आपके अनुसार भगवान कैसे दिखते हैं?...


user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

2:20
Play

Likes  170  Dislikes    views  2754
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ghanshyam Vyas

Cultural Guide & Speaker

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अलग-अलग मतों से भगवान के संदर्भ में हमारे पास बैठे की 33 कोटि देवी देवता है लेकिन मूल रूप से 30 कोटी भगवान की विशेषता परमात्मा दयालु हे परमपिता परमात्मा पालन करता है उसी प्रकार लेते हैं उसके बाद पहुंचने के लिए सुगमता होती है तो मुझे लगता है कि परमपिता परमात्मा एक ही है बाकी हमारे मार देती है कि परमपिता परमात्मा को प्राप्त करना और उनका आशीर्वाद प्राप्त करना और हमारे जीवन को

alag alag maton se bhagwan ke sandarbh mein hamare paas baithe ki 33 koti devi devta hai lekin mul roop se 30 koti bhagwan ki visheshata paramatma dayalu hai parampita paramatma palan karta hai usi prakar lete hain uske baad pahuchne ke liye sugamata hoti hai toh mujhe lagta hai ki parampita paramatma ek hi hai baki hamare maar deti hai ki parampita paramatma ko prapt karna aur unka ashirvaad prapt karna aur hamare jeevan ko

अलग-अलग मतों से भगवान के संदर्भ में हमारे पास बैठे की 33 कोटि देवी देवता है लेकिन मूल रूप

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके अनुसार भगवान कैसे दिखते हैं तो हमारे अनुसार भगवान अपने स्वरूप हम इंसानों को बनाया है हमारे स्वरूप दिखते हैं हम आम आदमी हैं इसलिए हमको दो भूल जा दिए हैं और वह चमत्कार भगवान है इसलिए उनके पास चार भुजाएं और बहुत से शक्ति रहते हैं लेकिन वह हमारे स्वरूप है हमारे रूप जैसे हैं

aapke anusaar bhagwan kaise dikhte hain toh hamare anusaar bhagwan apne swaroop hum insano ko banaya hai hamare swaroop dikhte hain hum aam aadmi hain isliye hamko do bhool ja diye hain aur vaah chamatkar bhagwan hai isliye unke paas char bhujaen aur bahut se shakti rehte hain lekin vaah hamare swaroop hai hamare roop jaise hain

आपके अनुसार भगवान कैसे दिखते हैं तो हमारे अनुसार भगवान अपने स्वरूप हम इंसानों को बनाया है

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  189
WhatsApp_icon
user

Grt2100

Youtube Par S T Motivation

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है कि आपकी अनुसार भगवान कैसे दिखते आपको एक चीज बताओ सिर्फ भगवान को महसूस कर सकते हैं हम आप जैसे हवा को देख नहीं सकते ना उसी शख्स भगवान को भी नहीं देख सकते क्योंकि हम आंखों देखी नहीं सकते हो सिर्फ उसे फील कर सकते हो ना इस हिसाब से भगवान को भी कुछ कर्म अच्छे करते हो ना बच्चों को कुछ ताना-बाना खिलाते हो अच्छी हो को तो एक चीज सोच इसमें भी भगवान है तो आप कुछ अच्छे कर्म कर रहे हो ना ही फील करो

aapka question hai ki aapki anusaar bhagwan kaise dikhte aapko ek cheez batao sirf bhagwan ko mehsus kar sakte hain hum aap jaise hawa ko dekh nahi sakte na usi sakhs bhagwan ko bhi nahi dekh sakte kyonki hum aakhon dekhi nahi sakte ho sirf use feel kar sakte ho na is hisab se bhagwan ko bhi kuch karm acche karte ho na baccho ko kuch tana bana khilaate ho achi ho ko toh ek cheez soch isme bhi bhagwan hai toh aap kuch acche karm kar rahe ho na hi feel karo

आपका क्वेश्चन है कि आपकी अनुसार भगवान कैसे दिखते आपको एक चीज बताओ सिर्फ भगवान को महसूस कर

