क्या आपको भगवन पर विश्वास है?...


user

Harish Chand

Social Worker

0:42
Play

Likes  119  Dislikes    views  1177
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको अपने आप पर विश्वास है कभी आप भगवान पर विश्वास और आस्था रख पाएंगे अगर आपको अपने आप पर विश्वास नहीं है आप किससे जब दिल कर रहा है उस पर विश्वास नहीं है मूर्ति पर विश्वास नहीं है आस्था नहीं है तो आपको किसी पर भी विश्वास और आस्था नहीं होगी भगवान पर आस्था और विश्वास कभी हो सकता है जब आपको अपने आप पर आस्था आस्था विश्वास हो और यह तभी होगा जब कि आपकी आत्मा शुद्ध पवित्र और निश्चल होगे

agar aapko apne aap par vishwas hai kabhi aap bhagwan par vishwas aur astha rakh payenge agar aapko apne aap par vishwas nahi hai aap kisse jab dil kar raha hai us par vishwas nahi hai murti par vishwas nahi hai astha nahi hai toh aapko kisi par bhi vishwas aur astha nahi hogi bhagwan par astha aur vishwas kabhi ho sakta hai jab aapko apne aap par astha astha vishwas ho aur yah tabhi hoga jab ki aapki aatma shudh pavitra aur nishchal hoge

अगर आपको अपने आप पर विश्वास है कभी आप भगवान पर विश्वास और आस्था रख पाएंगे अगर आपको अपने आप

Romanized Version
Likes  630  Dislikes    views  12607
WhatsApp_icon
user

Jitendra Singh

Social Worker

3:05
Play

Likes  14  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
user

P k yadav

Govt Job

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आपको भगवान पर विश्वास है साहब पूछ रहे हंड्रेड परसेंट है क्योंकि बिना भगवान के कुछ भी संभव है मेहनत कर्म हमारे होते पटना भगवान के कुछ नहीं कर सकती हमारी बुद्धि विवेक सब कुछ कंट्रोल करने वाला हम साथ में ले रहे हैं तो उसी के आशीर्वाद से उसी भगवान पर हमेशा भरोसा रखो उसको मानो आस्तिक रहो भगवान ही है तो सब कुछ आदर भाई कुछ भी

kya aapko bhagwan par vishwas hai saheb puch rahe hundred percent hai kyonki bina bhagwan ke kuch bhi sambhav hai mehnat karm hamare hote patna bhagwan ke kuch nahi kar sakti hamari buddhi vivek sab kuch control karne vala hum saath me le rahe hain toh usi ke ashirvaad se usi bhagwan par hamesha bharosa rakho usko maano astik raho bhagwan hi hai toh sab kuch aadar bhai kuch bhi

क्या आपको भगवान पर विश्वास है साहब पूछ रहे हंड्रेड परसेंट है क्योंकि बिना भगवान के कुछ भी

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
user

Dr Pancham Prakash

Social Activist

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा भगवान पर विश्वास है तो मेरा जवाब है भगवान पर हमें व्यक्तिगत रूप से मैं अपनी बात कर रहा हूं कि मुझे पूर्ण विश्वास है कहीं ना कहीं वह एक शक्ति तो है जिसके बल पर पूरी दुनिया चल रही है अब लड़ाई से सोचिए आपको विश्वास होगा कि कुछ ना कुछ है जिसके बल पर सब कुछ हो रहा है कोई अंतर्यामी और हम लोगों से बुलाते हैं को ईश्वर कहते हैं कोई अल्लाह करते हैं कोई जीसस क्राइस्ट करते हैं कोई कुछ लेकिन हैं

aapne poocha bhagwan par vishwas hai toh mera jawab hai bhagwan par hamein vyaktigat roop se main apni baat kar raha hoon ki mujhe purn vishwas hai kahin na kahin vaah ek shakti toh hai jiske bal par puri duniya chal rahi hai ab ladai se sochiye aapko vishwas hoga ki kuch na kuch hai jiske bal par sab kuch ho raha hai koi antaryami aur hum logo se bulate hain ko ishwar kehte hain koi allah karte hain koi jesus Christ karte hain koi kuch lekin hain

आपने पूछा भगवान पर विश्वास है तो मेरा जवाब है भगवान पर हमें व्यक्तिगत रूप से मैं अपनी बात

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  130
WhatsApp_icon
user

SUBHASH RAO

Spoken English Trainer

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल नहीं भगवान तो विश्वास बिल्कुल नहीं क्योंकि संसार में जितने भी आंदोलन हुए हैं वह धर्म युद्ध पर हुए हैं लेकिन जितने भी विद्वान रहे हो भगवान को बिल्कुल नहीं मानते जैसा कि मान लिया किए थे उसका सुकरात होगा और जो है महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंस है वह भी बिल्कुल नहीं मानते अरस्तु भगवान को बिल्कुल नाम से यह महान महान बिलासपुर और भगवान को भगवान तो बिल्कुल नहीं है क्या किसका यह प्रमाण है कि किसी चीज को जानने के लिए शरीर में मनुष्य के शरीर में पांच इंद्रियां होते हैं जिससे महसूस किया जा सकता है जाना जा सकता है लेकिन इन पांचों से नहीं पता लगाया जा सकता कि भगवान का कोई अस्तित्व ही संसार में

bilkul nahi bhagwan toh vishwas bilkul nahi kyonki sansar mein jitne bhi aandolan hue hain wah dharam yudh par hue hain lekin jitne bhi vidwan rahe ho bhagwan ko bilkul nahi maante jaisa ki maan liya kiye the uska sukarat hoga aur jo hai mahaan vaigyanik stephen hawkins hai wah bhi bilkul nahi maante arastu bhagwan ko bilkul naam se yeh mahaan mahaan bilaspur aur bhagwan ko bhagwan toh bilkul nahi hai kya kiska yeh pramaan hai ki kisi cheez ko jaanne ke liye sharir mein manushya ke sharir mein paanch indriya hote hain jisse mahsus kiya ja sakta hai jana ja sakta hai lekin in pachon se nahi pata lagaya ja sakta ki bhagwan ka koi astitva hi sansar mein

बिल्कुल नहीं भगवान तो विश्वास बिल्कुल नहीं क्योंकि संसार में जितने भी आंदोलन हुए हैं वह धर

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

2:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

का क्वेश्चन है क्या आपको भगवान पर विश्वास है देखिए तो कहते हैं कि मैं भगवान पर कैसे विश्वास करूं तो देखिए एक शब्द में कहना चाहूंगा क्या मैं अपने दादाजी को नहीं देखा हूं तो क्या मैं उनके ऊपर विश्वास ना करो कि मेरे दादाजी थे विश्वास तो करना ही पड़ेगा ना क्योंकि जब दादाजी नहीं थे तो हम कहां से आ गए हैं वैसे ही अगर विश्वास नहीं है तो एसएसटी कैसे चल रही है यह सोचने की बात है ईश्वर को अनुभव किया जा सकता है साक्षात देखना पड़े मुश्किल की बात है एक मनुष्य के अंदर यशद मार गई हो एक मनुष्य के अंदर ईश्वर का वास होता है ब्रह्म का वास होता है उस चीज को योग के माध्यम से ध्यान के माध्यम से सद मार्ग में चलने के बाद का माध्यम भी एक होता है ईश्वर के दर्शन का आप अपने आचरण में सुधार कीजिए अपने व्यवहार को बदलिए सदा सत्य बोलो किसी को कष्ट पहुंचाए सिर्फ अपने आप से मतलब रखें दुनिया में क्या हो रहा है उस से मतलब रखने की आवश्यकता नहीं है अगर आवश्यकता है अभी तो सही चीज करा दे किसी को भी इस तरह से अगर आपकी जिंदगी कुछ दिनों तक व्यतीत करते हैं योग करते हैं और ईश्वर की आराधना करते हैं तो निश्चित है कि आपको ऐसा क्यों का अनुभव होने लगेगा और अनुभव होने लगेगा तो निश्चित है कि आप को भगवान के ऊपर विश्वास होना नितांत आवश्यक हो जाएगी हां ईश्वर है भगवान है विश्वास का विश्वास का तो आरती होता है जिसमें 20 का वास हो ऐसा कुछ नहीं है विश्वास का है ईश्वर है इसमें विश्वास करने की कोई बात ही नहीं है ईश्वर अगर नहीं होते तो इस सृष्टि नहीं चलती हम और आप नहीं रहते आप विश्वास नहीं है तो आपको एक चीज में अनुभव कराना चाहता हूं कोई भी चीज आप अपने दिमाग में सोचिए कि से बोलिए मत यह काम आज मेरा हो जाता तो अच्छा रहता और कुछ समय बाद दिखी उस टाइप का मैसेज आपके पास आ रहा है कि नहीं आ रहा लेकिन बशर्ते कि आप सब मार गई हो तब संभव है धन्यवाद

ka question hai kya aapko bhagwan par vishwas hai dekhiye toh kehte hain ki main bhagwan par kaise vishwas karun toh dekhiye ek shabd mein kehna chahunga kya main apne dadaji ko nahi dekha hoon toh kya main unke upar vishwas na karo ki mere dadaji the vishwas toh karna hi padega na kyonki jab dadaji nahi the toh hum kahaan se aa gaye hain waise hi agar vishwas nahi hai toh sst kaise chal rahi hai yah sochne ki baat hai ishwar ko anubhav kiya ja sakta hai sakshat dekhna pade mushkil ki baat hai ek manushya ke andar yashad maar gayi ho ek manushya ke andar ishwar ka was hota hai Brahma ka was hota hai us cheez ko yog ke madhyam se dhyan ke madhyam se sad marg mein chalne ke baad ka madhyam bhi ek hota hai ishwar ke darshan ka aap apne aacharan mein sudhaar kijiye apne vyavhar ko badaliye sada satya bolo kisi ko kasht pahunchaye sirf apne aap se matlab rakhen duniya mein kya ho raha hai us se matlab rakhne ki avashyakta nahi hai agar avashyakta hai abhi toh sahi cheez kara de kisi ko bhi is tarah se agar aapki zindagi kuch dino tak vyatit karte hain yog karte hain aur ishwar ki aradhana karte hain toh nishchit hai ki aapko aisa kyon ka anubhav hone lagega aur anubhav hone lagega toh nishchit hai ki aap ko bhagwan ke upar vishwas hona nitant aavashyak ho jayegi haan ishwar hai bhagwan hai vishwas ka vishwas ka toh aarti hota hai jisme 20 ka was ho aisa kuch nahi hai vishwas ka hai ishwar hai isme vishwas karne ki koi baat hi nahi hai ishwar agar nahi hote toh is shrishti nahi chalti hum aur aap nahi rehte aap vishwas nahi hai toh aapko ek cheez mein anubhav krana chahta hoon koi bhi cheez aap apne dimag mein sochiye ki se bolie mat yah kaam aaj mera ho jata toh accha rehta aur kuch samay baad dikhi us type ka massage aapke paas aa raha hai ki nahi aa raha lekin basharte ki aap sab maar gayi ho tab sambhav hai dhanyavad

