क्या आप बता सकते है की एक जेनरल कैंडिडट के लिए IAS बनना कितना मुश्किल है?...


user

Dr. Shweta Dixit

ALIGARH (Head)@ALS IAS Academy

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम कहे आईएस के लिए तो सबसे पहले हमें अपना कॉन्फिडेंस बूट्स ऑफ करने के लिए हमें इनकी सक्सेस स्टोरीज पढ़नी चाहिए हमारे अभी भी थे वह कम से कम जो है हमारे लिए जनरल में छह होता है और वह ही अटेंड सुन ले हो बारू क्वालीफाई करेंगी उन्होंने अपने इंटरव्यू में यह बात बोली के देखिए मैं आईएस नहीं बना था अपने ना सके लेकिन मेरे को जो मिला दे मुझे अभी मुझे सेटिस्फेक्शन नहीं था वह मैंने फिर से कोशिश करें कि मैं ताज आईएस के लिए भी क्वालीफाई करने की बहुत सारी ऐसी चीज नहीं मिलती है और बहुत सारी ऐसी चीजें सीखने को मिलती है जो जनरल लाइफ में हमें जो है नहीं बता पाते क्योंकि उनके लिए जाए ऑलरेडी सक्सेस को नहीं कर पाएंगे आप कौन किस शहर से अपने आप को शत-शत की तरफ से के जाना है

agar hum kahe ias ke liye toh sabse pehle hamein apna confidence boots of karne ke liye hamein inki success stories padhani chahiye hamare abhi bhi the vaah kam se kam jo hai hamare liye general mein cheh hota hai aur vaah hi attend sun le ho baru qualify karengi unhone apne interview mein yah baat boli ke dekhiye main ias nahi bana tha apne na sake lekin mere ko jo mila de mujhe abhi mujhe setisfekshan nahi tha vaah maine phir se koshish kare ki main taj ias ke liye bhi qualify karne ki bahut saree aisi cheez nahi milti hai aur bahut saree aisi cheezen sikhne ko milti hai jo general life mein hamein jo hai nahi bata paate kyonki unke liye jaaye already success ko nahi kar payenge aap kaun kis shehar se apne aap ko shat shat ki taraf se ke jana hai

अगर हम कहे आईएस के लिए तो सबसे पहले हमें अपना कॉन्फिडेंस बूट्स ऑफ करने के लिए हमें इनकी सक

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  300
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Arun Joshi

Director

0:42

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें आप यूपीएससी के पेपर को कितना मुश्किल बनाएंगे यह आपके ऊपर डिपेंड करता है कैटेगरी वाइज कट ऑफ स्कोर कभी भी आपस में कंपेयर नहीं करना चाहिए वह हमारा एक कॉन्स्टिट्यूशन अरेंजमेंट है मुश्किल है यह जान मुश्किल है लेकिन इसकी इसकी मुश्किल होने के पीछे जो बीन बजा है वह इसके सिलेबस की बात है तो आप कैटेगरी वाइज कट ऑफ कंपैरिजन सब्जेक्ट के ऊपर ध्यान दीजिए एप्लीकेशन के ऊपर ध्यान दीजिए डिफिकल्ट रोशनी को छोड़कर अपनी ऑपरेशन

dekhen aap upsc ke paper ko kitna mushkil banayenge yah aapke upar depend karta hai category wise cut of score kabhi bhi aapas mein compare nahi karna chahiye vaah hamara ek Constitution arrangement hai mushkil hai yah jaan mushkil hai lekin iski iski mushkil hone ke peeche jo bin baja hai vaah iske syllabus ki baat hai toh aap category wise cut of kampairijan subject ke upar dhyan dijiye application ke upar dhyan dijiye difficult roshni ko chhodkar apni operation

देखें आप यूपीएससी के पेपर को कितना मुश्किल बनाएंगे यह आपके ऊपर डिपेंड करता है कैटेगरी वाइज

Romanized Version
Likes  168  Dislikes    views  2085
WhatsApp_icon
user

Shilpa Balyan

Director - VIHAAN IAS Pune

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं बिल्कुल भी नहीं इंसान तो उनको अपने हाथी घोड़ा 3 मार्च का मां का फोटो सब कुछ जो है सिर्फ और सिर्फ आपके इंटरनेट कितना डेडीकेटेड को पढ़ते हैं उपभोक्ता इट इज द जनरल कैटेगरी कैंडिडेट रोते हैं

nahi bilkul bhi nahi insaan toh unko apne haathi ghoda 3 march ka maa ka photo sab kuch jo hai sirf aur sirf aapke internet kitna dediketed ko padhte hain upbhokta it is the general category candidate rote hain

नहीं बिल्कुल भी नहीं इंसान तो उनको अपने हाथी घोड़ा 3 मार्च का मां का फोटो सब कुछ जो है सिर

