किशोर के जीवन का कौन सा कार्य सर्वाधिक कठिन होता है?...


user

Dayakant Saxena

Retd Principle

2:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किशोर के जीवन का कौन सा कार्य सर्वाधिक होता है किशोरावस्था एक ऐसी होता है जिसमें जीवन में मनोवैज्ञानिक शारीरिक शरीर क्रियात्मक भावात्मक और किशोर दिमाग में तरह-तरह के भाव उसके दिमाग में आती हैं मनोवैज्ञानिकों आती है तो ऐसे में उसको एक सच्चा साथी सच्चा गाइडेंस करने वाला नहीं मिल पाता अगर उसे ऐसे में सर्वाधिक अच्छा साथी मिल जाए तो उसका जीवन बहुत सरल हो जाएगा इस समय उसको यह निर्णय लेना है कि वह जीवन की किस क्षेत्र में जाना चाहता है उसका भविष्य नौकरी में है या उसका भविष्य व्यापार में है या उसका भविष्य किसी और चीज में है यह निर्णय उसको समझना और इस निर्णय के लिए उसको अच्छे गार्डन सी होती है उसको माता-पिता के आइटम की जरूरत होती है अच्छे काम से होती है तो किशोर के जीवन का वह पल जब वह 58 साल के बाद 18 साल से पहले 10वीं या 12वीं करने के बाद अपना एक भविष्य चुनता है और उस भविष्य को उज्जवल भविष्य प्राप्त होता है तो जीवन का कल सर्वाधिक कठिन होता है उसमें निर्णय लेने की क्षमता उसमें होनी चाहिए सभी की सलाह लेकर एक उसको सिर्फ मेरा लेना है जिससे वह सही दिशा में चल सके और दूसरा उस समय जीवन का सर्वाधिक कठिन किसी भी साथी के कहने पर किसी गलत चीजों फस गया मौसी के दौरान लोग धूम्रपान क्यों फंस जाते हैं तो उस समय अपने जीवन को एक आदर्श जीवन बनाना उज्जवल भविष्य बनाना यह उसका सर्वाधिक कठिन काम होता है जो उसको अंदर माता-पिता और साथियों की तलाश

kishore ke jeevan ka kaun sa karya sarvadhik hota hai kishoraavastha ek aisi hota hai jisme jeevan me manovaigyanik sharirik sharir kriyatmak bhavatmak aur kishore dimag me tarah tarah ke bhav uske dimag me aati hain manovaigyaniko aati hai toh aise me usko ek saccha sathi saccha guidance karne vala nahi mil pata agar use aise me sarvadhik accha sathi mil jaaye toh uska jeevan bahut saral ho jaega is samay usko yah nirnay lena hai ki vaah jeevan ki kis kshetra me jana chahta hai uska bhavishya naukri me hai ya uska bhavishya vyapar me hai ya uska bhavishya kisi aur cheez me hai yah nirnay usko samajhna aur is nirnay ke liye usko acche garden si hoti hai usko mata pita ke item ki zarurat hoti hai acche kaam se hoti hai toh kishore ke jeevan ka vaah pal jab vaah 58 saal ke baad 18 saal se pehle vi ya vi karne ke baad apna ek bhavishya chunta hai aur us bhavishya ko ujjawal bhavishya prapt hota hai toh jeevan ka kal sarvadhik kathin hota hai usme nirnay lene ki kshamta usme honi chahiye sabhi ki salah lekar ek usko sirf mera lena hai jisse vaah sahi disha me chal sake aur doosra us samay jeevan ka sarvadhik kathin kisi bhi sathi ke kehne par kisi galat chijon fas gaya mausi ke dauran log dhumrapaan kyon fans jaate hain toh us samay apne jeevan ko ek adarsh jeevan banana ujjawal bhavishya banana yah uska sarvadhik kathin kaam hota hai jo usko andar mata pita aur sathiyo ki talash

किशोर के जीवन का कौन सा कार्य सर्वाधिक होता है किशोरावस्था एक ऐसी होता है जिसमें जीवन में

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  179
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!