रामायण और महाभारत हमें क्या सबक सिखाते हैं?...


user
0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामायण और महाभारत हमें सिखाते की सच्चाई पर चले धर्म की बात पर चले ऐसा का बदला अपना है किसी दूसरे के धन संपत्ति को जबरन में नहीं किसी की दूसरे की पत्नी को नहीं हर पर उसका फ्रेंड नहीं करें और भाईचारे के साथ रहे हो ऊपर आओ ना मचा और माता-पिता की आज्ञा का पालन करें आदि चीजें हमें दिखाई जाती है धर्म के मार्ग पर चल सकते के मार्ग पर चलने बुराई का नाश करें

ramayana aur mahabharat hamein sikhaate ki sacchai par chale dharm ki baat par chale aisa ka badla apna hai kisi dusre ke dhan sampatti ko jabran mein nahi kisi ki dusre ki patni ko nahi har par uska friend nahi kare aur bhaichare ke saath rahe ho upar aao na macha aur mata pita ki aagya ka palan kare aadi cheezen hamein dikhai jaati hai dharm ke marg par chal sakte ke marg par chalne burayi ka naash karen

रामायण और महाभारत हमें सिखाते की सच्चाई पर चले धर्म की बात पर चले ऐसा का बदला अपना है किसी

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1972
WhatsApp_icon
15 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sachidanand Joshi

Naturopath Yoga Trainer

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं सच्चिदानंद जोशी योगाचार्य एवं नेचुरोपैथी आपका सवाल है रामायण और महाभारत हमें क्या सिखाते हैं तो पहला जो रामायण है वह हमें सिखाती है कि मर्यादा में कैसे रहना है किस तरह से संसार में परिवार में समाज में हमें अपनी मर्यादा में रहना और और अपना जीवन यापन करना है महाभारत हमें सिखाती है के कर्म किस तरह से करना है अच्छे कर्म करने हैं है ना और सात्विक रहना है सदाचार बनाए रखना है और समाज को लेकर सही दिशा में चलना है और अपना कर्म जरूर करना है क्योंकि अगर हम कर्म नहीं करेंगे तो हमें किसी भी फल की इच्छा नहीं होनी चाहिए और अगर हम इच्छा करते हैं तो हमें किसी भी चीज की इच्छा करता है तो हमें पहले कर्म करना पड़ेगा उसके बाद ही फल हमें मिलेगा धन्यवाद

namaskar main sacchidanand joshi yogacharya evam naturopathy aapka sawaal hai ramayana aur mahabharat hamein kya sikhaate hain toh pehla jo ramayana hai vaah hamein sikhati hai ki maryada me kaise rehna hai kis tarah se sansar me parivar me samaj me hamein apni maryada me rehna aur aur apna jeevan yaapan karna hai mahabharat hamein sikhati hai ke karm kis tarah se karna hai acche karm karne hain hai na aur Satvik rehna hai sadachar banaye rakhna hai aur samaj ko lekar sahi disha me chalna hai aur apna karm zaroor karna hai kyonki agar hum karm nahi karenge toh hamein kisi bhi fal ki iccha nahi honi chahiye aur agar hum iccha karte hain toh hamein kisi bhi cheez ki iccha karta hai toh hamein pehle karm karna padega uske baad hi fal hamein milega dhanyavad

नमस्कार मैं सच्चिदानंद जोशी योगाचार्य एवं नेचुरोपैथी आपका सवाल है रामायण और महाभारत हमें क

