IAS की तैयारी करते वक़्त सबसे कठिन सवाल क्या मिला आपको? क्या हमारे साथ आप साझा कर सकते हैं?...


play
user

Mohit Mehera

Director

0:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आई है इसमें तो कुछ कठिन प्रश्न आता है तो सबसे अच्छा तरीका ही होना चाहिए कि हमें खुद को सोचना खुद से टूटने और प्रश्न का उत्तर देने से पहले हमें एक रफ ड्राफ्ट बनाने पहले उसने हमें सबसे पहले अपने मन में सोचने की भी इसका आंसर हो सकते हैं तो पहले हमें रफ ड्राफ्ट बनाने और उसके साथ में अपलोड इंग्लिश में आंसर देना तो ट्रांस के कोडिंग हमें पूछने कि इसका आंसर हो सकते हैं पूछा क्या जादू लिखने को अपने आप से पूछने को सबसे अच्छा की रास्ता है तीन प्रश्नों का उत्तर तो आपने पहले ही पढ़ आओगे तो आपका की नॉलेज है उसको सोच कर भी आपने एक सिस्टमैटिकली लेकर तरीके से उसका प्रश्न का उत्तर देना

kya I hai isme toh kuch kathin prashna aata hai toh sabse accha tarika hi hona chahiye ki hamein khud ko sochna khud se tutne aur prashna ka uttar dene se pehle hamein ek rough draft banane pehle usne hamein sabse pehle apne man mein sochne ki bhi iska answer ho sakte hain toh pehle hamein rough draft banane aur uske saath mein upload english mein answer dena toh trans ke coding hamein poochne ki iska answer ho sakte hain poocha kya jadu likhne ko apne aap se poochne ko sabse accha ki rasta hai teen prashnon ka uttar toh aapne pehle hi padh aaoge toh aapka ki knowledge hai usko soch kar bhi aapne ek sistamaitikli lekar tarike se uska prashna ka uttar dena

क्या आई है इसमें तो कुछ कठिन प्रश्न आता है तो सबसे अच्छा तरीका ही होना चाहिए कि हमें खुद क

Romanized Version
Likes  375  Dislikes    views  3710
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Jignesh Gadhiya

Director of UPSC/GPSC Ins..

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आईएस की तैयारी करते वक्त सबसे कठिन सवाल कि आप बात करें तो सबसे कठिन सवाल जो ऑप्शनल सब्जेक्ट में रहते हैं कि ड्यूटी ऑप्शनल सब्जेक्ट में आपको बैटल्स और मास्टर डिग्री होती तो उसमें जितनी पढ़ाई आती है सब्जेक्ट के हिसाब से उतना को पढ़ना रहता है तो सबसे कठिन सवाल नहीं से आपको आते हैं और एक बार अपने अच्छी तरह से उस में पढ़ाई कर ली है तो आप उसमे अच्छी तरह से आंसर भी दे सकते हैं दूसरी बात की पार्टी कलर कोई सवाल की अगर बात करें तो पार्टिकल सवाल में उसने सब्जेक्ट में से ही ज्यादातर आपको ऐसा लगता है कि मैं यह सवाल थोड़े ज्यादा कठिन रहते हैं और दूसरी चीज जो चीज के पेपर टू थ्री है तो उसमें भी आपको कठिन सवाल मिल जाता क्योंकि पार्टिकुलरली आपको अगर कोई बिल वगैरह है उसके रिकॉर्डिंग आपको क्वेश्चन पूछ लेते हैं तो आपको अगर बिल के बारे में कुछ पता नहीं तो आप उसका आंसर नहीं कर पाएंगे और अगर कोई पति कलर पेपर टू है जैसे पॉली इंडियन पालिटी है या इंडियन कंस्ट्यूशन है उसमें से कोई अगर केस वगैरह पूछ लेते हैं तो उसमें भी आप अगर क्वेश्चन के आंसर नहीं दे पाएंगे तो मुझे अभी तक कठिन सवाल में से क्वेश्चन मिला है तो एक क्वेश्चन ऐसा था कि भारतीय संविधान में किस लो तो किलो तो झोंके से वह क्या है और वह किस रिकॉर्डिंग है उससे आप क्या समझ रहे तो ऐसी चीज कभी पढ़ाई में ना आई हो तो ऐसी चीजों का आंसर देने में आपको मुश्किल हो जाती है