का क्वेश्चन है क्या आपको भगवान पर विश्वास है देखिए तो कहते हैं कि मैं भगवान पर कैसे विश्वा

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  947
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

3:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है क्या आपको भगवान पर भरोसा है जी हां भगवान के ऊपर हंड्रेड परसेंट भरोसा है और मैं भगवान के ऊपर बहुत बिलीफ करता हूं क्योंकि हमारे जीवन में बहुत सारी कठिनाइयां आएं और सारी कठिनाइयां दूर होती के भगवान के कृपा से लेकर भगवान भगवान में जो आस्था रखता है मन से जो आत्मा आस्था रखता है भगवान उसकी मदद हर पल करते रहते हैं भगवान को महसूस करने वाली चीज है आज के टाइम में लोगों की आस्था इतनी मजबूत नहीं है कि भगवान प्रकट होकर उसको दर्शन दे दे मैं आपको एक कहानी बताना चाहता हूं गोस्वामी तुलसीदास जी आप जानते हैं कि रामचरितमानस उन्होंने लिखा और भगवान राम के बहुत बड़े भक्त थे एक बार उत्तर वचन कह रहे थे और प्रवचन में इतना लीन हो गए थे कि रात हो गई 1:00 बज गया जो सोता करते हो सुन रहे थे तो 1:00 बज गया जब उनको होश आया कि यार बड़ा देर तक प्रवचन रात हो गई सबको घर भी जाना होगा तो उन्होंने प्रवचन को समाप्त किया उसके बाद सभी लोग भाई जिनका घर पास में था वह चले गए एक जो श्रोता आया था प्रवचन सुनने के लिए उसने बोला कि अरे सर अब मतलब नदी के उस पार मुझे जाना है ना वह भी नहीं चल रही अब कैसे जाऊं मैं गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिख कर दिया एक पेज पर कुछ लिख कर दिया बोले कि यह लोग और चले जाओगे लेकर जाओ तुम चले जाओगे आराम से पहुंच जाओगे तो लेकर गया पानी पर जब पैरों रखा है तो पानी के ऊपर चल रहा था तो यार बोला कि सोचा कि अरे यार बड़ा चमत्कार हो गया गोस्वामी तुलसीदास जी ने नहीं पता क्या दिया कि मैं पानी के ऊपर चल रहा हूं तो उसने सोचा कि थोड़ा इस को खोल कर देखो तो खोल के उसने देखा तो लिखा था राम राम लिखा था तो उसने उसके मन में थोड़ा सा आया कि क्या मैं इस पेज को फेंक दूंगा तो मैं डूब जाऊंगा ऐसा सोचा तो उसने दो डूबने लगा गोस्वामी तुलसीदास जी दूसरे छोर से उसको देख रहे थे फिर पानी में तैर कर उसको बताया उन्होंने तुरंत देखिए गोस्वामी तुलसीदास जी को भरोसा था कि इतना उन लोगों का उस समय विश्वास इतना मजबूत था भगवान के प्रति कि यह सब हो जाता था आज की टाइम के लोगों का विश्वास इतना मजबूत नहीं है हम लोग भगवान की प्रार्थना करते हैं हम लोगों की आस्था है लेकिन उतनी मजबूत आस्था नहीं है जितनी गोस्वामी तुलसीदास जी की थी तो आप की जितनी आस्था रहेगी आपको इतना फल मिलेगा भगवान यह नहीं कहते हैं कि आप कर मत करिए आप सीधे फल ग्रहण करिए ऐसा नहीं है पर देखिए आप लगाएंगे तभी पेड़ बड़ा होगा और फल देगा आपको तो कर्म आपको करना होगा कर्म जब कतरगढ़ जब लगाएंगे बड़ा होगा पेड़ को बड़ा करने में आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी पानी देना होगा खाद देना होगा उसकी सुरक्षा करनी होगी एक दिन वो पेड़ बड़ा होता है और फल देता है वैसे ही हम कर्म करते हैं तो हमें फल प्राप्त होता है और गीता में साफ शब्दों में लिखा गया है कि भगवान ने बोला है कि कर्म हमारे हाथ में नहीं है आप गलती करेंगे तो मैं आपको माफ कर दूंगा लेकिन आपका कर मैं आपको कभी नहीं माफ करेगा आप अच्छा करेंगे तो आपके साथ अच्छा होगा बुरा करेंगे तो आपके साथ बुरा होगा तो हमेशा अच्छा कर्म करिए और भगवान में आस्था रखी है विश्वास रखिए और कर्म करते रहिए जब आप ऐसा करेंगे तो आपको जीवन में बहुत सफलता प्राप्त होगी जीवन में बहुत खुशहाली आएगी और आप तरक्की करेंगे बहुत-बहुत धन्यवाद आपका

aapka sawal hai kya aapko bhagwan par bharosa hai ji haan bhagwan ke upar hundred percent bharosa hai aur main bhagwan ke upar bahut belief karta hoon kyonki hamare jeevan mein bahut saree kathinaiyaan aaen aur saree kathinaiyaan dur hoti ke bhagwan ke kripa se lekar bhagwan bhagwan mein jo astha rakhta hai man se jo aatma astha rakhta hai bhagwan uski madad har pal karte rehte hain bhagwan ko mahsus karne waali cheez hai aaj ke time mein logon ki astha itni mazboot nahi hai ki bhagwan prakat hokar usko darshan de de main aapko ek kahani batana chahta hoon goswami tulsidas ji aap jante hain ki ramcharitmanas unhone likha aur bhagwan ram ke bahut bade bhakt the ek baar uttar vachan keh rahe the aur pravachan mein itna Lean ho gaye the ki raat ho gayi 1:00 baj gaya jo sota karte ho sun rahe the toh 1:00 baj gaya jab unko hosh aaya ki yaar bada der tak pravachan raat ho gayi sabko ghar bhi jana hoga toh unhone pravachan ko samapt kiya uske baad sabhi log bhai jinka ghar paas mein tha wah chale gaye ek jo shrota aaya tha pravachan sunane ke liye usne bola ki arre sar ab matlab nadi ke us par mujhe jana hai na wah bhi nahi chal rahi ab kaise jaaun main goswami tulsidas ji ne likh kar diya ek page par kuch likh kar diya bole ki yeh log aur chale jaoge lekar jao tum chale jaoge aaram se pahunch jaoge toh lekar gaya pani par jab pairon rakha hai toh pani ke upar chal raha tha toh yaar bola ki socha ki arre yaar bada chamatkar ho gaya goswami tulsidas ji ne nahi pata kya diya ki main pani ke upar chal raha hoon toh usne socha ki thoda is ko khol kar dekho toh khol ke usne dekha toh likha tha ram ram likha tha toh usne uske man mein thoda sa aaya ki kya main is page ko fenk dunga toh main doob jaunga aisa socha toh usne do dubne laga goswami tulsidas ji dusre chhor se usko dekh rahe the phir pani mein tair kar usko bataya unhone turant dekhie goswami tulsidas ji ko bharosa tha ki itna un logon ka us samay vishwas itna mazboot tha bhagwan ke prati ki yeh sab ho jata tha aaj ki time ke logon ka vishwas itna mazboot nahi hai hum log bhagwan ki prarthna karte hain hum logon ki astha hai lekin utani mazboot astha nahi hai jitni goswami tulsidas ji ki thi toh aap ki jitni astha rahegi aapko itna fal milega bhagwan yeh nahi kehte hain ki aap kar mat kariye aap seedhe fal grahan kariye aisa nahi hai par dekhie aap lgaenge tabhi pedh bada hoga aur fal dega aapko toh karm aapko karna hoga karm jab kataragadh jab lgaenge bada hoga pedh ko bada karne mein aapko bahut mehnat karni padegi pani dena hoga khad dena hoga uski suraksha karni hogi ek din vo pedh bada hota hai aur fal deta hai waise hi hum karm karte hain toh humein fal prapt hota hai aur geeta mein saaf shabdo mein likha gaya hai ki bhagwan ne bola hai ki karm hamare hath mein nahi hai aap galti karenge toh main aapko maaf kar dunga lekin aapka kar main aapko kabhi nahi maaf karega aap accha karenge toh aapke saath accha hoga bura karenge toh aapke saath bura hoga toh hamesha accha karm kariye aur bhagwan mein astha rakhi hai vishwas rakhiye aur karm karte rahiye jab aap aisa karenge toh aapko jeevan mein bahut safalta prapt hogi jeevan mein bahut khushahali aayegi aur aap tarakki karenge bahut bahut dhanyavad aapka

आपका सवाल है क्या आपको भगवान पर भरोसा है जी हां भगवान के ऊपर हंड्रेड परसेंट भरोसा है और मै

