दलाई लामा ने कहा है कि भारत जो एक गुरु था, वह अब पश्चिमी संस्कृति का 'चेला' बन गया है। क्या आप सहमत हैं और क्यों?...


user

Anukrati

Journalism Graduate

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं मैं दलाई लामा की बात से पूरी तरह सहमत नहीं हूं| उन्होंने वाराणसी में कहा है कि भारत अपनी प्राचीन परंपरा भुलाकर गुरु से चेला बन गया है उन्होंने पंडित नेहरू के शांति मंडल पर भी ताना कसा है, कि सिर्फ कबूतर उड़ाने से शांति नहीं आ सकती है| लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि भारतीय ज्ञान की प्राचीन परंपरा ही आंतरिक शांति के अलावा नकारात्मक भावनाओं को दूर करने में सक्षम है| उन्होंने कहा है कि पुराने का संतुलित संयोजन करना सिर्फ भारत के बस की बात है| धर्मगुरु ने कहा है कि भारत को यह शक्ति उसके हजारों साल पुरानी ज्ञान परंपरा से प्राप्त हुई है| यह सही है कि आज की युवा पीढ़ी पाश्चात्य से बहुत प्रभावित हो रही है लेकिन हमारे पूर्वजों की सीख हमारी संस्कृति आज भी हमारे जीवन मूल्यों से जुड़ी हुई है बस युवा अपनी सभ्यता और संस्कृति विभाग अपने नजरिए से लेते हैं|

ji nahi main dalai lama ki baat se puri tarah sahmat nahi hoon unhone varanasi mein kaha hai ki bharat apni prachin parampara bhulakar guru se chela ban gaya hai unhone pandit nehru ke shanti mandal par bhi tana kaisa hai ki sirf kabootar udane se shanti nahi aa sakti hai lekin saath hi unhone yah bhi kaha hai ki bharatiya gyaan ki prachin parampara hi aantarik shanti ke alava nakaratmak bhavnao ko dur karne mein saksham hai unhone kaha hai ki purane ka santulit sanyojan karna sirf bharat ke bus ki baat hai dharmguru ne kaha hai ki bharat ko yah shakti uske hazaro saal purani gyaan parampara se prapt hui hai yah sahi hai ki aaj ki yuva peedhi pashchayat se bahut prabhavit ho rahi hai lekin hamare purvajon ki seekh hamari sanskriti aaj bhi hamare jeevan mulyon se judi hui hai bus yuva apni sabhyata aur sanskriti vibhag apne nazariye se lete hain

जी नहीं मैं दलाई लामा की बात से पूरी तरह सहमत नहीं हूं| उन्होंने वाराणसी में कहा है कि भार

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  157
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!