इस दुनिया में आपके अनुसार इतनी बुराई क्यों मौजूद है?...


user

Trainer Yogi Yogendra

Motivational Speaker || Career Coach || Business Coach || Marketing & Management Expert's

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स में योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर कौन कौन सी होती है लेकिन आपको कहां खड़े हो

hello friends me yogendra sharma Motivational speaker kaun kaun si hoti hai lekin aapko kaha khade ho

हेलो फ्रेंड्स में योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर कौन कौन सी होती है लेकिन आपको कहां खड़े

Romanized Version
Likes  407  Dislikes    views  3428
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr J B Tiwari

Chairman and Managing Director

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं डॉक्टर से भी तेरे को प्रणाम करता हूं और आपका सवाल है कि इस दुनिया में आपके अनुसार इतनी बुराई क्यों मौजूद है तो मैं आपको बता दूं कि हमेशा दुनिया में दो पहलू होते हैं सुख और दुख की बुराई अच्छाई की और दोनों का समाज में रहना बहुत जरूरी है अगर बुराई नहीं होगी तो छाई का मौत कैसे रहेगा बट सवाल है कि आपको क्या सुनना है जैसे आप देखी हंस जो है दोस्तों लेता है पानी को छोड़ देता है उसी तरह से चंदन विष व्यापत नहीं लिपटे रहत भुजंग चंदन के पेड़ में हमेशा शामली पर रहते हैं पर कभी नहीं आता है वह सज्जन सज्जन आदमी है वह किधर भी रहकर कीचड़ में कमल खिलता है तो ऐसे अनगिनत उदाहरण हैं जब आप बुराइयों के बीच रहकर अच्छा बन जाते हैं तो बुराइयों को आप ध्यान मत दीजिए एक नूर करिए और उसमें से अच्छा बनकर आप निकाली है

main doctor se bhi tere ko pranam karta hoon aur aapka sawaal hai ki is duniya me aapke anusaar itni burayi kyon maujud hai toh main aapko bata doon ki hamesha duniya me do pahaloo hote hain sukh aur dukh ki burayi acchai ki aur dono ka samaj me rehna bahut zaroori hai agar burayi nahi hogi toh chhai ka maut kaise rahega but sawaal hai ki aapko kya sunana hai jaise aap dekhi hans jo hai doston leta hai paani ko chhod deta hai usi tarah se chandan vish vyapat nahi lipte rahat bhujang chandan ke ped me hamesha shamili par rehte hain par kabhi nahi aata hai vaah sajjan sajjan aadmi hai vaah kidhar bhi rahkar kichad me kamal khilta hai toh aise anaginat udaharan hain jab aap buraiyon ke beech rahkar accha ban jaate hain toh buraiyon ko aap dhyan mat dijiye ek noor kariye aur usme se accha bankar aap nikali hai

मैं डॉक्टर से भी तेरे को प्रणाम करता हूं और आपका सवाल है कि इस दुनिया में आपके अनुसार इतनी

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  347
WhatsApp_icon
user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर बुराई है तो ही तो अच्छा ही का पता लगेगा अगर सुगंध का पता इंसान को तभी लग सकता है जब उसने कभी बदबू को बदबू है तो सुगंध है रावण है तो राम है कंस है तो कृष्ण है इसलिए हम इस चीज को मानकर चलें अगर बुराई है तू ही अच्छा ही है अगर रात है तू ही दिन है धर्म है धर्म है सिक्के के दो पहलू हैं इसलिए जो भी जरूरत है ऊपर वाले ने बनाई है उस सर्वव्यापी सर्व शक्तिमान में हर चीज जो है वह बनाई है धन

agar burayi hai toh hi toh accha hi ka pata lagega agar sugandh ka pata insaan ko tabhi lag sakta hai jab usne kabhi badbu ko badbu hai toh sugandh hai ravan hai toh ram hai kans hai toh krishna hai isliye hum is cheez ko maankar chalen agar burayi hai tu hi accha hi hai agar raat hai tu hi din hai dharm hai dharm hai sikke ke do pahaloo hain isliye jo bhi zarurat hai upar waale ne banai hai us sarvavyapi surv shaktiman me har cheez jo hai vaah banai hai dhan

अगर बुराई है तो ही तो अच्छा ही का पता लगेगा अगर सुगंध का पता इंसान को तभी लग सकता है जब उस

