ऐसा क्यों होता है की जिससे हमें सबसे ज़्यादा उम्मीद होती है वही हमें तकलीफ़ देता है?...


user

Trainer Yogi Yogendra

Motivational Speaker || Career Coach || Business Coach || Marketing & Management Expert's

0:59
Play

Likes  605  Dislikes    views  6736
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Manish Singh

Motivational Speaker

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह कहना गलत है कि उम्मीद रखना क्यों है उम्मीद रखना ही क्यों नहीं है कष्ट जब होता है जब हमारी उम्मीदें टूटती है आप तो अपने कर्म पर भी उम्मीद नहीं लगा सकते आप इंसान पर उम्मीद कैसे लगा सकते हो कि सूचना उम्मीद लगाओगे और 120 परसेंट को टूटेगी अब तक कष्ट ज्यादा होगा इसलिए हर व्यक्ति से उतनी ही उम्मीदें लगाई है या उतना ही लगाओ उपेक्षा की है उनसे जिनको हम झेल पाए सहन कर पाए ज्यादा नहीं ज्यादा उम्मीद लगाओगे उतना ज्यादा कस्तूरबा ओके छोड़ दीजिए

yah kehna galat hai ki ummid rakhna kyon hai ummid rakhna hi kyon nahi hai kasht jab hota hai jab hamari ummeeden tootati hai aap toh apne karm par bhi ummid nahi laga sakte aap insaan par ummid kaise laga sakte ho ki soochna ummid lagaoge aur 120 percent ko tutegi ab tak kasht zyada hoga isliye har vyakti se utani hi ummeeden lagayi hai ya utana hi lagao upeksha ki hai unse jinako hum jhel paye sahan kar paye zyada nahi zyada ummid lagaoge utana zyada kasturba ok chhod dijiye

यह कहना गलत है कि उम्मीद रखना क्यों है उम्मीद रखना ही क्यों नहीं है कष्ट जब होता है जब हमा

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

4:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न कि ऐसा क्यों होता है कि जिससे हमें सबसे ज्यादा होती है वही हमें तकलीफ देता है मुझे लगता है कि तकलीफ देने वाले ही गलती नहीं है उम्मीद करने वाले की गलती है हम किसी से ज्यादा ही उम्मीद लगा रखी है उम्मीद पूरी नहीं होती क्योंकि जिसकी हम कल्पना में भी चढ़ते हैं या अपने सपनों में रहते हैं यह सोच लेते हैं कि दूसरा जो उम्मीद करेंगे दूसरा बुरा कर पाएगा उसके समर्थकों नहीं देखे उसके दर्शन को नहीं देखते कि उसे पसंद है या नहीं है जो बात की हम उम्मीद कर रहे हो कर पाएगा या नहीं कर पाएगा इसी तरह समझ में है या नहीं कर पाएगा नहीं कर पाएगा उसके और क्या हालात है और क्या है छुट्टी है कोई इसकी व्यवस्था को नहीं देखते बस हम एक उम्मीद संबंधों में मिल सकती है बच्चे के पास फेल होने की मिल सकती है टॉप करने की उम्मीद हो सकती है आपकी जो इच्छा करने की उम्मीद हो सकती कुछ भी तो हम क्या कर सकते हैं कि अपनी उम्मीद को ही फर्क है क्या हम रियलिस्टिक उम्मीद कर रहे हैं किसी से क्योंकि जब हमारे उम्मीद रियलिस्टिक नहीं होती वास्तविकता के आधार पर नहीं होती तब वह मिट पूरी नहीं हो भोजपुरी नहीं होती तो हमें तकलीफ होती है तो गलती किसकी हमारी जिसने उम्मीद नहीं पूरे कि उसने अपनी सामर्थ्य के अनुसार काम किया बल्कि हमने उससे ज्यादा उम्मीद लगा दी हमारी गलती है इसलिए दूसरे संगीत लगाने से पहले वास्तविकता को पहचानने की कोशिश करिए कि वह कितना कर सकता है उतनी ही उम्मीद रखें अब मान लीजिए कि आई क्यू लो है उसके कमर की ही कम है और हम सोचते रहे कि हमारा बेटा है या बेटी है हम इतने अच्छे हैं कि पापा बड़े बुद्धिमान हैं भैया बड़ी-बड़ी मानें तो इसके भी अच्छे नंबर आएंगे लेबल नहीं देखा बस काम भी हो सकता है हमने वही उम्मीद लगा ली जो एक ब्राइट बच्चे से लगाते हैं तो वह आपकी उम्मीद पूरी नहीं हो सकती उसके अनुसार उसके सामर्थ्य के अनुसार उम्मीद करो स्किन के लिए उसकी समझ कर ले उसके अनुसार की होती तो पूरी कर देता अब जरूरत है बहुत ज्यादा उम्मीद कर रहे थे तब आपको तकलीफ होती है क्योंकि आपने बात पिक तक पर ने अपने सपनों के आधार पर मीट किस समय बस अपनी तकलीफ के स्टैंडर्ड को अपनी उम्मीद अपनी उम्मीद के स्टैंडर्ड को अपनी तकलीफ मत बनने दो वास्तविकता के आधार पर

