पांचों पांडवों का जन्म कैसे हुआ?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:09
Play

Likes  598  Dislikes    views  11978
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Hemant Priyadarshi

Writer | Philospher| Teacher |

6:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पांचों पांडवों की माता कुंती ने अपने बाल्यावस्था में ही राजा की पुत्री थी अपने बाल्यावस्था में ही उसने अपने व्यवहार कुशलता और तत्व व्यवहार प्रियता तपस्या के बल पर ऋषि दुर्वासा को प्रसन्न किया ऋषि दुर्वासा जो अच्छी और अनुसूया के पुत्र थे अत्यंत क्रोधी स्वभाव के थे परंतु उनके क्रोध से भी किसी अच्छी चीज का सृजन होता था ऐसी अनेकों कहानियां है पौराणिक इतिहास में उन्हें उस ने प्रश्न किया ऋषि दुर्वासा ने उसे यह वरदान दिया था उस वरदान में एक मंत्र था उस मंत्र के जाप करने से जिस किसी देवता का भी आह्वान किया जाता था तू ने पुकारा जाता वह देवता आ जाते हैं और उसके ही अंशु से फिर किसी का जन्म हो सकता था ऐसा इसलिए हो गया क्योंकि ऋषि दुर्वासा ने जब कुंती की हथेली देखी थी उसकी हथेली में उन्होंने रेखाएं देखी उससे जो पता चला तो दुर्वासा ने कुंती को बताया है कि तुम्हारे तुम्हारी शादी तो एक राजा से ही होगी लेकिन तुम्हारा उसका भविष्य अंधकार में है उसके अपने रोग के कारण उसको रोक के कारण तुमसे उस की संताने नहीं होगी उसको तुमसे संताने नहीं हो सकेगी और इसे टाला नहीं जा सकता या तुम्हारा भविष्य है ऐसा होकर रहेगा तो ऐसी स्थिति में तुम्हारे लिए उस समय बहुत दुविधा होगी इसलिए मैं पूर्व ही उन्होंने मंत्र बता दिया था लेकिन सब कुछ उसी ने बताया था ठीक ढंग से उन्होंने मंत्र बताया था और यह कहा था कि तुम्हें भविष्य में या परेशानी होगी इसलिए यह मंत्र मैं तुम्हें बता रहा हूं इसे याद रखना और जब तुम्हें या परेशानी आएगी तो इस मंत्र का जाप करना कि जिन देवता को सावन करोगी वह जंगल से तुम्हें पुत्र की प्राप्ति होगी दुर्वासा ने उसे मंत्र दिया था उनके पश्चात 29 वर्ष की थी उनके जाने के पश्चात कुंती से यह क्योंकि वह बचपना था 13 वर्ष की अवस्था कोई मैच्योर पर्सन की अवस्था नहीं है कोई समझदार इंसान की अवस्था नहीं है वह प्रीमेच्योर लड़की थी उसे वह कौतूहल सहन नहीं हुआ तो क्या किसी मंत्र फिर कहने से कोई देवता जाएंगे उसे यह कौतूहल सहन नहीं हुआ और वह छत पर चली गई और उसने उस मंत्र का हवन किया मंत्र का जाप करने के बाद फिर अचानक उसे ख्याल आया कि किस देवता को मैं बुलाऊं तो इधर-उधर ध्यान भटका सामने में छुरी केवल एक मात्र आकाश में दिखाई दिए और उसका कोतवाल और चरम सीमा पर पहुंच गया और उसने सूर्य का आह्वान कर लिया सॉरी वहां प्रकट हो गया और उन्होंने कहा आपने देवी मुझे बुलाया है इसलिए मैं वापस जा नहीं सकता और यह मंत्र जिस कार्य के लिए है वह होना निश्चित है इस मंत्र के प्रभाव से आप जो चाहते हैं वह पूर्ण हुआ ऐसा कह कर उन्होंने अपना तेज उसके शरीर में प्रवेश प्रविष्ट कराया और फिर चले गए उस गर्भाधान से कुंती को कर नाम की संतान के जन्म से ही जन्मजात कवच और कुंडल धारिता पांडवों का सबसे बड़ा बड़ा सबसे बड़ा भाई कारण था उसके होने के पश्चात चींटी कुंती 14 वर्ष की अवस्था में बच्चे को जन्म देते तो उसे कैसे पाला जा सकता था इस दुविधा में उसने और फिर अपनी राशियों के सचिवों के निर्देश पर दाढ़ी पर उसने वह पुत्र नदी में बहा दिया पिटारी में रखकर जो बाद में एक राज है एक साथी के हाथ लगा जो राधा नाम की औरत थी उसके पति के हाथ लगा वह एक तार्किक था सूत पुत्र था और उसी ने फिर पाला पोसा डिस्ट्रिक्ट कर बड़ा होकर दुर्योधन का फिर मित्र बना बाद में जब कुंती की शादी हो गई पांडु के साथ जब संतान की जरूरत हुई तो अलग-अलग पांच बार कुंती ने पांच देवताओं का आह्वान किया था और अकेले कुंती ने यह काम नहीं किया क्योंकि पांडु ने फिर दूसरा भी बाकी बाद में किया उनकी के बाद मात्र तीन बार कुंती नहीं हम मंत्र प्रयोग किया था और एक बार माद्री में कुंती ने जिन जिन तीन देवताओं का आह्वान किया उनमें सबसे पहले यमराज का आह्वान किया गया था जब मृत्यु के देवता और उनसे युधिष्ठिर पैदा हुआ जो धर्म और न्याय के संस्थापक धर्म और न्याय के लिए जाने जाते तब तक के लिए जाने जाते हैं उन्होंने वायु देवता का आह्वान किया जिससे उन्हें भी की प्राप्ति हुई तीसरी बार उन्होंने देवताओं के राजा इंद्र का आह्वान किया था जिससे उन्हें अर्जुन की प्राप्ति हुई और फिर अपनी छोटी-छोटी से का मंत्र या गांव आकर उन्होंने अश्विनी कुमार को माधुरी ने वह आवान जब किया तो अश्विनी कुमारों का आह्वान किया उससे उन्हें नकुल और सहदेव पांच पांडव का हाल है अर्जुन की 3 और 25 पांडव संताने