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user
1:43
Play

Likes  16  Dislikes    views  224
WhatsApp_icon
user

AJAY AMITABH SUMAN

An IPR Lawyer|Mythologist|Poet|

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह कहना कि दुनिया में बुराई बहुत ज्यादा है मेरी समझ से यह बात सही नहीं है दुनिया में अच्छाई और बुराई हमेशा से मौजूद रहती हैं यह एक व्यक्ति के व्यक्तित्व और उसके नजरिए पर निर्भर करता है कि वह किस को देख रहा है विश्व तो हमेशा से सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित है लेकिन यदि व्यक्ति अपनी आंखों पर काला चश्मा लगा ले तो उसको संसार काला ही दिखाई पड़ता है इसी तरीके से भी आदमी के भाव में ही बुराई हो तो दुनिया में बुराई दिखाई पड़ने लगती है यदि आदमी का दिल साफ हो तो उसके लिए दुनिया हमेशा से ही अच्छी है

yeh kehna ki duniya mein burayi bahut zyada hai meri samajh se yeh baat sahi nahi hai duniya mein acchai aur burayi hamesha se maujud rehti hain yeh ek vyakti ke vyaktitva aur uske nazariye par nirbhar karta hai ki wah kis ko dekh raha hai vishwa toh hamesha se surya ke prakash se prakashit hai lekin yadi vyakti apni aankho par kala chashma laga le toh usko sansar kala hi dikhai padta hai isi tarike se bhi aadmi ke bhav mein hi burayi ho toh duniya mein burayi dikhai padane lagti hai yadi aadmi ka dil saaf ho toh uske liye duniya hamesha se hi acchi hai

यह कहना कि दुनिया में बुराई बहुत ज्यादा है मेरी समझ से यह बात सही नहीं है दुनिया में अच्छा

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  403
WhatsApp_icon
user

Sanchi Sharma

Journalist, Photographer

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर सिक्के के दो पहलू होते हैं एक सामने वाला एकदम हिट जोड़ी बोलते हैं ना वैसे ही हर चीज होती है दुख तो जितनी राधा अच्छाई उतनी दादा बुराई बुराई में इतना ही होगी हमारा देखने का नजरिया ऐसा है कि हम समाज को पूरा ऐसे समझ रहे हैं किस को बुराई में बहुत ज्यादा प्रभावित करा हुआ है बहुत ही ज्यादा 2 मिनट करावे जो ऐसा है नहीं हमारे नजरिए की बात अगर हमारा नजरिया 16 साल हो जाएगा बुराई में विषाद अच्छाई नजर आने लगी गीत

har sikke ke do pahaloo hote hain ek saamne vala ekdam hit jodi bolte hain na waise hi har cheez hoti hai dukh toh jitni radha acchai utani dada burayi burayi mein itna hi hogi hamara dekhne ka najariya aisa hai ki hum samaj ko pura aise samajh rahe hain kis ko burayi mein bahut zyada prabhavit kara hua hai bahut hi zyada 2 minute karave jo aisa hai nahi hamare nazariye ki baat agar hamara najariya 16 saal ho jaega burayi mein vishad acchai nazar aane lagi geet

हर सिक्के के दो पहलू होते हैं एक सामने वाला एकदम हिट जोड़ी बोलते हैं ना वैसे ही हर चीज होत

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

Riya

Artist, Traveller

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस दुनिया में इतनी बुराई इसलिए मौजूदगी के लोगों के मन साफ नहीं है हमारे देश में स्वच्छ भारत मनाया जा रहा है लेकिन 2 का गण मान्य स्वच्छ ना हो तो देश की बुराई जाएगी कहां से

is duniya mein itni burayi isliye maujudgi ke logo ke man saaf nahi hai hamare desh mein swachh bharat manaya ja raha hai lekin 2 ka gan manya swachh na ho toh desh ki burayi jayegi kahaan se

इस दुनिया में इतनी बुराई इसलिए मौजूदगी के लोगों के मन साफ नहीं है हमारे देश में स्वच्छ भार

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
play
user

Neha

Journalist , Writer

1:14

Likes  3  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
play
user

Dilsh Sheikh

Journalist

1:25

Likes  2  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
play
user

Kavita

Writer

1:55

Likes  13  Dislikes    views  323
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!