क्या आपके अनुसार स्वर्ग और नरक हैं या नहीं?...


user

Trainer Yogi Yogendra

Motivational Speaker | Career Coach | Business Coach | Marketing & Management Expert's

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड में योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर का पूरा करता है तो होने के बाद परेशान देता है और 10 साल के लिए जाते हैं लेकिन वह पूरी जिंदगी

hello friend me yogendra sharma Motivational speaker ka pura karta hai toh hone ke baad pareshan deta hai aur 10 saal ke liye jaate hain lekin vaah puri zindagi

हेलो फ्रेंड में योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर का पूरा करता है तो होने के बाद परेशान देता

Romanized Version
Likes  342  Dislikes    views  3445
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वर्ग और नर्क है पूरे जगत में स्वर्ग ही नरक स्वर्ग ही नर्क है नर्क ही स्वर्ग है ऐसा दिखा जा रहा है कोई बहुत सुखी है तो कह सकते हैं बहुत सुखी जो इंसान है उसकी हर एक मनोकामना पूर्ण हो रही है तू स्वर्ग में बैठा है अगर कोई बहुत दुखी है और अपने एक भी मनोकामना पूर्ण नहीं हो रही और मन की इच्छाएं उसकी बढ़ती जा रही है नर्क में बैठा है तो इसलिए स्वर्ग और नर्क वह ईश्वर के दो चरण हैं जिसमें रात और दिन आता है लेकिन स्वर्ग और नर्क को छोड़कर भी है जिसे आनंद महाप्रणा सुख है ना दुख है दोनों ही नहीं है ना पाप है ना पुण्य है दोनों ही नहीं है ना रात है ना दिन है दोनों ही नहीं है वह है ईश्वर का घर परमात्मा का घर इसलिए स्वर्ग और नर्क हमारे साथ चलते हैं सुख और दुख हमारे साथ चलते हैं जब तक हम मन एकाग्र नहीं कर लेते तब तक यह हमारे साथ ही जलते रहेंगे धन्यवाद

swarg aur nark hai poore jagat me swarg hi narak swarg hi nark hai nark hi swarg hai aisa dikha ja raha hai koi bahut sukhi hai toh keh sakte hain bahut sukhi jo insaan hai uski har ek manokamana purn ho rahi hai tu swarg me baitha hai agar koi bahut dukhi hai aur apne ek bhi manokamana purn nahi ho rahi aur man ki ichhaen uski badhti ja rahi hai nark me baitha hai toh isliye swarg aur nark vaah ishwar ke do charan hain jisme raat aur din aata hai lekin swarg aur nark ko chhodkar bhi hai jise anand mahaprana sukh hai na dukh hai dono hi nahi hai na paap hai na punya hai dono hi nahi hai na raat hai na din hai dono hi nahi hai vaah hai ishwar ka ghar paramatma ka ghar isliye swarg aur nark hamare saath chalte hain sukh aur dukh hamare saath chalte hain jab tak hum man ekagra nahi kar lete tab tak yah hamare saath hi jalte rahenge dhanyavad

स्वर्ग और नर्क है पूरे जगत में स्वर्ग ही नरक स्वर्ग ही नर्क है नर्क ही स्वर्ग है ऐसा दिखा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Dilsh Sheikh

Journalist

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां स्वर्ग और नर्क है और अगर हम धार्मिक ग्रंथों की बात करें चाहे वह गीता हो चाहे वह कुरान हो चाहे वह बाइबल हो अन्य धर्मों की जो किताबें हैं उसमें भी इस चीज का जिक्र किया गया है कि स्वर्ग और नर्क है और मानव को उसके अच्छे कर्म और बुरे कर्म के अनुसार स्वर्ग और नर्क में भेजा जाएगा तो इस बात से मैं बिल्कुल इत्तेफाक रखता हूं कि स्वर्ग और नर्क है पर कुछ लोग होते हैं जो इस चीज में भरोसा नहीं करते हैं आज ईश्वर में भरोसा नहीं रखते हैं वह ऐसा मानते हैं कि हम इस संसार में आए हैं तो इस संसार में हम मौज मस्ती के लिए आए हैं और एक दिन हम मर जाएंगे और हमारा अस्तित्व खत्म हो जाएगा तो वह व्यक्ति इसी में विश्वास नहीं रखते हैं और जो व्यक्ति धर्म में विश्वास रखते हैं वो ऐसा मानते हैं कि स्वर्ग और नरक हैड़ा मरने के बाद हमें स्वर्ग और नर्क में जाना ही है

ji haan swarg aur nark hai aur agar hum dharmik granthon ki baat kare chahen vaah geeta ho chahen vaah quraan ho chahen vaah bible ho anya dharmon ki jo kitaben hain usme bhi is cheez ka jikarr kiya gaya hai ki swarg aur nark hai aur manav ko uske acche karm aur bure karm ke anusaar swarg aur nark mein bheja jaega toh is baat se main bilkul iktefaak rakhta hoon ki swarg aur nark hai par kuch log hote hain jo is cheez mein bharosa nahi karte hain aaj ishwar mein bharosa nahi rakhte hain vaah aisa maante hain ki hum is sansar mein aaye hain toh is sansar mein hum mauj masti ke liye aaye hain aur ek din hum mar jaenge aur hamara astitva khatam ho jaega toh vaah vyakti isi mein vishwas nahi rakhte hain aur jo vyakti dharm mein vishwas rakhte hain vo aisa maante hain ki swarg aur narak haida marne ke baad hamein swarg aur nark mein jana hi hai