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  202
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामायण और महाभारत के युद्ध में को यह समझाते हैं यह समझना चाहिए कि इंसान को कभी भी धर्म के मध्य में रुक के मद में और शक्ति के मद में अंधा नहीं होना चाहिए कुमार गामी नहीं होना चाहिए कुमार के परिणाम कुमार का परिणाम भी युद्ध होते हैं और युग में महान जनन का विनाश होता है और इसलिए आदमी को हमेशा ही सनमार्गा में चाहिए कृष्णा राम के रास्तों पर चलना चाहिए तो राम के रास्ते की हैं जियो और जीने दो के सिद्धांत में विश्वास रखो मानव मात्र का भला करो सेवा करो आपस में प्रेम भाईचारे के साथ रहो कुमार छल कपट झूठ अन्याय अधर्म पाप आदि का संग्रह मत करो इनसे दूरी बनाए रखो और आपसे मिलकर के जियो सादा जीवन उच्च विचार के सिद्धांत ही अच्छे होते हैं और आदमी को कभी भी मत मान अभिमान ईर्ष्या जलन ऋण आवेश आदि का त्याग करना चाहिए उनको कभी भी अपने चरित्र में नहीं डालना चाहिए क्योंकि यह की सारी लड़ाई कीचड़ होते हैं यही संघर्ष का कारण होते हैं

ramayana aur mahabharat ke yudh me ko yah smajhate hain yah samajhna chahiye ki insaan ko kabhi bhi dharm ke madhya me ruk ke mad me aur shakti ke mad me andha nahi hona chahiye kumar gami nahi hona chahiye kumar ke parinam kumar ka parinam bhi yudh hote hain aur yug me mahaan janan ka vinash hota hai aur isliye aadmi ko hamesha hi sanmarga me chahiye krishna ram ke raston par chalna chahiye toh ram ke raste ki hain jio aur jeene do ke siddhant me vishwas rakho manav matra ka bhala karo seva karo aapas me prem bhaichare ke saath raho kumar chhal kapat jhuth anyay adharma paap aadi ka sangrah mat karo inse doori banaye rakho aur aapse milkar ke jio saada jeevan ucch vichar ke siddhant hi acche hote hain aur aadmi ko kabhi bhi mat maan abhimaan irshya jalan rin aavesh aadi ka tyag karna chahiye unko kabhi bhi apne charitra me nahi dalna chahiye kyonki yah ki saari ladai kichad hote hain yahi sangharsh ka karan hote hain

रामायण और महाभारत के युद्ध में को यह समझाते हैं यह समझना चाहिए कि इंसान को कभी भी धर्म के

Romanized Version
Likes  273  Dislikes    views  3713
WhatsApp_icon
user
0:36
Play

Likes  5  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user
0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामायण में हम राम के चरित्र का अनुकरण कर सकते हैं कि राम किस तरह से एक साधारण मनुष्य होते हुए भी एक आदर्श राजा एक आदर्श पिता एक आदर्श पुत्र साबित हुए उचित महाभारत में हम युधिष्ठिर के चरित्र से अनुकरण कर सकते हैं कि जीवन में चाहे जैसी भी परिस्थिति आए सत्य का दामन कभी छोड़ना नहीं चाहिए और महाभारत में कृष्ण के चरित्र से हम यह सीख सकते हैं कि चाहे सामने कोई भी क्यों न हो साथ हमेशा सत्य का देना चाहिए सत्यमेव जयते

ramayana me hum ram ke charitra ka anukaran kar sakte hain ki ram kis tarah se ek sadhaaran manushya hote hue bhi ek adarsh raja ek adarsh pita ek adarsh putra saabit hue uchit mahabharat me hum yudhishthir ke charitra se anukaran kar sakte hain ki jeevan me chahen jaisi bhi paristhiti aaye satya ka daman kabhi chhodna nahi chahiye aur mahabharat me krishna ke charitra se hum yah seekh sakte hain ki chahen saamne koi bhi kyon na ho saath hamesha satya ka dena chahiye satyamev jayate

रामायण में हम राम के चरित्र का अनुकरण कर सकते हैं कि राम किस तरह से एक साधारण मनुष्य होते

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न रामायण महाभारत हमें क्या सिखाते हैं के बाद चलेंगे तो तुम्हारा विनाश ही होगा इसलिए सत्य और धर्म के मार्ग पर ही चले हमेशा धर्म की ही जीत होती है धन्यवाद

aapka prashna ramayana mahabharat hamein kya sikhaate hain ke baad chalenge toh tumhara vinash hi hoga isliye satya aur dharm ke marg par hi chale hamesha dharm ki hi jeet hoti hai dhanyavad