prashna ki aisa kyon hota hai ki jisse hamein sabse zyada hoti hai wahi hamein takleef deta hai mujhe lagta hai ki takleef dene waale hi galti nahi hai ummid karne waale ki galti hai hum kisi se zyada hi ummid laga rakhi hai ummid puri nahi hoti kyonki jiski hum kalpana me bhi chadhte hain ya apne sapno me rehte hain yah soch lete hain ki doosra jo ummid karenge doosra bura kar payega uske samarthakon nahi dekhe uske darshan ko nahi dekhte ki use pasand hai ya nahi hai jo baat ki hum ummid kar rahe ho kar payega ya nahi kar payega isi tarah samajh me hai ya nahi kar payega nahi kar payega uske aur kya haalaat hai aur kya hai chhutti hai koi iski vyavastha ko nahi dekhte bus hum ek ummid sambandhon me mil sakti hai bacche ke paas fail hone ki mil sakti hai top karne ki ummid ho sakti hai aapki jo iccha karne ki ummid ho sakti kuch bhi toh hum kya kar sakte hain ki apni ummid ko hi fark hai kya hum realistic ummid kar rahe hain kisi se kyonki jab hamare ummid realistic nahi hoti vastavikta ke aadhar par nahi hoti tab vaah mit puri nahi ho bhojpuri nahi hoti toh hamein takleef hoti hai toh galti kiski hamari jisne ummid nahi poore ki usne apni samarthya ke anusaar kaam kiya balki humne usse zyada ummid laga di hamari galti hai isliye dusre sangeet lagane se pehle vastavikta ko pahachanne ki koshish kariye ki vaah kitna kar sakta hai utani hi ummid rakhen ab maan lijiye ki I kyun lo hai uske kamar ki hi kam hai aur hum sochte rahe ki hamara beta hai ya beti hai hum itne acche hain ki papa bade buddhiman hain bhaiya badi badi manen toh iske bhi acche number aayenge lebal nahi dekha bus kaam bhi ho sakta hai humne wahi ummid laga li jo ek bright bacche se lagate hain toh vaah aapki ummid puri nahi ho sakti uske anusaar uske samarthya ke anusaar ummid karo skin ke liye uski samajh kar le uske anusaar ki hoti toh puri kar deta ab zarurat hai bahut zyada ummid kar rahe the tab aapko takleef hoti hai kyonki aapne baat pic tak par ne apne sapno ke aadhar par meat kis samay bus apni takleef ke standard ko apni ummid apni ummid ke standard ko apni takleef mat banne do vastavikta ke aadhar par

प्रश्न कि ऐसा क्यों होता है कि जिससे हमें सबसे ज्यादा होती है वही हमें तकलीफ देता है मुझे

