया गया था उसमें नरेंद्र मोदी सरकार कामयाब नहीं हो सकी साथ ही साथ इसकी वजह से देश के अंदर जो दुष्प्रभाव पड़े हैं मतलब जो गलत इसके असरात पड़े हैं उनसे बहुत बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है जैसे आज जो देश की अर्थव्यवस्था के हालात है वह नोटबंदी की वजह से हैं जब से यह नोट बंदी हुई है तब से देश के अंदर लगातार परचेसिंग पावर कम होती चली गई साथ ही साथ देश के अंदर जो पैसे का रोटेशन था वह भी कम हुआ है और जो यह बात कहते हैं कि भ्रष्टाचार पर लगाम लगी आतंकवाद पर लगाम लगी तो यह दोनों ही चीजें गलत हुई क्योंकि पुलवामा का हमला और देश के दर अन्य संप्रदायिक दंगे या फिर कश्मीर के अंदर पत्थरबाजी के मसले जो नोटबंदी से लिंक किए जाते हैं मेरे साथी के सारे गलत है क्योंकि ना तो 7 अंक वाद रुका ना ही कश्मीर के अंदर पत्थरबाजी रुकी नाही टेरर फंडिंग में कोई रोक आई क्योंकि पहले जिस तरह से नकली नोट छापा करते थे आज के जो नोट हैं उनको भी इच्छा अपना इतना ही आसान है और यह नकली नोटों की जो करेंसी हाल ही में नेपाल बॉर्डर के आसपास पकड़ी गई या बिहार के कुछ अन्य क्षेत्रों में पकड़ी गई उसे साफ नजर आता है कि भ्रष्टाचार पर इस से कोई लगाव नहीं लगता कि है और यह जो नई करेंसी है उसमें 2000 के जो नोट हैं पहले इसमें मीडिया द्वारा बताया गया था कि इसमें नैनो चिप है जो सेटेलाइट द्वारा पकड़ लेगी अगर आपने कहीं बल्क में नोट इकट्ठे करके रख रखे हैं तो ऐसा कुछ भी नहीं है ना ही नोटों के अंदर कोई ऐसी टेक्नोलॉजी यूज हुई है और सबसे बड़ी चीज पहले 1000 के नोट की गड्डी बनाकर इंसान रखा करता था तो पैसे वह ज्यादा लगते थे लेकिन आज 2000 के नोट के हिसाब से अगर ब्लैक मनी आदमी को पाना चाहता है तो बहुत आराम से छुपाया जा सकता है हाल ही में आपने देखा था कि साउथ के हीरो हैं उनके घर पर छापा पड़ा वहां से ब्लैक मनी पकड़ी गई और भी कई जगहों पर छापे पड़े अधिकारियों के पास करोड़ो अरबो रूपए की संपत्ति निकली है तो मेरा यह मानना है कि जो आज के हालात हैं जो देश की फाइनेंसियल कंडीशन है जो भ्रष्टाचार के हालात है उसको देखते हुए मुझे नहीं लगता कि नोटबंदी ने कोई बड़ा असर डाला है सबसे बड़ी चीज आपको एक और बता दूं तो जिस तरह से नोटबंदी के बाद जो यह बैंकों के अंदर लेनदेन हुआ था यानी कि जब नोट बदलने को लेकर लेनदेन हुआ था तो उसमें बड़े घोटाले उसमें बड़ी हेराफेरी हुई थी और कहने का मतलब यह है कि उसी की वजह से भ्रष्टाचार में बढ़ावा मिला था

