जंक फूड स्वस्थ भोजन से स्वाद में बेहतर क्यों है?...


user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पटना जंक फूड स्वास्थ्य स्वास्थ्य भोजन से बाद में बैठकों से बाद में तो बेहतर होते हैं लेकिन स्वास्थ्य के लिए बहुत नुकसानदायक होते हैं इसीलिए जंक फूड के सेवन से बचना चाहिए धन्यवाद

aapka patna junk food swasthya swasthya bhojan se baad mein baithakon se baad mein toh behtar hote hain lekin swasthya ke liye bahut nukasanadayak hote hain isliye junk food ke seven se bachna chahiye dhanyavad

आपका पटना जंक फूड स्वास्थ्य स्वास्थ्य भोजन से बाद में बैठकों से बाद में तो बेहतर होते हैं

Romanized Version
Likes  160  Dislikes    views  2542
WhatsApp_icon
28 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Monika Baliyan

Consultant Physiotherapist

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंग फूड स्वास्थ्य भोजन के स्वाद में बेहतर क्यों है जंक फूड अपने आप में ही एक जंग फूड लाइक उसके अंदर हम स्वाद बनाते हैं इसीलिए वह स्वार्थ होता है इसी चीज में मजा बाप अगर एक साथ खाना साथ में खाना में हम लोग कोई भी स्वास्थ्य एक्स्ट्रा हम लोग उसमें नहीं डालते हैं सादा भोजन बनाते हैं या फिर अपने घर का भी जो भी भोजन बनाते हैं जो भी हम खाना पकाते हैं वह एक नॉर्मल मसाले होते हैं नॉर्मल तेल होता है नॉर्मल हमारी चीज होती है जिसके अंदर हम लोग खाना बना जंक फूड को टेस्टी बनाने के लिए उसके अंदर हम दुनिया भर की सारी दुनिया भर का तेल या मक्खन इस तरह की चीजें मनीष बगैरा यूज़ करते हैं जो सेहत के लिए अच्छी चीज तो नहीं है लेकिन स्वाद के लिए बहुत अच्छी चीज है और ऐसे कई सो जाते हैं जिनसे आपका जो खाना है वह स्वाद लगता है वह जंगपुर नहीं हम बेहतर बना सकता है इस बनाने को तो हम अपने साथ में खाने को भी ऐसी बना सकते हैं बट क्योंकि हमें वह उसी फॉर्म में पसंद है और लोग उसी तरह से खाना पसंद करते हैं

jung food swasthya bhojan ke swaad me behtar kyon hai junk food apne aap me hi ek jung food like uske andar hum swaad banate hain isliye vaah swarth hota hai isi cheez me maza baap agar ek saath khana saath me khana me hum log koi bhi swasthya extra hum log usme nahi daalte hain saada bhojan banate hain ya phir apne ghar ka bhi jo bhi bhojan banate hain jo bhi hum khana pakate hain vaah ek normal masale hote hain normal tel hota hai normal hamari cheez hoti hai jiske andar hum log khana bana junk food ko tasty banane ke liye uske andar hum duniya bhar ki saari duniya bhar ka tel ya makhan is tarah ki cheezen manish bagaira use karte hain jo sehat ke liye achi cheez toh nahi hai lekin swaad ke liye bahut achi cheez hai aur aise kai so jaate hain jinse aapka jo khana hai vaah swaad lagta hai vaah jangapur nahi hum behtar bana sakta hai is banane ko toh hum apne saath me khane ko bhi aisi bana sakte hain but kyonki hamein vaah usi form me pasand hai aur log usi tarah se khana pasand karte hain

जंग फूड स्वास्थ्य भोजन के स्वाद में बेहतर क्यों है जंक फूड अपने आप में ही एक जंग फूड लाइक