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  251
WhatsApp_icon
user
0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान है क्या कृषि सकती है जिस प्रकार बिजली का तार होता है उसमें करंट होता है लेकिन करंट दिखाई नहीं देता लेकिन जब हाथ लगाते हैं या टेस्टर से चेक करते हैं तो पता लगता है कि करंट है तो एड्रेस शक्ति नियति का विधान बनारस का पालन कर रहा है

bhagwan hai kya krishi sakti hai jis prakar bijli ka taar hota hai usme current hota hai lekin current dikhai nahi deta lekin jab hath lagate hain ya tester se check karte hain toh pata lagta hai ki current hai toh address shakti niyati ka vidhan banaras ka palan kar raha hai

भगवान है क्या कृषि सकती है जिस प्रकार बिजली का तार होता है उसमें करंट होता है लेकिन करंट द

Romanized Version
Likes  247  Dislikes    views  1453
WhatsApp_icon
user

Suraj Kumar Gupta

Educator, Speaker, Spiritual

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही खूबसूरत सवाल पूछा आपने कि भगवान कैसे दिखते हैं तो जहां तक आपने सवाल में पूछा कि आपके अनुसार तुम्हें अपना अनुसार बताता हूं यदि आप फील कर पाओ यदि आप इस बात को महसूस कर पाओ तो आप भी देखना यदि आपको भगवान देखना है अपने लेवल पर बताइए शीशे के सामने खड़े होंगे जो आपको देख रहा है वही व्यक्ति भगवान ने संस्कृत में कहा गया कि तत्वमसि वह तुम ही हो अहम् ब्रह्मास्मि नहीं ब्रह्मा हूं ठीक है तो ईश्वर हो चाहे भगवान हो जाए अल्लाह हो जाए गुरु नानक हो यह सारी चीजें कुछ लोगों को मोटिवेट करती है कुछ लोगों को इंस्पायर करती कुछ लोगों को नहीं और कुछ लोगों को यह भी मोटिवेट करती है ठीक है लेकिन इन द एंड ऑफ द डे कौन हो जो कार्य करता है वह हम करते हैं ठीक है सोच से कोई बात नहीं बदलती सोच से कोई क्रांति नहीं आती कर्मों से आती और कर्म करने वाला व्यक्ति कौन हम तो सही मायने में ईश्वर कौन है हम एक बहुत ही अच्छी कविता बने अपने बचपन में पड़ी थी हिंदी में तो उसमें मजदूरों के बारे में लिखा गया था कि मैं मजदूर मुझे देवों की बस्ती से क्या अनगिनत तार मैंने धरा पर स्वर्ग बनाए ठीक है तो भगवान कैसे दिखते हैं इसका उत्तर आपके सामने इसके अलावा यदि आप देखें तो आपके जीवन में आपको जो भी इस पार करते जो भी आपके लिए कुछ अच्छा कर तेरे से आपके मां-बाप हो गए आपके मित्र हो सकते हैं ठीक है वह सभी आपके लिए भगवान स्वरूप की यह मेरा मानना है धन्यवाद

bahut hi khoobsurat sawaal poocha aapne ki bhagwan kaise dikhte hain toh jaha tak aapne sawaal mein poocha ki aapke anusaar tumhe apna anusaar batata hoon yadi aap feel kar pao yadi aap is baat ko mehsus kar pao toh aap bhi dekhna yadi aapko bhagwan dekhna hai apne level par bataye shishe ke saamne khade honge jo aapko dekh raha hai wahi vyakti bhagwan ne sanskrit mein kaha gaya ki tatwamasi vaah tum hi ho aham brahmasmi nahi brahma hoon theek hai toh ishwar ho chahen bhagwan ho jaaye allah ho jaaye guru nanak ho yah saree cheezen kuch logo ko motivate karti hai kuch logo ko Inspire karti kuch logo ko nahi aur kuch logo ko yah bhi motivate karti hai theek hai lekin in the and of the day kaun ho jo karya karta hai vaah hum karte hain theek hai soch se koi baat nahi badalti soch se koi kranti nahi aati karmon se aati aur karm karne vala vyakti kaun hum toh sahi maayne mein ishwar kaun hai hum ek bahut hi achi kavita bane apne bachpan mein padi thi hindi mein toh usme majduro ke bare mein likha gaya tha ki main majdur mujhe Devon ki basti se kya anaginat taar maine dhara par swarg banaye theek hai toh bhagwan kaise dikhte hain iska uttar aapke saamne iske alava yadi aap dekhen toh aapke jeevan mein aapko jo bhi is par karte jo bhi aapke liye kuch accha kar tere se aapke maa baap ho gaye aapke mitra ho sakte hain theek hai vaah sabhi aapke liye bhagwan swaroop ki yah mera manana hai dhanyavad

