रावण के नकारात्मक गुण क्या थे?...


user

Neelima Sharma

life skills & soft skills trainer

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री राम आपका सवाल है रावण के नकारात्मक गुण क्या थे तो देखिए रावण वैसे तो रावण बहुत विद्वान भी था उसको ज्ञान भी था और वह बहुत बड़ा शिवभक्त भी था उसने तपस्या की थी और तपस्या के बल पर उसने यह प्रधान भी पाया था कि नर और वानर को छोड़कर उसको कोई ना मार सके तो इन सबके चलते उसको बहुत ज्यादा अहंकार हो गया था और उसी अहंकार की वजह से उसका सर्वनाश हुआ क्योंकि जब व्यक्ति को अहंकार बढ़ जाता है तो यह उसके और गुणों को भी ढक लेता है अब आज के समाज में आज भी रावण किस चीज को लोग बातों-बातों में बोलते हैं अगर कोई घमंडी व्यक्ति होता है किसी को अहंकार होता है तो आज भी उसको एक कहावत सी हो गई है कि अरे इतना अहंकार अच्छा नहीं है अहंकार तो रावण का भी नहीं रहा तो तुम क्या चीज हो तो जो सबसे बड़ा उसका नकारात्मक गुण था वह अहंकार था और इसी अहंकार के चलते कि मैं विश्वविजय हूं मुझे कोई नहीं मार सकता मैं कुछ भी कर सकता हूं सारे देवताओं को भी उसने बंदी बना लिया था तो वह सोचता था कि मैं ही भगवान हूं उसको यह भी एक मिथ्या भ्रम था कि मैं ही भगवान हूं और कोई नहीं है तो यह झूठा अहंकार उसको ले डूबा और उसके साथ साथ उससे उसके पूरे वंश को खत्म कर दिया तो रावण का जो सबसे बड़ा नकारात्मक गुण था वह यही था अहंकार धन्यवाद

jai shri ram aapka sawaal hai ravan ke nakaratmak gun kya the toh dekhiye ravan waise toh ravan bahut vidhwaan bhi tha usko gyaan bhi tha aur vaah bahut bada shivbhakt bhi tha usne tapasya ki thi aur tapasya ke bal par usne yah pradhan bhi paya tha ki nar aur vanar ko chhodkar usko koi na maar sake toh in sabke chalte usko bahut zyada ahankar ho gaya tha aur usi ahankar ki wajah se uska sarvanash hua kyonki jab vyakti ko ahankar badh jata hai toh yah uske aur gunon ko bhi dhak leta hai ab aaj ke samaj me aaj bhi ravan kis cheez ko log baaton baaton me bolte hain agar koi ghamandi vyakti hota hai kisi ko ahankar hota hai toh aaj bhi usko ek kahaavat si ho gayi hai ki are itna ahankar accha nahi hai ahankar toh ravan ka bhi nahi raha toh tum kya cheez ho toh jo sabse bada uska nakaratmak gun tha vaah ahankar tha aur isi ahankar ke chalte ki main vishwavijay hoon mujhe koi nahi maar sakta main kuch bhi kar sakta hoon saare devatao ko bhi usne bandi bana liya tha toh vaah sochta tha ki main hi bhagwan hoon usko yah bhi ek mithya bharam tha ki main hi bhagwan hoon aur koi nahi hai toh yah jhutha ahankar usko le dooba aur uske saath saath usse uske poore vansh ko khatam kar diya toh ravan ka jo sabse bada nakaratmak gun tha vaah yahi tha ahankar dhanyavad

जय श्री राम आपका सवाल है रावण के नकारात्मक गुण क्या थे तो देखिए रावण वैसे तो रावण बहुत विद

