बारात के दौरान एक रिश्तेदार के बंदूक की गोली चलाने से एक दूल् है की मृत्यु हो गई, क्या भारत में बंदूक पूरी तरह से प्रतिबंधित होना चाइये?...


play
user

महेश हिन्दू

विधार्थी

1:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार देखे आपका जो पसंद है उस समय काफी हद तक सहमत भी हूं और सहमत नहीं भी हूं देखिए इंसान की अपनी आत्मरक्षा के लिए वास्तु शास्त्र रख सकता है लेकिन अपने विशेषकर भारत के बाद की जाए पूरा प्रतिबंध की बंदूक पर तो ऐसा है कि प्रतिबंध तो नहीं लगना चाहिए इसमें इसके ऊपर अस्त्र शस्त्र रखने के जो नियम कायदे हैं उस पर कठोर कानून बनना चाहिए जिससे कि हर किसी की हिम्मत ना हो कि जब मन चाहे तब गोली चला दी गोली चलाने का नियम यह है यह होना चाहिए कि जब व्यक्ति को एहसास हो जाए महसूस हो जाएगी उसे लगे कि अब मेरी मौत तो आनी हम वाली है पल भर में उस वक्त वह अपनी आत्मरक्षा के लिए गोली चला सकता है लेकिन उससे पहले भी वह पहले समझा इस करें माफी मांगी जो भी हो सके वह करना चाहिए इसे तुरंत गोली नहीं चलाना चाहिए अगर प्रतिबंध की बात है तो इसमें रोजगार भी जुड़ा है पहले मैंने एक और प्रश्न का था मदीना के बारे में तो मीठी नीचे से अमेरिका में खुलेआम बाहर कोई हत्या रखता है उसको मन चाहे गोली ठोक देता है लेकिन वहां के जो कानून है वह बड़े कटे हुए इसे भारत में भी होना चाहिए धन्यवाद

namaskar dekhe aapka jo pasand hai us samay kaafi had tak sahmat bhi hoon aur sahmat nahi bhi hoon dekhie insaan ki apni aatmraksha ke liye vastu shastra rakh sakta hai lekin apne visheshkar bharat ke baad ki jaye pura pratibandh ki bandook par toh aisa hai ki pratibandh toh nahi lagna chahiye ismein iske upar astra shastr rakhne ke jo niyam kayade hain us par kathor kanoon banana chahiye jisse ki har kisi ki himmat na ho ki jab man chahe tab goli chala di goli chalane ka niyam yeh hai yeh hona chahiye ki jab vyakti ko ehsaas ho jaye mehsus ho jayegi use lage ki ab meri maut toh aani hum wali hai pal bhar mein us waqt wah apni aatmraksha ke liye goli chala sakta hai lekin usse pehle bhi wah pehle samjha is karein maafi maangi jo bhi ho sake wah karna chahiye ise turant goli nahi chalana chahiye agar pratibandh ki baat hai toh ismein rojgar bhi juda hai pehle maine ek aur prashna ka tha madina ke bare mein toh mithi niche se america mein khuleaam bahar koi hatya rakhta hai usko man chahe goli thok deta hai lekin wahan ke jo kanoon hai wah bade kate hue ise bharat mein bhi hona chahiye dhanyavad

नमस्कार देखे आपका जो पसंद है उस समय काफी हद तक सहमत भी हूं और सहमत नहीं भी हूं देखिए इंसान

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  502
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मुझे लगता है कि आजकल जिस तरह से शादियों में बारातियों में जिस तरह से वापस का खुलेआम प्रयोग किया जाता है बहुत ही गलत है उस पर एक दम पाबंदी लगनी थी जैसे चंद लोग शराब के नशे में बैलेंस को निकाल लेते हैं और खाट की फायरिंग करते हैं जिस वजह से कहीं लोग कई बार ऐसा होता है कि लोगों की जान चली जाती तो मुझे लगता है कि खुशी के मौसम में एक खुशी के माहौल में एकदम गम इन माहौल हो जाता है तो मुझे लगता है कि मैं यह नहीं कहूंगा कि इस पर बैन लगना चाहिए वेपंस नहीं देना चाहिए सरकार को वापस देने सही लेकिन इस तरह के प्रोग्राम के अंदर वेपंस को ले जाना पूर्ण प्रतिबंध करना चाहिए ताकि आगे से इस तरह की कोई भी घटना है ना हो पाए और जो लोग इसमें बोलो जिसकी वजह से काम हुआ उसका लाइसेंस रद्द होने चाहिए और कड़ी से कड़ी सजा देनी चाहिए

lekin mujhe lagta hai ki aajkal jis tarah se shadiyo mein baratiyon mein jis tarah se wapas ka khuleaam prayog kiya jata hai bahut hi galat hai us par ek dum pabandi lagani thi jaise chand log sharab ke nashe mein balance ko nikaal lete hain aur khat ki firing karte hain jis wajah se kahin log kai baar aisa hota hai ki logo ki jaan chali jaati toh mujhe lagta hai ki khushi ke mausam mein ek khushi ke maahaul mein ekdam gum in maahaul ho jata hai toh mujhe lagta hai ki main yah nahi kahunga ki is par ban lagna chahiye weapons nahi dena chahiye sarkar ko wapas dene sahi lekin is tarah ke program ke andar weapons ko le jana purn pratibandh karna chahiye taki aage se is tarah ki koi bhi ghatna hai na ho paye aur jo log isme bolo jiski wajah se kaam hua uska license radd hone chahiye aur kadi se kadi saza deni chahiye

लेकिन मुझे लगता है कि आजकल जिस तरह से शादियों में बारातियों में जिस तरह से वापस का खुलेआम