बहुत ही खूबसूरत सवाल पूछा आपने कि भगवान कैसे दिखते हैं तो जहां तक आपने सवाल में पूछा कि आप

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  457
WhatsApp_icon
user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो जिसने देखा है वही बता सकता है दूसरा जैसे गूंगे ने गुड़ खाया होना तो उसका टेस्ट नहीं बता सकता एक गूंगा अगर गुड़ खा ले और उसका स्वाद नहीं बता सकता तो वैसे ही जिसने देखा है ईश्वर को वह भी इसको बयान नहीं कर सकता ईश्वर कैसा है और जो ईश्वर को देख चुका है अनुभव कर चुका है जो देख चुका है वह इतना विलीन ईश्वर में हो जाता है इसको कोई पूछे कि भगवान कैसा दिखता है तो कैसे बता सकता है कभी भी नहीं बता सकता क्यों क्योंकि जो ईश्वर में विलीन हो और सर्वव्यापी है सिर्फ उसको देखने के लिए हमें खुद ही कोशिश करनी पड़ेगी हमको खुद ही भगवान के राह पर चलना पड़ेगा उस पर चलना पड़ेगा उस धर्म पर चलना पड़ेगा और हमें खुद ही भगवान करना पड़ेगा जैसे तैसे कईयों ने भगवान तो पत्थर भी भगवान है और भगवान भी पत्थर है मानो तो पत्थर भगवान है और ना मानो तो पत्थर पत्थर है धन्यवाद

yah toh jisne dekha hai wahi bata sakta hai doosra jaise gunge ne good khaya hona toh uska test nahi bata sakta ek gunga agar good kha le aur uska swaad nahi bata sakta toh waise hi jisne dekha hai ishwar ko vaah bhi isko bayan nahi kar sakta ishwar kaisa hai aur jo ishwar ko dekh chuka hai anubhav kar chuka hai jo dekh chuka hai vaah itna vileen ishwar me ho jata hai isko koi pooche ki bhagwan kaisa dikhta hai toh kaise bata sakta hai kabhi bhi nahi bata sakta kyon kyonki jo ishwar me vileen ho aur sarvavyapi hai sirf usko dekhne ke liye hamein khud hi koshish karni padegi hamko khud hi bhagwan ke raah par chalna padega us par chalna padega us dharm par chalna padega aur hamein khud hi bhagwan karna padega jaise taise kaiyon ne bhagwan toh patthar bhi bhagwan hai aur bhagwan bhi patthar hai maano toh patthar bhagwan hai aur na maano toh patthar patthar hai dhanyavad

यह तो जिसने देखा है वही बता सकता है दूसरा जैसे गूंगे ने गुड़ खाया होना तो उसका टेस्ट नहीं