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  259
WhatsApp_icon
user

Rajinder Parshad Malik

Owner & Wellness Coach - Malik Nutrition Center Herbalife Independent Associate

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंक फूड इस लिपस्टिक में मसाला और प्राइड किया जाता है उसको और इसीलिए लोग गिरने की वजह से उसको खा रहे हैं अभी हुआ है इसके बाद ही लव समझ पाएंगे मोटापा बढ़ता है सैलरी ज्यादा है इसलिए विटामिन प्रोटीन क्यों धन्यवाद

junk food is lipstick mein masala aur pride kiya jata hai usko aur isliye log girne ki wajah se usko kha rahe hain abhi hua hai iske baad hi love samajh payenge motapa badhta hai salary zyada hai isliye vitamin protein kyon dhanyavad

जंक फूड इस लिपस्टिक में मसाला और प्राइड किया जाता है उसको और इसीलिए लोग गिरने की वजह से उस

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
user

Sandhya Rani

Clinical Dietician(Gohealthy)

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एचडी टूटा फूटा उसमें मैच में ताला ज्यादा होता है दूसरा आपका उसमें पार्टी कंटेंट ज्यादा होती है कि घंटे में ज्यादा होती है उसने ज्यादा होती है उसको अखिलेश्वर को और ज्यादा सेट किए हैं वह ज्यादा अट्रैक्टिव आपको कुछ अलग मिलता है बात और भी ज्यादा भी एक ऐसा विवाह

hd tuta futa usme match mein tala zyada hota hai doosra aapka usme party content zyada hoti hai ki ghante mein zyada hoti hai usne zyada hoti hai usko akhileshwar ko aur zyada set kiye hain vaah zyada attractive aapko kuch alag milta hai baat aur bhi zyada bhi ek aisa vivah

एचडी टूटा फूटा उसमें मैच में ताला ज्यादा होता है दूसरा आपका उसमें पार्टी कंटेंट ज्यादा होत

Romanized Version
Likes  70  Dislikes    views  1136
WhatsApp_icon
play
user

Dr Surabhi Jain

Nutritionist and Diet Expert

0:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत को हाई नहीं प्रकट करेंगे उनको बार-बार इस्तेमाल करोगे और उनके तरीके से बात करें

bahut ko high nahi prakat karenge unko baar baar istemal karoge aur unke tarike se baat karen

बहुत को हाई नहीं प्रकट करेंगे उनको बार-बार इस्तेमाल करोगे और उनके तरीके से बात करें

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  552
WhatsApp_icon
user

Zishan Dokadia

Nutrition Counselor

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं बताना चाहूंगा जब कुछ स्वाद में इसीलिए अच्छा लगता है क्योंकि उसका मीनिंग रेडियंट होता है अजीनोमोटो अजीनोमोटो नामक एक केमिकल होता है जो कि होटल वाले रेस्टोरेंट वाले कैसे वाले गाड़ियों वाले और जो भी पासबुक के ठेले लगाते हैं वह लोग डालते ही है उससे देश बढ़ जाता है और आप उसके आदी हो जाते हो मतलब आप उसको एडिट हो जाते आपको घर का सोना अच्छा नहीं लगता है अगर आप ज्यादा बाहर का खाना खाते हो क्योंकि उसमें एनएससी नामक अजीनोमोटो केमिकल होता है उसके साइड इफेक्ट कुछ इस प्रकार है आपकी किडनी डैमेज हो ना आपकी बॉडी का इम्यूनिटी कम होना और आपको वह उसका आदि बना देता है ताकि आप वही खाते रहो आपको घर का खाना बिल्कुल पसंद नहीं आता इसलिए आप घर का खाना ही है बाहर का खाना ज्यादा से ज्यादा वोट करें यदि आप रेस्टोरेंट और कैफ़े में जाते हो तो उन्हें पहले बोल दीजिए हमारे खाने में अजीनोमोटो इस्तेमाल ना करें और सबसे इंपोर्टेंट बात आप चाइनीस फूड तो बिल्कुल भी ना कर चाइनीस बिना अजीनोमोटो के बनता ही नहीं है शुक्रिया