Romanized Version
Likes  395  Dislikes    views  2166
WhatsApp_icon
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले आप यह बताइए कि आपको तकलीफ हो कर रही है क्योंकि आपने उनसे उम्मीद लगा बैठी है उम्मीद के लगा बैठे क्योंकि आपको उनसे अटैचमेंट है अटैचमेंट क्यों है क्योंकि आपकी कोई नीड होगी अगर आपकी कोई ऐसी नीड है जिसको यह इंसान फुल फील करता है तो डेफिनटली आप उस पर डिपेंडेंट हो जाते हैं और डिपेंडेंट के होते हैं तो अटैचमेंट भी हो जाता है और अगर अटैचमेंट जहां पर होता है रब का एक्सपेक्टेशन को वह इंसान मीट नहीं करता है तो वहां पर आपको तकलीफ होती है तो 1 लेवल के बाद वह इंसान जो है आप से छुटकारा पाना चाहता क्योंकि जो आप इसे चिपकना चाहते हैं तो सबको एक वक्त के बाद वह अच्छा नहीं लगता तो चिपकने वाला भव्य जो होता है जो उम्मीदों के सहारे जो महल होता है वह टिकता नहीं गिर जाता है तो उम्मीद रखी है लेकिन सीमा के अंदर रखे की उम्मीद सीमा के बाहर चली जाती है तो वह रिश्ते पर रिश्ते में प्यार पैदा कर देती है तो यही कारण है कि आप जब उम्मीद जिन से रखते हैं जो एक सीमा के बाहर चली जाती है तो वह नेचुरल लेकर वो इंसान आपको छोड़कर भागना चाहेगा कौन चाहेगा कि वह तनाव में अपने शहर में ऑपरेट करेला इसमें जिंदगी तो एक ही बार आती है सब लोग अच्छे से देना चाहेंगे तो आपको यह चाहिए कि आप अपने एक्सपेक्टशंस को कम करें जो आपको यह चाहिए कि आप आत्मनिर्भर माय सेल्फ सफिशिएंट हुए अपने आप की देखभाल आप खुद कर सके और अपने एक्सपेक्टेशन अपने से आप खुद रखेंगे तो अच्छा रहेगा कि अपने आपकी खुशी आप ही बन सकते हैं और अपने आप को आत्मनिर्भर आप ही बना सकते हैं तो आपको अपने आप अपने पर्सनल के पर काम करना चाहिए आपके आउटलुक पर काम करना चाहिए और आपको यह चाहिए कि आप दूसरों से अपेक्षा रखें तो एक कनेक्शन रहे ना कि एक अटैचमेंट की अटैचमेंट रहेगा तो दुख तो होगा ही तकलीफ तो हो गई

sabse pehle aap yah bataye ki aapko takleef ho kar rahi hai kyonki aapne unse ummid laga baithi hai ummid ke laga baithe kyonki aapko unse attachment hai attachment kyon hai kyonki aapki koi need hogi agar aapki koi aisi need hai jisko yah insaan full feel karta hai toh definatali aap us par dependent ho jaate hain aur dependent ke hote hain toh attachment bhi ho jata hai aur agar attachment jaha par hota hai rab ka expectation ko vaah insaan meat nahi karta hai toh wahan par aapko takleef hoti hai toh 1 level ke baad vaah insaan jo hai aap se chhutkara paana chahta kyonki jo aap ise chipakana chahte hain toh sabko ek waqt ke baad vaah accha nahi lagta toh chipakane vala bhavya jo hota hai jo ummidon ke sahare jo mahal hota hai vaah tikta nahi gir jata hai toh ummid rakhi hai lekin seema ke andar rakhe ki ummid seema ke bahar chali jaati hai toh vaah rishte par rishte mein pyar paida kar deti hai toh yahi karan hai ki aap jab ummid jin se rakhte hain jo ek seema ke bahar chali jaati hai toh vaah natural lekar vo insaan aapko chhodkar bhaagna chahega kaun chahega ki vaah tanaav mein apne shehar mein operate karela isme zindagi toh ek hi baar aati hai sab log acche se dena chahenge toh aapko yah chahiye ki aap apne eksapektashans ko kam kare jo aapko yah chahiye ki aap aatmanirbhar my self sufficient hue apne aap ki dekhbhal aap khud kar sake aur apne expectation apne se aap khud rakhenge toh accha rahega ki apne aapki khushi aap hi ban sakte hain aur apne aap ko aatmanirbhar aap hi bana sakte hain toh aapko apne aap apne personal ke par kaam karna chahiye aapke outlook par kaam karna chahiye aur aapko yah chahiye ki aap dusro se apeksha rakhen toh ek connection rahe na ki ek attachment ki attachment rahega toh dukh toh hoga hi takleef toh ho gayi

सबसे पहले आप यह बताइए कि आपको तकलीफ हो कर रही है क्योंकि आपने उनसे उम्मीद लगा बैठी है उम्म