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Vikas Bothra

Business Owner

3:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक प्रसंग आता है स्वामी विवेकानंद जी का भगवान के प्रति में कि एक बार जब विवेकानंद जी सन्यास ग्रहण करने से पहले की अवस्था में थे तब उनको विचार हुआ कि भगवान का स्वरूप कैसा है भगवान कैसे दिखते हैं इस वाल उत्पन्न हुआ उनके मन में मस्तिष्क में वह कैसे सोया नहीं करते थे बैठा नहीं करते रहो जिस संदेश से भी मिलते थे सबको यही पूछते थे भगवान कैसे दिखते हैं क्या आपने भगवान को देखा है सबका उतरे और जो अपने पिता पर पड़ा है कि भगवान एक्स देखते देखते लेकिन उनको संतुष्ट नहीं होगा उनके मन में अभी भी विचार उत्पन्न हो रहे हैं कि भगवान की छवि कैसी है क्या भगवान को किसने देखा भी है तब इस प्रश्न की खोज करते करते इस उत्तर की खोज करते करते एक बार स्वामी विवेकानंद जी अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस के पास पहुंचे और उनको पूछा हे भगवान कैसे देखते हैं क्या आपने भगवान को देखा है वह ने उत्तर दिया हां मैंने देखा है भगवान को भगवान बिल्कुल सत्य डॉक्टर संजय विवेकानंद हॉस्टल में पड़ गए कि पकड़ मेरी तरह कैसे देख सकते हैं जब परम रामकृष्ण परमहंस ने कहा कि जैसे मैं तुमको देख रहा हूं वैसे ही मैं भगवान को भी देखता हूं मुझे बकवास अंतर्यामी है सर्वव्यापक है सभी में निवास करने वाले एक आत्मा के रूप में विद्यमान है जिसकी जस्टिस समदर्शी हो जो सबको समान दृष्टि से देखता हुआ भगवान को शब्दों में देख सकता है और भगवान का स्वरूप यही है कि अगर आप भगवान के दर्शन करना चाहते हैं बाबुसान दृष्टि होना पड़ेगा सबको समान दृष्टि से लिखना पड़ेगा क्योंकि भगवान तो कण-कण में है भगवान का स्वरूप हर व्यक्ति हर जीव हर सजीव और निर्जीव वस्तु में है भगवान का अंश है भगवान से उत्पन्न हुआ है फिर भी कथाओं के अनुसार श्री कृष्ण भगवान के छोरे का थोड़ा सा वर्णन करना चाहूंगा यद्यपि मेरी ऐसी बुद्धि नहीं है कि मैं भगवान के रूप का वर्णन कर सकूं तो भी मेरी बुद्धि है उसके अनुसार में कुछ बताना चाहूंगा शामगढ़ का शरीर है पितांबर फेरारा शरीफ पितांबर है पीले रंग का मनोहर मुस्कान है मुख्य पर तेजोमय सूर्य है तेज झलक राय खुद दिव्य पुरुष लगते हैं घुंघराले बाल है काले बाल है और घरे घरे सिर पर मोर पंख का मुकुट है हाथ में बांसुरी है सुदर्शन चक्र है पैरों में पायल जी बेमतलब पायल है प्रेम भरी मुस्कान है जो एक बार देख ले वह मोहित हो जाए ऐसी छवि है ऐसा दर्शन है उनका गले में वरमाला है मुझे बंद बंधा हुआ है आंखों में मुझे बंद है बाजूबंद है तुलसी की माला पहने हुए हैं भगवान जो पैरों तक आती है सुंदर छवि है जो भी एक बार उसको देख ले उस सभी को निहारने गम मंत्र कभी खत्म नहीं होता धन्यवाद