आपका प्रश्न रामायण महाभारत हमें क्या सिखाते हैं के बाद चलेंगे तो तुम्हारा विनाश ही होगा इस

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user
1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामायण में भाई सप्रेम मातृका प्रेम पत्र के प्रति अपने उत्तरदायित्व का निर्वाह किस तरह से किया जाता है एवं एक राजा का नैतिक कर्तव्य क्या होता है उसका व्यक्तिगत कर्तव्य उसके नैतिक कर्तव्य से बहुत ही कनिष्ठ है जबकि महाभारत में अपने निजी स्वार्थ निजी महत्वाकांक्षा को कोई प्रधानता देखकर यह दिखाया गया है कि जो व्यक्ति विशेष अगर अपनी निजी स्वास्थ्य को ही बड़ा समझेगा उसके पूरे पूरे परिवार का विनाश हो जाएगा रामायण हमें नीति अनीति ज्ञान विज्ञान कर्म कर्तव्य एवं प्रेम का पारिवारिक प्रेम का पराकाष्ठा तक ले जाती है उसी के विपरीत महाभारत हमें अपनी अज्ञानता महत्वाकांक्षा एवं जलन अपने निकट संबंधियों के प्रति मच्छर जलन के प्रति अगर हम उसे अपनी सीमा से अधिक बढ़ा देंगे तो हमारी क्या गति होगी यही महाभारत से हमें सीख मिलती है धन्यवाद

ramayana me bhai saprem matrika prem patra ke prati apne uttardayitva ka nirvah kis tarah se kiya jata hai evam ek raja ka naitik kartavya kya hota hai uska vyaktigat kartavya uske naitik kartavya se bahut hi kanishth hai jabki mahabharat me apne niji swarth niji mahatwakanksha ko koi pradhanta dekhkar yah dikhaya gaya hai ki jo vyakti vishesh agar apni niji swasthya ko hi bada samjhega uske poore poore parivar ka vinash ho jaega ramayana hamein niti aniti gyaan vigyan karm kartavya evam prem ka parivarik prem ka parakashtha tak le jaati hai usi ke viprit mahabharat hamein apni agyanata mahatwakanksha evam jalan apne nikat sambandhiyon ke prati macchar jalan ke prati agar hum use apni seema se adhik badha denge toh hamari kya gati hogi yahi mahabharat se hamein seekh milti hai dhanyavad

रामायण में भाई सप्रेम मातृका प्रेम पत्र के प्रति अपने उत्तरदायित्व का निर्वाह किस तरह से क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
user

जय किशन मौर्य

टेलर मास्टर

0:44
Play

Likes  10  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामायण आपका प्रश्न है रामायण और महाभारत हमें क्या सिखाते हैं तो रामायण और महाभारत में सत्य के मार्ग पर चलने और स्वार्थ की भावना से परे रहने का सबक सिखाते हैं

ramayana aapka prashna hai ramayana aur mahabharat hamein kya sikhaate hain toh ramayana aur mahabharat me satya ke marg par chalne aur swarth ki bhavna se pare rehne ka sabak sikhaate hain

रामायण आपका प्रश्न है रामायण और महाभारत हमें क्या सिखाते हैं तो रामायण और महाभारत में सत्य

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामायण और महाभारत हमें यही सिखाता है कि हमें हमेशा धर्म पर सत्य के लिए लगना चाहिए आधार के सामने और असत्य के सामने कभी हार नहीं माननी चाहिए

ramayana aur mahabharat hamein yahi sikhata hai ki hamein hamesha dharm par satya ke liye lagna chahiye aadhar ke saamne aur asatya ke saamne kabhi haar nahi maanani chahiye

रामायण और महाभारत हमें यही सिखाता है कि हमें हमेशा धर्म पर सत्य के लिए लगना चाहिए आधार के