main bataana chahunga jab kuch swaad mein isliye accha lagta hai kyonki uska meaning radiant hota hai Ajinomoto Ajinomoto namak ek chemical hota hai jo ki hotel waale restaurant waale kaise waale gadiyon waale aur jo bhi passbook ke thele lagate hain vaah log daalte hi hai usse desh badh jata hai aur aap uske adi ho jaate ho matlab aap usko edit ho jaate aapko ghar ka sona accha nahi lagta hai agar aap zyada bahar ka khana khate ho kyonki usme NSC namak Ajinomoto chemical hota hai uske side effect kuch is prakar hai aapki KIDNEY damage ho na aapki body ka immunity kam hona aur aapko vaah uska aadi bana deta hai taki aap wahi khate raho aapko ghar ka khana bilkul pasand nahi aata isliye aap ghar ka khana hi hai bahar ka khana zyada se zyada vote kare yadi aap restaurant aur kaife mein jaate ho toh unhe pehle bol dijiye hamare khane mein Ajinomoto istemal na kare aur sabse important baat aap Chinese food toh bilkul bhi na kar Chinese bina Ajinomoto ke banta hi nahi hai shukriya

मैं बताना चाहूंगा जब कुछ स्वाद में इसीलिए अच्छा लगता है क्योंकि उसका मीनिंग रेडियंट होता ह

Romanized Version
Likes  370  Dislikes    views  3062
WhatsApp_icon
user

Dt. Manisha Deol

Nutritionist & Dietitian

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे जाओ फोर्ड जब भी बाहर काम जौनपुर खाता है उसमें ज्यादातर सबसे ज्यादा फैट की मात्रा अधिक होती है और वह बटन वगैरे और उसमें आईडी में ज्यादा वॉइस मेल बनाया जाता है उसके अलावा उसके अंदर चीज और जो भी मैं उन्हीं से मार्ग्रीन है वह सब ऐड होते और अलग-अलग जैसे चाइनीस हो क्या उसमें काफी सस्ती चीज हो गए ऐड किए जाते उसके अलावा उसमें सोल की मात्रा शक्कर की मात्रा 24600 से उसमें ज्यादा डाली जाती है और एमएसजी स्तर के कैंसर होता है जिससे स्टेटमेंट में अपना फ्लेवर भरतार वह बार-बार खाते तो हमें उसकी लात भी लग जाती वह भी काफी प्रमाण में चाइनीस आइटम्स नहीं उस खाया जाता है या अजीनोमोटो जैसे बोलते हैं जिसे काफी कंट्रीज में बैंक भी किया गया क्योंकि वह हेल्थ के लिए बहुत ही हमको ले मोती से ऐड की जाती है इससे हमें वह ज्यादा टेस्टी और बढ़िया लगता है और घर के खाने में हम नॉर्मल करके मिर्च मसाले खरका ऑयल यूज कर रहे तो हमें शायद हो सकता है वह इतना टेस्टी नहीं लग और दूसरा जौनपुर में काफी चटनियां चटपटा भी जो इंडियन ट्रेन पुणे उसको भी काफी चटपटा जो भी साइट्रिक एसिड हो गया या कोई बनाने के लिए अलग-अलग चटनियां सॉसेज यूज किए जाते हैं और हर जंग फुट में ऑयल की मात्रा बहुत ही नॉर्मल से अधिक होती है वह भी अच्छी क्वालिटी का व्हाईल नहीं होता तो एक्शन में सिर्फ टेस्ट रहता है वह लेकिन हेल्थ के लिए बहुत-बहुत हम

