सुमित्रानंदन पंत की काव्य की विशेषताएं बताइए?...


user

Nutan

Teaching

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार यह बहुत ही अच्छा प्रश्न आपने किया है वो कल केवीएस को इसके लिए धन्यवाद सुनीता नंदन पंत जो है वह हिंदी छायावादी युग के कवि है इसकी विशेषता प्रकृति के सुकुमार कवि के रूप में प्रचलित है प्रकृति इनकी कविताओं में आकर जो रूप ग्रहण करती है जो आकार लेती है और जो भाव के अनुरूप जो उड़ती है वह दूसरे जगह जो है वह बिल्कुल नहीं दिखता है और सुमित्रानंदन पंत विवाद बीना और अंत में है काव्य तथा कला तथा बूढ़ा चांद तो चाहिए यात्राएं हैं इनकी सुमित्रानंदन पंत के काबिल जीवन की जिसमें की शुरुआत में कवि प्रकृति की ओर मुड़ते हैं फिर नारी की सुंदरता पर आकर जो है मन अटकता है उसकी फिर भटकता भी है और उसके बाद फिर यह अरविंद दर्शन महात्मा गांधी के आजादी के आंदोलन से प्रेरित होते हैं तो इस प्रकार इन चीजों का भी जीवन की जो जात्रा है वह विभिन्न स्थानों से पढ़ते ही आगे जो चलती है उस में निरंतर हम एक करते हैं वह परिवर्तन देखने को मिली को देखते हैं और शाम परिवर्तन कविता में उन्होंने स्वीकारा भी है कि जीवन और प्रकृति दोनों में परिवर्तन का कितना बड़ा महत्व है वह परिवर्तन से ना हो जीवन पलट कर सकते हैं और ना ही प्रकृति को अनिवार्य चीज है या निवार्चन है और इस क्षण को हमें स्वीकार करना चाहिए सुष्मिता नंदन पंत जो है इसी अदालत में हम से कब को इसके दर्शन को पढ़ लेंगे तो अनेक काफी जानकारी और रोचक जानकारी मिलेगी

namaskar yah bahut hi accha prashna aapne kiya hai vo kal kvs ko iske liye dhanyavad sunita nandan pant jo hai vaah hindi chhayavadi yug ke kavi hai iski visheshata prakriti ke sukumar kavi ke roop me prachalit hai prakriti inki kavitao me aakar jo roop grahan karti hai jo aakaar leti hai aur jo bhav ke anurup jo udati hai vaah dusre jagah jo hai vaah bilkul nahi dikhta hai aur sumitranandan pant vivaad bina aur ant me hai kavya tatha kala tatha budha chand toh chahiye yatraen hain inki sumitranandan pant ke kaabil jeevan ki jisme ki shuruat me kavi prakriti ki aur mudte hain phir nari ki sundarta par aakar jo hai man atakata hai uski phir bhatakta bhi hai aur uske baad phir yah arvind darshan mahatma gandhi ke azadi ke andolan se prerit hote hain toh is prakar in chijon ka bhi jeevan ki jo jatra hai vaah vibhinn sthano se padhte hi aage jo chalti hai us me nirantar hum ek karte hain vaah parivartan dekhne ko mili ko dekhte hain aur shaam parivartan kavita me unhone swikara bhi hai ki jeevan aur prakriti dono me parivartan ka kitna bada mahatva hai vaah parivartan se na ho jeevan palat kar sakte hain aur na hi prakriti ko anivarya cheez hai ya nivarchan hai aur is kshan ko hamein sweekar karna chahiye sushmita nandan pant jo hai isi adalat me hum se kab ko iske darshan ko padh lenge toh anek kaafi jaankari aur rochak jaankari milegi

नमस्कार यह बहुत ही अच्छा प्रश्न आपने किया है वो कल केवीएस को इसके लिए धन्यवाद सुनीता नंदन

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  212
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!