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  449
WhatsApp_icon
user

En Rajendra Kumar Joshi

Life Coach, Motivator

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि क्या आपको भगवान पर विश्वास है इस संबंध में मैं यह कहना चाहूंगा कि अवश्य हम सब को भगवान पर विश्वास है इस संसार में नास्तिक लोग भी हैं आस्तिक नास्तिक लोग का स्थिति तब है जब भगवान पर विश्वास पर विश्वास करते हैं आप उसके ब्लू पर विश्वास करते हैं इसलिए इस जीवन में इस दुनिया में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं जिसको भगवान भगवान पर विश्वास ना करना अपने आप पर विश्वास न करने जैसा क्योंकि मेरा यह भगवान हम सब के अंदर सब के अखबार नहीं होगा तो हमारा अपना इसलिए आपका यह प्रश्न क्या आप भगवान पर विश्वास है

aapne puchha hai ki kya aapko bhagwan par vishwas hai is sambandh mein main yeh kehna chahunga ki avashya hum sab ko bhagwan par vishwas hai is sansar mein naastik log bhi hain astik naastik log ka sthiti tab hai jab bhagwan par vishwas par vishwas karte hain aap uske blue par vishwas karte hain isliye is jeevan mein is duniya mein koi bhi aisa vyakti nahi jisko bhagwan bhagwan par vishwas na karna apne aap par vishwas na karne jaisa kyonki mera yeh bhagwan hum sab ke andar sab ke akhbaar nahi hoga toh hamara apna isliye aapka yeh prashna kya aap bhagwan par vishwas hai

आपने पूछा है कि क्या आपको भगवान पर विश्वास है इस संबंध में मैं यह कहना चाहूंगा कि अवश्य हम

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  316
WhatsApp_icon
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

9:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस प्रश्न का प्रश्न ओ कहने वाले लोग या तो आज तक में है या आशिक में होंगे तभी तो कह रहे हैं कि भगवान पर विश्वास है इस प्रश्न के उत्तर से क्या मान लेंगे मैं कहूं विश्वास है ओरिया यह कह दूं मैं नहीं है वैसे कोई निकाल नहीं होगा इस प्रश्न के उत्तर का भगवान मींस क्या समझा जाता है भगवान कुछ समझने की क्या भावना है भगवान क्या प्रत्यक्ष में दिखने वाला चेतन तत्व है यह भगवान की समझ ही नहीं है और किस शब्द का भावार्थ भगवान समझा जा रहा है फिर भी मैं उस विषय के बारे में भगवान को शब्दों से अवगत कराता हूं जिसको अल्लाह ईश्वर और भी बहुत संकेतवाचक शब्दों में उस एक नेता को कहा गया है जो सब श्रेष्ठ है जिस और जो असाधारण दिव्य रूप में प्रॉक्स रूप में कहीं वह संचालित करता है और वह जी दृष्टि से संसार को देखता है इस दृष्टि से हमारे लोगों के अंदर देखने की क्षमता नहीं होती लेकिन इतनी योग्यता के लिए कि भगवान के अंश माना जाता है कि प्रत्येक प्राणी हैं तो जो लोग विशेष तौर पर इस शोध में अपने को समर्पण करते हैं कि ईश्वर है विश्वास तो बहुत दूर की चीज है विश्वास जब होता है जब उसकी मौजूद मौजूदगी का विश्वास मजीदी का मौजूदगी का एहसास होता है जब साक्षात्कार नहीं है तो हमारे लिए भगवान सबकी बहुत दूरी है लेकिन साक्षात्कार एकांत करण का अनुभूति रास्ता है तो दूसरे से नहीं शेयर करा जा सकता और यह निज अनुभव चीज होती है जिससे अपने अपने स्तर पर अपना आनंद लिया जा सकता औरों के लिए विषय बताने का कोई प्रभाव नहीं रहता था जो लोग उतनी शरदा और इतनी तालमेल के साथ से जब इसके बारे में जांच करते हैं कि ईश्वर है या नहीं है तो उनका उसका व्यास हो जाता है और आभास भी होता है तो एक चिंतक परचम है सृष्टि में समूचे ब्रह्मांड से आज तक की आदि अनादि काल से जिस रचना हुई है और चली आ रही है और जो भी मतलब जीवन रोटेशन चल रहा है जगत में वह क्या किसी एक के नियोजन के साथ से बनाई गई है अर्थात जैसे मैंने पहले बोला था कि जो भौतिकवाद लोग हैं वही मानते सृष्टि का नियम एक घटनाक्रम से हुआ एक पिंड ब्रह्मांड में टूटा वह गर्म था ठंडा हुआ फिर करोड़ों वर्ष लग गए उसमें जिओ की उत्पत्ति हुई जलवा पशुओं का मेला धीरे-धीरे विकास क्रम से बढ़ते बढ़ते बंदर से इंसान बना और इस तरह की यह विवेचना है लेकिन वह यह नहीं मानते हैं कि यह जो कुछ कर्म चला है यह पता प्रकृति से हो रहा है किसी के द्वारा नहीं हुआ है लेकिन अध्यात्म आप मानते हैं कि चेतन युक्त है जानबूझकर है समझता हुआ उसका उपभोग रूप से भी उसकी समझ है जैसे तत्वों ने रचना की जो बिल्कुल फ्री प्लानिंग और बिल्कुल अनुभूति के स्तर पर उसके द्वारा ही रचनात्मक सृष्टि है जिसके द्वारा है वह बहुत श्रेष्ठ उसने सब कर दिया है उसके बाद उसकी सोच समझ के जो सृष्टि बनती गई फिर नीचे आकर लोगों ने उसका मंत्र संज्ञा के द्वारा अलग-अलग उसके भावना की अभिव्यक्ति करें तो ऐसा नहीं है कई लोग ईश्वर के बहुत ही नजदीक स्तर पर पहुंचे हुए हैं जिन्होंने वहां तक उसकी अनुभूति के द्वारे पर जगत को प्रकाशित किया और बताया है कि वो ईश्वर और ऐसे ही लोग संत महंत और महा सिद्ध पुरुष कहलाते हैं तो जिस ने जिस चीज के लिए पूरा समय और ध्यान अपना पूरा जीवन उसके टारगेट किया हुआ है उन्होंने भगवान का स्वरूप का चिंतन वास्तविक रुप से करा है जैसे मतलब एक सजीव देख चीज को देखकर हम यह कह देते कि हां यह चीज है तो इस समय वह लोगों के लिए भगवान पर विश्वास है जिन्होंने भी भगवान को समझा ही नहीं भगवान से हम क्या चीज ऐसा एक ऐसी पशुरा एक चीज व्याप रही है जिसको हम टच नहीं कर सकते जिसको हम शब्द के द्वारा उसको शोभित नहीं करते अगर वह इतना सृष्टि का सबसे बड़ा महापुरुष सियानी महान शक्तिशाली जो सामंत ईश्वर है अगर वह उसकी तरफ एक पलक देखता है उसकी शामत कितनी है हर बार बुना सामर्थ होगी तो ऐसे तत्व पर और उसकी ही धारा मनुष्य के अंदर से चेतना आ रही है तो वही चीज है अगर ईश्वर पर जो आ यह प्रशन है आपको किस पर क्या विश्वास करते हैं नहीं तो ईश्वर पर विश्वास होता है और है लेकिन उन लोगों के लिए है जो स्पेस नहीं है ध्यान और चिंतन में रखे हुए हैं और इतनी गहराई की चीजें हैं किस में अगर दिमाग बदल जाए तो उस रास्ते का कोई बात ही नहीं कर सकता तो नहीं कहता हूं विश्वास है है हमेशा रहेगा बिना विश्वास के सहारे चाय पश्चात देखो चाहिए अफ्रिका का देश हो कहीं पर भी हो यह उस रुपए है कई आदिवासी लोग हैं वह भी अपनी परंपरागत ढोल मजीरे राखी नाश्ते कुशेश्वर के बारे में उल्लास करते हैं ऐसे बहुत से पढ़े हुए अंग्रेज हैं अमेरिका में भी लोग गिरजाघर में प्रार्थना करते हुए श्री ऐसा कुछ नहीं है है विश्वास का अस्तित्व विश्वास नहीं होगा तो फिर होगा क्या लेकिन हां इसमें क्वेश्चन बहुत जबरदस्त है ईश्वर तक पहुंचने का और यह एक उन लोगों का मार्ग है जिन्होंने इस मार्ग को प्रशस्त कर लिया उनके लिया अब डाउन हो रहा है और होता रहेगा यह बात है अगर भगवान पर भगवान शब्द से तुम्हें विश्वास नहीं है क्या नास्तिक बाद है कई आज राजेश खन्ना राजनीतिक दौर में धर्मों की अलग-अलग व्याख्या कर करके पब्लिक को गुमराह कर देते हैं अगर वह आस्था के सहारे अपने आप को संतोष पारीक इसमें कोई बुराई नहीं है और विशेष व्यक्ति जो स्पेशलाइजेशन है भगवान के बारे में पैसे महारत लोग इस धरती पर है इस समय आज के विषय में में जो इसका पूरी तरह से अपन बुद्धि कर देगा और विश्वास मानना ही पड़ेगा सतत रूप से ईश्वर है और किस सहारे ही अकेला मनुष्य अपने आप को सामर्थ वाल बना सकता है शहीद का गुण मिलेगा जिस पर मन लगता है उस तत्वों से ही हमारे को भावना प्रकट होती है तो जब हमें ऐसा विकल्प दिवस का बना देगी इसके ध्यान में हमारा यह कॉफी पर क्योंकि ऐसा जो है ऐसे हमें अगर हम दुखी में और दुनिया भर की चीजों में अपने आप को जोड़ते हैं तो वह विनाश काल में अपने नष्ट भाव में जो प्रकृति का रोटेशन प्रकृति से हटके मनोज को मनोबल को बढ़ाने की रास्ता विश्वास भगवान का बहुत ही निहायत है और यह होना चाहिए और गहराई से अगर उसको प्राप्त करना है तो ऐसे 768 लोगों के सानिध्य में जाकर इसकी परिचर्चा करना चाहिए आप अनुभूति होती रहेगी अगर जो विश्वास से कुछ प्राप्त करना चाहते हैं ओम शक नमो

