दलित रैली के पास हुई हिंसा के लिए शरद पवार ने महाराष्ट्र सरकार को दोषी ठहराया, क्या यह उचित है?...


play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

0:60

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब महाराष्ट्र सरकार इस हिंसा को रोकने में विफल रही है तो किस को दोषी ठहराया है किसी और को दोषी नहीं ठहराया जा सकता क्योंकि लॉ एंड आर्डर जो है वो महाराष्ट्र सरकार या जो राज्य सरकार उसका कार्य क्षेत्र में आता हैl तो इसलिए शरद पवार ने जिस तरीके से जिम्मेदार ठहराया महाराष्ट्र के बीजेपी सरकार को, मेरे विचार से यह उचित है और अगर यह महाराष्ट्र कि सरकार जो है वो प्रोपेर्ली इंतजाम करती तो यह जो हिंसा हुई दलित रैली के दौरान यह हिंसा नहीं होती l उनको यह समझना चाहिए कि यह दो साल सेलिब्रेट कर रहे थे और इस वजह से काफी लार्ज स्केल पे इसकी प्रिपरेशन हुई थी और इसमें वायलेंस के चांसेस थे और उस हिसाब से जो है जो अरेंजमेंट किए जाने थे वो अरेंजमेंट नहीं किए गए और इसी वजह से यह हिंसा फेली जो कि आज विकराल रूप लेती चली जा रही है, तो इसलिए मेरे विचार से जो शरद पवार ने मारा सरकार को दोषी ठहराया वो उचित हैl

jab maharashtra sarkar is hinsa ko rokne mein vifal rahi hai to kis ko doshi thehraya hai kisi aur ko doshi nahi thehraya ja sakta kyonki law end order jo hai vo maharashtra sarkar ya jo rajya sarkar uska karya kshetra mein aata hai to isliye sharad power ne jis tarike se zimmedar thehraya maharashtra ke bjp sarkar ko mere vichar se yeh uchit hai aur agar yeh maharashtra ki sarkar jo hai vo properli intajam karti to yeh jo hinsa hui dalit rally ke dauran yeh hinsa nahi hoti l unko yeh samajhna chahiye ki yeh do saal celebrate kar rahe the aur is wajah se kaafi large scale pe iski preparation hui thi aur isme violence ke chances the aur us hisab se jo hai jo arrangement kiye jaane the vo arrangement nahi kiye gaye aur isi wajah se yeh hinsa feli jo ki aaj vikaraal roop leti chali ja rahi hai to isliye mere vichar se jo sharad power ne mara sarkar ko doshi thehraya vo uchit hai

जब महाराष्ट्र सरकार इस हिंसा को रोकने में विफल रही है तो किस को दोषी ठहराया है किसी और को

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  783
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!