31 जनवरी को होने वाले चंद्र ग्रहण को देखने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?...


user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

31 जनवरी दो हजार 2018 यानी कि माघ माह की पूर्णिमा को भारत में दुर्लभ पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखाई देगा यह और भी कई देशों में दिखाई देगा यह 77 मिनट तक रहेगा अलग-अलग ज्योतिषियों के अनुसार सूतक सुबह 7:00 बजे से शाम 8:45 तक रहेगा सूतक के समय अर्थात चंद्रग्रहण के समय कुछ कार्य करने से बचना चाहिए मंदिर के दरवाजे बंद रखनी चाहिए तथा किसी भी मूर्ति को हाथ नहीं लगाना चाहिए तुलसी को स्पर्श नहीं करना चाहिए और गर्भवती महिलाओं को बाहर नहीं निकलना चाहिए भारत में पूर्ण चंद्रग्रहण 518 पर लगेगा पूर्ण चंद्र 621 पर शुरू होगा वह 7 से 30 तक चलेगा विज्ञान के अनुसार ग्रहण के समय वातावरण में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है इस समय अल्ट्रावायलेट किरणें निकलती है जो एंजाइम सिस्टम को प्रभावित करती है इस वक्त चंद्रमा पृथ्वी के सबसे निकट होता है जिससे गुरुत्वाकर्षण का अधिक प्रभाव पड़ता है इसी वजह से समुद्र में ज्वार भाटे आते हैं तथा भूकंप भी गुरुत्वाकर्षण के घटने व बढ़ने के कारण आते हैं चंद्रग्रहण सूर्यग्रहण की तरह इतना हानिकारक नहीं होता है इसे नंगी आंखों से भी देखा जा सकता है ज्योतिषियों के अनुसार चंद्र ग्रहण या ग्रहण देखने के लिए हमें नहा धोकर पूजा पाठ करके स्वस्थ होकर उसे देखना चाहिए

31 january do hazaar 2018 yani ki magh mah ki poornima ko bharat mein durlabh purn chandra grahan dikhai dega yah aur bhi kai deshon mein dikhai dega yah 77 minute tak rahega alag alag jyotishiyon ke anusaar sootak subah 7 00 baje se shaam 8 45 tak rahega sootak ke samay arthat chandragrahan ke samay kuch karya karne se bachna chahiye mandir ke darwaze band rakhni chahiye tatha kisi bhi murti ko hath nahi lagana chahiye tulsi ko sparsh nahi karna chahiye aur garbhwati mahilaon ko bahar nahi nikalna chahiye bharat mein purn chandragrahan 518 par lagega purn chandra 621 par shuru hoga vaah 7 se 30 tak chalega vigyan ke anusaar grahan ke samay vatavaran mein nakaratmak urja ka sanchar hota hai is samay Ultraviolet kirne nikalti hai jo enzyme system ko prabhavit karti hai is waqt chandrama prithvi ke sabse nikat hota hai jisse gurutvaakarshan ka adhik prabhav padta hai isi wajah se samudra mein jwar bhate aate hain tatha bhukamp bhi gurutvaakarshan ke ghatane va badhne ke karan aate hain chandragrahan surya grahan ki tarah itna haanikarak nahi hota hai ise nangi aankho se bhi dekha ja sakta hai jyotishiyon ke anusaar chandra grahan ya grahan dekhne ke liye hamein naha dhokar puja path karke swasthya hokar use dekhna chahiye

31 जनवरी दो हजार 2018 यानी कि माघ माह की पूर्णिमा को भारत में दुर्लभ पूर्ण चंद्र ग्रहण दिख

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  184
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
chandra grahan dekhna chahiye ya nhi ; chandra grahan ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!