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user
3:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार रामायण और महाभारत हमारे भारतीय संस्कृति की एक अमूल्य धरोहर है जो हमें जीवन जीने की कला सिखाती है रामायण में भगवान श्री राम का जीवन चरित्र है हनुमान जी का जीवन चरित्र भी उसी में है उसके अलावा फिक्शन शादी है मां सीता का पूरा जीवन चरित्र उसमें उद्धृत है महाराज जनक जो वैदेही के नाम से वैदेही मतलब जिसमें शरीर धारण कर रखा राज्य का चला रहा है लेकिन फिर भी उसका ध्यान है वह हमेशा भगवान में लीन रहता है इसलिए उसको वैदेही यानी बिना दही वाला बताया गया है नींद बहुत सारे चरित्र ऐसे हैं जिनका विवरण हमें लक्ष्मण भैया भारत का त्याग देखो शत्रुघ्न का त्याग देखो लक्ष्मण का त्याग देखें उनकी पत्नियों का विचार देखो तो हम सोच सकते हैं कि कितना महान हो ग्रंथ है उनके बारे में हमें इतना प्रेम आदर्श और त्याग की भावना सीखने को मिलती है महाभारत में हमें धर्म का ज्ञान मिलता है कि आपको कुछ भी हो जाए भले ही आप को मानना पड़ेगा सामने वाले को मानना पड़ेगा आपको धर्म पर अडिग रहना चाहिए सही क्या है आपको उस का साथ देना चाहिए गलत का साथ कभी ना दे गलत का साथ करण ने दिया था तो सब कुछ था उसके पास बहुत बलवान था वह शक्तिशाली का हर चीज की पावर की अर्जुन से किसी भी कंडीशन में कम नहीं था लेकिन फिर भी हार का मुंह सामने देखना पड़ा लास्ट में मृत्यु को गले लगाना पड़ा तो कोई भी धर्म के साथ होता है तो जनरल में आई यही होता है अंत बुरा होता है हम यह कह सकते हैं पहले वह घमंड में जीता है एक रोग बुरा होता है धर्म का धर्म का अंत बहुत अच्छा होता है धर्म पहले परीक्षा ले सकता है पांडवों की पहले खूब परीक्षा ली गई लेकिन अंत में विजय पांडवों को मिली कि धर्म के साथ उसके अलावा मां कुंती का त्याग मां कुंती का बुद्ध को का भगवान श्रीकृष्ण से धक्का मांगना भगवान कम से कम मुझे हर पल सुख में हम सब मनुष्य ऐसे ही होते हैं थोड़ा सा सफाया नहीं कि भगवान को भूल जाते हो जब दुख आता है तो हे भगवान शनि शुभ होता है तो हमने किया और दुख आया तो भगवान ने दिया यह हमारी सोच बन गए जबकि ऐसा कुछ नहीं होता होता भगवान हमें ज्यादा याद आते हैं इसीलिए तुमको दुख मांगा दुख में कम से कम भगवान की निकटता महसूस होती रोटी का त्याग द्रोपती की करुणा हर चीज है जो पात्र हैं वहीं शिक्षा देने वाले हैं उनसे हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है यह छोटी-छोटी चीजें बयान करने में मुश्किल लगती है लेकिन अगर आप संतो को पड़ेंगे वाकई आपका जीवन बदल जाएगा धन्यवाद