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  938
WhatsApp_icon
user

Priyanka Kapoor

Clinical Psychologist

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम किसी से कुछ कर रहे हैं तो मेरे हिसाब से उसने सामने वाले को तो कुछ लेना-देना है ही नहीं ठीक है अगर वह को ट्रैक्टर पॉइंट भी कर रहा है कि तुम सा ना कोई नहीं कर रहा है आपको क्लीनिंग हटानी पड़ेगी जो साथ में पूरा कर रही हो तो सामने वाली की तरफ से सामने वाले पर अकॉर्डिंग टू में अगर आप लिख कर रहे हैं यहां पर आपकी पार्टी गलती है हेयर यूनिट इन ब्लूटूथ को शांत उसमें सामने वाले कहीं तक लेना देना नहीं है कि सामने वाले की वजह से और आप

agar hum kisi se kuch kar rahe hain toh mere hisab se usne saamne waale ko toh kuch lena dena hai hi nahi theek hai agar vaah ko tractor point bhi kar raha hai ki tum sa na koi nahi kar raha hai aapko cleaning hataani padegi jo saath mein pura kar rahi ho toh saamne wali ki taraf se saamne waale par according to mein agar aap likh kar rahe hain yahan par aapki party galti hai hair unit in bluetooth ko shaant usme saamne waale kahin tak lena dena nahi hai ki saamne waale ki wajah se aur aap

अगर हम किसी से कुछ कर रहे हैं तो मेरे हिसाब से उसने सामने वाले को तो कुछ लेना-देना है ही न

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  482
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल एक ऐसा क्यों होता है जिसे हम सबका 2 मील होती है भैया मैं तकलीफ देता है तुझे नहीं ऐसा नहीं है कि जिससे हमें सब चला दो हमें दो भाई हमें सबसे ज्यादा तकलीफ भी दे हमें ऐसा लगता है क्योंकि हमेशा सोचने के लिए मजबूर हो जाते हैं हम कारण क्या है जिसमें किसी का सबसे ज्यादा उम्मीद लगाकर के बैठते हैं जिस संसद से अपना समझते हैं प्यार करते हैं अगर वह हमारे हिसाब से कोई भी एक छोटे से छोटा कारें भी नहीं कर रहा है तो हमें बुरा लगता है अगर वह हमारे हिसाब से नहीं चल रहा है तो हमें बुरा लगता है हमें लगता है कि वह हमें समझ ही नहीं पा रहा है या मेरे लिए कुछ करना नहीं चाहता है इसलिए के बहुत सारे नेगेटिव ख्याल हमारे दिमाग में आने लग जाते हैं और हम तकलीफ होती है हम खुद को परेशान करते रहते हैं जबकि ऐसा नहीं होता है यही कार्य अगर कोई दूसरा व्यक्ति कर रहा होगा जिसके लिए हम सदा कंफर्म नहीं है तो मैं संबोधन भी नहीं करेंगे तो जरूरत है कि सामने वाले की है नजरिया से भी एक बार परिस्थितियों को सोचने और समझने की कोशिश करें आपको खुद पता चल जाएगा कि जिससे अपराधों में लगा कर बैठते हैं वह आपको हमेशा तकलीफ नहीं देते आपको दिल

aapka sawaal ek aisa kyon hota hai jise hum sabka 2 meal hoti hai bhaiya main takleef deta hai tujhe nahi aisa nahi hai ki jisse hamein sab chala do hamein do bhai hamein sabse zyada takleef bhi de hamein aisa lagta hai kyonki hamesha sochne ke liye majboor ho jaate hain hum karan kya hai jisme kisi ka sabse zyada ummid lagakar ke baithate hain jis sansad se apna samajhte hain pyar karte hain agar vaah hamare hisab se koi bhi ek chote se chota kare bhi nahi kar raha hai toh hamein bura lagta hai agar vaah hamare hisab se nahi chal raha hai toh hamein bura lagta hai hamein lagta hai ki vaah hamein samajh hi nahi paa raha hai ya mere liye kuch karna nahi chahta hai isliye ke bahut saare Negative khayal hamare dimag mein aane lag jaate hain aur hum takleef hoti hai hum khud ko pareshan karte rehte hain jabki aisa nahi hota hai yahi karya agar koi doosra vyakti kar raha hoga jiske liye hum sada confirm nahi hai toh main sambodhan bhi nahi karenge toh zarurat hai ki saamne waale ki hai najariya se bhi ek baar paristhitiyon ko sochne aur samjhne ki koshish kare aapko khud pata chal jaega ki jisse apradho mein laga kar baithate hain vaah aapko hamesha takleef nahi dete aapko dil

आपका सवाल एक ऐसा क्यों होता है जिसे हम सबका 2 मील होती है भैया मैं तकलीफ देता है तुझे नहीं