ias ki taiyari karte waqt sabse kathin sawaal ki aap baat kare toh sabse kathin sawaal jo optional subject mein rehte hai ki duty optional subject mein aapko battles aur master degree hoti toh usme jitni padhai aati hai subject ke hisab se utana ko padhna rehta hai toh sabse kathin sawaal nahi se aapko aate hai aur ek baar apne achi tarah se us mein padhai kar li hai toh aap usme achi tarah se answer bhi de sakte hai dusri baat ki party color koi sawaal ki agar baat kare toh particle sawaal mein usne subject mein se hi jyadatar aapko aisa lagta hai ki main yah sawaal thode zyada kathin rehte hai aur dusri cheez jo cheez ke paper to three hai toh usme bhi aapko kathin sawaal mil jata kyonki partikularali aapko agar koi bill vagera hai uske recording aapko question puch lete hai toh aapko agar bill ke bare mein kuch pata nahi toh aap uska answer nahi kar payenge aur agar koi pati color paper to hai jaise poly indian polity hai ya indian kanstyushan hai usme se koi agar case vagera puch lete hai toh usme bhi aap agar question ke answer nahi de payenge toh mujhe abhi tak kathin sawaal mein se question mila hai toh ek question aisa tha ki bharatiya samvidhan mein kis lo toh kilo toh jhonke se vaah kya hai aur vaah kis recording hai usse aap kya samajh rahe toh aisi cheez kabhi padhai mein na I ho toh aisi chijon ka answer dene mein aapko mushkil ho jaati hai

आईएस की तैयारी करते वक्त सबसे कठिन सवाल कि आप बात करें तो सबसे कठिन सवाल जो ऑप्शनल सब्जेक्

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  295
WhatsApp_icon
user

P Narahari (IAS)

IAS Officer-2001Batch-MP Cadre

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आईएएस की तैयारी करते वक्त सबसे कठिन सवाल मुझे ऑप्शनल में प्राप्त हुआ और 2000 के यूपीएससी एग्जाम के दौरान दो ऑप्शनल सबसे तेज और उसमें जागृति और एंथ्रोपॉलजी ऑप्शनल थे तो मजे की बात यह है कि जो ग्राफी के लिए मैंने जो तैयारी करके राम मैंने जो तैयारी की थी उसमें जो ग्राफी से कम प्रश्न और आंसर पाल जी के दादा प्रश्न ऑप्शंस में आए थे और जब अटल जी का पेपर हल करने गया था तो मुझे जो ग्राफी से संबंधित ज्यादा प्रश्न पूछे गए थे इस तरह से यूपीएस यह प्रयास करता है कि आपको कठिन से कठिन सवाल इस सरस्वती की जो चीज आप पढ़ कर गए हैं उससे ना होकर आप में अन्य सब्जेक्ट और सिलेबस से सब्जेक्ट में जो भी सिलेबस है उसमें से आपको देने का प्रयास करेगी जिससे कि आपका एनालिसिस पावर किस तरह से है उसको टेस्ट करने का प्रयास करते हैं यानी कि जैसे ज्योग्राफी क्वेश्चन साइंस क्वेश्चन परंतु हमें यह समझना होगा कि ज्योग्राफी ज्योग्राफी होता है आंसर का जवाब रफी के पॉइंट लिखना होगा वैसे एंथ्रोपॉलजी से संबंधित प्रश्नों के जवाब भी अगर जो ग्राफी के तालुकात रखने वाले क्वेश्चन से तब भी आंध्र पाल जी को फोकस में रखते हुए आंसर्स लिखना चित्र यूपीएससी हमारे नॉलेज का हमारे प्रश्न हल करने की शक्ति को शक्ति का पहचान करने का प्रयास करता है हमें बहुत कूल माइंड के साथ में पूरा क्वेश्चन को अच्छे से समझ कर जवाब देना चाहिए