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  473
WhatsApp_icon
user
2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अगर हम सर कटा की बात करें तो इसमें क्या होता है दोनों छोटे बच्चे हम कक्षा में बहुत कम हो पाता क्योंकि जो अलवर का एससी एसटी और ओबीसी कैटेगरी के दो बच्चे हैं उनके लिए रिजर्वेशन है कि उनको इतनी पोस्ट को मिलेगी मिलेगी इसीलिए जो और 2 बच्चे होते हैं तो दो छोटे बच्चे हैं इंदौर का स्टेशन में उनको वह पोस्ट ही जाते टाइम कीमत कितनी भी हो इस ग्रुप से बात करते हो और जो कैटेगरी वालों का है वह किस 32 साल बाकी ओबीसी के लिए पार्टी ने 3 साल का प्रावधान में एक्स्ट्रा और एससी एसटी के लिए साल तक का प्रावधान है और दूर है उनके लिए जो हैंडिकैप्ड तुम एक जनवरी के बच्चे की हुई है बहुत ही मुश्किल होता है इसको किसान के जो कहते हैं वही करते हैं वह भी वह भी बेस्ट लगते हैं सेकंड बात करें हम मेंस में तो मैं इसमें तो होता ही है कि जो कैटेगरी वाइज होते हैं और टोटल होता है उसमें अट आईटी वास ए तुझे से आपका वेट करता हूं बताता हूं और कुछ हो गया एक-दो साल की बात हो गई है नहीं पड़ी थी कि एक लड़की बात है कि एक लड़की का यूपी में 850 थी तो 350 पायलेटी को का सिलेक्शन हुआ उन्होंने क्वालिटी का सिलेक्शन नहीं हुआ करती थी तो बहुत सारी मुश्किलें होती हैं जिनका सामना करना पड़ता लेकिन इससे ज्यादा कुछ नहीं होता अगर हम इनफोकस अपनी साड़ी पर करेंगे तो हम उसको क्रैकर्स देखें और जिसको हम पॉजिटिवली लेंगे तो चीज अच्छी रहेगी कभी भी नेगेटिव माइंड क्रिएटिविटी होती है अपने पेपर में

dekhiye agar hum sir kata ki baat kare toh isme kya hota hai dono chote bacche hum kaksha mein bahut kam ho pata kyonki jo alwar ka SC ST aur obc category ke do bacche hain unke liye reservation hai ki unko itni post ko milegi milegi isliye jo aur 2 bacche hote hain toh do chote bacche hain indore ka station mein unko vaah post hi jaate time kimat kitni bhi ho is group se baat karte ho aur jo category walon ka hai vaah kis 32 saal baki obc ke liye party ne 3 saal ka pravadhan mein extra aur SC ST ke liye saal tak ka pravadhan hai aur dur hai unke liye jo handicapped tum ek january ke bacche ki hui hai bahut hi mushkil hota hai isko kisan ke jo kehte hain wahi karte hain vaah bhi vaah bhi best lagte hain second baat kare hum mens mein toh main isme toh hota hi hai ki jo category wise hote hain aur total hota hai usme attack it was a tujhe se aapka wait karta hoon batata hoon aur kuch ho gaya ek do saal ki baat ho gayi hai nahi padi thi ki ek ladki baat hai ki ek ladki ka up mein 850 thi toh 350 payleti ko ka selection hua unhone quality ka selection nahi hua karti thi toh bahut saree mushkilen hoti hain jinka samana karna padta lekin isse zyada kuch nahi hota agar hum inafokas apni saree par karenge toh hum usko kraikars dekhen aur jisko hum positively lenge toh cheez achi rahegi kabhi bhi Negative mind creativity hoti hai apne paper mein

देखिए अगर हम सर कटा की बात करें तो इसमें क्या होता है दोनों छोटे बच्चे हम कक्षा में बहुत क

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स जनरल कैंडिडेट के लिए आईएएस बनना मुश्किल नहीं बड़ा लोहे के चने चबाने के जैसा होता है उसको दो पर एक शहरी और ग्रामीण शहरी का सिलेबस क्या है कैसे उसका उनके बैकग्राउंड बच्चे होते अच्छी सी कोचिंग मिल जाती है लेकिन ग्रामीण सेक्सी प्लेयर जान से ज्यादा है वह सब चांस खत्म हो जाता है तो यह गवर्नमेंट गवर्नमेंट के पास देखे गए जिले में अक्सर जनरल कैंडिडेट को सीएम बनाया जाता है कारण क्या होता है वह जानते हैं कि यह व्यक्ति जो है जंगल में चाहिए बेटा डिसाइड कर लेना चाहिए उस समय पर सारी चीजें एकदम करते हैं और हमारे समय की जनरल कैटेगरी के बच्चों को कम से कम 5 साल के लिए देश-दुनिया समाज से किसी से मतलब नहीं रखना चाहिए जनरल का टिकट बेटा अच्छा कर रहे हैं हमारे बहुत सारे

hello friends general candidate ke liye IAS banna mushkil nahi bada lohe ke chane chabane ke jaisa hota hai usko do par ek shahri aur gramin shahri ka syllabus kya hai kaise uska unke background bacche hote achi si coaching mil jaati hai lekin gramin sexy player jaan se zyada hai vaah sab chance khatam ho jata hai toh yah government government ke paas dekhe gaye jile mein aksar general candidate ko cm banaya jata hai karan kya hota hai vaah jante hain ki yah vyakti jo hai jungle mein chahiye beta decide kar lena chahiye us samay par saree cheezen ekdam karte hain aur hamare samay ki general category ke baccho ko kam se kam 5 saal ke liye desh duniya samaj se kisi se matlab nahi rakhna chahiye general ka ticket beta accha kar rahe hain hamare bahut saare

हेलो फ्रेंड्स जनरल कैंडिडेट के लिए आईएएस बनना मुश्किल नहीं बड़ा लोहे के चने चबाने के जैसा

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  372
WhatsApp_icon
user

Dr. Ajay Kumar Pandey

Director,Samarpan IAS Coaching

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक जनरल को भारत का दुर्भाग्य आप देखेंगे कि भाभी को काम करेगा जब तक बन गया है बल्कि उसके लिए अपने परिश्रम को थोड़ा और गुस्सा करेंगे

ek general ko bharat ka durbhagya aap dekhenge ki bhabhi ko kaam karega jab tak ban gaya hai balki uske liye apne parishram ko thoda aur gussa karenge

एक जनरल को भारत का दुर्भाग्य आप देखेंगे कि भाभी को काम करेगा जब तक बन गया है बल्कि उसके लि

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  1122
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!