मोदी जी ने लाखों लोगों को रोज़गार देने का वादा किया, क्या यह बस एक जुमला था?...


play
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के विकास पथ में बेरोजगारी एक बडी बाधा है 2015 में भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख वादे नौकरी सृजन और रोजगार प्रदान करने के थे हालांकि बेरोजगारी को कम करना भाजपा सरकार का एक प्रमुख लक्ष्य था आंकड़े बताते हैं कि यह नौकरी सृजन के अपने वादे को पूरा नहीं कर पा रहे हैं बेरोजगारी की दर 2011 23.8 पश्चिम से 2015 में 5% तक बढ़ गई है मोदी सरकार ने भारत में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए कई नई योजनाएं आलम की परियोजनाओं ने अभी तक अपेक्षित परिणाम प्राप्त नहीं किए हैं मेक इन इंडिया का प्रमुख उद्देश्य मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में रोजगार प्रदान प्रदान करना था 2015 16 तक पिछले 5 वर्षों में मैनुफैक्चरिंग क्षेत्र में सिर्फ 1.6 पश्चिम की औसत वृद्धि हुई है पानी परिधान जूते वस्त्र और चमड़े के उद्योगों को वित्त पोषण के रूप में सरकार से कोई समर्थन नहीं मिला सरकार का उद्देश्य डिजिटल भारत की शुरुआत में माध्यम से सोचा पर जोर देना था नतीजतन प्रमुख आईटी कंपनी विप्रो एचसीएल टेक्नोलॉजीज ने 2015 में बहुत कम नए कर्मचारियों को नियुक्त किया इस परियोजना के माध्यम से सरकार का उद्देश्य घर आधारित नौकरियों का सृजन करना था और अधिक उद्यमियों को ऑनलाइन कारोबार शुरू करने के लिए प्रोत्साहित करना था पर खराब डिजिटल बुनियादी सुविधाओं के कारण ही अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में विफल रहा है स्टार्टअप इंडिया के तहत मोदी सरकार ने युवा उद्यमियों को अपना स्वयं का व्यवसाय शुरू करने के लिए बैंकों को वित्त पोषण के लिए प्रोत्साहित किया लेकिन नवाचार की कमी और कुशल श्रम की कमी से परिणाम स्वरुप कई चार्ट बंद हो गए तो सरकार की बेरोजगारी को हटाने की योजनाएं अब तक तो कोई अच्छा असर नहीं दिखा रही है इसका मतलब यह नहीं है कि सरकार ने कोशिश नहीं किया अपने वादों से मुकर गए हो सकता है इसका अच्छा परिणाम देखने के लिए हमें थोड़ा और इंतजार करना पड़े

bharat ke vikas path mein berojgari ek baadi badha hai 2015 mein bharatiya janta party ke pramukh waade naukri srijan aur rojgar pradan karne ke the halaki berojgari ko kam karna bhajpa sarkar ka ek pramukh lakshya tha aankade batatey hai ki yah naukri srijan ke apne waade ko pura nahi kar paa rahe hai berojgari ki dar 2011 23 8 paschim se 2015 mein 5 tak badh gayi hai modi sarkar ne bharat mein rojgar ko badhawa dene ke liye kai nayi yojanaye aalam ki pariyojanaon ne abhi tak apekshit parinam prapt nahi kiye hai make in india ka pramukh uddeshya manufacturing kshetra mein rojgar pradan pradan karna tha 2015 16 tak pichle 5 varshon mein mainufaikcharing kshetra mein sirf 1 6 paschim ki ausat vriddhi hui hai paani paridhan joote vastra aur chamde ke udhyogo ko vitt poshan ke roop mein sarkar se koi samarthan nahi mila sarkar ka uddeshya digital bharat ki shuruat mein madhyam se socha par jor dena tha natijatan pramukh it company wipro hcl technologies ne 2015 mein bahut kam naye karmachariyon ko niyukt kiya is pariyojana ke madhyam se sarkar ka uddeshya ghar aadharit naukriyon ka srijan karna tha aur adhik udhyamiyon ko online karobaar shuru karne ke liye protsahit karna tha par kharab digital buniyadi suvidhaon ke karan hi apne lakshya ko prapt karne mein vifal raha hai startup india ke tahat modi sarkar ne yuva udhyamiyon ko apna swayam ka vyavasaya shuru karne ke liye bankon ko vitt poshan ke liye protsahit kiya lekin navachar ki kami aur kushal shram ki kami se parinam swarup kai chart band ho gaye toh sarkar ki berojgari ko hatane ki yojanaye ab tak toh koi accha asar nahi dikha rahi hai iska matlab yah nahi hai ki sarkar ne koshish nahi kiya apne vaado se mukar gaye ho sakta hai iska accha parinam dekhne ke liye hamein thoda aur intejar karna pade

भारत के विकास पथ में बेरोजगारी एक बडी बाधा है 2015 में भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख वादे न

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  235
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!