notebandi se bharat ke andar bhrashtachar par na toh lagaam lag sakti hai aur na hi isme koi kami I hai notebandi sarkar ki ek galat niti ke taur par saamne I hai sabse mahatvapurna baat aapko samajh nahi hogi ki notebandi ko jis cheez ke liye laya gaya tha usme narendra modi sarkar kamyab nahi ho saki saath hi saath iski wajah se desh ke andar jo dushprabhav pade hain matlab jo galat iske asarat pade hain unse bahut badi dikkaton ka samana karna pada hai jaise aaj jo desh ki arthavyavastha ke haalaat hai vaah notebandi ki wajah se hain jab se yah note bandi hui hai tab se desh ke andar lagatar parachesingh power kam hoti chali gayi saath hi saath desh ke andar jo paise ka rotation tha vaah bhi kam hua hai aur jo yah baat kehte hain ki bhrashtachar par lagaam lagi aatankwad par lagaam lagi toh yah dono hi cheezen galat hui kyonki pulwama ka hamla aur desh ke dar anya sampradaayik dange ya phir kashmir ke andar patharbaji ke masle jo notebandi se link kiye jaate hain mere sathi ke saare galat hai kyonki na toh 7 ank vad ruka na hi kashmir ke andar patharbaji ruki naahi terror funding mein koi rok I kyonki pehle jis tarah se nakli note chapa karte the aaj ke jo note hain unko bhi iccha apna itna hi aasaan hai aur yah nakli noton ki jo currency haal hi mein nepal border ke aaspass pakadi gayi ya bihar ke kuch anya kshetro mein pakadi gayi use saaf nazar aata hai ki bhrashtachar par is se koi lagav nahi lagta ki hai aur yah jo nayi currency hai usme 2000 ke jo note hain pehle isme media dwara bataya gaya tha ki isme nano chip hai jo satellite dwara pakad legi agar aapne kahin bulk mein note ikatthe karke rakh rakhe hain toh aisa kuch bhi nahi hai na hi noton ke andar koi aisi technology use hui hai aur sabse badi cheez pehle 1000 ke note ki gaddi banakar insaan rakha karta tha toh paise vaah zyada lagte the lekin aaj 2000 ke note ke hisab se agar black money aadmi ko paana chahta hai toh bahut aaram se chupaya ja sakta hai haal hi mein aapne dekha tha ki south ke hero hain unke ghar par chapa pada wahan se black money pakadi gayi aur bhi kai jagaho par chaape pade adhikaariyo ke paas croredo arabo rupee ki sampatti nikli hai toh mera yah manana hai ki jo aaj ke haalaat hain jo desh ki financial condition hai jo bhrashtachar ke haalaat hai usko dekhte hue mujhe nahi lagta ki notebandi ne koi bada asar dala hai sabse badi cheez aapko ek aur bata doon toh jis tarah se notebandi ke baad jo yah bankon ke andar lenden hua tha yani ki jab note badalne ko lekar lenden hua tha toh usme bade ghotale usme badi heraferi hui thi aur kehne ka matlab yah hai ki usi ki wajah se bhrashtachar mein badhawa mila tha

नोटबंदी से भारत के अंदर भ्रष्टाचार पर ना तो लगाम लग सकती है और ना ही इसमें कोई कमी आई है न

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

Devkumar Kaneri BSP

Advocate & Politicians

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बढ़ा है कि नहीं आपको पर्सनल सम्मानित साथी मैं कहना चाहता हूं कि नोटबंदी के बाद भी भ्रष्टाचार बहुत बड़ा है अरे पहले भ्रष्टाचार को नोटबंदी के पहनो ट्रांसफर करने के नाम पर भ्रष्टाचार हुआ है लोग अपने पैसों को कमीशन मिलता है तो भ्रष्टाचार से शुरू हो गया नोटबंदी पैदाइशी पैदा होता बल्कि आर्थिक संकट खड़ा हो गया लोगों में बहुत सारे परेशानी और जो हालात देख रहा है भ्रष्टाचार सूचकांक नोटबंदी के कारण आज करोना के कारण देश में आया हुआ है आज बहुत सारे जो एक बेवफा है लोगों का अनुभव भारतीय लोगों को बताना चाहता हूं और नोटबंदी आम किसानों को नोटबंदी से फायदे बहुत उसके अंदर बारिश के अंदर आम जनजीवन त्रस्त रखा है नोटबंदी से सिर्फ शासन करता लोगों को लाभ हुआ है बीजेपी को हिला