dekhe jao ford jab bhi bahar kaam jaunpur khaata hai usme jyadatar sabse zyada fat ki matra adhik hoti hai aur vaah button vagaire aur usme id mein zyada voice male banaya jata hai uske alava uske andar cheez aur jo bhi main unhi se margrin hai vaah sab aid hote aur alag alag jaise Chinese ho kya usme kaafi sasti cheez ho gaye aid kiye jaate uske alava usme soul ki matra shakkar ki matra 24600 se usme zyada dali jaati hai aur MSG sthar ke cancer hota hai jisse statement mein apna flavour bhartaar vaah baar baar khate toh hamein uski laat bhi lag jaati vaah bhi kaafi pramaan mein Chinese iteams nahi us khaya jata hai ya Ajinomoto jaise bolte hain jise kaafi countries mein bank bhi kiya gaya kyonki vaah health ke liye bahut hi hamko le moti se aid ki jaati hai isse hamein vaah zyada tasty aur badhiya lagta hai aur ghar ke khane mein hum normal karke mirch masale kharaka oil use kar rahe toh hamein shayad ho sakta hai vaah itna tasty nahi lag aur doosra jaunpur mein kaafi chatniyan chatpata bhi jo indian train pune usko bhi kaafi chatpata jo bhi Citric acid ho gaya ya koi banane ke liye alag alag chatniyan sausage use kiye jaate hain aur har jung feet mein oil ki matra bahut hi normal se adhik hoti hai vaah bhi achi quality ka while nahi hota toh action mein sirf test rehta hai vaah lekin health ke liye bahut bahut hum

देखे जाओ फोर्ड जब भी बाहर काम जौनपुर खाता है उसमें ज्यादातर सबसे ज्यादा फैट की मात्रा अधिक

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  342
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Amit Agrawal Rishiyog

Yoga Acupressure Expert

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां का बिजनेस जंक फूड स्वस्थ भोजन से स्वास्थ्य में बेहतर क्यों हैं देखें ऐसा कुछ नहीं है ऐसी फीलिंग आपको आती है अगर आप उसको लाइक करते हैं तब आपकी पसंद की जो चीज होती है वही आपको महसूस होती है कि यह स्वाद ज्यादा स्वादिष्ट है क्योंकि वह आपकी पसंद है वही व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के लिए अगर वो उसको पसंद नहीं करता तो वही चीजें उसके लिए आना पसंद होती है या उसे वही चीजें विश्वास लगती हैं जैसा कि एक व्यक्ति को मान लीजिए मिठाई पसंद है और एक व्यक्ति को मिठाई ना पसंद है या मिठाई उतनी पसंद नहीं करता तो एक को मिठाई में बहुत स्वाद आता है को मिठाई में स्वाद नहीं आता तो ठीक इसी तरह जंक फूड में भी है जो लोग स्वास्थ्य के प्रति सोचते हैं सचेत रहते हैं तो वह लोगों को जंक फूड में कोई खास इंट्रेस्ट नहीं होता टेस्ट नहीं आता कुछ लोग जंग फूड के दीवाने होते हैं शायद इसलिए कि उन्हें कहीं ना कहीं इस बात का ज्ञान नहीं होता कि हम लोग जंक फूड के रूप में जहर खा रहे हैं अगर जब हमें बात समझ में आ जाती है और हम अभी रुक जाते हैं चाहे वह किसी भी मार्ग की बात हो किसी भी मार्ग की बात हो अगर हमें यह मन में एक विचार आ जाता है कि यह हमारे लिए फायदेमंद है यह हमारे लिए स्वास्थ्य पर है तब हम नेचुरल हम वैसे ही विचार अपने मन में बना लेते हैं आर यू