IAS ki taiyari karte waqt sabse kathin sawaal mujhe optional mein prapt hua aur 2000 ke upsc exam ke dauran do optional sabse tez aur usme jagriti aur enthropology optional the toh maje ki baat yah hai ki jo graafi ke liye maine jo taiyari karke ram maine jo taiyari ki thi usme jo graafi se kam prashna aur answer pal ji ke dada prashna options mein aaye the aur jab atal ji ka paper hal karne gaya tha toh mujhe jo graafi se sambandhit zyada prashna pooche gaye the is tarah se UPS yah prayas karta hai ki aapko kathin se kathin sawaal is saraswati ki jo cheez aap padh kar gaye hain usse na hokar aap mein anya subject aur syllabus se subject mein jo bhi syllabus hai usme se aapko dene ka prayas karegi jisse ki aapka analysis power kis tarah se hai usko test karne ka prayas karte hain yani ki jaise geography question science question parantu hamein yah samajhna hoga ki geography geography hota hai answer ka jawab rafi ke point likhna hoga waise enthropology se sambandhit prashnon ke jawab bhi agar jo graafi ke talukat rakhne waale question se tab bhi andhra pal ji ko focus mein rakhte hue ansars likhna chitra upsc hamare knowledge ka hamare prashna hal karne ki shakti ko shakti ka pehchaan karne ka prayas karta hai hamein bahut cool mind ke saath mein pura question ko acche se samajh kar jawab dena chahiye

आईएएस की तैयारी करते वक्त सबसे कठिन सवाल मुझे ऑप्शनल में प्राप्त हुआ और 2000 के यूपीएससी ए

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  365
WhatsApp_icon
user

Dr. P. N. Jha

TOPPERS IAS app. Sr.Facuty, IAS Coaching.

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आईएएस की तैयारी करते वक्त हम कई दौर से गुजरते हैं और प्रतीक दौर में कुछ न कुछ उलझन और कुछ न कुछ चुनौतियां होती है शुरुआत में तैयारी से पूर्व हम कई पूर्वाग्रह से ग्रसित होते हैं जैसे कि आईएएस बनने के लिए स्कूल कॉलेज का टॉपर होना चाहिए बहुत अधिक मेधा भी होना चाहिए इस तरह की कुछ बातें इस वक्त की जो सबसे महत्वपूर्ण उलझन होती है जब हम शुरू करना चाहते हैं तैयारी कौन सा विषय वैकल्पिक रूप में लिया जाए क्या हमने जो अपने स्नातक स्तर पर विषय को रखा था वह उत्तम होगा या कोई नया विषय उत्तम होगा परीक्षा में उत्तर लिखने का माध्यम क्या होना चाहिए हिंदी रखा जाए अंग्रेजी रखा जाए तैयारी करने वाले छात्र इस उलझन में लगे रहते हैं इसके साथ एक नई चुनौती उत्पन्न होती है कि तैयारी स्वयं किया जाए या कथा अथवा किसी कोचिंग से आलिया जैन किस तरह का सहारा लिया जाए क्लास रूम का या डिस्टेंस मटका कई सारे भूल जाने से हम दौर से धीरे धीरे धीरे आगे बढ़ते हैं सब कुछ तय हो जाने के बाद परीक्षा की तैयारी जमा कर लेता है रूप रंग लेता है तो एक नई उलझन उत्पन्न होती है कि अपने उत्तर को और कैसे बेहतर बनाया बेहतर से बेहतरीन बनाएं और हम तमाम प्रकार की इनफार्मेशन स्कोर तमाम प्रकार के जो भी हमें प्राप्त होता है मैटेरियल्स उसके माध्यम से बेहतर से बेहतर इन बनाने में लग जाते हैं और कभी भी सहमत नहीं होते हैं कि यह अंतिम स्टेज हमेशा इसमें कुछ और जोड़ने की बात करते रहते हैं और यही एक समय होता है उपयुक्त समय होता है जब हम हाथ बढ़ाकर सफलता को झटक लेते हैं प्रत्येक विद्यार्थी के जीवन में यह संघर्ष यात्रा देखा जा सकता है और एक बहुत जबरदस्त है अद्भुत है जिसने इस कार्य किया है रेट है महान है शुभकामनाएं आपको नमस्कार