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  636
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप का सवाल है कि रावण के नकारात्मक गुण क्या थे मैं आपको बताना चाहूंगा कि रावण के अंदर बहुत सारे नकारात्मक गुण थे वह हमारे इतिहासकार गलत तरीके से पेश करते हैं कभी-कभी तो भगवान राम से भी ज्यादा महान रावण को बनाते हैं यह बिल्कुल गलत है और रावण को दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति घोषित करते हैं वैसा व्यक्ति आज तक पैदा ही नहीं हुआ ऐसे इतिहासकार लिखते हैं और हम पढ़ते आए हैं हमारे समाज में भी यह भ्रांति फैली हुई है मैं आपको रामचरितमानस का एक छोटा सा कहानी बताता हूं गरुड़ और संपाती दो भाई थे एक बार आकाश में उड़ रहे थे रावण नीचे टहल रहा था गरुड़ से उसकी पुरानी दुश्मनी थी गरुण बोलता है संपाती से कि भैया रावण ने घूम रहा है पहले मैं उसे खा लूंगा तो वह कहता है कि नहीं आता आप खाएंगे आधा मैं खाऊंगा तब तक गरुण जाता है रावण को निकल जाता है तब तक संपाती करता है कि भैया नाइंसाफी है आपने बोला था हमसे की रावण को आधा आप ठंडी आधा हम खाएंगे अब दोनों आपस में झगड़ा करते हैं रावण को एक बार वह निकलता है एक बार वह निकलता है इस तरह से प्रक्रिया होती है जैसे आम की गुठली को मुंह में डाला जाता है खाया जाता है निकाला जाता है वह हालत रावण की हुई थी तो रावण कोई बहुत बढ़िया आदमी नहीं था रामायण पर अच्छा व्यक्ति होता तो शुरू से वह अच्छा काम करता है उसको भगवान ने शक्ति दी थी वह तपस्या किया था तो शक्ति मिलने का उसने गलत उसने दुरुपयोग किया और भगवान श्री राम की उम्र कितनी रही होगी 3035 साल 40 साल उम्र रही होगी 50 साल और वह कई हजार साल जिंदा रहने वाले व्यक्ति को मार देते हैं आसानी से तो भगवान राम के व्यक्तित्व के आगे रावण का कोई व्यक्ति तो नहीं था रावण कोई महान आदमी नहीं था धन्यवाद

aap ka sawaal hai ki ravan ke nakaratmak gun kya the main aapko bataana chahunga ki ravan ke andar bahut saare nakaratmak gun the vaah hamare itihaaskar galat tarike se pesh karte hain kabhi kabhi toh bhagwan ram se bhi zyada mahaan ravan ko banate hain yah bilkul galat hai aur ravan ko duniya ka sabse shaktishali vyakti ghoshit karte hain waisa vyakti aaj tak paida hi nahi hua aise itihaaskar likhte hain aur hum padhte aaye hain hamare samaj mein bhi yah bharntiyo faili hui hai aapko ramcharitmanas ka ek chota sa kahani batata hoon garuda aur sampatti do bhai the ek baar akash mein ud rahe the ravan niche tahal raha tha garuda se uski purani dushmani thi garun bolta hai sampatti se ki bhaiya ravan ne ghum raha hai pehle main use kha lunga toh vaah kahata hai ki nahi aata aap khayenge aadha main khaunga tab tak garun jata hai ravan ko nikal jata hai tab tak sampatti karta hai ki bhaiya nainsafi hai aapne bola tha humse ki ravan ko aadha aap thandi aadha hum khayenge ab dono aapas mein jhadna karte hain ravan ko ek baar vaah nikalta hai ek baar vaah nikalta hai is tarah se prakriya hoti hai jaise aam ki ghutli ko mooh mein dala jata hai khaya jata hai nikaala jata hai vaah halat ravan ki hui thi toh ravan koi bahut badhiya aadmi nahi tha ramayana par accha vyakti hota toh shuru se vaah accha kaam karta hai usko bhagwan ne shakti di thi vaah tapasya kiya tha toh shakti milne ka usne galat usne durupyog kiya aur bhagwan shri ram ki umr kitni rahi hogi 3035 saal 40 saal umr rahi hogi 50 saal aur vaah kai hazaar saal zinda rehne waale vyakti ko maar dete hain aasani se toh bhagwan ram ke vyaktitva ke aage ravan ka koi vyakti toh nahi tha ravan koi mahaan aadmi nahi tha dhanyavad

आप का सवाल है कि रावण के नकारात्मक गुण क्या थे मैं आपको बताना चाहूंगा कि रावण के अंदर बहुत

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  513
WhatsApp_icon
user

Mehmood Alum

Law Student

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिकी जैसा कि हिंदू धर्म में बताया गया है कि रावण का सबसे बड़ा नकारात्मक गुण जो था तो उसका अहंकार था उसका अहंकार ही उसे ले डूबा और अंततः मृत्यु को प्राप्त हुआ

biki jaisa ki hindu dharm mein bataya gaya hai ki ravan ka sabse bada nakaratmak gun jo tha toh uska ahankar tha uska ahankar hi use le dooba aur antatah mrityu ko prapt hua

बिकी जैसा कि हिंदू धर्म में बताया गया है कि रावण का सबसे बड़ा नकारात्मक गुण जो था तो उसका

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  383
WhatsApp_icon
play
user

TS Bhanot

Teacher

1:57

Likes  12  Dislikes    views  319
WhatsApp_icon
play
user

Mohini

Voice Artist

1:08

Likes  2  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!