is prashna ka prashna o kehne wale log ya toh aaj tak mein hai ya aashik mein honge tabhi toh keh rahe hain ki bhagwan par vishwas hai is prashna ke uttar se kya maan lenge main kahun vishwas hai oriya yeh keh doon main nahi hai waise koi nikaal nahi hoga is prashna ke uttar ka bhagwan means kya samjha jata hai bhagwan kuch samjhne ki kya bhavna hai bhagwan kya pratyaksh mein dikhne vala chetan tatva hai yeh bhagwan ki samajh hi nahi hai aur kis shabd ka bhaavaarth bhagwan samjha ja raha hai phir bhi main us vishay ke bare mein bhagwan ko shabdo se avgat karata hoon jisko allah ishwar aur bhi bahut sanketwachak shabdo mein us ek neta ko kaha gaya hai jo sab shreshtha hai jis aur jo asadharan divya roop mein praks roop mein kahin wah sanchalit karta hai aur wah ji drishti se sansar ko dekhta hai is drishti se hamare logon ke andar dekhne ki kshamta nahi hoti lekin itni yogyata ke liye ki bhagwan ke ansh mana jata hai ki pratyek prani hain toh jo log vishesh taur par is shodh mein apne ko samarpan karte hain ki ishwar hai vishwas toh bahut dur ki cheez hai vishwas jab hota hai jab uski maujud maujudgi ka vishwas majidi ka maujudgi ka ehsaas hota hai jab sakshatkar nahi hai toh hamare liye bhagwan sabaki bahut doori hai lekin sakshatkar ekant karan ka anubhuti rasta hai toh dusre se nahi share kara ja sakta aur yeh nij anubhav cheez hoti hai jisse apne apne sthar par apna anand liya ja sakta auron ke liye vishay batane ka koi prabhav nahi rehta tha jo log utani sardar aur itni talmel ke saath se jab iske bare mein jaanch karte hain ki ishwar hai ya nahi hai toh unka uska vyas ho jata hai aur aabhas bhi hota hai toh ek chintak parcham hai shrishti mein samuche brahmaand se aaj tak ki aadi anadi kaal se jis rachna hui hai aur chali aa rahi hai aur jo bhi matlab jeevan rotation chal raha hai jagat mein wah kya kisi ek ke niyojan ke saath se banai gayi hai arthat jaise maine pehle bola tha ki jo bhautikvad log hain wahi maante shrishti ka niyam ek ghatanaakram se hua ek pind brahmaand mein tuta wah garam tha thanda hua phir karodo varsh lag gaye usmein jio ki utpatti hui jalvayu pashuo ka mela dhire dhire vikas kram se badhte badhte bandar se insaan bana aur is tarah ki yeh vivechna hai lekin wah yeh nahi maante hain ki yeh jo kuch karm chala hai yeh pata prakriti se ho raha hai kisi ke dwara nahi hua hai lekin adhyaatm aap maante hain ki chetan yukt hai janbujhkar hai samajhata hua uska upbhog roop se bhi uski samajh hai jaise tatvon ne rachna ki jo bilkul free planning aur bilkul anubhuti ke sthar par uske dwara hi rachnatmak shrishti hai jiske dwara hai wah bahut shreshtha usne sab kar diya hai uske baad uski soch samajh ke jo shrishti banti gayi phir neeche aakar logon ne uska mantra sangya ke dwara alag alag uske bhavna ki abhivyakti karein toh aisa nahi hai kai log ishwar ke bahut hi nazdeek sthar par pahuche hue hain jinhone wahan tak uski anubhuti ke dware par jagat ko prakashit kiya aur bataya hai ki vo ishwar aur aise hi log sant mahant aur maha siddh purush kahalate hain toh jis ne jis cheez ke liye pura samay aur dhyan apna pura jeevan uske target kiya hua hai unhone bhagwan ka swaroop ka chintan vastavik roop se kara hai jaise matlab ek sajeev dekh cheez ko dekhkar hum yeh keh dete ki haan yeh cheez hai toh is samay wah logon ke liye bhagwan par vishwas hai jinhone bhi bhagwan ko samjha hi nahi bhagwan se hum kya cheez aisa ek aisi pashura ek cheez vyaap rahi hai jisko hum touch nahi kar sakte jisko hum shabd ke dwara usko shobhit nahi karte agar wah itna shrishti ka sabse bada mahapurush siyani mahaan shaktishali jo samant ishwar hai agar wah uski taraf ek palak dekhta hai uski shaamat kitni hai har baar buna samarth hogi toh aise tatva par aur uski hi dhara manushya ke andar se chetna aa rahi hai toh wahi cheez hai agar ishwar par jo aa yeh prashan hai aapko kis par kya vishwas karte hain nahi toh ishwar par vishwas hota hai aur hai lekin un logon ke liye hai jo space nahi hai dhyan aur chintan mein rakhe hue hain aur itni gehrai ki cheezen hain kis mein agar dimag badal jaye toh us raste ka koi baat hi nahi kar sakta toh nahi kahata hoon vishwas hai hai hamesha rahega bina vishwas ke sahare chai pashchat dekho chahiye Africa ka desh ho kahin par bhi ho yeh us rupaye hai kai aadiwasi log hain wah bhi apni paramparagat dhol majire rakhi naste kusheshwar ke bare mein ullas karte hain aise bahut se padhe hue angrej hain america mein bhi log girjaghar mein prarthna karte hue shri aisa kuch nahi hai hai vishwas ka astitva vishwas nahi hoga toh phir hoga kya lekin haan ismein question bahut jabardast hai ishwar tak pahuchne ka aur yeh ek un logon ka marg hai jinhone is marg ko prashast kar liya unke liya ab down ho raha hai aur hota rahega yeh baat hai agar bhagwan par bhagwan shabd se tumhe vishwas nahi hai kya naastik baad hai kai aaj rajesh khanna raajnitik daur mein dharmon ki alag alag vyakhya kar karke public ko gumrah kar dete hain agar wah astha ke sahare apne aap ko santosh pareek ismein koi burayi nahi hai aur vishesh vyakti jo specialisation hai bhagwan ke bare mein paise maharat log is dharti par hai is samay aaj ke vishay mein mein jo iska puri tarah se apan buddhi kar dega aur vishwas manana hi padega satat roop se ishwar hai aur kis sahare hi akela manushya apne aap ko samarth val bana sakta hai shaheed ka gun milega jis par man lagta hai us tatvon se hi hamare ko bhavna prakat hoti hai toh jab humein aisa vikalp divas ka bana degi iske dhyan mein hamara yeh coffee par kyonki aisa jo hai aise humein agar hum dukhi mein aur duniya bhar ki chijon mein apne aap ko jodte hain toh wah vinash kaal mein apne nasht bhav mein jo prakriti ka rotation prakriti se hatake manoj ko manobal ko badhane ki rasta vishwas bhagwan ka bahut hi nihayat hai aur yeh hona chahiye aur gehrai se agar usko prapt karna hai toh aise 768 logon ke sanidhya mein jaakar iski paricharcha karna chahiye aap anubhuti hoti rahegi agar jo vishwas se kuch prapt karna chahte hain om shak namo

इस प्रश्न का प्रश्न ओ कहने वाले लोग या तो आज तक में है या आशिक में होंगे तभी तो कह रहे

Romanized Version
Likes  52  Dislikes    views  1049
WhatsApp_icon
user

Vivek Shukla

Life coach

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात सच है कि धरती पर कुछ अलौकिक शक्तियां हैं जो माने इंसान को काबू में करती हैं या फिर जो इंसान को पूरी तरह से कंट्रोल करते लेकिन कई बार ऐसे होता है यह फिर कैसे ऐसी घटनाएं सामने आ जाती है इसे देखकर जूस इमेज अच्छे से जानता हूं कि व्यक्ति अच्छा है भाई साहब बुरा इंसान नहीं था लेकिन उसके साथ जब बहुत ही ज्यादा बुरा हो जाता है ऐसे में मुझे भगवान पर से भरोसा उठ जाता है या फिर भगवान से अपने लाल के बस मनी भगवान से भरोसा नहीं होता लेकिन जब मेरे साथ से फिर वाणी किसी अपने खास मित्र के साथ है ऐसी घटनाएं हुई है जिसमें उसका सब कुछ नष्ट हो जाता है अपने को कहीं का नहीं रहता मुझे बड़ा दुख होता है और भगवान से भरोसा उठ जाते उसके जैसे अच्छा इंसान भी चंदुकाका जाए जो भी तकलीफ हो जाए ऐसी हालत ऐसी हो गई उसने आत्महत्या कर लेता क्योंकि मुझे लगता है कि कर्म ही सब कुछ है इंसान अच्छा कर्म करता है या फिर अपने कर्मों के बल से ही कुछ पा सकता है क्योंकि हर बार गलत इंसान भ्रष्ट नेता कभी कुछ भी माननी पड़ती आम इंसान हे भगवान मुझे नहीं लगता कि भगवान नाम की कोई चीज होती है ओके बाय फ्रेंड

yeh baat sach hai ki dharti par kuch alaukik shaktiyan hain jo maane insaan ko kabu mein karti hain ya phir jo insaan ko puri tarah se control karte lekin kai baar aise hota hai yeh phir kaise aisi ghatnaye saamne aa jati hai ise dekhkar juice image acche se jaanta hoon ki vyakti accha hai bhai saheb bura insaan nahi tha lekin uske saath jab bahut hi zyada bura ho jata hai aise mein mujhe bhagwan par se bharosa uth jata hai ya phir bhagwan se apne lal ke bus money bhagwan se bharosa nahi hota lekin jab mere saath se phir vani kisi apne khas mitra ke saath hai aisi ghatnaye hui hai jisme uska sab kuch nasht ho jata hai apne ko kahin ka nahi rehta mujhe bada dukh hota hai aur bhagwan se bharosa uth jaate uske jaise accha insaan bhi chandukaka jaye jo bhi takleef ho jaye aisi halat aisi ho gayi usne atmahatya kar leta kyonki mujhe lagta hai ki karm hi sab kuch hai insaan accha karm karta hai ya phir apne karmon ke bal se hi kuch pa sakta hai kyonki har baar galat insaan bhrasht neta kabhi kuch bhi maanani padti aam insaan hai bhagwan mujhe nahi lagta ki bhagwan naam ki koi cheez hoti hai ok by friend