IAS ki taiyari karte waqt hum kai daur se gujarate hain aur prateek daur mein kuch na kuch uljhan aur kuch na kuch chunautiyaan hoti hai shuruat mein taiyari se purv hum kai purvagrah se grasit hote hain jaise ki IAS banne ke liye school college ka topper hona chahiye bahut adhik megha bhi hona chahiye is tarah ki kuch batein is waqt ki jo sabse mahatvapurna uljhan hoti hai jab hum shuru karna chahte hain taiyari kaun sa vishay vaikalpik roop mein liya jaaye kya humne jo apne snatak sthar par vishay ko rakha tha vaah uttam hoga ya koi naya vishay uttam hoga pariksha mein uttar likhne ka madhyam kya hona chahiye hindi rakha jaaye angrezi rakha jaaye taiyari karne waale chatra is uljhan mein lage rehte hain iske saath ek nayi chunauti utpann hoti hai ki taiyari swayam kiya jaaye ya katha athva kisi coaching se aliya jain kis tarah ka sahara liya jaaye kashi room ka ya distance matka kai saare bhool jaane se hum daur se dhire dhire dhire aage badhte hain sab kuch tay ho jaane ke baad pariksha ki taiyari jama kar leta hai roop rang leta hai toh ek nayi uljhan utpann hoti hai ki apne uttar ko aur kaise behtar banaya behtar se behtareen banaye aur hum tamaam prakar ki information score tamaam prakar ke jo bhi hamein prapt hota hai Materials uske madhyam se behtar se behtar in banane mein lag jaate hain aur kabhi bhi sahmat nahi hote hain ki yah antim stage hamesha isme kuch aur jodne ki baat karte rehte hain aur yahi ek samay hota hai upyukt samay hota hai jab hum hath badhakar safalta ko jhatak lete hain pratyek vidyarthi ke jeevan mein yah sangharsh yatra dekha ja sakta hai aur ek bahut jabardast hai adbhut hai jisne is karya kiya hai rate hai mahaan hai subhkamnaayain aapko namaskar

आईएएस की तैयारी करते वक्त हम कई दौर से गुजरते हैं और प्रतीक दौर में कुछ न कुछ उलझन और कुछ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

Sanjay Sir

Director,Oriental Study Center

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निश्चित रूप से संगम युग क्योंकि वह हम लोगों की पृष्ठभूमि से बहुत दूर होता है तो जब हम लोग संगम युग तैयार कर रहे होते हैं तू अपेक्षाकृत थोड़ा सा अधिक कठिन प्रतीत होता है यदि छोटे से अभ्यास के बाद उस सरल प्रतीत होने लगता है तो निश्चित रूप से दक्षिण के लोगों के लिए संगम युग जाता होगा और शायद उत्तर भारत की चीजें याद करना कठिन होता होगा लेकिन हमें लगता है कि संगम युग विशेष रूप से ध्यान देने की आवश्यकता पड़ जाती है

nishchit roop se sangam yug kyonki wah hum logo ki pristhbhumi se bahut dur hota hai to jab hum log sangam yug taiyaar kar rahe hote hain tu apekshakrit thoda sa adhik kathin pratit hota hai yadi chote se abhyas ke baad us saral pratit hone lagta hai to nishchit roop se dakshin ke logo ke liye sangam yug jata hoga aur shayad uttar bharat ki cheezen yaad karna kathin hota hoga lekin hume lagta hai ki sangam yug vishesh roop se dhyan dene ki avashyakta padh jati hai

निश्चित रूप से संगम युग क्योंकि वह हम लोगों की पृष्ठभूमि से बहुत दूर होता है तो जब हम लोग

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1049
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!