notebandi ke baad bhrashtachar badha hai ki nahi aapko personal sammanit sathi main kehna chahta hoon ki notebandi ke baad bhi bhrashtachar bahut bada hai are pehle bhrashtachar ko notebandi ke pahano transfer karne ke naam par bhrashtachar hua hai log apne paison ko commision milta hai toh bhrashtachar se shuru ho gaya notebandi paidaishi paida hota balki aarthik sankat khada ho gaya logo me bahut saare pareshani aur jo haalaat dekh raha hai bhrashtachar suchakank notebandi ke karan aaj corona ke karan desh me aaya hua hai aaj bahut saare jo ek bewafaa hai logo ka anubhav bharatiya logo ko batana chahta hoon aur notebandi aam kisano ko notebandi se fayde bahut uske andar barish ke andar aam janjivan trast rakha hai notebandi se sirf shasan karta logo ko labh hua hai bjp ko hila

नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बढ़ा है कि नहीं आपको पर्सनल सम्मानित साथी मैं कहना चाहता हूं कि

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  953
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1 नवंबर 2016 प्रधानमंत्री मोदी का एक अप्रत्यक्ष निर्णय इस निर्णय के पीछे उनका उद्देश्य भ्रष्टाचार नकली मुद्रा और कालेधन पर लगाम 500 दिन के नोटों के बंद होने से आतंकवाद और भ्रष्टाचार पर भारी असर हुआ 500 1000 के नोटों के रूप में नकली नोट बहुत अधिक बाजार में चल रहे थे इस निर्णय से सारी नकली मुद्रा प्रचलन के बाहर चली गई इससे आतंकवाद पर गहरा असर हुआ काला धन रखने वाले लोगों के पास उस पैसे को बैंक में देने के सिवा कोई विकल्प नहीं बचा कुछ आर्थिक लेनदेन से छुटकारा मिला काले धन के जमाखोरों के भविष्य की संभावनाओं पर लगाम लग गई क्योंकि करोड़ों का नकद लेन देन करना असंभव हो गया नोटबंदी ने भ्रष्टाचारियों की नींदें उड़ा दी है जमाखोर अपने पैसे को ठिकाने लगाने की जीत और कोशिश कर रहे हैं भ्रष्टाचार पर बहुत गहरा असर हुआ है आज और भी इस के अच्छे परिणाम हमें देखने को मिलेंगे

1 november 2016 pradhanmantri modi ka ek apratyaksh nirnay is nirnay ke peeche unka uddeshya bhrashtachar nakli mudra aur kaaledhan par lagaam 500 din ke noton ke band hone se aatankwad aur bhrashtachar par bhari asar hua 500 1000 ke noton ke roop mein nakli note bahut adhik bazaar mein chal rahe the is nirnay se saree nakli mudra prachalan ke bahar chali gayi isse aatankwad par gehra asar hua kaala dhan rakhne waale logo ke paas us paise ko bank mein dene ke siva koi vikalp nahi bacha kuch aarthik lenden se chhutkara mila kaale dhan ke jamakhoron ke bhavishya ki sambhavanaon par lagaam lag gayi kyonki karodo ka nakad len then karna asambhav ho gaya notebandi ne bharashtachariyo ki ninden uda di hai jamakhor apne paise ko thikane lagane ki jeet aur koshish kar rahe hain bhrashtachar par bahut gehra asar hua hai aaj aur bhi is ke acche parinam hamein dekhne ko milenge

1 नवंबर 2016 प्रधानमंत्री मोदी का एक अप्रत्यक्ष निर्णय इस निर्णय के पीछे उनका उद्देश्य भ्र