panchon pandavon ki mata kuntee ne apne baalyaavastha me hi raja ki putri thi apne baalyaavastha me hi usne apne vyavhar kushalata aur tatva vyavhar priyata tapasya ke bal par rishi durvasa ko prasann kiya rishi durvasa jo achi aur anusuya ke putra the atyant krodhi swabhav ke the parantu unke krodh se bhi kisi achi cheez ka srijan hota tha aisi anekon kahaniya hai pouranik itihas me unhe us ne prashna kiya rishi durvasa ne use yah vardaan diya tha us vardaan me ek mantra tha us mantra ke jaap karne se jis kisi devta ka bhi aahvaan kiya jata tha tu ne pukaara jata vaah devta aa jaate hain aur uske hi anshu se phir kisi ka janam ho sakta tha aisa isliye ho gaya kyonki rishi durvasa ne jab kuntee ki hatheli dekhi thi uski hatheli me unhone rekhayen dekhi usse jo pata chala toh durvasa ne kuntee ko bataya hai ki tumhare tumhari shaadi toh ek raja se hi hogi lekin tumhara uska bhavishya andhakar me hai uske apne rog ke karan usko rok ke karan tumse us ki santane nahi hogi usko tumse santane nahi ho sakegi aur ise talla nahi ja sakta ya tumhara bhavishya hai aisa hokar rahega toh aisi sthiti me tumhare liye us samay bahut duvidha hogi isliye main purv hi unhone mantra bata diya tha lekin sab kuch usi ne bataya tha theek dhang se unhone mantra bataya tha aur yah kaha tha ki tumhe bhavishya me ya pareshani hogi isliye yah mantra main tumhe bata raha hoon ise yaad rakhna aur jab tumhe ya pareshani aayegi toh is mantra ka jaap karna ki jin devta ko sawan karogi vaah jungle se tumhe putra ki prapti hogi durvasa ne use mantra diya tha unke pashchat 29 varsh ki thi unke jaane ke pashchat kuntee se yah kyonki vaah bachapana tha 13 varsh ki avastha koi mature person ki avastha nahi hai koi samajhdar insaan ki avastha nahi hai vaah primechyor ladki thi use vaah kautuhal sahan nahi hua toh kya kisi mantra phir kehne se koi devta jaenge use yah kautuhal sahan nahi hua aur vaah chhat par chali gayi aur usne us mantra ka hawan kiya mantra ka jaap karne ke baad phir achanak use khayal aaya ki kis devta ko main bulaun toh idhar udhar dhyan bhataka saamne me chhuri keval ek matra akash me dikhai diye aur uska kotwal aur charam seema par pohch gaya aur usne surya ka aahvaan kar liya sorry wahan prakat ho gaya aur unhone kaha aapne devi mujhe bulaya hai isliye main wapas ja nahi sakta aur yah mantra jis karya ke liye hai vaah hona nishchit hai is mantra ke prabhav se aap jo chahte hain vaah purn hua aisa keh kar unhone apna tez uske sharir me pravesh pravisht karaya aur phir chale gaye us garbhadhan se kuntee ko kar naam ki santan ke janam se hi janmajat kavach aur kundal dharita pandavon ka sabse bada bada sabse bada bhai karan tha uske hone ke pashchat chinti kuntee 14 varsh ki avastha me bacche ko janam dete toh use kaise pala ja sakta tha is duvidha me usne aur phir apni raashiyon ke sachivon ke nirdesh par dadhi par usne vaah putra nadi me baha diya pitari me rakhakar jo baad me ek raj hai ek sathi ke hath laga jo radha naam ki aurat thi uske pati ke hath laga vaah ek tarkik tha sut putra tha aur usi ne phir pala posa district kar bada hokar duryodhan ka phir mitra bana baad me jab kuntee ki shaadi ho gayi pandu ke saath jab santan ki zarurat hui toh alag alag paanch baar kuntee ne paanch devatao ka aahvaan kiya tha aur akele kuntee ne yah kaam nahi kiya kyonki pandu ne phir doosra bhi baki baad me kiya unki ke baad matra teen baar kuntee nahi hum mantra prayog kiya tha aur ek baar madri me kuntee ne jin jin teen devatao ka aahvaan kiya unmen sabse pehle yamraj ka aahvaan kiya gaya tha jab mrityu ke devta aur unse yudhishthir paida hua jo dharm aur nyay ke sansthapak dharm aur nyay ke liye jaane jaate tab tak ke liye jaane jaate hain unhone vayu devta ka aahvaan kiya jisse unhe bhi ki prapti hui teesri baar unhone devatao ke raja indra ka aahvaan kiya tha jisse unhe arjun ki prapti hui aur phir apni choti choti se ka mantra ya gaon aakar unhone ashwini kumar ko madhuri ne vaah avan jab kiya toh ashwini kumaron ka aahvaan kiya usse unhe nakul aur sahdev paanch pandav ka haal hai arjun ki 3 aur 25 pandav santane

पांचों पांडवों की माता कुंती ने अपने बाल्यावस्था में ही राजा की पुत्री थी अपने बाल्यावस्था

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  771
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!