यह बात सच है कि धरती पर कुछ अलौकिक शक्तियां हैं जो माने इंसान को काबू में करती हैं या फिर

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  856
WhatsApp_icon
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों आप का क्वेश्चन है क्या आपको भगवान पर विश्वास है दोस्तों भगवान पर विश्वास तो उतना नहीं है जितना होना चाहिए क्योंकि भगवान भी कहते हैं पहले कुत्ते विश्वास करो तब दूसरे पर विश्वास करना क्योंकि अपने आप पर विश्वास होगा तभी आप दूसरे पर विश्वास कर सकते हैं और हमें पहले अपने आप पर विश्वास करें तभी जाकर हम भगवान पर भी कर पाएंगे बस भगवान को एक निरंकार ग्रुप में मानते हैं उनका कोई आकार नहीं है अगर आप कर्म करेंगे तभी भर भी भगवान भी आपका साथ देगा नहीं तो नहीं देगा इसलिए हम अपने आप पर विश्वास करें

hello doston aap ka question hai kya aapko bhagwan par vishwas hai doston bhagwan par vishwas toh utana nahi hai jitna hona chahiye kyonki bhagwan bhi kehte hain pehle kutte vishwas karo tab dusre par vishwas karna kyonki apne aap par vishwas hoga tabhi aap dusre par vishwas kar sakte hain aur hamein pehle apne aap par vishwas karen tabhi jaakar hum bhagwan par bhi kar payenge bus bhagwan ko ek nirankar group mein maante hain unka koi aakaar nahi hai agar aap karm karenge tabhi bhar bhi bhagwan bhi aapka saath dega nahi toh nahi dega isliye hum apne aap par vishwas kare

हेलो दोस्तों आप का क्वेश्चन है क्या आपको भगवान पर विश्वास है दोस्तों भगवान पर विश्वास तो उ

Romanized Version
Likes  126  Dislikes    views  756
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यस आज से 10 साल पहले की दौलत राम शास्त्री को भगवान पर विश्वास नहीं था लेकिन इन विगत 10 सालों में मैं इतना अटूट विश्वास रखता हूं गांव डिजाइन एप गॉड इज एवरीव्हेयर चमन से सच्चे इमा सच्चाई पर चलने वाले हो ईमानदारी से कार्य करने वाले हो धर्म और नैतिकता पर चलने वाले हैं तो निश्चित रूप से मान के चलिए कि इस पर आपके साथ हर क्षण आपकी सहायता के लिए तैयार है इसलिए मित्र ईश्वर पर आस्था रखो आशा रखना बहुत अच्छी बात है जून नास्तिक हैं उनको भी धीरे-धीरे कभी ना कभी शिकार करना पड़ता है एक और डिजाइनर वॉल डिजाइन इन हॉल टाइम

Yes aaj se 10 saal pehle ki daulat ram shastri ko bhagwan par vishwas nahi tha lekin in vigat 10 salon mein main itna atut vishwas rakhta hoon gaon design app god is everywhere chaman se sacche ima sacchai par chalne wale ho imandari se karya karne wale ho dharam aur naitikta par chalne wale hain toh nishchit roop se maan ke chaliye ki is par aapke saath har kshan aapki sahaayata ke liye taiyaar hai isliye mitra ishwar par astha rakho asha rakhna bahut acchi baat hai june naastik hain unko bhi dhire dhire kabhi na kabhi shikaar karna padta hai ek aur designer wall design in hall time

यस आज से 10 साल पहले की दौलत राम शास्त्री को भगवान पर विश्वास नहीं था लेकिन इन विगत 10 साल

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  861
WhatsApp_icon
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

2:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक सवाल है क्या आपको भगवान पर विश्वास है देखिए मेरा जवाब है कि बिल्कुल मुझे भगवान पर विश्वास है लेकिन अंधविश्वास नहीं है मेरे हिसाब से अगर आप अपना कर्म करेंगे सही तरीके से जिंदगी जिएंगे सही बर्ताव करेंगे दिनचर्या हो और आपका जो योगदान है वह घर में सही है तो जश्ने यूनिवर्स है जो आपको अपना लक्ष्य आपका मनपसंद गोरख की विशेष ग्रांट करती हैं लेकिन अगर आप उसके अगेंस्ट जाएंगे और मनमानी करेंगे आपका योगदान बहुत ही लिमिटेड है तो ना समय और ना भगवान आपका साथ दे सकते हैं कि पहले पहल और कॉन्ट्रिब्यूशन तो आपसे ही आने हैं अब आप किसे भी सेटिंग हो सकते हैं जहां पर आप के हाथ बंधे हुए हैं चाहे वो आर्थिक हो सकती है चाहे वह आपका हेल्थ हो सकता है फाइनैंशल कि मैंने कहा या फिर इमोशनल कुछ भी लेकिन हर चीज के बाहर आने का एक तरीका होता है पॉसिबल है हैप्पी से बाहर आने का इसको हम बोलते हैं कि पिंगा हेल्दी माइंड से अगर मानसिक संतुलन सही तुम कुछ भी पा सकते हैं जिंदगी में और जिसका मानसिक संतुलन सही रहता है समय और भगवान दोनों उनका साथ देते हैं यहां पर मैं यह नहीं कह रही इधर मानसिक संतुलन ठीक नहीं है तो भगवान आपका साथ नहीं देंगे लेकिन फिर वहां पर वह अंधविश्वास में आ जाता है जहां पर आप कुछ करेंगे नहीं और किसी में रखकर की तरफ देखेंगे और मेरे कल भी उन्हें के उन्हीं को अट्रैक्ट करते हैं जो पॉजिटिव होते हैं और जो ओपन होते हैं ओपन टू रिसीविंग जिसको हम बोलते हैं इंग्लिश में रिसीव कर बहुत बड़ी बात होती है हर कोई इंसान रिसीव नहीं कर सकता तभी को बहुत लोगों के साथ जो है चमत्कार नहीं होते हैं मेरे कुछ नहीं होते हैं और अजूबा ग्रहण नहीं कटता नोट ओपन या ब्लॉक सिम रिसीविंग आपको रिसीव करना है तो डेफिनेटली आपको इनपुटफील्ड जी के यहां मैं जॉब करती हूं जब करता हूं और फिर आप देखेंगे कि यूनिवर्स जो है अगर आप उसको भगवान का नाम द यूनिवर्स यात्रा क्रिएटर हायर पावर सुपर नेशनल जारी है और जिसके लिए काम करते हैं अपने लिए भी दुनिया वालों के लिए भी और क्रिएटर के साथ जो है साथ में बगल में चलकर हम भी जो है यह जो शराब रिजर्वेशन है उसको संभाले हुए हैं अगर हम ऐसा नहीं करते श्री कृष्ण बिगड़ जाती है और तब भगवान भी कुछ नहीं कर सकते जश्ने कि भगवान है लेकिन डिपेंड करता है कि आपका योगदान क्या है तो काउंसलिंग प्लीज कनेक्ट ऑन कविता पानी M.Com

ek sawaal hai kya aapko bhagwan par vishwas hai dekhiye mera jawab hai ki bilkul mujhe bhagwan par vishwas hai lekin andhavishvas nahi hai mere hisab se agar aap apna karm karenge sahi tarike se zindagi jeeenge sahi bartaav karenge dincharya ho aur aapka jo yogdan hai vaah ghar mein sahi hai toh jashne Universe hai jo aapko apna lakshya aapka manpasand gorakh ki vishesh grant karti hain lekin agar aap uske against jaenge aur manmani karenge aapka yogdan bahut hi limited hai toh na samay aur na bhagwan aapka saath de sakte hain ki pehle pahal aur contribution toh aapse hi aane hain ab aap kise bhi setting ho sakte hain jahan par aap ke hath bandhe hue hain chahen vo aarthik ho sakti hai chahen vaah aapka health ho sakta hai fainainshal ki maine kaha ya phir emotional kuch bhi lekin har cheez ke bahar aane ka ek tarika hota hai possible hai happy se bahar aane ka isko hum bolte hain ki pinga healthy mind se agar mansik santulan sahi tum kuch bhi paa sakte hain zindagi mein aur jiska mansik santulan sahi rehta hai samay aur bhagwan dono unka saath dete hain yahan par main yah nahi keh rahi idhar mansik santulan theek nahi hai toh bhagwan aapka saath nahi denge lekin phir wahan par vaah andhavishvas mein aa jata hai jahan par aap kuch karenge nahi aur kisi mein rakhakar ki taraf dekhenge aur mere kal bhi unhe ke unhin ko attract karte hain jo positive hote hain aur jo open hote hain open to receiving jisko hum bolte hain english mein receive kar bahut badi baat hoti hai har koi insaan receive nahi kar sakta tabhi ko bahut logo ke saath jo hai chamatkar nahi hote hain mere kuch nahi hote hain aur ajoobaa grahan nahi katata note open ya block sim receiving aapko receive karna hai toh definetli aapko inaputfild ji ke yahan main job karti hoon jab karta hoon aur phir aap dekhenge ki Universe jo hai agar aap usko bhagwan ka naam the Universe yatra creator hire power super national jaari hai aur jiske liye kaam karte hain apne liye bhi duniya walon ke liye bhi aur creator ke saath jo hai saath mein bagal mein chalkar hum bhi jo hai yah jo sharab reservation hai usko sambhale hue hain agar hum aisa nahi karte shri krishna bigad jaati hai aur tab bhagwan bhi kuch nahi kar sakte jashne ki bhagwan hai lekin depend karta hai ki aapka yogdan kya hai toh kaunsaling please connect on kavita paani M Com

एक सवाल है क्या आपको भगवान पर विश्वास है देखिए मेरा जवाब है कि बिल्कुल मुझे भगवान पर विश्