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर करप्शन इंडेक्स की पिछले साल की 2017 की रिपोर्ट देखें तो उन्होंने तुम्हें बताया था कि भारत में नोटबंदी के बाद जो है भ्रष्टाचार कुछ हद तक कम हो चुका है परंतु परंतु कल से सरकार की नोटबंदी के बाद में खाऊंगा मोदी सरकार का टारगेट मोदी के बाद देश में भ्रष्टाचार कम हो और वह लगभग 20 प्रति 20% तक भ्रष्टाचार भारत में काम हो चुका है परंतु इंटरनेशनल करप्शन इंडेक्स नहीं कहा है कि मानता और उम्मीद लगाई जा सकती कि किस प्रकार से नोटबंदी का ऐलान किया तो और भी कालाधन वापस लाया जा सकता है तो मेरे हिसाब से तो बस शुरुआत है और मोदी सरकार को आगे खड़े से कड़े कानून से भगाने सेंसेक्स भारत में भ्रष्टाचार कम हो या फिर काला पैसा जो है वह कौन लाया जाए और कब दिया जाए और तो मेरे हिसाब से अनुरोध Star चार्ज में कुछ हद तक कम हो चुकी है

agar corruption index ki pichle saal ki 2017 ki report dekhen toh unhone tumhe bataya tha ki bharat mein notebandi ke baad jo hai bhrashtachar kuch had tak kam ho chuka hai parantu parantu kal se sarkar ki notebandi ke baad mein khaunga modi sarkar ka target modi ke baad desh mein bhrashtachar kam ho aur vaah lagbhag 20 prati 20 tak bhrashtachar bharat mein kaam ho chuka hai parantu international corruption index nahi kaha hai ki manata aur ummid lagayi ja sakti ki kis prakar se notebandi ka elaan kiya toh aur bhi kaladhan wapas laya ja sakta hai toh mere hisab se toh bus shuruat hai aur modi sarkar ko aage khade se kade kanoon se bhagane sensex bharat mein bhrashtachar kam ho ya phir kaala paisa jo hai vaah kaun laya jaaye aur kab diya jaaye aur toh mere hisab se anurodh Star charge mein kuch had tak kam ho chuki hai

अगर करप्शन इंडेक्स की पिछले साल की 2017 की रिपोर्ट देखें तो उन्होंने तुम्हें बताया था कि भ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  177
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिये जितना अभी तक समझ में आ रहा है| उसे यह तो है कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार थोड़ा कम हुआ है | लोग थोड़े सतर्क हुए हैं, क्योंकि इससे पहले ऐसा दिखने लग गया था, कि भ्रष्टाचार को रोकने का शायद से कोई तरीका नहीं है| कोई कोई स्टेप ही नहीं लेने को तैयार हो रहा है| तो हां इससे काफी लोग डरे थे| काफी तरकीबें जरूर अजमाए गई थी| और जिन लोगों के पास ब्लैक मनी था| उन्होंने काफी प्रयास करा कि वह अपने ब्लैक मनी को वापस ला सके| जिसमें काफी सफल भी हुए| पर वहीं दूसरी और यह भी देखा गया की ब्लैकमनी से अब लोग थोड़ा सतर्क हो गए| लोग डरने लग गए | और वहीं पर एक समय ऐसा भी आ गया था| जब जितने भी लोगों के पास ब्लैकमनी था वह इतना ज्यादा डर गए थे| कि वह ब्लॉक को वाइट करने के लिए इधर उधर भाग रहे थे| तो हां कम हुआ है भ्रष्टाचार उससे| पर भ्रष्टाचार नहीं कम हो पाया, मेरा कहने का मतलब है, कि उससे कहीं ना कहीं ब्लैक मनी थोड़ा कम हुआ है| पर नोटबंदी से भ्रष्टाचार को हम उसे लेन देन नहीं कर पा रहे| क्योंकि आज भी देखा जाता है| कि सड़क पर पुलिस वाले जो है या फिर और अगर हम लोग बात करें| अगर हमें कोई अपना काम जल्दी करवाना होता तो वहां भ्रष्टाचार का प्रयोग करते हैं| तो मुझे ऐसा लगता है कि भ्रष्टाचार तभी खत्म हो पाएगा| अगर हम आज एक एक नागरिक अपनी खुद की जिम्मेदारी लेंगे| और खुद की जिम्मेदारी से हम यह बोल सकते हैं कि हम भ्रष्टाचार नहीं करेंगे| और अपने सामने वाले को भी भ्रष्टाचार नहीं करने देंगे| अगर यह जिम्मेदारी हमने खुद पे उठा ली तो जरूर और हम ऐसा जरूर देखेंगे कि भारत बहुत ही जल्दी भ्रष्टाचार से मुक्त हो जाएगा|

