वो कौन सी घटनाएं हैं जो मात्र भारत में होती हैं?...


user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक ऐसी बहुत सारी घटनाएं जो हिंदुस्तान में होती है विदेशों में नहीं होती है अगर मैं जिक्र करना चाहूं तो आप देख सकते हैं कि जिस प्रकार जातीय हिंसा हमारे समाज होती हमारे देश में जिस प्रकार की जातीय हिंसा होती है इसमें बहुत सारे लोगों की जान चली जाती है इसके अलावा जाति आधारित भेदभाव हमारे समाज में इतना ज्यादा है शादी विदेशों में तो जात होती नहीं है और इतना भेदभाव नहीं होता आप देखिए हमारे देश में इस प्रकार लोगों के साथ भेदभाव की आदत दलित और पिछड़े व्यक्तियों के साथ इस प्रकार का व्यवहार किया तो उनके साथ खाना खाना लोग पसंद नहीं करते उनको पास में खाना पसंद नहीं करता तू कहीं ना कहीं यह चीजे हमारे देश को को जोड़ने का नहीं बल्कि तोड़ने का काम करती है समाज को तोड़ने का काम करती हूं और भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इमेज को खराब करती है इसके अलावा और दूसरी बात करूं भ्रष्टाचार में भी भारत में भारत में तो भ्रष्टाचार बहुत है और विदेशों में भी होता है इसके अलावा एक चीज और मैं कहना चाहूं भारत में अंधविश्वास बहुत ज्यादा है विदेशों में इतना अंधविश्वास नहीं आप को जितना भारत में हर चीज पर अंधविश्वास है यहां पर अगर बेटा कहीं अच्छे कार्य के लिए जा रहे हैं तो कहते हैं घर से हमेशा सीधा पैर बाहर निकालिए दूसरा अगर बिल्ली रास्ता काट जाए तो कहीं नहीं अब सुकून होने वाले या कहीं आप इतने अच्छे कार्य के लिए जा रहे किसी ने छींक मारी तो अपशगुन माना जाता है तो मुझे लगता है कि हिंदुस्तान में अंधविश्वास बहुत है इतना अंधविश्वास शायद ही नहीं होगा यदि किसी देश में हो

ek aisi bahut saree ghatnayen jo Hindustan mein hoti hai videshon mein nahi hoti hai agar main jikarr karna chahu toh aap dekh sakte hain ki jis prakar jatiye hinsa hamare samaaj hoti hamare desh mein jis prakar ki jatiye hinsa hoti hai isme bahut saare logon ki jaan chali jaati hai iske alava jati aadharit bhedbhav hamare samaaj mein itna zyada hai shadi videshon mein toh jaat hoti nahi hai aur itna bhedbhav nahi hota aap dekhiye hamare desh mein is prakar logon ke saath bhedbhav ki aadat dalit aur pichade vyaktiyon ke saath is prakar ka vyavhar kiya toh unke saath khana khana log pasand nahi karte unko paas mein khana pasand nahi karta tu kahin na kahin yah chije hamare desh ko ko jodne ka nahi balki todne ka kaam karti hai samaaj ko todne ka kaam karti hoon aur bharat ke liye antararashtriya sthar par image ko kharaab karti hai iske alava aur dusri baat karun bhrashtachar mein bhi bharat mein bharat mein toh bhrashtachar bahut hai aur videshon mein bhi hota hai iske alava ek cheez aur main kehna chahu bharat mein andhavishvas bahut zyada hai videshon mein itna andhavishvas nahi aap ko jitna bharat mein har cheez par andhavishvas hai yahan par agar beta kahin acche karya ke liye ja rahe hain toh kehte hain ghar se hamesha seedha pair bahar nikaliye doosra agar billi rasta kaat jaaye toh kahin nahi ab sukoon hone waale ya kahin aap itne acche karya ke liye ja rahe kisi ne cheenk mari toh apashagun mana jata hai toh mujhe lagta hai ki Hindustan mein andhavishvas bahut hai itna andhavishvas shayad hi nahi hoga yadi kisi desh mein ho

एक ऐसी बहुत सारी घटनाएं जो हिंदुस्तान में होती है विदेशों में नहीं होती है अगर मैं जिक्र क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  134
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!