ek prasang aata hai swami vivekananda ji ka bhagwan ke prati me ki ek baar jab vivekananda ji sanyas grahan karne se pehle ki avastha me the tab unko vichar hua ki bhagwan ka swaroop kaisa hai bhagwan kaise dikhte hain is val utpann hua unke man me mastishk me vaah kaise soya nahi karte the baitha nahi karte raho jis sandesh se bhi milte the sabko yahi poochhte the bhagwan kaise dikhte hain kya aapne bhagwan ko dekha hai sabka utare aur jo apne pita par pada hai ki bhagwan x dekhte dekhte lekin unko santusht nahi hoga unke man me abhi bhi vichar utpann ho rahe hain ki bhagwan ki chhavi kaisi hai kya bhagwan ko kisne dekha bhi hai tab is prashna ki khoj karte karte is uttar ki khoj karte karte ek baar swami vivekananda ji apne guru ramakrishna paramhans ke paas pahuche aur unko poocha hai bhagwan kaise dekhte hain kya aapne bhagwan ko dekha hai vaah ne uttar diya haan maine dekha hai bhagwan ko bhagwan bilkul satya doctor sanjay vivekananda hostel me pad gaye ki pakad meri tarah kaise dekh sakte hain jab param ramakrishna paramhans ne kaha ki jaise main tumko dekh raha hoon waise hi main bhagwan ko bhi dekhta hoon mujhe bakwas antaryami hai sarvavyapak hai sabhi me niwas karne waale ek aatma ke roop me vidyaman hai jiski justice samdarshi ho jo sabko saman drishti se dekhta hua bhagwan ko shabdon me dekh sakta hai aur bhagwan ka swaroop yahi hai ki agar aap bhagwan ke darshan karna chahte hain babusan drishti hona padega sabko saman drishti se likhna padega kyonki bhagwan toh kan kan me hai bhagwan ka swaroop har vyakti har jeev har sajeev aur nirjeev vastu me hai bhagwan ka ansh hai bhagwan se utpann hua hai phir bhi kathao ke anusaar shri krishna bhagwan ke chhoray ka thoda sa varnan karna chahunga yadyapi meri aisi buddhi nahi hai ki main bhagwan ke roop ka varnan kar sakun toh bhi meri buddhi hai uske anusaar me kuch batana chahunga shamgarh ka sharir hai pitambar ferrara sharif pitambar hai peele rang ka manohar muskaan hai mukhya par tejomay surya hai tez jhalak rai khud divya purush lagte hain ghunghrale baal hai kaale baal hai aur ghare ghare sir par mor pankh ka mukut hai hath me bansuri hai sudarshan chakra hai pairon me payal ji bematalab payal hai prem bhari muskaan hai jo ek baar dekh le vaah mohit ho jaaye aisi chhavi hai aisa darshan hai unka gale me varmala hai mujhe band bandha hua hai aakhon me mujhe band hai bajuband hai tulsi ki mala pehne hue hain bhagwan jo pairon tak aati hai sundar chhavi hai jo bhi ek baar usko dekh le us sabhi ko niharane gum mantra kabhi khatam nahi hota dhanyavad

एक प्रसंग आता है स्वामी विवेकानंद जी का भगवान के प्रति में कि एक बार जब विवेकानंद जी सन्या

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon
user

Imran Ansari

Electrician at Treasure Xpart

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सबसे पहली बात इसमें यह है कि वेद का एक श्लोक है उसमें कि न तस्य प्रतिमा थी मेरी कोई प्रतिमा नहीं है वह निराकार है उसका कोई आकार नहीं वक्त भी प्रकाश है यह सवाल जो है हर बार यही अधिकतर लोगों का यह रहता है कि वह कैसा दिखता है मगर परमेश्वर है किताबों में कह रहा अपनी किताबों में कह रहा है कि ना तुझसे प्रतिमा अस्ति मेरी कोई प्रतिमा नहीं है कुरान में अल्लाह कहता है कि तुम मेरी बीवी नंबर दो पर गौर करो मेरी जात पर गौर मत करो यहां पर कल काम नहीं करेगी हम हम ऐसी चीज के पीछे भागते हैं जिसे हम पा नहीं सकते जिसे मैं छू नहीं सकते जिसे हम देख नहीं सकते सीधी से बात आप में उदाहरण समझाने से मतलब मेरा यह है कि आप एक सो वाट के बल्ब की तरफ अगर आप देखते हैं तो आपकी आंखें में जल्दी लगती है और आपकी से देख नहीं पाते हैं फिर भी दीपक काशीपुर कैसा लाइट है जिसने सारी कायनात को बनाया है हर चीज को पैदा करने वाली जात है वह उसको देखा नहीं जा सकता मगर वह फिर भी मौजूद है फर्क इतना होता है कि ईमान किस चीज को कैसे मान मान ने को कहते हैं इमान ना तो देखने से आता है ना सुनने से आता है ना बताने से आता ना पढ़ने से आ जाना पढ़ाने से आता ईमान मान्यता हम उसको देखा नहीं हमने मान लिया कि वह हमने उसको उसकी बातें नहीं सुनी मगर हमने यह मान लिया उसने अपने पहुंचा दूं तो से बात की और उन्होंने हमें जो बताया कि वह परमेश्वर है और वह एक है उसके सिवा कोई दूसरा माबूद नहीं है बस मेरा कहना यह मैं यह कहना चाहता हूं कि उसको देखा जा सकता है मगर उसको खुली आंखों से देखा नहीं जा सकता आधार पर का रास्ता अख्तियार करना पड़ेगा और भी कई चीजें हैं जो आप को इस रास्ते में पहुंचने के बाद

