एक स्कूल के प्रिंसिपल को एक छात्र ने गोली मार दी, क्या भारतीय अपनी नैतिकता धीरे धीरे खो र है हैं? कैसे?...


user
0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विजय 12 घटनाओं से हम सारी चीजों पर प्रश्नचिन्ह नहीं लगा सकते हम कुछ अंतर तो आए हैं लेकिन अच्छाई और बुराई पुरातन काल से चले जा रहे हैं मुख्य है कि हमें ने राष्ट्रपति ने राष्ट्रीय संस्कृति पर भरोसा बनाए रखना और स्पिनरों करना इसलिए एक दूजे से इसके कारण ऐसा मत माने कि सारे भारतीय अपने नेतृत्व को रहे हैं बल्कि आप कुछ मायने बदल गए कुछ चीजें परिवर्तित हो गए तो फिर भी हम वेस्ट

vijay 12 ghatnaon se hum saree chijon par prashnachinh nahi laga sakte hum kuch antar toh aaye hain lekin acchai aur burayi puratan kaal se chale ja rahe hain mukhya hai ki hamein ne rashtrapati ne rashtriya sanskriti par bharosa banaye rakhna aur spinaro karna isliye ek dooje se iske karan aisa mat maane ki saare bharatiya apne netritva ko rahe hain balki aap kuch maayne badal gaye kuch cheezen parivartit ho gaye toh phir bhi hum west

विजय 12 घटनाओं से हम सारी चीजों पर प्रश्नचिन्ह नहीं लगा सकते हम कुछ अंतर तो आए हैं लेकिन अ

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  261
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!