namaskar ramayana aur mahabharat hamare bharatiya sanskriti ki ek amuly dharohar hai jo hamein jeevan jeene ki kala sikhati hai ramayana me bhagwan shri ram ka jeevan charitra hai hanuman ji ka jeevan charitra bhi usi me hai uske alava fiction shaadi hai maa sita ka pura jeevan charitra usme uddhrit hai maharaj janak jo vaidehi ke naam se vaidehi matlab jisme sharir dharan kar rakha rajya ka chala raha hai lekin phir bhi uska dhyan hai vaah hamesha bhagwan me Lean rehta hai isliye usko vaidehi yani bina dahi vala bataya gaya hai neend bahut saare charitra aise hain jinka vivran hamein lakshman bhaiya bharat ka tyag dekho shatrughan ka tyag dekho lakshman ka tyag dekhen unki patniyon ka vichar dekho toh hum soch sakte hain ki kitna mahaan ho granth hai unke bare me hamein itna prem adarsh aur tyag ki bhavna sikhne ko milti hai mahabharat me hamein dharm ka gyaan milta hai ki aapko kuch bhi ho jaaye bhale hi aap ko manana padega saamne waale ko manana padega aapko dharm par adig rehna chahiye sahi kya hai aapko us ka saath dena chahiye galat ka saath kabhi na de galat ka saath karan ne diya tha toh sab kuch tha uske paas bahut balwan tha vaah shaktishali ka har cheez ki power ki arjun se kisi bhi condition me kam nahi tha lekin phir bhi haar ka mooh saamne dekhna pada last me mrityu ko gale lagana pada toh koi bhi dharm ke saath hota hai toh general me I yahi hota hai ant bura hota hai hum yah keh sakte hain pehle vaah ghamand me jita hai ek rog bura hota hai dharm ka dharm ka ant bahut accha hota hai dharm pehle pariksha le sakta hai pandavon ki pehle khoob pariksha li gayi lekin ant me vijay pandavon ko mili ki dharm ke saath uske alava maa kuntee ka tyag maa kuntee ka buddha ko ka bhagwan shrikrishna se dhakka maangna bhagwan kam se kam mujhe har pal sukh me hum sab manushya aise hi hote hain thoda sa safaya nahi ki bhagwan ko bhool jaate ho jab dukh aata hai toh hai bhagwan shani shubha hota hai toh humne kiya aur dukh aaya toh bhagwan ne diya yah hamari soch ban gaye jabki aisa kuch nahi hota hota bhagwan hamein zyada yaad aate hain isliye tumko dukh manga dukh me kam se kam bhagwan ki nikatata mehsus hoti roti ka tyag draupadi ki corona har cheez hai jo patra hain wahi shiksha dene waale hain unse hamein bahut kuch sikhne ko milta hai yah choti choti cheezen bayan karne me mushkil lagti hai lekin agar aap santo ko padenge vaakai aapka jeevan badal jaega dhanyavad

नमस्कार रामायण और महाभारत हमारे भारतीय संस्कृति की एक अमूल्य धरोहर है जो हमें जीवन जीने

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार रामायण और महाभारत में क्या सबक सिखाते हैं इसका उत्तर बहुत ही अच्छा है सुनिए रामायण और महाभारत में सबक सिखाते हैं हमेशा सच्चाई के रास्ते पर चलना चाहिए कि शक्तिशाली क्यों ना हो हमेशा जीत सत्य की देखा रामायण रावण मोहन बड़ा शक्तिशाली था घमंडी था अभिमानी संजीत अंत में लिखी हुई महाभारत में दुर्योधन के पिता माता सरस्वती का नथनी महर्षि दिल की दुर्घटना गलत रास्ते पर आते हैं धन्यवाद

namaskar ramayana aur mahabharat me kya sabak sikhaate hain iska uttar bahut hi accha hai suniye ramayana aur mahabharat me sabak sikhaate hain hamesha sacchai ke raste par chalna chahiye ki shaktishali kyon na ho hamesha jeet satya ki dekha ramayana ravan mohan bada shaktishali tha ghamandi tha abhimani sanjeet ant me likhi hui mahabharat me duryodhan ke pita mata saraswati ka nathani maharshi dil ki durghatna galat raste par aate hain dhanyavad

नमस्कार रामायण और महाभारत में क्या सबक सिखाते हैं इसका उत्तर बहुत ही अच्छा है सुनिए रामायण

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
user
3:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामायण सेटिंग ओपन रामचरितमानस राम राम भाई भाभी के परिवार की तरफ से क्यों हटाया गया रामायण के वीडियो गाना

ramayana setting open ramcharitmanas ram ram bhai bhabhi ke parivar ki taraf se kyon hataya gaya ramayana ke video gaana

रामायण सेटिंग ओपन रामचरितमानस राम राम भाई भाभी के परिवार की तरफ से क्यों हटाया गया रामायण

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
play
user
1:34

Likes  12  Dislikes    views  335
WhatsApp_icon
play
user

Kavita

Writer

1:12

Likes  10  Dislikes    views  294
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!