क्यों लोगों अतीत अत्याचार के लिए ब्राह्मणों और ठाकुर को दोषी ठहराते हैं बल्कि मुसलमान हैं जो सदियों से कुलीन वर्ग थे?...


user

Mehmood Alum

Law Student

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ब्राह्मण और ठाकुरो द्वारा दलितों पर अत्याचार का मुस्लिम शासन से कभी कोई संबंध नहीं रहा है हिंदुओं की जातिवादी व्यवस्था वैदिक काल से ही है और हिंदुओं को 4 वर्गों में वेदों के अनुसार ही बांटा गया है ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र ब्राह्मण और छत्रिय कुलीन वर्ग माने जाते हैं जबकि दलितों को कहा जाता है कि केवल वे सेवक बनकर रह सकते हैं तो हिंदुओं में यह जातिवादी व्यवस्था है और दलितों का शोषण का जो आधार है वह वेद ही है क्योंकि वेद के अनुसार ही हिंदू धर्म को 4 वर्गों में बांटा गया है मुसलमानी देश में अपना शासन तो चलाते थे लेकिन हिंदुओं की जातिवादी व्यवस्था वैदिक काल से ही थी मुस्लिम शासन की वजह से नहीं आई है

brahman aur thakuro dwara dalito par atyachar ka muslim shasan se kabhi koi sambandh nahi raha hai hinduon ki jativadi vyavastha vaidik kaal se hi hai aur hinduon ko 4 vargon mein vedo ke anusaar hi baata gaya hai brahman kshatriya vaiishay aur shudra brahman aur Kshatriya kulin varg maane jaate hain jabki dalito ko kaha jata hai ki keval ve sevak bankar reh sakte hain toh hinduon mein yah jativadi vyavastha hai aur dalito ka shoshan ka jo aadhaar hai vaah ved hi hai kyonki ved ke anusaar hi hindu dharm ko 4 vargon mein baata gaya hai musalamani desh mein apna shasan toh chalte the lekin hinduon ki jativadi vyavastha vaidik kaal se hi thi muslim shasan ki wajah se nahi I hai

ब्राह्मण और ठाकुरो द्वारा दलितों पर अत्याचार का मुस्लिम शासन से कभी कोई संबंध नहीं रहा है

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  252
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा नहीं है मतलब लोग कभी तो ऐसे हो जैसे आपने कहा एक नंबर नहीं दे रहे हैं और पूजा और पूजा और उपासना रावल आदि नेम और अपने जीवन को जरूरत नहीं है धर्म ग्रंथों और यह बात की जो हम प्रकाश ज्ञान प्राप्त करते हैं सच्चाई इससे बढ़कर पिंकी धन्यवाद

aisa nahi hai matlab log kabhi toh aise ho jaise aapne kaha ek number nahi de rahe hain aur puja aur puja aur upasana raval aadi name aur apne jeevan ko zarurat nahi hai dharm granthon aur yah baat ki jo hum prakash gyaan prapt karte hain sacchai isse badhkar pinki dhanyavad

ऐसा नहीं है मतलब लोग कभी तो ऐसे हो जैसे आपने कहा एक नंबर नहीं दे रहे हैं और पूजा और पूजा औ

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  642
WhatsApp_icon
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कई लोग जो हमारी त्वचा के लिए ब्राह्मणों ठाकुर को दोषी ठहराते लेकिन उन्होंने भी फोटो चकिया हमारे ऊपर तो ज्यादा मुसलमान में थे और ठाकुर और ब्राह्मण खेड़ी के मुसलमान बहुत थे

kai log jo hamari twacha ke liye brahmanon thakur ko doshi thahrate lekin unhone bhi photo chakkiyan hamare upar toh zyada musalman mein the aur thakur aur brahman khedi ke musalman bahut the

कई लोग जो हमारी त्वचा के लिए ब्राह्मणों ठाकुर को दोषी ठहराते लेकिन उन्होंने भी फोटो चकिया

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  576
WhatsApp_icon
play
user

Mohini

Voice Artist

1:36

Likes  19  Dislikes    views  566
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!