dekhiye jitna abhi tak samajh mein aa raha hai use yah toh hai ki notebandi se bhrashtachar thoda kam hua hai log thode satark hue hai kyonki isse pehle aisa dikhne lag gaya tha ki bhrashtachar ko rokne ka shayad se koi tarika nahi hai koi koi step hi nahi lene ko taiyar ho raha hai toh haan isse kaafi log dare the kaafi tarakeeben zaroor ajamaye gayi thi aur jin logo ke paas black money tha unhone kaafi prayas kara ki vaah apne black money ko wapas la sake jisme kaafi safal bhi hue par wahi dusri aur yah bhi dekha gaya ki blaikmani se ab log thoda satark ho gaye log darane lag gaye aur wahi par ek samay aisa bhi aa gaya tha jab jitne bhi logo ke paas blaikmani tha vaah itna zyada dar gaye the ki vaah block ko white karne ke liye idhar udhar bhag rahe the toh haan kam hua hai bhrashtachar usse par bhrashtachar nahi kam ho paya mera kehne ka matlab hai ki usse kahin na kahin black money thoda kam hua hai par notebandi se bhrashtachar ko hum use len the nahi kar paa rahe kyonki aaj bhi dekha jata hai ki sadak par police waale jo hai ya phir aur agar hum log baat kare agar hamein koi apna kaam jaldi karwana hota toh wahan bhrashtachar ka prayog karte hai toh mujhe aisa lagta hai ki bhrashtachar tabhi khatam ho payega agar hum aaj ek ek nagarik apni khud ki jimmedari lenge aur khud ki jimmedari se hum yah bol sakte hai ki hum bhrashtachar nahi karenge aur apne saamne waale ko bhi bhrashtachar nahi karne denge agar yah jimmedari humne khud pe utha li toh zaroor aur hum aisa zaroor dekhenge ki bharat bahut hi jaldi bhrashtachar se mukt ho jaega

देखिये जितना अभी तक समझ में आ रहा है| उसे यह तो है कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार थोड़ा कम हुआ ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बढ़ने की जो चांसेस बताए गए थे तो वह इतनी ज्यादा नहीं है हालांकि भ्रष्टाचार बड़ा ही नहीं ऐसा नहीं हम कर सकते जो नोटबंदी लगाई गई थी 8 नवंबर 2016 को तो उसका मेल उद्देश्य यह था कि जो ब्लैक मनी वर्क करने वाले लोग हैं तो ब्लैक मनी होल्डर्स वह बाहर सामने आ जा बाहर आ जाए और उनके करप्शन पर रोक लगे वह जो सारा कुछ नोटबंदी के तरफ से प्रेरित किया गया था कि करप्शन पर रोक लगेगी वगैरा तो इतना ज्यादा कुछ ऐसे परिणाम हमें नहीं दिखाई दी गए हैं हालांकि भ्रष्टाचार पर एक तरह से रोक लगी है वह भी क्यों क्योंकि लोगों के मन में डर बैठा है कि सरकार कब किस नोट पर बंदी लगा देगा यह वह नहीं जानते तो इसलिए मैं मेरे ख्याल से लोग पैसे स्वर करने में घबराते हैं दो भ्रष्टाचार पर एक तरफ से रोक लगी है तो भ्रष्टाचार ज्यादा बड़ा नहीं है अब तक लेकिन फिर भी अगर हम इस बात पर गौर करें तो मेरे ख्याल से कहीं ना कहीं भ्रष्टाचार हो ही रहा है आप कंप्लीट हो अगर हम पिछले साल से कम पर करें तो भ्रष्टाचार की जो बदले की रेट है तू मतलब लोगों को करप्शन करने के लिए थोड़ा कम हो गया है कम लोग लोगों के डर की वजह से भ्रष्टाचार नहीं इतना बढ़ रहा है