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं भारत में बंदूक रखने पर प्रतिबंध नहीं लगाना चाहिए हां यह जरूर होना चाहिए कि जहां इसकी जरूरत हो वहां इसका इस्तेमाल हो इस तरह सार्वजनिक कार्यक्रमों में खुशी के लिए बंदूक का उपयोग करना किसी भी हादसे को न्यौता दे सकता है ऐसे व्यक्तियों से उनका लाइसेंस जब कर लेना चाहिए रिवाजों को सब की सुविधा के अनुसार और सब की खुशी के लिए मनाना और अपनाना जाना चाहिए

ji nahi bharat mein bandook rakhne par pratibandh nahi lagana chahiye haan yah zaroor hona chahiye ki jaha iski zarurat ho wahan iska istemal ho is tarah sarvajanik karyakramon mein khushi ke liye bandook ka upyog karna kisi bhi haadse ko nyota de sakta hai aise vyaktiyon se unka license jab kar lena chahiye rivajon ko sab ki suvidha ke anusaar aur sab ki khushi ke liye manana aur apnana jana chahiye

जी नहीं भारत में बंदूक रखने पर प्रतिबंध नहीं लगाना चाहिए हां यह जरूर होना चाहिए कि जहां इस

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Neha S

UPSC कोच

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक ऐसा व्यक्ति बंदूक चलाना मेरे ख्याल से गलत नहीं है लेकिन बंदूक कब चलानी है किस जगह पर चलानी है और कैसे चलानी है सोचने का मैटर ही है क्योंकि आज भरी महफिल में अगर किसी को बंदूक चला रहे हैं वह तो वह गलत है वह बारात का आप ने पूरा माहौल खराब कर दिया Baraat जिसके लिए आप गए थे वह ही नहीं रहा तो फायदा नहीं है तो मैंने सबसे यहां पर यह होना चाहिए मैं किसी ने कश्मीरियों को मना नहीं कर रही हूं बट आप पॉइंट्स कस्टमर को करने का तरीका होता है वह करना चाहिए जैसे कि अगर आपको गोली चलानी है तो आप ओपन एरिया में जाएंगे ओपन एरिया में जाकर अकेले जाए जिस को गोली चली जाए उसको बता दे उसको या तो छत पर चला जा छत पर जाकर को सलामी देते इस तरीके से करना चाहता तुमको मेरे को नहीं रोक सकते हैं यह तो मुश्किल बात है लेकिन हां हम इसके लिए एक ऐसा Google बना सकते हैं जिसको की अपोलो करना चाहिए

ek aisa vyakti bandook chalana mere khayal se galat nahi hai lekin bandook kab chalani hai kis jagah par chalani hai aur kaise chalani hai sochne ka matter hi hai kyonki aaj bhari mehfil mein agar kisi ko bandook chala rahe hain vaah toh vaah galat hai vaah baraat ka aap ne pura maahaul kharab kar diya Baraat jiske liye aap gaye the vaah hi nahi raha toh fayda nahi hai toh maine sabse yahan par yah hona chahiye main kisi ne kashmiriyon ko mana nahi kar rahi hoon but aap points customer ko karne ka tarika hota hai vaah karna chahiye jaise ki agar aapko goli chalani hai toh aap open area mein jaenge open area mein jaakar akele jaaye jis ko goli chali jaaye usko bata de usko ya toh chhat par chala ja chhat par jaakar ko salaami dete is tarike se karna chahta tumko mere ko nahi rok sakte hain yah toh mushkil baat hai lekin haan hum iske liye ek aisa Google bana sakte hain jisko ki appolo karna chahiye

एक ऐसा व्यक्ति बंदूक चलाना मेरे ख्याल से गलत नहीं है लेकिन बंदूक कब चलानी है किस जगह पर चल

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं भारत में बंदूक पूरी तरह से प्रतिबंधित तो नहीं की जा सकती है क्योंकि जिन लोगों के पास लाइसेंस होता है वह बंदूक रख सकते हैं उसका प्रयोग कर सकते हैं बस उनको किसी इंसान को हानि नहीं होनी चाहिए और बाकी जैसा क्या आप कह रहे हैं कि बारात के दौरान एक रिश्तेदार की बंदूक की गोली चलाने से एक दूल्हे की मृत्यु हो गई इसमें यह मैं आपको बताना चाहूंगी कि कुछ साल पहले बनवाया था भारत सरकार के द्वारा जिसमें शादी या या फिर किसी भी फंक्शन के दौरान बंदूक और किसी भी प्रकार की फायरिंग करना मना किस कर दिया गया था जिससे लोगों ने कुछ लोगों ने तो माना लेकिन कुछ लोग आज भी चीज को मारने नहीं करते और जिसकी वजह से ऐसे का हत्याकांड हो जाते हैं

ji nahi bharat mein bandook puri tarah se pratibandhit toh nahi ki ja sakti hai kyonki jin logo ke paas license hota hai vaah bandook rakh sakte hain uska prayog kar sakte hain bus unko kisi insaan ko hani nahi honi chahiye aur baki jaisa kya aap keh rahe hain ki baraat ke dauran ek rishtedar ki bandook ki goli chalane se ek duulhe ki mrityu ho gayi isme yah main aapko bataana chahungi ki kuch saal pehle banwaya tha bharat sarkar ke dwara jisme shadi ya ya phir kisi bhi function ke dauran bandook aur kisi bhi prakar ki firing karna mana kis kar diya gaya tha jisse logo ne kuch logo ne toh mana lekin kuch log aaj bhi cheez ko maarne nahi karte aur jiski wajah se aise ka hatyakand ho jaate hain

जी नहीं भारत में बंदूक पूरी तरह से प्रतिबंधित तो नहीं की जा सकती है क्योंकि जिन लोगों के प

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!