भारतेंदु युग के गद्य साहित्य की विशेषताएं बताइए?...


user

Neema Rawat

Social Worker

2:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मम्मी बात करी थी भारतेंदु युग के गद्य साहित्य की विशेषता के बारे में मैं आपको भारतेंदु युग के बारे में स्पष्ट पूर्वक बताना चाहते हैं हिंदी कविताओं का भारतेंदु युग का परिचय भारतेंदु काल का नवनिर्माण अट्ठारह सौ उनसठ तरीके उन्नीस सौ ईसवी में हुआ हिंदी साहित्य के आधुनिक काल के दो पक्ष में नंबर वन सामाजिक और आने के इन दो पक्षों को लेकर सामान्य समाज की प्रस्तुतियों में अनेक बदलाव धीरे-धीरे विचारों का प्रसार होने लगा इन सब चीजों को देखते हुए 25 मार्च को 25 वर्ष के बाद 873 से 18 सो 59 तथा साहित्य पर इसका बुरा प्रभाव पड़ा 1807 ईस्वी में नवनिर्माण भारतेंदु नव निर्माण विचारों में परिवर्तन आया भारतेंदु हरिश्चंद्र आया जिसे भी भारतेंदु युग कहा जाता है इसके पहले इसमें ब्रजभाषा में भक्ति और श्रृंगार रचनाएं होती थी और लक्षण ग्रंथ भी लिखी जाती थी राष्ट्रप्रेम भाषा राष्ट्र की भाषा पर एवं विदेशी वस्तुओं के प्रेम से कवियों के मन में यह विचार आया कि सामाजिक राजनीतिक और आर्थिक स्तर पर रचनाओं का निर्माण किया जाए अपनी रचनाओं का निर्माण किया जाए और कवियों ने अनेक रचनाओं का निर्माण किया जैसे भारतेंदु युग में अट्ठारह सौ पचासी 85 तक बाबा सुमेर भी बद्रीनारायण प्रेम धन 1885 से 1983 में सरकार नारायण रघुवर दास ठाकुर जगमोहन सिंह के प्रमुख कवि थे किंतु साथ-साथ हमारे आदमी कभी भी थे जैसे रामकृष्ण परमहंस बालमुकुंद गुप्त जी भारतेंदु युग के कवि हैं धन्यवाद

hello mummy baat kari thi bharatendu yug ke gadya sahitya ki visheshata ke bare me main aapko bharatendu yug ke bare me spasht purvak batana chahte hain hindi kavitao ka bharatendu yug ka parichay bharatendu kaal ka Navanirmaṇa attharah sau unasath tarike unnis sau isvi me hua hindi sahitya ke aadhunik kaal ke do paksh me number van samajik aur aane ke in do pakshon ko lekar samanya samaj ki prastutiyon me anek badlav dhire dhire vicharon ka prasaar hone laga in sab chijon ko dekhte hue 25 march ko 25 varsh ke baad 873 se 18 so 59 tatha sahitya par iska bura prabhav pada 1807 isvi me Navanirmaṇa bharatendu nav nirmaan vicharon me parivartan aaya bharatendu harishchandra aaya jise bhi bharatendu yug kaha jata hai iske pehle isme brajabhasha me bhakti aur shringar rachnaye hoti thi aur lakshan granth bhi likhi jaati thi rashtraprem bhasha rashtra ki bhasha par evam videshi vastuon ke prem se kaviyon ke man me yah vichar aaya ki samajik raajnitik aur aarthik sthar par rachnaon ka nirmaan kiya jaaye apni rachnaon ka nirmaan kiya jaaye aur kaviyon ne anek rachnaon ka nirmaan kiya jaise bharatendu yug me attharah sau pachasi 85 tak baba sumer bhi badrinarayan prem dhan 1885 se 1983 me sarkar narayan raghuvar das thakur JAGMOHAN Singh ke pramukh kavi the kintu saath saath hamare aadmi kabhi bhi the jaise ramakrishna paramhans balmukund gupt ji bharatendu yug ke kavi hain dhanyavad

हेलो मम्मी बात करी थी भारतेंदु युग के गद्य साहित्य की विशेषता के बारे में मैं आपको भारतेंद

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  149
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!