haan ka business junk food swasthya bhojan se swasthya mein behtar kyon hain dekhen aisa kuch nahi hai aisi feeling aapko aati hai agar aap usko like karte hain tab aapki pasand ki jo cheez hoti hai wahi aapko mehsus hoti hai ki yah swaad zyada swaadisht hai kyonki vaah aapki pasand hai wahi vyakti dusre vyakti ke liye agar vo usko pasand nahi karta toh wahi cheezen uske liye aana pasand hoti hai ya use wahi cheezen vishwas lagti hain jaisa ki ek vyakti ko maan lijiye mithai pasand hai aur ek vyakti ko mithai na pasand hai ya mithai utani pasand nahi karta toh ek ko mithai mein bahut swaad aata hai ko mithai mein swaad nahi aata toh theek isi tarah junk food mein bhi hai jo log swasthya ke prati sochte hain sachet rehte hain toh vaah logo ko junk food mein koi khaas interest nahi hota test nahi aata kuch log jung food ke deewane hote hain shayad isliye ki unhe kahin na kahin is baat ka gyaan nahi hota ki hum log junk food ke roop mein zehar kha rahe hain agar jab hamein baat samajh mein aa jaati hai aur hum abhi ruk jaate hain chahen vaah kisi bhi marg ki baat ho kisi bhi marg ki baat ho agar hamein yah man mein ek vichar aa jata hai ki yah hamare liye faydemand hai yah hamare liye swasthya par hai tab hum natural hum waise hi vichar apne man mein bana lete hain R you

हां का बिजनेस जंक फूड स्वस्थ भोजन से स्वास्थ्य में बेहतर क्यों हैं देखें ऐसा कुछ नहीं है ऐ

Romanized Version
Likes  170  Dislikes    views  2648
WhatsApp_icon
user

Narendra Patil

Wellness Coach

0:14
Play

Likes  82  Dislikes    views  1515
WhatsApp_icon
user
1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंग फूड हमारे नार्मल पूछे ज्यादा स्वादिष्ट होता है क्योंकि बहुत सिंपल है जिसमें हम काफी सारे मसाले डालते हैं उनका पीछा करते हैं उसमें नहीं पड़ता है मार्केटिंग करता है अंकित त्रिपाठी 2 पार्ट का इतिहा रहता है या तो अगर आप चीज पर चीज में उन्हें मार्ग्रीन आजकल हमारे जो भी हम 5 टूज देखे अमेरिकन अगर देख ले तो उसमें अमेरिका वाइट सॉस का चीज जिसका यह सब काफी यूज़ होता है इटालियन अब रमीजा लेते हैं तो उससे काफी दर्द रहता है बिना मैदे से बनी हुई चीजें रहती है वाइट कलर से बनी हुई चीजें मसालेदार होती है अगर हम पाव भाजी बना रहता है तू बहुत ज्यादा होता है इसीलिए जान को थोड़ा सा ज्यादा स्वादिष्ट बन जाता है वह हमें भी करता है प्रकृति में दो बच्चों को हम हेल्दी फूड को भी टेस्टी बना सकते हैं ऐसा नहीं है कि उसे कैसे नहीं कर सकते हैं

jung food hamare normal pooche zyada swaadisht hota hai kyonki bahut simple hai jisme hum kaafi saare masale daalte hain unka picha karte hain usme nahi padta hai marketing karta hai ankit tripathi 2 part ka itihaas rehta hai ya toh agar aap cheez par cheez mein unhe margrin aajkal hamare jo bhi hum 5 twos dekhe american agar dekh le toh usme america white sauce ka cheez jiska yah sab kaafi use hota hai italian ab ramija lete hain toh usse kaafi dard rehta hai bina maide se bani hui cheezen rehti hai white color se bani hui cheezen masaledar hoti hai agar hum paav bhaji bana rehta hai tu bahut zyada hota hai isliye jaan ko thoda sa zyada swaadisht ban jata hai vaah hamein bhi karta hai prakriti mein do baccho ko hum healthy food ko bhi tasty bana sakte hain aisa nahi hai ki use kaise nahi kar sakte hain

जंग फूड हमारे नार्मल पूछे ज्यादा स्वादिष्ट होता है क्योंकि बहुत सिंपल है जिसमें हम काफी सा

Romanized Version
Likes  77  Dislikes    views  1258
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

साउथ इंडियन फूड सबसे अच्छे होते होते हैं मैं कुछ करने की तो यह गलत है कि आप हेल्दी चीज कभी नहीं हो सकता और इंग्लैंड का काम करना बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट

south indian food sabse acche hote hote hain main kuch karne ki toh yah galat hai ki aap healthy cheez kabhi nahi ho sakta aur england ka kaam karna bahut zyada important