Romanized Version
Likes  1374  Dislikes    views  13532
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवानपुर बहुत विश्वास है जितना अपने आप पर विश्वास नहीं करते हो मैं उतना ज्यादा भगवान पर विश्वास करती हूं क्योंकि भगवान जो चाहे वही होता है हमारे चाहने और ना चाहने से कुछ नहीं होता होता तो वही है जो भगवान जाएंगे तो क्यों नहीं भगवान हैं और भगवान भी क्यों नहीं विश्वास होगा हमें बहुत विश्वास है भगवान की

bhagawanpur bahut vishwas hai jitna apne aap par vishwas nahi karte ho main utana zyada bhagwan par vishwas karti hoon kyonki bhagwan jo chahen wahi hota hai hamare chahne aur na chahne se kuch nahi hota hota toh wahi hai jo bhagwan jaenge toh kyon nahi bhagwan hain aur bhagwan bhi kyon nahi vishwas hoga hamein bahut vishwas hai bhagwan ki

भगवानपुर बहुत विश्वास है जितना अपने आप पर विश्वास नहीं करते हो मैं उतना ज्यादा भगवान पर वि

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  301
WhatsApp_icon
user

Norang sharma

Social Worker

2:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वोकल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है क्या आपको भगवान पर विश्वास है तो दोस्तों हां मुझे भगवान पर पूरा भरोसा है पूरा विश्वास है क्योंकि कहीं ना कहीं कोई ना कोई ऐसी अदृश्य शक्ति है जो एक पूरे ब्राह्मण को पूरे संसार को इस पूरे विश्व को चलाएं मन कर रही है संचालित कर रही है और उस शक्ति को मैंने कई बार अपने जीवन में महसूस किया है कई बार कठिन समय में मैंने देखा है जब कहीं से मुझे कोई सहयोग कोई सपोर्ट नहीं मिलता तो ऐसे में कोई अज्ञात स्रोत सी अनजानी रास्तों से कोई शक्ति आकर मेरा हाथ पकड़ लेती है और मुझे उस विषम परिस्थिति से उस संकट की घड़ी से उत्तराखंडी से बाहर निकाल लेती है तो दोस्तों क्या यह भगवान की कृपा का जीता जागता सबूत नहीं है बहुत बार में मर मर कर बचा हूं जब मेरी प्राण भी संकट में पड़ गए थे या जब मेरी जान पर बात आ गई थी बहुत सारी बीमारियों ने मुझे घेर लिया था लेकिन फिर भी पता नहीं कहां से एक अनजान सहायता मेरी तरफ आकर्षित हो गई और उसने मुझे फिर से ठीक कर दिया और मुझे बचा लिया उस विषम परिस्थिति से उस संकट की घड़ी से जिसमें मैं बार-बार उस ईश्वर को याद करता था क्योंकि दोस्तों हमारे घर में बचपन से पूजा-पाठ और तमाम तरीके की चीजें होती तभी से मेरे मन में यह भरोसा तो था कि हां ईश्वर चाहे तो कुछ भी कर सकते हैं वह चाहे तो इस दुनिया में कोई भी बड़ी से बड़ी जो संकट की घड़ी है उसको डाल सकती हैं ईश्वर की मर्जी के बिना तो पता तक नहीं हिलता और दोस्तों जब इस तरह के एग्जांपल और बाकी है मेरे साथ हो तुम मेरा ईश्वर पर विश्वास और भी दृढ़ हो जाता है मजबूत हो जाता है पक्का हो जाता है धन्यवाद

namaskar doston vocal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai kya aapko bhagwan par vishwas hai toh doston haan mujhe bhagwan par pura bharosa hai pura vishwas hai kyonki kahin na kahin koi na koi aisi adrishya shakti hai jo ek poore brahman ko poore sansar ko is poore vishwa ko chalaye man kar rahi hai sanchalit kar rahi hai aur us shakti ko maine kai baar apne jeevan me mehsus kiya hai kai baar kathin samay me maine dekha hai jab kahin se mujhe koi sahyog koi support nahi milta toh aise me koi agyaat srot si anjani raston se koi shakti aakar mera hath pakad leti hai aur mujhe us visham paristhiti se us sankat ki ghadi se uttarakhandi se bahar nikaal leti hai toh doston kya yah bhagwan ki kripa ka jita jaagta sabut nahi hai bahut baar me mar mar kar bacha hoon jab meri praan bhi sankat me pad gaye the ya jab meri jaan par baat aa gayi thi bahut saari bimariyon ne mujhe gher liya tha lekin phir bhi pata nahi kaha se ek anjaan sahayta meri taraf aakarshit ho gayi aur usne mujhe phir se theek kar diya aur mujhe bacha liya us visham paristhiti se us sankat ki ghadi se jisme main baar baar us ishwar ko yaad karta tha kyonki doston hamare ghar me bachpan se puja path aur tamaam tarike ki cheezen hoti tabhi se mere man me yah bharosa toh tha ki haan ishwar chahen toh kuch bhi kar sakte hain vaah chahen toh is duniya me koi bhi badi se badi jo sankat ki ghadi hai usko daal sakti hain ishwar ki marji ke bina toh pata tak nahi hilata aur doston jab is tarah ke example aur baki hai mere saath ho tum mera ishwar par vishwas aur bhi dridh ho jata hai majboot ho jata hai pakka ho jata hai dhanyavad

नमस्कार दोस्तों वोकल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  2209
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आपको भगवान पर विश्वास है अगर मुझे पूछा जाए तो बस यही जवाब है कि मुझे सिर्फ और सिर्फ भगवान पर ही विश्वास है

kya aapko bhagwan par vishwas hai agar mujhe poocha jaaye toh bus yahi jawab hai ki mujhe sirf aur sirf bhagwan par hi vishwas hai

क्या आपको भगवान पर विश्वास है अगर मुझे पूछा जाए तो बस यही जवाब है कि मुझे सिर्फ और सिर्फ भ

Romanized Version
Likes  149  Dislikes    views  1695
WhatsApp_icon
user

Jyotish Daiya

Chairman At Vijyam Classes, Motivator and Life Coach

2:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो आपका प्रश्न है कि क्या को बुखार है एक इंसान को भगवान के वस्त्र जरूर होती है हमें जिंदगी में ऐसे कई मौकों पर उत्तर ढूंढना होता है कि यह जुड़े कैसे हुई किसने की किस प्रकार चलाया जा सकता है एक विशिष्ट वीजा की आवश्यकता होती है जिसे हम हमसे सुपीरियर माने तुमसे भगवान माने ना माने ना कुछ लोगों को जय देवताओं को चाहे कोई अपना ही होता है तो हम कैसे थ्रू थे कि आत्मा होती है कमाल होता है सपोर्ट कीजिए कि मैं आपके सामने खड़ा हूं आपसे बात कर रहा हूं और कुछ ही पल में मेरा शरीर जो है वह कुमरत दिखाई देता है मरा हुआ दिखाई देता है तो आपको कंप्लीट करने पर क्या पता चलता है कि मेरे मोबाइल में शरीर में और मैं आपसे बात कर रहा था उस में अंतर क्या है अंतर है उस पर क्या कहा उस जीवन का जिसे लोग कहते हैं ईश्वर जो आत्मा है वह जरूर मैं तो आपको भी अंदर से जीवित रखे हुए हैं वही आत्मा है तो हिंदू धर्म में कई किताबें पढ़ने के बाद में उसको कोई की बात मैं कह सकता हूं कि भगवान है और विश्वास होना चाहिए कैसे हो सकते हैं नहीं होता यह उसी तरीके से विदेशी आवाज बंद करें चमक रहा हो तब भी दोपहर लाकर बंद कर ले और बोले कि मैंने आंखें बंद कर ली है अब मैं नहीं मानता कि होता है तो आप कैसा क्या करें तो ऐसा क्या कसम से कसम से चुके हैं कि दुकान पर

toh aapka prashna hai ki kya ko bukhar hai ek insaan ko bhagwan ke vastra zaroor hoti hai hamein zindagi me aise kai maukon par uttar dhundhana hota hai ki yah jude kaise hui kisne ki kis prakar chalaya ja sakta hai ek vishisht visa ki avashyakta hoti hai jise hum humse Superior maane tumse bhagwan maane na maane na kuch logo ko jai devatao ko chahen koi apna hi hota hai toh hum kaise through the ki aatma hoti hai kamaal hota hai support kijiye ki main aapke saamne khada hoon aapse baat kar raha hoon aur kuch hi pal me mera sharir jo hai vaah kumarat dikhai deta hai mara hua dikhai deta hai toh aapko complete karne par kya pata chalta hai ki mere mobile me sharir me aur main aapse baat kar raha tha us me antar kya hai antar hai us par kya kaha us jeevan ka jise log kehte hain ishwar jo aatma hai vaah zaroor main toh aapko bhi andar se jeevit rakhe hue hain wahi aatma hai toh hindu dharm me kai kitaben padhne ke baad me usko koi ki baat main keh sakta hoon ki bhagwan hai aur vishwas hona chahiye kaise ho sakte hain nahi hota yah usi tarike se videshi awaaz band kare chamak raha ho tab bhi dopahar lakar band kar le aur bole ki maine aankhen band kar li hai ab main nahi maanta ki hota hai toh aap kaisa kya kare toh aisa kya kasam se kasam se chuke hain ki dukaan par

तो आपका प्रश्न है कि क्या को बुखार है एक इंसान को भगवान के वस्त्र जरूर होती है हमें जिंद

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  401
WhatsApp_icon
user

Mehmood Alum

Law Student

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मुझे भगवान पर विश्वास है मैं अल्लाह की इबादत करता हूं और मैं अल्लाह के बनाए हुए नैतिक और आध्यात्मिक नियमों जो कि कुरान में वर्णन है उनका पालन करने की कोशिश करता हूं

ji haan mujhe bhagwan par vishwas hai main allah ki ibadat karta hoon aur main allah ke banaye hue naitik aur aadhyatmik niyamon jo ki quraan mein varnan hai unka palan karne ki koshish karta hoon

जी हां मुझे भगवान पर विश्वास है मैं अल्लाह की इबादत करता हूं और मैं अल्लाह के बनाए हुए नैत

