बेंगलुरू की सड़कों पर इतनी ट्रैफिक क्यों होती है?...


play
user

Sa Sha

Journalist since 1986

1:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले यहां सिटी की प्लानिंग अच्छी नहीं है इस कारण ना तो पर्याप्त सड़के हैं ना ही छोडिए में सड़के तंग है दूसरा जनसंख्या में वृद्धि के साथ दूसरे राज्यों से लोग यहां आकर बसने लगे हैं इसे शहर में भीड़ पड़ी है तीसरा यहां पब्लिक ट्रांसपोर्ट देशभर में सबसे अधिक महंगा है पब्लिक ट्रांसपोर्ट की फ्रीक्वेंसी भी अच्छी नहीं है कई इलाकों के लिए तो पर्याप्त बस ही नहीं है इस कारण लोग ऑटो से चलने के लिए मजबूर है लेकिन यहां ऑटो की अपनी मनमानी है बेंगलुरु का मेट्रो अभी बहुत ही प्राइमरी स्टेज में है इसके नतीजे में लोगों को अधिक सुविधाजनक कैप का विकल्प चुना पड़ता है क्या की भारी मांग के कारण सड़कों पर इनकी संख्या में वृद्धि हुई है उस पर आजकल तमाम बैंक आसान किस्तों पर कार लोन देने हैं ऐसे में जो कार खरीद सकते हैं वह लोन पर कार खरीद रही हैं बाकी बचे लोगों के लिए बाइक है बाइक के लिए बहुत सारे फाइनेंसर कंपनी भी है सही रे पिछले कुछ सालों में सड़कों पर कार और बाइक ओ की संख्या में बहता साबित वृद्धि हुई है उस पर लोग ट्रैफिक नियमों का पालन नहीं करते इन कारणों से सड़कों पर जाम लगना लाजमी है

sabse pehle yahan city ki planning achi nahi hai is karan na toh paryapt sadake hain na hi chodiye mein sadake tang hai doosra jansankhya mein vriddhi ke saath dusre rajyo se log yahan aakar basne lage hain ise shehar mein bheed padi hai teesra yahan public transport deshbhar mein sabse adhik mehnga hai public transport ki frequency bhi achi nahi hai kai ilako ke liye toh paryapt bus hi nahi hai is karan log auto se chalne ke liye majboor hai lekin yahan auto ki apni manmani hai bengaluru ka metro abhi bahut hi primary stage mein hai iske natije mein logo ko adhik suvidhajanak cap ka vikalp chuna padta hai kya ki bhari maang ke karan sadkon par inki sankhya mein vriddhi hui hai us par aajkal tamaam bank aasaan kiston par car loan dene hain aise mein jo car kharid sakte hain vaah loan par car kharid rahi hain baki bache logo ke liye bike hai bike ke liye bahut saare financer company bhi hai sahi ray pichle kuch salon mein sadkon par car aur bike o ki sankhya mein bahta saabit vriddhi hui hai us par log traffic niyamon ka palan nahi karte in karanon se sadkon par jam lagna lajmi hai

सबसे पहले यहां सिटी की प्लानिंग अच्छी नहीं है इस कारण ना तो पर्याप्त सड़के हैं ना ही छोडिए

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  15
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
bangal wali chhori kusumalu ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!