साउथ इंडियन फूड सबसे अच्छे होते होते हैं मैं कुछ करने की तो यह गलत है कि आप हेल्दी चीज कभी

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  474
WhatsApp_icon
user

Jitender singh chaturvedi

Owner of Om Physiotherapy & Nutrition Clinic

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल क्या बात लाइक लोग और जल्दी-जल्दी में रहते हैं तो जो भी उनको सामने करता है कि खा ले तू बैठ कर आराम से खाएं क्या क्या है सब ऑफिस जाने वाले स्टूडेंट हो गए यह सब जो खाना घर का रहता है वह कितना नहीं कर पाता उसी तरफ एडिक्शन पूजा

aajkal kya baat like log aur jaldi jaldi mein rehte hain toh jo bhi unko saamne karta hai ki kha le tu baith kar aaram se khayen kya kya hai sab office jaane waale student ho gaye yah sab jo khana ghar ka rehta hai vaah kitna nahi kar pata usi taraf addiction puja

आजकल क्या बात लाइक लोग और जल्दी-जल्दी में रहते हैं तो जो भी उनको सामने करता है कि खा ले तू

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1073
WhatsApp_icon
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि जंक फूड स्वस्थ भोजन से स्वाद वाले ज्यादा होते हैं आप अगर स्वास्थ्य को अच्छा रखने वाले सब्जियों और फलों को अच्छी तरीके से बनाएं प्रॉपर तरीके से बनाएं अच्छे मसाले डालकर बनाए तो वह भी उतने ही स्वादिष्ट होते हैं जितना कि जंक फूड होते हैं जंग फूड अगर आप बिना मसाले के आप खाओगे तो बिल्कुल भी उसमें साथ नहीं आएगा उसी तरीके से अगर आप जो नेचुरल चीजें हैं आप बिना मसाले के भी कभी-कभी कच्चा भी खा जाओगे तो आप आराम से खा सकते हो और उसमें स्वाद भी बहुत ज्यादा होता है

aisa bilkul bhi nahi hai ki junk food swasthya bhojan se swaad waale zyada hote hain aap agar swasthya ko accha rakhne waale sabjiyon aur falon ko achi tarike se banaye proper tarike se banaye acche masale dalkar banaye toh vaah bhi utne hi swaadisht hote hain jitna ki junk food hote hain jung food agar aap bina masale ke aap khaoge toh bilkul bhi usme saath nahi aayega usi tarike se agar aap jo natural cheezen hain aap bina masale ke bhi kabhi kabhi kaccha bhi kha jaoge toh aap aaram se kha sakte ho aur usme swaad bhi bahut zyada hota hai

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि जंक फूड स्वस्थ भोजन से स्वाद वाले ज्यादा होते हैं आप अगर स्वास्थ