Romanized Version
Likes  171  Dislikes    views  3261
WhatsApp_icon
play
user

Anil Kumar Tiwari

Yoga, Meditation & Astrologer

0:58

Likes  46  Dislikes    views  442
WhatsApp_icon
user

Raju Singh

IT professional

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय देखिए जहां किसी भी रिश्ते में उम्मीद होगी वहां पर ऐसी चीजें होना स्वाभाविक है क्योंकि जहां पर उम्मीद होता है और उसने उम्मीद जब टूटती है जब उस तरीके से हमें नहीं मिलता है तो में तकलीफ होने लगती है तो सबसे पहले मैं यही कहूंगा कि जो भी आप रिलेशनशिप बनाए उसने एक आपको जरूर 1 स्पेस मेंटेन करके रखें ठीक है कि अभी आपको ज्यादा किसी से एक्सपेक्टेशन नहीं करना है कि नहीं वह मेरी उम्मीदों को पूरा करेगा वह मेरी जितनी भी उम्मीद है उसको फुलफिल करके और मुझे संतुष्टि देगा ऐसा अपना सोचे आप सिंपली रिश्ते बनाए तो उस पर बेमतलब का बना है जब भी आप रिश्ता क्रिएट कर तो उसमें भाव हो उसमें समझदारी हो उसने सब कुछ हो लेकिन उम्मीद ना हो कि लाइक मेरा यह काम करेगा वह मैं उसके यह काम अगर वह मेरे यह काम आता है तो ठीक है नहीं तो मेरी उम्मीद टूट जाएगी तो इस तरीके से ना सोचे आप आप अपनी उम्मीदों को अपना जहां तक हो सके खुद से पूरा करें आप इंसान अपनी उम्मीदें अपनी इच्छाएं स्वयं पूरा कर सकता है इतनी एबिलिटी होती है कि इंसान के अंदर तो आप अपनी जो भी उम्मीदें हैं उसे कम रखें दूसरों के प्रति और खुद उस उम्मीदों को पूरा करें तभी जाकर आप एक अच्छा रिलेशनशिप बना सकते हैं और खुश रह सकते हैं उस रिलेशनशिप में अगर ऐसा नहीं होगा अगर आपको एक्सपेक्टेशन आपकी ज्यादा होगी और उसको टूट जाएगा तो वह तकलीफ होगी लाइक कभी-कभी क्या होता है अल्लाह लव्स मेट्रो में ऐसा होता है लेकिन उस पर भी उम्मीदें कभी रखना चाहिए उस पर बस खुश रहने की कोशिश करनी चाहिए अपने पार्टनर से पर कोई बोझ नहीं देना चाहिए कि जिससे वह समझ जाए कि आप से कोई उम्मीद है तो ऐसा अपना करें धन

hi dekhiye jaha kisi bhi rishte mein ummid hogi wahan par aisi cheezen hona swabhavik hai kyonki jaha par ummid hota hai aur usne ummid jab tootati hai jab us tarike se hamein nahi milta hai toh mein takleef hone lagti hai toh sabse pehle main yahi kahunga ki jo bhi aap Relationship banaye usne ek aapko zaroor 1 space maintain karke rakhen theek hai ki abhi aapko zyada kisi se expectation nahi karna hai ki nahi vaah meri ummidon ko pura karega vaah meri jitni bhi ummid hai usko fulfil karke aur mujhe santushti dega aisa apna soche aap simply rishte banaye toh us par bematalab ka bana hai jab bhi aap rishta create kar toh usme bhav ho usme samajhdari ho usne sab kuch ho lekin ummid na ho ki like mera yah kaam karega vaah main uske yah kaam agar vaah mere yah kaam aata hai toh theek hai nahi toh meri ummid toot jayegi toh is tarike se na soche aap aap apni ummidon ko apna jaha tak ho sake khud se pura kare aap insaan apni ummeeden apni ichhaen swayam pura kar sakta hai itni ability hoti hai ki insaan ke andar toh aap apni jo bhi ummeeden hain use kam rakhen dusro ke prati aur khud us ummidon ko pura kare tabhi jaakar aap ek accha Relationship bana sakte hain aur khush reh sakte hain us Relationship mein agar aisa nahi hoga agar aapko expectation aapki zyada hogi aur usko toot jaega toh vaah takleef hogi like kabhi kabhi kya hota hai allah loves metro mein aisa hota hai lekin us par bhi ummeeden kabhi rakhna chahiye us par bus khush rehne ki koshish karni chahiye apne partner se par koi bojh nahi dena chahiye ki jisse vaah samajh jaaye ki aap se koi ummid hai toh aisa apna kare dhan