जी हां स्वर्ग और नर्क है और अगर हम धार्मिक ग्रंथों की बात करें चाहे वह गीता हो चाहे वह कुर

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
play
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

1:11

Likes  14  Dislikes    views  204
WhatsApp_icon
user

Riya

Artist, Traveller

0:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से सब कुछ नहीं होता बस बोलने की बातें होती है

mere hisab se sab kuch nahi hota bus bolne ki batein hoti hai

मेरे हिसाब से सब कुछ नहीं होता बस बोलने की बातें होती है

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
play
user

Kavita

Writer

1:39

Likes  13  Dislikes    views  350
WhatsApp_icon
user

Aisha

Writer, Thinker

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू धर्म के हिसाब से बहुत सी चीज है जिसे सबसे पहली चीजें बॉक्स जहां पर माना जाता है कि जब आत्मा इस दुनिया की मोह माया से मुक्त हो जाती है तो वह मुक्त में कौन सा किया दूसरी बात है स्वर्ग नर्क और फिर से जन्म लेना फिर यानी कि मेरा मन नहीं है कि स्वर्ग और नर्क जैसी कोई चीज नहीं होती है अगर हम अपनी कच्छे करते हैं पहले हम अगला जन्म लेते हैं उसमें हमारी जिंदगी आसान होती है जो लोग हमसे मिलते हैं जो मारा नेचर होता है हम जिस तरह के घर में पैदा होते हैं और बहुत सारी चीजें इस तरह की तो उसे हम स्वर्ग के सकते हैं जब हम अपनी पहली नजर में गलत काम करते हैं तो हमें अगले जन्म में नरक भोगना पड़ता है यानी कि मित्र के घर में पैदा होते हैं वह ज्यादा अच्छा नहीं होता है हमारे आसपास के लोग अच्छे नहीं होते हैं हम जिस स्थिति में कौन होते हैं वह ज्यादा अच्छी नहीं होती है हमारी क्या बोन हो सकते हैं मुझे लगता है कि स्व चिली एग्जास्ट नहीं करते हैं और हमारे पिछले कर्मों के बेसिस पर जो मारा अगला जन्म होता है वह डिसाइड करता है कि हमारी सिचुएशंस क्या होगी अगर वह अच्छी होगी तो वह स्वर्ग है और अगर खराब होगी तो वह लड़की

hindu dharm ke hisab se bahut si cheez hai jise sabse pehli cheezen box jaha par mana jata hai ki jab aatma is duniya ki moh maya se mukt ho jaati hai toh vaah mukt mein kaun sa kiya dusri baat hai swarg nark aur phir se janam lena phir yani ki mera man nahi hai ki swarg aur nark jaisi koi cheez nahi hoti hai agar hum apni kacche karte hain pehle hum agla janam lete hain usme hamari zindagi aasaan hoti hai jo log humse milte hain jo mara nature hota hai hum jis tarah ke ghar mein paida hote hain aur bahut saree cheezen is tarah ki toh use hum swarg ke sakte hain jab hum apni pehli nazar mein galat kaam karte hain toh hamein agle janam mein narak bhogna padta hai yani ki mitra ke ghar mein paida hote hain vaah zyada accha nahi hota hai hamare aaspass ke log acche nahi hote hain hum jis sthiti mein kaun hote hain vaah zyada achi nahi hoti hai hamari kya bone ho sakte hain mujhe lagta hai ki swa chili egjast nahi karte hain aur hamare pichle karmon ke basis par jo mara agla janam hota hai vaah decide karta hai ki hamari sichueshans kya hogi agar vaah achi hogi toh vaah swarg hai aur agar kharab hogi toh vaah ladki

हिंदू धर्म के हिसाब से बहुत सी चीज है जिसे सबसे पहली चीजें बॉक्स जहां पर माना जाता है कि ज

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
play
user

Mohini

Voice Artist

1:18

Likes  15  Dislikes    views  217
WhatsApp_icon
user

Sanchi Sharma

Journalist, Photographer

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह कैसा सवाल है जो सिर्फ और सिर्फ हमारे अपने ऑपिनियन जोकर डिपेंड करता है हमें कुछ भी न होता है कोई भी ट्रेन के तो हम होते नहीं है तो मेरे मायने में स्वर्ग और नरक हां होता है क्योंकि एक अजब निराली है कि दुनिया में अगर हम अपनी रस्ते जिंदगी में अच्छाई और बुराई देते हैं तो इसका भी एक अच्छाई और बुराई तो हमेशा से चलती है और चलती ही रहेगी तो मरने के बाद ऐसा तो है नीचे छाले खत्म हो जाती है तो मरने के बाद लोग अलग अलग है

yah kaisa sawaal hai jo sirf aur sirf hamare apne opinion joker depend karta hai hamein kuch bhi na hota hai koi bhi train ke toh hum hote nahi hai toh mere maayne mein swarg aur narak haan hota hai kyonki ek ajab nirali hai ki duniya mein agar hum apni raste zindagi mein acchai aur burayi dete hain toh iska bhi ek acchai aur burayi toh hamesha se chalti hai aur chalti hi rahegi toh marne ke baad aisa toh hai niche chhale khatam ho jaati hai toh marne ke baad log alag alag hai

यह कैसा सवाल है जो सिर्फ और सिर्फ हमारे अपने ऑपिनियन जोकर डिपेंड करता है हमें कुछ भी न होत

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  154
WhatsApp_icon
play
user

Aradhya Gupta

Life Coach

1:03

Likes  4  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!