Romanized Version
Likes  134  Dislikes    views  1827
WhatsApp_icon
user

Sambhav Jain

Health Coach

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निजामपुर हेलो जौनपुर टू सीमानगर के आज के टाइम पर सबसे बड़ा यह मिसकनसेप्शन है उसका एक ही कारण है और कोई विशेष कारण यह है कि हमारे अतीत को और हमारे दिमाग को एक स्वाद जो चाहिए वो तेरे एवं पांच सूट खाते हैं तो हमारी चमारी चमारी जितना दिमाग में 29 बैठ जाती है लेकिन यह चीज जैसे क्वेश्चन है कि स्वस्थ भोजन से स्वास्थ्य बेहतर की है उसका इसी कारण ही तो एक ही कारण मैंने बोला छोड़कर शुगर का कॉन्बिनेशन रहता है वह आता है जो अभी हमारी बिनती कंबाइन करने की क्रिएट करने की और कंज्यूम करने की वह बहुत हाई होती है हम एक बार उसको खाते हैं तो हमारे ब्रेन को मैं हमारे ब्रेन में है इको रिएक्शन बडौदा की हॉट बोल्ड शुगर भी है यह कॉन्बिनेशन जोएटिस काबू में मिल रहा है बहुत अच्छी बात है की जमाने में बैठ जाती इसकी वजह से हमें ऐसा लगता है कि फालतू जो है वह बहुत टेस्टी है इन कंपैरिजन टू 9 म्यूट बट मैं आपको यह याद दिलाना कि वह नाम भी पता चल रहे कि फास्ट कल बहुत जल्दी बनता है इजी टू कुक फूड हमेशा आपको शॉर्ट में टेस्ट होती तो लगेगा लेकिन लॉन्ग टर्म में उसके रेल के खेल से रिलेटेड नुकसान बहुत ज्यादा है तो कोशिश यह करिए की स्टेज के चक्कर में अपना पड़ी अपनी शर्तों पर फोकस करें एंड फ्रोजन वेजिटेबल्स पर फोकस ज्यादा रखिए आपकी बॉडी फिट हेल्थी गई थी

nijampur hello jaunpur to simanagar ke aaj ke time par sabse bada yah misakanasepshan hai uska ek hi karan hai aur koi vishesh karan yah hai ki hamare ateet ko aur hamare dimag ko ek swaad jo chahiye vo tere evam paanch suit khate hain toh hamari chamari chamari jitna dimag mein 29 baith jaati hai lekin yah cheez jaise question hai ki swasthya bhojan se swasthya behtar ki hai uska isi karan hi toh ek hi karan maine bola chhodkar sugar ka kanbineshan rehta hai vaah aata hai jo abhi hamari binti combine karne ki create karne ki aur consume karne ki vaah bahut high hoti hai hum ek baar usko khate hain toh hamare brain ko main hamare brain mein hai iko reaction vadodara ki hot bold sugar bhi hai yah kanbineshan joetis kabu mein mil raha hai bahut achi baat hai ki jamane mein baith jaati iski wajah se hamein aisa lagta hai ki faltu jo hai vaah bahut tasty hai in kampairijan to 9 mute but main aapko yah yaad dilana ki vaah naam bhi pata chal rahe ki fast kal bahut jaldi banta hai easy to cook food hamesha aapko short mein test hoti toh lagega lekin long term mein uske rail ke khel se related nuksan bahut zyada hai toh koshish yah kariye ki stage ke chakkar mein apna padi apni sharton par focus kare and frozen vegetables par focus zyada rakhiye aapki body fit healthy gayi thi

निजामपुर हेलो जौनपुर टू सीमानगर के आज के टाइम पर सबसे बड़ा यह मिसकनसेप्शन है उसका एक ही का

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  408
WhatsApp_icon
user

Vinay Kumar Dubey

Health Coach

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जौनपुर की तरफ लोग विश्व यात्रा को है कि उसके अंदर टेस्ट के लिए वो लोग बहुत सारी आने वाली चीजें डाल देते हैं जो पब्लिक को टेस्ट से ज्यादा अच्छा लगता है कि वह इंग्लिश में दो तो आगे हम सोचे कि आप कभी भी ध्यान दोगे जो चीज किस चीज का टेस्ट कब होता है वह ज्यादा हेल्दी होती है लेकिन लोग उसको खाते हैं इसलिए इसीलिए कहते हैं कि हर किसी के बस की बात नहीं अपने आप को फिट रखना

jaunpur ki taraf log vishwa yatra ko hai ki uske andar test ke liye vo log bahut saree aane wali cheezen daal dete hain jo public ko test se zyada accha lagta hai ki vaah english mein do toh aage hum soche ki aap kabhi bhi dhyan doge jo cheez kis cheez ka test kab hota hai vaah zyada healthy hoti hai lekin log usko khate hain isliye isliye kehte hain ki har kisi ke bus ki baat nahi apne aap ko fit rakhna

जौनपुर की तरफ लोग विश्व यात्रा को है कि उसके अंदर टेस्ट के लिए वो लोग बहुत सारी आने वाली च

