क्यों मुस्लिम शास कौन ने हिंदू मंदिरों को नष्ट किया था?...


user

Suraj Kumar Gupta

Educator, Speaker, Spiritual

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि आप इस्लाम के मूल सिद्धांतों को देखें तो आप पाएंगे कि यह है मोनोथेज्म एक ईश्वर बात है इसमें इस्लाम के अनुसार अल्लाह एक ही ईश्वर है और उनके अलावा कोई नहीं है हमारा हिंदू समझो है या फिर आप जो भी देखो जैसे जेनिशा में बुद्धिज्म के अलावा भारत में मनाए जाने वाले जितने भी धर्म है माने जाने वाले जितने भी धर्म है वह पॉलिथीन की बात बोलते हैं अनेक ईश्वर बाद की बात बोलते हैं तो इस्लाम में यह माना गया था कि जो भी अनेक ईश्वर बात को मानते हैं ठीक है वह लोग इस्लाम की आईडियोलॉजी से संबंध नहीं रखते वैसे पैगंबर मोहम्मद का यह संदेश नहीं था कि वह लोग कहां पर है क्योंकि उस समय क्या था अरेबियन पेनिनसुला के आस पास जितने भी लोग रहते थे वह पॉलीथििज्म को मानते थे और वह इस्लाम के शुरुआती दिनों में इस्लाम का पोस्ट करते थे तो पैक मोहम्मद के अनुसार वह लोग कहां पर हुआ करते थे लेकिन इस बात को ऐसे कुरान हो गई धार्मिक ग्रंथ जो किसी भी धर्म के हो वह सबसे ज्यादा मिसइंटरप्रेट किए जाने वाली चीजे होती है सबसे ज्यादा लोग उसको गलत रूप से लेते तो आने वाले शासकों ने यह सोचा कि हिंदू हो गए सिक हो गए थे क्या यह सारे लोग ऐसे हैं जो पॉलीसिस्टिक है और इस्लाम के विरोधी हैं इसलिए उन्होंने उन को हराया लड़के जीते उनसे उन पर विजय प्राप्त करें और उनकी जो शक्ति का उनके जो धर्म का प्रतीक हुआ करते थे चाहे वह मंदिर हो चाहे वह केले हो उन्हें 11 बाय कर के निरंतर नष्ट करा तो आशा करता हूं आपको समझ में आया होगा धन्यवाद

yadi aap islam ke mul siddhanto ko dekhen toh aap payenge ki yah hai monothejm ek ishwar baat hai isme islam ke anusaar allah ek hi ishwar hai aur unke alava koi nahi hai hamara hindu samjho hai ya phir aap jo bhi dekho jaise jenisha mein buddhijm ke alava bharat mein manaye jaane waale jitne bhi dharm hai maane jaane waale jitne bhi dharm hai vaah polythene ki baat bolte hain anek ishwar baad ki baat bolte hain toh islam mein yah mana gaya tha ki jo bhi anek ishwar baat ko maante hain theek hai vaah log islam ki aidiyolaji se sambandh nahi rakhte waise paigambar muhammad ka yah sandesh nahi tha ki vaah log kahaan par hai kyonki us samay kya tha arabian peninsula ke aas paas jitne bhi log rehte the vaah palithiijm ko maante the aur vaah islam ke shuruati dino mein islam ka post karte the toh pack muhammad ke anusaar vaah log kahaan par hua karte the lekin is baat ko aise quraan ho gayi dharmik granth jo kisi bhi dharm ke ho vaah sabse zyada misaintarapret kiye jaane wali chije hoti hai sabse zyada log usko galat roop se lete toh aane waale shaasakon ne yah socha ki hindu ho gaye sick ho gaye the kya yah saare log aise hain jo polycystic hai aur islam ke virodhi hain isliye unhone un ko haraya ladke jeete unse un par vijay prapt kare aur unki jo shakti ka unke jo dharm ka prateek hua karte the chahen vaah mandir ho chahen vaah kele ho unhe 11 bye kar ke nirantar nasht kara toh asha karta hoon aapko samajh mein aaya hoga dhanyavad

यदि आप इस्लाम के मूल सिद्धांतों को देखें तो आप पाएंगे कि यह है मोनोथेज्म एक ईश्वर बात है इ

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  501
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!