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  318
WhatsApp_icon
user

Piya Verma

Nursing

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हमें भगवान पर विश्वास तो है पर भगवान सबके अंदर होता है आपके अंदर भगवान हैं आपकी आत्मा जो कहते हैं उसमें भगवान हर किसी के अंदर भगवान एवर्ट लोग अपने अंदर के जानवर को जगाते हैं कि इंसान को जगाती हैं कि भगवान को जगाते हैं यह इंसान पर डिपेंड करता है कि वह अपने अंदर क्या ढूंढता है इंसान भगवान या जानवर जैसे भी हो रहता भी है पता जिस तरीके से सरके का एटमॉस्फेयर होता है उसी तरीके से उसका पूरा रहता है और भगवान को किसी ने नहीं देखा है या कुछ नहीं देखा अभी तक तो हम सुनते आए हैं क्या यह भगवान हे भगवान जो भी आत्मविश्वास में रखना विश्वास होना चाहिए अगर कुछ ना कुछ तो है ऐसा जो पृथ्वी पर या अर्थ पर है जो हमें एक दूसरे पर भरोसा ही होता है वह दूसरे से बांधे रखता है और भरोसे के कारण ही दुनिया में हम लोग हैं तो ऑफिस कि भगवान है कहीं ना कहीं जिसके कारण हमें का आस्था होती है विश्वास होता है और अपने आप पर विश्वास रखना चाहिए कर्म पर विश्वास रखना चाहिए भरोसे में ही दुनिया का भगवान पर भरोसा रखते तो मेहनत करिए कुछ करिए इतनी ज्यादा विश्वास सखी अंधविश्वास नहीं

ji humein bhagwan par vishwas toh hai par bhagwan sabke andar hota hai aapke andar bhagwan hain aapki aatma jo kehte hain usmein bhagwan har kisi ke andar bhagwan Everett log apne andar ke janwar ko jagaate hain ki insaan ko jagati hain ki bhagwan ko jagaate hain yeh insaan par depend karta hai ki wah apne andar kya dhundhta hai insaan bhagwan ya janwar jaise bhi ho rehta bhi hai pata jis tarike se sadke ka etamasfeyar hota hai usi tarike se uska pura rehta hai aur bhagwan ko kisi ne nahi dekha hai ya kuch nahi dekha abhi tak toh hum sunte aaye hain kya yeh bhagwan hai bhagwan jo bhi aatmvishvaas mein rakhna vishwas hona chahiye agar kuch na kuch toh hai aisa jo prithvi par ya arth par hai jo humein ek dusre par bharosa hi hota hai wah dusre se bandhe rakhta hai aur bharose ke kaaran hi duniya mein hum log hain toh office ki bhagwan hai kahin na kahin jiske kaaran humein ka astha hoti hai vishwas hota hai aur apne aap par vishwas rakhna chahiye karm par vishwas rakhna chahiye bharose mein hi duniya ka bhagwan par bharosa rakhte toh mehnat kariye kuch kariye itni zyada vishwas sakhi andhavishvas nahi

जी हमें भगवान पर विश्वास तो है पर भगवान सबके अंदर होता है आपके अंदर भगवान हैं आपकी आत्मा ज

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  60
WhatsApp_icon
user

Rinku Kumar Meena

managing director (MD)life expert hindi writer tourist guides writing self employed मैं चाहता हूं हर व्यक्ति को अपने जीवन में खुश रहने का पूरा अधिकार है चाहे वह लड़का या लड़की और वह जो चाहे कर सकती अपनी लाइफ से उसका भी अधिकार होना चाहिए और मैं चाहता हूं लड़कियां भी अपना जीवन पूरी तरीके से खुश हो कर दिया चाहे वह अपने परिवार में हो या ससुराल में विश्वास करता हूं

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अगर भगवान पर विश्वास की बात की जाए तो मैं बिल्कुल करता हूं कि किस रूप में स्कूल बात को तो बिल्कुल नहीं कहूंगा किसी भी रूप में हो सकते हैं लेकिन मैं कहना चाहूंगा जब भी आप अति विकट परिस्थितियों में होते हैं जब आप और कोई भी व्यक्ति व्यक्ति आपकी सहायता नहीं कर पाता तब आपके जो मानसिक तौर पर सहायता की जाती है या किसी भी आन तरीके से वो धीरे से भगवान के द्वारा ही की जाती है कि मैंने भी काफी और महसूस किया जब ज्यादा आती विकट परिस्थितियां होती बेवफा ने तो इतनी विकट परिस्थितियों में आपका साथ दे पाएंगे जब हम को लगेगा की जरूरत है

dekhie agar bhagwan par vishwas ki baat ki jaye toh main bilkul karta hoon ki kis roop mein school baat ko toh bilkul nahi kahunga kisi bhi roop mein ho sakte hain lekin main kehna chahunga jab bhi aap ati vikat paristhitiyon mein hote hain jab aap aur koi bhi vyakti vyakti aapki sahaayata nahi kar pata tab aapke jo mansik taur par sahaayata ki jati hai ya kisi bhi Aan tarike se vo dhire se bhagwan ke dwara hi ki jati hai ki maine bhi kafi aur mahsus kiya jab zyada aati vikat paristhiyaann hoti bewafaa ne toh itni vikat paristhitiyon mein aapka saath de payenge jab hum ko lagega ki zaroorat hai

देखिए अगर भगवान पर विश्वास की बात की जाए तो मैं बिल्कुल करता हूं कि किस रूप में स्कूल बात

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  352
WhatsApp_icon
user

Ankit mishra

Social Worker At DSS (NGO)

3:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मुझे पूरी तरह से भगवान में विश्वास और मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं कि कि मैं पहले नहीं करता था विश्वास भगवान के ऊपर जब बचपन में करता था फिर जब थोड़ा सा कॉलेज वगैरा मैं था तब नहीं करता था और लेकिन कॉलेज में एक बहुत अच्छा थॉट प्रोसेस था मेरा मैं हमेशा से कॉलेज से नहीं है 11th से इस बारे में सोचता हूं कि नर सेवा ही नारायण सेवा है आप लोगों की मदद कीजिए और उसमें ही सोचेगी अपने प्रभु की सेवा कर दें जब मेरा यही सोचने का नजरिया था तो इसके लिए मैंने भगवान है ऐसा नहीं सोचा था मैंने सोचा था कि मैंने जब लो भूखी हो तो फिल्म की है मैं जब लोगों की मदद कर रहा हूं जब भी मुझे जरूरत पड़ेगी तो वह कहीं ना कहीं से हर पाएगी यार लेकिन फिर इसमें होता क्या है पता है कि इंसान अहंकारी हो जाते हैं जब उसने यह सोचना छोड़ दिया ना कि भगवान नहीं है मतलब छोड़ दिया कि भगवान है और केवल नर सेवा ही नारायण सेवा है यह सोच में चलता रहा तो अपने आप को भगवान से बड़ा समझने लगता है पता है वह बहुत अहंकारी हो जाते हैं वह सोचते हैं यार मैं तो यह कह रहा हूं तो इसमें क्या होगा हटा हटा पर एक दिव्य शक्ति के ऊपर एक भगवान के ऊपर जब आप विश्वास करते हैं किसी के भी ऊपर आप राम को मानते हम रहीम को मानते हैं हम किसी को भी मानते सिख धर्म के हैं बौद्ध धर्म में विश्वास करते हैं कि किसी भी धर्म अगर आप किसी एक को मानते हैं ना तो सामान्य और साथ में यह नर सेवा नारायण सेवा भी करते रहिए कभी भी अपने आप को ऊपर नहीं समझेंगे हम आपके अंदर हम घर नहीं आएगा अगर आप किसी के ऊपर मतलब ऐसे भगवान मकान के ऊपर विश्वास करेगा ना तो आपको आपको कभी अहंकार नहीं आएगा विनम्रता लाने के लिए आपको विश्वास करना पड़ेगा अपना एक शक्ति पर दो मैं अपना बताओ आप लोगों का आपके ऊपर है मैं ऐसा ही हूं ना मैं भगवान के ऊपर विश्वास पूरी निष्ठा से करता हूं आडंबर अलग है और नंबर नहीं करता मैं मुझे तो अगरबत्ती जलाना तक कुत्ता पसंद नहीं है उन्हें याद करना मंत्र वगैरह पढ़ना मंत्र का तो अभी तो मुझे बहुत अच्छे-अच्छे मतलब उनके फायदे के बारे में लिखा हुआ मंत्र पढ़ने से सेंटर फायदे भी बहुत सारे मिले घंटी घंटी बजाने से बैक्टीरिया को गिरा जो होते हैं वह खत्म हो जाते हैं वाइब्रेशन से उसके बाकी जो नंबर है उस नंबर से बचे अंधविश्वास से बची है भगवान के ऊपर विश्वास कीजिए ना

ji haan mujhe puri tarah se bhagwan mein vishwas aur main aisa isliye keh raha hoon ki ki main pehle nahi karta tha vishwas bhagwan ke upar jab bachpan mein karta tha phir jab thoda sa college vagaira main tha tab nahi karta tha aur lekin college mein ek bahut accha thought process tha mera main hamesha se college se nahi hai 11th se is bare mein sochta hoon ki nar seva hi narayan seva hai aap logon ki madad kijiye aur usmein hi sochegi apne prabhu ki seva kar dein jab mera yahi sochne ka najariya tha toh iske liye maine bhagwan hai aisa nahi socha tha maine socha tha ki maine jab lo bhukhi ho toh film ki hai main jab logon ki madad kar raha hoon jab bhi mujhe zaroorat padegi toh wah kahin na kahin se har payegi yaar lekin phir ismein hota kya hai pata hai ki insaan ahankari ho jaate hain jab usne yeh sochna chhod diya na ki bhagwan nahi hai matlab chhod diya ki bhagwan hai aur keval nar seva hi narayan seva hai yeh soch mein chalta raha toh apne aap ko bhagwan se bada samjhne lagta hai pata hai wah bahut ahankari ho jaate hain wah sochte hain yaar main toh yeh keh raha hoon toh ismein kya hoga hata hata par ek divya shakti ke upar ek bhagwan ke upar jab aap vishwas karte hain kisi ke bhi upar aap ram ko maante hum rahim ko maante hain hum kisi ko bhi maante sikh dharam ke hain baudh dharam mein vishwas karte hain ki kisi bhi dharam agar aap kisi ek ko maante hain na toh samanya aur saath mein yeh nar seva narayan seva bhi karte rahiye kabhi bhi apne aap ko upar nahi samjhenge hum aapke andar hum ghar nahi aaega agar aap kisi ke upar matlab aise bhagwan makan ke upar vishwas karega na toh aapko aapko kabhi ahankar nahi aaega vinamrata lane ke liye aapko vishwas karna padega apna ek shakti par do main apna batao aap logon ka aapke upar hai main aisa hi hoon na main bhagwan ke upar vishwas puri nishtha se karta hoon aandabar alag hai aur number nahi karta main mujhe toh agarbatti jalana tak kutta pasand nahi hai unhein yaad karna mantra vagairah padhna mantra ka toh abhi toh mujhe bahut acche acche matlab unke fayde ke bare mein likha hua mantra padhne se center fayde bhi bahut saare mile ghanti ghanti bajane se bacteria ko gira jo hote hain wah khatam ho jaate hain vibration se uske baki jo number hai us number se bache andhavishvas se bachi hai bhagwan ke upar vishwas kijiye na