dekhiye sabse pehli baat isme yah hai ki ved ka ek shlok hai usme ki na tasya pratima thi meri koi pratima nahi hai vaah nirakaar hai uska koi aakaar nahi waqt bhi prakash hai yah sawaal jo hai har baar yahi adhiktar logo ka yah rehta hai ki vaah kaisa dikhta hai magar parmeshwar hai kitabon mein keh raha apni kitabon mein keh raha hai ki na tujhse pratima ashti meri koi pratima nahi hai quraan mein allah kahata hai ki tum meri biwi number do par gaur karo meri jaat par gaur mat karo yahan par kal kaam nahi karegi hum hum aisi cheez ke peeche bhagte hain jise hum paa nahi sakte jise main chu nahi sakte jise hum dekh nahi sakte seedhi se baat aap mein udaharan samjhane se matlab mera yah hai ki aap ek so watt ke bulb ki taraf agar aap dekhte hain toh aapki aankhen mein jaldi lagti hai aur aapki se dekh nahi paate hain phir bhi deepak kashipur kaisa light hai jisne saree kayanat ko banaya hai har cheez ko paida karne wali jaat hai vaah usko dekha nahi ja sakta magar vaah phir bhi maujud hai fark itna hota hai ki iman kis cheez ko kaise maan maan ne ko kehte hain imman na toh dekhne se aata hai na sunne se aata hai na batane se aata na padhne se aa jana padhane se aata iman manyata hum usko dekha nahi humne maan liya ki vaah humne usko uski batein nahi suni magar humne yah maan liya usne apne pohcha doon toh se baat ki aur unhone hamein jo bataya ki vaah parmeshwar hai aur vaah ek hai uske siva koi doosra mabud nahi hai bus mera kehna yah main yah kehna chahta hoon ki usko dekha ja sakta hai magar usko khuli aankho se dekha nahi ja sakta aadhaar par ka rasta akhtiyar karna padega aur bhi kai cheezen hain jo aap ko is raste mein pahuchne ke baad

देखिए सबसे पहली बात इसमें यह है कि वेद का एक श्लोक है उसमें कि न तस्य प्रतिमा थी मेरी कोई

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  390
WhatsApp_icon
user

Kavita

Writer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात तो यह है कि भगवान नहीं है भगवान और गोश्त मतलब भूत यह दो चीज दुनिया की सबसे बड़ी झूठ है मेरे मेरे हिसाब से अब आपकी पता नहीं लेकिन मेरे हिसाब से कोई चीज अगर दुनिया में एक एड्रेस नहीं करती अगर हम उस चीज को छू नहीं सकते अगर हम उससे बात नहीं कर सकते देख नहीं सकते तो वह इस दुनिया में एग्जिट नहीं करती यह हो ही नहीं सकता कि अब मैं किसी के विश्वास को नहीं तोड़ना चाहती है मेरे व्यूज किसी को पर थोप नहीं देना चाहती मेरी मेरी थिंकिंग है और सब का जो है पिनियन होना चाहिए तो पहले तो यह बात हो गई लेकिन जो मैं मानती हूं इस चीज को वह पॉजिटिव एनर्जी जो हम सबके अंदर होते मुझे तो लगता है कि हम सभी इंसान के अंदर एक पॉजिटिव एनर्जी होती है अगर एक बार उस पॉलिसी गणेश जी को उत्तर करके अपना काम करना चालू कर दे दो जी अपने अंदर बीज है भगवान बिल्कुल देख सकते हैं भगवान से हम यह समझते हैं कि वह सब कुछ अच्छा करेंगे सब जो हमारी मुश्किलें वह दूर कर देंगे और चीजें हमारे लिए आसान बना देंगे अगर हम उनके हम किसी मंदिर में पड़े रहे आउटपुट की जो यार आराधना करते रहे तो यह हम समझते जंगली भगवान से अपने आप के ऊपर करें अगर हम खुद सोचे कि हमारी जिंदगी में क्या मुश्किल है और उसको हम कैसे दूर कर सकते हैं उसका एक रास्ता हम खुद खुद ही अगर निकाल ले तो जो है हम सब कुछ कर सकते हैं जब हम किसी के लिए वेट करने की जरूरत नहीं कि भगवान आएगा और जो मैं आप की मुश्किलें सॉल्व करेगा तो आप अपने आप को जो है पहले तो रिस्पेक्ट कीजिए आप क्या कर सकते हैं क्या नहीं कर सकते हैं उसके बारे में सोचिए जानी और अब किसी किसी जो है किसी मंदिर में जाकर मस्जिद में जाकर अपना विश्वास खंड करने की जरूरत नहीं है आप खुद मिल

