क्या भगवान हनुमान वास्तव में मौजूद थे?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आईएस इसमें कोई दो राय नहीं है क्योंकि माता सीता ने उनको अजर अमर होने का वरदान दिया है उस दिन दीदी का दाता बनाया है क्योंकि उन्होंने अपने इष्ट देव श्री राम की श्रद्धा अत्यंत दांत के साथ तपस्या की है भी हमेशा राम के स्तन में लगे रहते हैं वे हमेशा राम का ध्यान करते रहते हैं मनन करते हैं चिंतन करते हैं भजन-कीर्तन करते हैं इसलिए उनके लिए संसार में कुछ भी असंभव नहीं बस अब असंभव को संभव करने की क्षमता रखते हैं वे कल बीते हनुमान जी वे आज भी हैं और हमेशा रहेंगे क्योंकि श्रीराम ने अपने बैकुंठ लोक जाते समय हनुमान जी को यह वरदान दिया था कि हनुमान जब पति पति पर सूरज चांद रहेगा जब तक की घमंड रहेगा तब तक तुम किसी पक्षी पर रहोगे और मेरे नाम का इस्तेमाल करते रहोगे इसलिए आज भी हनुमान जी यहीं पर है कल भी हनुमान जी के ही थे और भी रहेंगे

ias isme koi do rai nahi hai kyonki mata sita ne unko ajar amar hone ka vardaan diya hai us din didi ka data banaya hai kyonki unhone apne isht dev shri ram ki shraddha atyant dant ke saath tapasya ki hai bhi hamesha ram ke stan mein lage rehte hain ve hamesha ram ka dhyan karte rehte hain manan karte hain chintan karte hain bhajan kirtan karte hain isliye unke liye sansar mein kuch bhi asambhav nahi bus ab asambhav ko sambhav karne ki kshamta rakhte hain ve kal bite hanuman ji ve aaj bhi hain aur hamesha rahenge kyonki shriram ne apne baikunth lok jaate samay hanuman ji ko yah vardaan diya tha ki hanuman jab pati pati par suraj chand rahega jab tak ki ghamand rahega tab tak tum kisi pakshi par rahoge aur mere naam ka istemal karte rahoge isliye aaj bhi hanuman ji yahin par hai kal bhi hanuman ji ke hi the aur bhi rahenge

आईएस इसमें कोई दो राय नहीं है क्योंकि माता सीता ने उनको अजर अमर होने का वरदान दिया है उस द

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  1836
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो भगवान है वह हनुमान नहीं और जो हनुमान है वह भगवान नहीं हनुमान वह हैं जो भगवान के भक्त हैं अब मैं इसका प्रत्यक्ष आपको प्रमाण भी दे सकता हूं वेदों में भी लिखा है ग्रंथों में भी लिखा है जब श्रीराम इस धरती पर जिसको जिस ने रावण को मारा वह वाले पुरुष रामचंद्र अयोध्या के जो राजा माने जाते हैं जब वह पैदा नहीं हुए थे तो जिस राम की वह पूजा कर रहे थे राम राम राम उस राम के भगत और यह जो हनुमान जी हैं उन्होंने अयोध्या वाले राम जो हैं उनका साथ दिया और जो भक्त होता है वह हमेशा ही हमेशा ही साथ देता है अब हम कह सकते हैं हनुमान जब राम राम राम राम राम राम कर रहे थे तो अब हनुमान नहीं भगवान है भगवान ही हनुमान है अब कह सकते हैं इससे पहले हम यह कहेंगे कि भगवान है तो फिर हनुमान नहीं अगर हनुमान है तो फिर भगवान नहीं क्योंकि भगवान में उनका भक्त है हनुमान मौसम आ गया तो फिर हनुमान भगवान हो गया ध्यान दें इस बात को धन्यवाद

dekhiye jo bhagwan hai vaah hanuman nahi aur jo hanuman hai vaah bhagwan nahi hanuman vaah hain jo bhagwan ke bhakt hain ab main iska pratyaksh aapko pramaan bhi de sakta hoon vedo me bhi likha hai granthon me bhi likha hai jab shriram is dharti par jisko jis ne ravan ko mara vaah waale purush ramachandra ayodhya ke jo raja maane jaate hain jab vaah paida nahi hue the toh jis ram ki vaah puja kar rahe the ram ram ram us ram ke bhagat aur yah jo hanuman ji hain unhone ayodhya waale ram jo hain unka saath diya aur jo bhakt hota hai vaah hamesha hi hamesha hi saath deta hai ab hum keh sakte hain hanuman jab ram ram ram ram ram ram kar rahe the toh ab hanuman nahi bhagwan hai bhagwan hi hanuman hai ab keh sakte hain isse pehle hum yah kahenge ki bhagwan hai toh phir hanuman nahi agar hanuman hai toh phir bhagwan nahi kyonki bhagwan me unka bhakt hai hanuman mausam aa gaya toh phir hanuman bhagwan ho gaya dhyan de is baat ko dhanyavad

देखिए जो भगवान है वह हनुमान नहीं और जो हनुमान है वह भगवान नहीं हनुमान वह हैं जो भगवान के भ

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
play
user

TS Bhanot

Teacher

0:40

Likes  13  Dislikes    views  263
WhatsApp_icon
play
user

Dilsh Sheikh

Journalist

1:17

Likes  2  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
play
user

Akshansh Tripathy

Bachelor's of Mass Media

1:02

Likes  1  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Sanchi Sharma

Journalist, Photographer

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप हिंदू माइथॉलजी के हिसाब से देखें तो हां हम यह मानेंगे कि हनुमान भगवान सच में मौजूद थे लेकिन अगर हम एक हिस्टोरियन की नजर से देखें या एक नार्मल ऑथर की नजर से 8 किलो जिसकी नजर से देखें तो हमें शायद यह लग सकता है कि रामायण ही झूठी है अब यह तो हम सबका अपना अपना ओपिनियन है और मेरे मायने में भगवान हनुमान वास्तव में मौजूद थे क्योंकि सेफ रामायण ही नहीं जो हमें उनके बारे में बताती है बल्कि हमारे लोगों को हमारे वैज्ञानिकों को हमारे आगरा उसको कुछ ऐसे सुबूत भी मिले हैं जो इसी और अंदेशा करते हैं कि शायद हनुमान वास्तव में मौजूद थे यह टोटली सर हमारा अपना ओपिनियन है कि हम उनकी मौजूदगी को वास्तव में अपनाना चाहते हैं या हम उसको ऐसी झूठ लाना चाहते हैं

agar aap hindu maithalji ke hisab se dekhen toh haan hum yah manenge ki hanuman bhagwan sach mein maujud the lekin agar hum ek historian ki nazar se dekhen ya ek normal author ki nazar se 8 kilo jiski nazar se dekhen toh hamein shayad yah lag sakta hai ki ramayana hi jhuthi hai ab yah toh hum sabka apna apna opinion hai aur mere maayne mein bhagwan hanuman vaastav mein maujud the kyonki safe ramayana hi nahi jo hamein unke bare mein batati hai balki hamare logo ko hamare vaigyaniko ko hamare agra usko kuch aise suboot bhi mile hai jo isi aur andesha karte hai ki shayad hanuman vaastav mein maujud the yah totally sir hamara apna opinion hai ki hum unki maujudgi ko vaastav mein apnana chahte hai ya hum usko aisi jhuth lana chahte hain

अगर आप हिंदू माइथॉलजी के हिसाब से देखें तो हां हम यह मानेंगे कि हनुमान भगवान सच में मौजूद

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  201
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!