जी हां मुझे पूरी तरह से भगवान में विश्वास और मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं कि कि मैं पहले नहीं

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  22
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मैं तो भगवान पर विश्वास है हमें जो भी मिल रहा है उसी की कृपा से मिल रहा है हमारा शरीर भी अपना नहीं है हमेशा ही भी भगवान का ही दिया भाई हम तो यही चाहते कि हम इससे अच्छा तो अच्छा कर्म करके भगवान को प्राप्त करें और भगवान की गुड़िया

ji haan main toh bhagwan par vishwas hai hamein jo bhi mil raha hai usi ki kripa se mil raha hai hamara sharir bhi apna nahi hai hamesha hi bhi bhagwan ka hi diya bhai hum toh yahi chahte ki hum isse accha toh accha karm karke bhagwan ko prapt karen aur bhagwan ki gudiya

जी हां मैं तो भगवान पर विश्वास है हमें जो भी मिल रहा है उसी की कृपा से मिल रहा है हमारा शर

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  1323
WhatsApp_icon
user

Sagar सागर

Engineer ,Singer,Director

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मुझे ईश्वर पर विश्वास है और अपने आप पर भी क्योंकि मुझे उस ईश्वर ने सिखाया है कि जो व्यक्ति स्वयं पर विश्वास करता है वह मुझ पर विश्वास करता है क्योंकि मेरे अंदर वाली परमेश्वर का स्वरूप है यानी वह आत्मा क्योंकि हमारी आत्मा और परमात्मा से ही निकली हुई है भगवान श्री कृष्ण ने गीता में कहा है मारने वाला भी मैं हूं बचाने वाला हूं मैं हूं नहीं संघार करता हूं मैं ही जन्म देता हूं और जब उन्होंने यह बात कही कि हर आत्मा मेरा ही स्वरूप है तो मेरे अंदर का जो ईश्वर है परमात्मा है वह भी एक ही है तो भगवान में विश्वास करने जैसा अर्थात अपने आप पर विश्वास करना भगवान में विश्वास करने के समान ही है धन्यवाद

ji haan mujhe ishwar par vishwas hai aur apne aap par bhi kyonki mujhe us ishwar ne sikhaya hai ki jo vyakti swayam par vishwas karta hai vaah mujhse par vishwas karta hai kyonki mere andar wali parmeshwar ka swaroop hai yani vaah aatma kyonki hamari aatma aur paramatma se hi nikli hui hai bhagwan shri krishna ne geeta me kaha hai maarne vala bhi main hoon bachane vala hoon main hoon nahi sanghar karta hoon main hi janam deta hoon aur jab unhone yah baat kahi ki har aatma mera hi swaroop hai toh mere andar ka jo ishwar hai paramatma hai vaah bhi ek hi hai toh bhagwan me vishwas karne jaisa arthat apne aap par vishwas karna bhagwan me vishwas karne ke saman hi hai dhanyavad

जी हां मुझे ईश्वर पर विश्वास है और अपने आप पर भी क्योंकि मुझे उस ईश्वर ने सिखाया है कि जो

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  197
WhatsApp_icon
user
1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मुझे भगवान पर विश्वास है कि भगवान है मेरे माता-पिता मेरे भगवान और मैं उन पर भरोसा नहीं करूंगा तो किस करना यही धारणा होनी चाहिए हमें अपने जन्म देने वाले दाता पर विश्वास नहीं करेंगे वही हमारे माता-पिता मत धरती हमारी मां है मुझको मां अगर हम अपने मां मां पर यकीन नहीं करेंगे और जो हमें जो जो भी उठता है जब धरती पर होता है इसलिए हम आमतौर पर आते हैं और उसे मां कहते हैं क्योंकि वही दाता मुझे भगवान पर विश्वास नहीं होता तो हम कैसे चल रहे होते जब फोटो से जननी सिटी तो हमें बनाने वाला भी भगवान हमें 9 महीने गोद में 9 महीने गर्भ में धारण करने वाली मां ही भगवान है इसलिए मुझे भगवान पर विश्वास है

haan mujhe bhagwan par vishwas hai ki bhagwan hai mere mata pita mere bhagwan aur main un par bharosa nahi karunga toh kis karna yahi dharana honi chahiye hamein apne janam dene waale data par vishwas nahi karenge wahi hamare mata pita mat dharti hamari maa hai mujhko maa agar hum apne maa maa par yakin nahi karenge aur jo hamein jo jo bhi uthata hai jab dharti par hota hai isliye hum aamtaur par aate hain aur use maa kehte hain kyonki wahi data mujhe bhagwan par vishwas nahi hota toh hum kaise chal rahe hote jab photo se janani city toh hamein banane vala bhi bhagwan hamein 9 mahine god me 9 mahine garbh me dharan karne wali maa hi bhagwan hai isliye mujhe bhagwan par vishwas hai

हां मुझे भगवान पर विश्वास है कि भगवान है मेरे माता-पिता मेरे भगवान और मैं उन पर भरोसा नहीं

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  72
WhatsApp_icon
user

satyaveer singh

Satya Traders

1:43
Play

Likes  10  Dislikes    views  257
WhatsApp_icon
user

जय किशन मौर्य

टेलर मास्टर

2:23
Play

Likes  7  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user
1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें पहले अपने परेशान करना चाहिए अपने कर्मों पर अपने घर की कमी जाता है लोगों ने की सहायता करते हैं जो ऐसा करते हैं हमें अपने स्वाभिमान आतिफ असलम बाद अपने कर्मों के माध्यम से आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए अपने कर्मों को अपनी सुख-सुविधाओं को स्वयं जुटाने में असमर्थ हूं और भगवान पर विश्वास भगवान सभी की मदद करते हैं और इसकी प्रकृति भोजपुरी संवाद उनके द्वारा बनाए हुए औरत का ओपन प्रकाश रतन बात करने का प्रयास करते हैं भगवान विश्वास होता है और भगवान सभी के साथ क्या करते हैं लेकिन हमें भी अपने सामान के आधार पर और अपने जो है अंतरात्मा और कर्मों के आधार पर हमें अपने आपको जो है उसका बिल सत्संग बनना चाहिए कि हम जो अपने कार्यों में सफलता प्राप्त कर सकेंगे धन्यवाद

hamein pehle apne pareshan karna chahiye apne karmon par apne ghar ki kami jata hai logo ne ki sahayta karte hain jo aisa karte hain hamein apne swabhiman atif aslam baad apne karmon ke madhyam se ashirvaad prapt karna chahiye apne karmon ko apni sukh suvidhaon ko swayam jutane me asamarth hoon aur bhagwan par vishwas bhagwan sabhi ki madad karte hain aur iski prakriti bhojpuri samvaad unke dwara banaye hue aurat ka open prakash ratan baat karne ka prayas karte hain bhagwan vishwas hota hai aur bhagwan sabhi ke saath kya karte hain lekin hamein bhi apne saamaan ke aadhar par aur apne jo hai antaraatma aur karmon ke aadhar par hamein apne aapko jo hai uska bill satsang banna chahiye ki hum jo apne karyo me safalta prapt kar sakenge dhanyavad

हमें पहले अपने परेशान करना चाहिए अपने कर्मों पर अपने घर की कमी जाता है लोगों ने की सहायता

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  578
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विश्वास है

vishwas hai

विश्वास है

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  468
WhatsApp_icon
user

123

HAR.BIMARI.KA.ILAJ.DESI

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं मैं भवन विश्वास रखता हूं लव यू सो सकता हूं अल्लाह ईश्वर भगवान तू दुनिया के लोगों ने बनाया था 5 शब्दों को जोड़कर भगवान का नाम दे दिया तो मैं ईश्वर पर भरोसा करता हूं जिससे हम सब को बुलाया है इसलिए जो भगवान को तोड़ने फ्री बनाया है कि पांच चीजों को जोड़ लो और काम चालू कर दो तुम मेरा भरोसा तो भाई ईश्वर पर है और वही हमको सब कुछ दे रहा है जिसने दुनिया और जीव-जंतुओं एटिकेट जो भी है सब आदमी करता है

ji nahi main bhawan vishwas rakhta hoon love you so sakta hoon allah ishwar bhagwan tu duniya ke logon ne banaya tha 5 shabdo ko jodkar bhagwan ka naam de diya toh main ishwar par bharosa karta hoon jisse hum sab ko bulaya hai isliye jo bhagwan ko todne free banaya hai ki paanch chijon ko jod lo aur kaam chalu kar do tum mera bharosa toh bhai ishwar par hai aur wahi hamko sab kuch de raha hai jisne duniya aur jeev jantuon Etiquette jo bhi hai sab aadmi karta hai

जी नहीं मैं भवन विश्वास रखता हूं लव यू सो सकता हूं अल्लाह ईश्वर भगवान तू दुनिया के लोगों न

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  453
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!