dekhiye notebandi ke baad bhrashtachar badhne ki jo chances bataye gaye the toh vaah itni zyada nahi hai halaki bhrashtachar bada hi nahi aisa nahi hum kar sakte jo notebandi lagayi gayi thi 8 november 2016 ko toh uska male uddeshya yah tha ki jo black money work karne waale log hain toh black money holders vaah bahar saamne aa ja bahar aa jaaye aur unke corruption par rok lage vaah jo saara kuch notebandi ke taraf se prerit kiya gaya tha ki corruption par rok lagegi vagera toh itna zyada kuch aise parinam hamein nahi dikhai di gaye hain halaki bhrashtachar par ek tarah se rok lagi hai vaah bhi kyon kyonki logo ke man mein dar baitha hai ki sarkar kab kis note par bandi laga dega yah vaah nahi jante toh isliye main mere khayal se log paise swar karne mein ghabarate hain do bhrashtachar par ek taraf se rok lagi hai toh bhrashtachar zyada bada nahi hai ab tak lekin phir bhi agar hum is baat par gaur kare toh mere khayal se kahin na kahin bhrashtachar ho hi raha hai aap complete ho agar hum pichle saal se kam par kare toh bhrashtachar ki jo badle ki rate hai tu matlab logo ko corruption karne ke liye thoda kam ho gaya hai kam log logo ke dar ki wajah se bhrashtachar nahi itna badh raha hai

देखिए नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बढ़ने की जो चांसेस बताए गए थे तो वह इतनी ज्यादा नहीं है हा

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सर आपको पता ही होगा जो नोटबंदी हुई थी वह मिली ब्लैक मनी को खत्म करने के लिए और पकड़ने के लिए हुई थी हालांकि ऐसा नहीं कह सकते कि जो नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार कम हुआ है और और एक और बात बताओ मैं जब नोटबंदी हुई थी तो उसमें भी कहना कि भ्रष्टाचार हुआ था जैसे कुछ लोग जो बड़े बड़े नेता हैं उन्होंने अपने नोट बदल वाली चोरी छुपे हो यह भी एक तरीका भ्रष्टाचारी है हम यह नहीं बोल सकते कि नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार कम हो गया खत्म हो गया लेकिन कुछ ऐसी चीजों में नोटबंदी के बाद क्या हम यह बोल सकते हैं कि कहीं ना कहीं लगाम लगा है इसको जैसे पहले क्या होता था कि लोग कहीं भी इंग्लिश कर देते थे जैसे आपको द रियल स्टेट में ज्यादा ब्लैकमनी होता है तो नोटबंदी के बाद गली स्टेट पूरा खत्म हो गया गाना डाउन में चला गया तू अब लोग इसमें रियल स्टील रियल एस्टेट में लगाना पैसे को लगाना थोड़ा कुत्ते उसके बारे में कि कि लगाया नहीं लगाया जाए और जो ब्लैक मनी रखा रखते थे वह रियल एस्टेट में अब वह खत्म था हो गया है और तुम सा हो गया है क्योंकि अभी फिलहाल में जब मोदी सरकार ने कुछ ऐसी अफवाह उड़ी कि अब 2000केनोट भी जल्दी ही बंद हो जाएंगे तो ऐसी ही कुछ ऐसा ही कुछ उनके माइंड में अभी भी डर है कि कहीं नोटबंदी हो गई और फिर से नोट बंद हो गई तो दिक्कत हो जाएगी दूसरी चीज जो मोदी ने जीएसटी चालू की है उस से क्या होगा कि थोड़ा टैक्स पर मॉनिटरिंग अच्छे से हो जाएगी और टेक्स्ट भी नहीं ज्यादा कलेक्ट होगा तो मुझे लगता है कि आप भी भ्रष्टाचार कम होगा जो लोग पहले टेक्स्ट चुराते थे तीसरी चीज आपको पता है कि जो डीमोनेटाइजेशन के बाद मोदी ने आधार कार्ड से आधार बैंक से लिंक कराने पर ज्यादा फोकस किया तो दूसरे से लिए गए नोटबंदी के बाद वह काफी अच्छे हैं ताकि आप लोगों के बैंक अकाउंट से मॉनिटरिंग अच्छे से होगी तो मुझे लगता है यह सारी दोस्त के लिए गए हैं यह फायदेमंद होगा भ्रष्टाचार को कम करने में