pehli baat toh yah hai ki bhagwan nahi hai bhagwan aur gosht matlab bhoot yah do cheez duniya ki sabse badi jhuth hai mere mere hisab se ab aapki pata nahi lekin mere hisab se koi cheez agar duniya mein ek address nahi karti agar hum us cheez ko chu nahi sakte agar hum usse baat nahi kar sakte dekh nahi sakte toh vaah is duniya mein exit nahi karti yah ho hi nahi sakta ki ab main kisi ke vishwas ko nahi todna chahti hai mere Views kisi ko par thop nahi dena chahti meri meri thinking hai aur sab ka jo hai piniyan hona chahiye toh pehle toh yah baat ho gayi lekin jo main maanati hoon is cheez ko vaah positive energy jo hum sabke andar hote mujhe toh lagta hai ki hum sabhi insaan ke andar ek positive energy hoti hai agar ek baar us policy ganesh ji ko uttar karke apna kaam karna chaalu kar de do ji apne andar beej hai bhagwan bilkul dekh sakte hain bhagwan se hum yah samajhte hain ki vaah sab kuch accha karenge sab jo hamari mushkilen vaah dur kar denge aur cheezen hamare liye aasaan bana denge agar hum unke hum kisi mandir mein pade rahe output ki jo yaar aradhana karte rahe toh yah hum samajhte jungli bhagwan se apne aap ke upar kare agar hum khud soche ki hamari zindagi mein kya mushkil hai aur usko hum kaise dur kar sakte hain uska ek rasta hum khud khud hi agar nikaal le toh jo hai hum sab kuch kar sakte hain jab hum kisi ke liye wait karne ki zarurat nahi ki bhagwan aayega aur jo main aap ki mushkilen solve karega toh aap apne aap ko jo hai pehle toh respect kijiye aap kya kar sakte kya nahi kar sakte hain uske bare mein sochiye jani aur ab kisi kisi jo hai kisi mandir mein jaakar masjid mein jaakar apna vishwas khand karne ki zarurat nahi hai aap khud mil

पहली बात तो यह है कि भगवान नहीं है भगवान और गोश्त मतलब भूत यह दो चीज दुनिया की सबसे बड़ी झ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
play
user

TS Bhanot

Teacher

1:22

Likes  13  Dislikes    views  318
WhatsApp_icon
play
user

Aahil

Storyteller

0:00

Likes  10  Dislikes    views  315
WhatsApp_icon
user

Riya

Artist, Traveller

0:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान का रूप हर तरफ से अलग होता है जो जैसा देखना जाए मेरे हिसाब से भगवान होते ही नहीं है

bhagwan ka roop har taraf se alag hota hai jo jaisa dekhna jaaye mere hisab se bhagwan hote hi nahi hai

भगवान का रूप हर तरफ से अलग होता है जो जैसा देखना जाए मेरे हिसाब से भगवान होते ही नहीं है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!