हाय देखिए जहां किसी भी रिश्ते में उम्मीद होगी वहां पर ऐसी चीजें होना स्वाभाविक है क्योंकि

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  326
WhatsApp_icon
user
0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा क्यों सोचते हैं कि वो पूरी नहीं हो पाती कहीं ना कहीं अगर हम सोचे और कहीं ना कहीं हम अपनी लाइफ को देखें जो हमें मिलता है हम हमेशा उसे भी खुश रहते हैं और कभी कबार अमित ज्यादा मिलता है तो भी हम से दुखी हो जाते हैं और तकलीफ देना जो ज्यादा प्यार करता है हमेशा तकलीफ होगी देता है तो उसे आप कभी भी शर्मिंदा मत आइएगा जैसे आपको बता इसका सबसे बड़ा उदाहरण

aisa kyon sochte hain ki vo puri nahi ho pati kahin na kahin agar hum soche aur kahin na kahin hum apni life ko dekhen jo hamein milta hai hum hamesha use bhi khush rehte hain aur kabhi kabar amit zyada milta hai toh bhi hum se dukhi ho jaate hain aur takleef dena jo zyada pyar karta hai hamesha takleef hogi deta hai toh use aap kabhi bhi sharminda mat aiega jaise aapko bata iska sabse bada udaharan

ऐसा क्यों सोचते हैं कि वो पूरी नहीं हो पाती कहीं ना कहीं अगर हम सोचे और कहीं ना कहीं हम अप

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  318
WhatsApp_icon
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिग ऐसा बोला ही जाता है कि जितनी आप एक्सपेक्टेशन रखते हैं तो अगर वह पूरी नहीं होती तो इसके कारण ही आपको जो है वह तकलीफ होती है तो ऐसा नहीं होता है कि हमेशा आप किसी से एक सेट करें तो वह चीज वह पूरी नहीं करके देता है दरअसल ये होता है कि अब वह अपनी तरफ से पूरी मेहनत जरूर करता है पर अगर वह चीज हासिल नहीं होती है तो फिर ऐसा लगता है कि आप की उम्मीद को किसी ने तोड़ दिया है तो यह जो है वह आप अपने बेटे से भी उम्मीद रख सकते हैं कि वह आपकी हमेशा से सहायता करेगा आप के बुढ़ापे का सहारा बनेगा पर वह आपके कहे अनुसार नहीं करता है तो आप ऐसा लगता है कि आपने उनसे उम्मीद की थी और उसी नहीं आपको तकलीफ दी तो कुछ हद तक पर ऐसा होता है कि जो है बाहर कोई ज्यादा ध्यान नहीं रख पाता है या फिर जो हजार एक्सपेक्टेशन नहीं रख पाता है पर हमेशा ऐसा नहीं होता है तो जितना कम आप तो अपनी लाइफ सिक्स पैक करेंगे जितना कम आप उम्मीद रखेंगे तो उतना ही आपको जो है जिंदगी जीने का मजा आएगा

big aisa bola hi jata hai ki jitni aap expectation rakhte hain toh agar vaah puri nahi hoti toh iske karan hi aapko jo hai vaah takleef hoti hai toh aisa nahi hota hai ki hamesha aap kisi se ek set kare toh vaah cheez vaah puri nahi karke deta hai darasal ye hota hai ki ab vaah apni taraf se puri mehnat zaroor karta hai par agar vaah cheez hasil nahi hoti hai toh phir aisa lagta hai ki aap ki ummid ko kisi ne tod diya hai toh yah jo hai vaah aap apne bete se bhi ummid rakh sakte hain ki vaah aapki hamesha se sahayta karega aap ke budhape ka sahara banega par vaah aapke kahe anusaar nahi karta hai toh aap aisa lagta hai ki aapne unse ummid ki thi aur usi nahi aapko takleef di toh kuch had tak par aisa hota hai ki jo hai bahar koi zyada dhyan nahi rakh pata hai ya phir jo hazaar expectation nahi rakh pata hai par hamesha aisa nahi hota hai toh jitna kam aap toh apni life six pack karenge jitna kam aap ummid rakhenge toh utana hi aapko jo hai zindagi jeene ka maza aayega

बिग ऐसा बोला ही जाता है कि जितनी आप एक्सपेक्टेशन रखते हैं तो अगर वह पूरी नहीं होती तो इसके

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  397
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!