किसे माता पार्वती ने श्राप दिया था और क्यों?...


play
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:14

Likes  17  Dislikes    views  433
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Aisha

Writer, Thinker

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा था कि एक वक्त था जब पशुओं का कहर बहुत बढ़ गया था तो सभी गॉड्स ने मिलकर डिसाइड किया कि इनका नाश करना जरूरी है और यह डिसाइड हुआ कि शिव और पार्वती के सुपुत्र होंगे वहीं सभी असुरों का नाश करेंगे पर उस वक्त शिवजी मेडिटेशन में थे तो उनका मेडिटेशन ब्रेक करने के लिए उन्हें पार्वती की जी की तरफ अट्रैक्ट करने के लिए सभी गॉड्स ने कामदेव प्रभु को भेजा शिव जी के पास था कि उनका मेडिटेशन ब्रेक कर सकें और कामदेव प्रभु इस बात के लिए सक्सेसफुल भी हो गए लेकिन जैसे ही को पता चला कि उनका मेडिटेशन ब्रेक कर दिया गया है वह बहुत गुस्से में आ गए और उन्होंने कामदेव प्रभु को बस मन बना कर राख कर दिया चुप काम भी प्रभु की पत्नी को इस बारे में पता चला कि वह बहुत गुस्सा हो गई और अपने जो पति की डेथ का जो दुख था वह सहन नहीं कर पाई और उन्होंने माता पार्वती को यह श्राप दिया कि वह कभी भी एक मां नहीं बन सकती है देवयानी ईयर के चाइल्ड को क्योंकि यही एक बात थी जिसके कारण उनके पति की मृत्यु हो गई तो किस बात की बारिश इंटरटेन की बात उन्हें श्राप मिला माता पार्वती को कि वह मां नहीं बन सकती हैं और यह एक बहुत बड़ी अरे नहीं हो गई थी क्योंकि शिव और पार्वती के पुत्र ही दूसरों का नाश करने वाले थे तीनों लोकों में

aisa tha ki ek waqt tha jab pashuo ka kahar bahut badh gaya tha toh sabhi gods ne milkar decide kiya ki inka nash karna zaroori hai aur yah decide hua ki shiv aur parvati ke suputr honge wahin sabhi asuron ka nash karenge par us waqt shivaji meditation mein the toh unka meditation break karne ke liye unhe parvati ki ji ki taraf attract karne ke liye sabhi gods ne kamdev prabhu ko bheja shiv ji ke paas tha ki unka meditation break kar sakein aur kamdev prabhu is baat ke liye successful bhi ho gaye lekin jaise hi ko pata chala ki unka meditation break kar diya gaya hai vaah bahut gusse mein aa gaye aur unhone kamdev prabhu ko bus man bana kar raakh kar diya chup kaam bhi prabhu ki patni ko is bare mein pata chala ki vaah bahut gussa ho gayi aur apne jo pati ki death ka jo dukh tha vaah sahan nahi kar payi aur unhone mata parvati ko yah shraap diya ki vaah kabhi bhi ek maa nahi ban sakti hai devayani year ke child ko kyonki yahi ek baat thi jiske karan unke pati ki mrityu ho gayi toh kis baat ki barish intaraten ki baat unhe shraap mila mata parvati ko ki vaah maa nahi ban sakti hain aur yah ek bahut badi arre nahi ho gayi thi kyonki shiv aur parvati ke putra hi dusron ka nash karne waale the teenon lokon mein

ऐसा था कि एक वक्त था जब पशुओं का कहर बहुत बढ़ गया था तो सभी गॉड्स ने मिलकर डिसाइड किया कि

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  351
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!