dekhiye sir aapko pata hi hoga jo notebandi hui thi vaah mili black money ko khatam karne ke liye aur pakadane ke liye hui thi halaki aisa nahi keh sakte ki jo notebandi ke baad bhrashtachar kam hua hai aur aur ek aur baat batao main jab notebandi hui thi toh usme bhi kehna ki bhrashtachar hua tha jaise kuch log jo bade bade neta hain unhone apne note badal wali chori chhupe ho yah bhi ek tarika bhrashtachaari hai hum yah nahi bol sakte ki notebandi ke baad bhrashtachar kam ho gaya khatam ho gaya lekin kuch aisi chijon mein notebandi ke baad kya hum yah bol sakte hain ki kahin na kahin lagaam laga hai isko jaise pehle kya hota tha ki log kahin bhi english kar dete the jaise aapko the real state mein zyada blaikmani hota hai toh notebandi ke baad gali state pura khatam ho gaya gaana down mein chala gaya tu ab log isme real steel real estate mein lagana paise ko lagana thoda kutte uske bare mein ki ki lagaya nahi lagaya jaaye aur jo black money rakha rakhte the vaah real estate mein ab vaah khatam tha ho gaya hai aur tum sa ho gaya hai kyonki abhi filhal mein jab modi sarkar ne kuch aisi afavah udi ki ab kenot bhi jaldi hi band ho jaenge toh aisi hi kuch aisa hi kuch unke mind mein abhi bhi dar hai ki kahin notebandi ho gayi aur phir se note band ho gayi toh dikkat ho jayegi dusri cheez jo modi ne gst chaalu ki hai us se kya hoga ki thoda tax par monitoring acche se ho jayegi aur text bhi nahi zyada collect hoga toh mujhe lagta hai ki aap bhi bhrashtachar kam hoga jo log pehle text churate the teesri cheez aapko pata hai ki jo dimonetaijeshan ke baad modi ne aadhaar card se aadhaar bank se link karane par zyada focus kiya toh dusre se liye gaye notebandi ke baad vaah kaafi acche hain taki aap logo ke bank account se monitoring acche se hogi toh mujhe lagta hai yah saree dost ke liye gaye hain yah faydemand hoga bhrashtachar ko kam karne mein

देखिए सर आपको पता ही होगा जो नोटबंदी हुई थी वह मिली ब्लैक मनी को खत्म करने के लिए और पकड़न

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
notebandi kis din hui thi ; भारत में नोटबंदी कब हुआ था ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!