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  437
WhatsApp_icon
user

Husna Batool

Wellness Coach

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आ चुके अब कुछ ही आ बन जाता है इंसान को जो हम बोलते हो जाती है तो हम चाहते थे तो हमें ऐसा लगता है कि बहुत बहुत है कि आई डी प्रूफ होता है जो देती थी में टेस्ट होता है तो इसमें नहीं होता और हमारा घर बना ले तो हमें याद भी नहीं आएगा

aa chuke ab kuch hi aa ban jata hai insaan ko jo hum bolte ho jaati hai toh hum chahte the toh hamein aisa lagta hai ki bahut bahut hai ki I d proof hota hai jo deti thi mein test hota hai toh isme nahi hota aur hamara ghar bana le toh hamein yaad bhi nahi aayega

आ चुके अब कुछ ही आ बन जाता है इंसान को जो हम बोलते हो जाती है तो हम चाहते थे तो हमें ऐसा ल

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  568
WhatsApp_icon
user

Poonam Duneja

Nutritionist

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जौनपुर से बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होती है ऑडियो सीरियल और कॉल टूटा टूटा वीडियो चैट स्टार्ट होता है और इस टाइम प्यार होता है एक एंड हैंड फ्री हो तो इसलिए उनके दिल्ली लग जाती है जितना हम खाते हैं हमें हमारा जो गेम है उतने ही रिफाइंड का उसको डिमांड करता है जिसकी वजह से हमें अच्छा लगता है और यह इसलिए कि तू जो आगे जाकर की बहुत सारी डीजे

jaunpur se bahut zyada bleeding hoti hai audio serial aur call tuta tuta video chat start hota hai aur is time pyar hota hai ek and hand free ho toh isliye unke delhi lag jaati hai jitna hum khate hain hamein hamara jo game hai utne hi Refined ka usko demand karta hai jiski wajah se hamein accha lagta hai aur yah isliye ki tu jo aage jaakar ki bahut saree DJ

जौनपुर से बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होती है ऑडियो सीरियल और कॉल टूटा टूटा वीडियो चैट स्टार्ट हो

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  415
WhatsApp_icon
user

Kamal Kumar

Owner of Fitness Point

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी आप राष्ट्रीय आपको दायित्व मिलती है अगर आप खुद लेते हो खुद खरीदते हो या आप खुद आप लोग उसको लेकर आप उसको पर डायल बनाते हो तो बहुत अगर आप जयपुर लेते हो बनाया बना लेते उसमें उसमें केमिकल होते हैं

dekhi aap rashtriya aapko dayitva milti hai agar aap khud lete ho khud kharidte ho ya aap khud aap log usko lekar aap usko par dial banate ho toh bahut agar aap jaipur lete ho banaya bana lete usme usmein chemical hote hain

देखी आप राष्ट्रीय आपको दायित्व मिलती है अगर आप खुद लेते हो खुद खरीदते हो या आप खुद आप लोग

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
user

Dr. Sunaina Batta Khetarpal

Dietician| Nutritionist

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज जंक फूड इस जंग पिक्चर जंग फूड मैक्सिमम और बाकी मीटिंग नहीं मिलती कोई गेम क्योंकि इसमें सैलरी मिलती है अगर आपको मोटा खाने जाते हो या आप पिज्जा खाने जाते व्हाट इट इज मेड अप ऑफ मैडम जी और क्या लिखूं छोटे छोटे होता है या प्रोडक्ट यूज होते हैं या एक्टिवेट होते हैं बेस्ट वर्ल्ड कप रिंगटोन चाइल्डहुड ऑफ़ बैक्टीरिया लिए बच्चों को आज 8 साल के बच्चों को वी हैव टू गिव द रेफरेंस टू मेक हेल्थी फ़ूड ऑप्शन में हम आज तक बहुत होती हैं अगर आप डबल रोटी सब्जी और कॉन्बिनेशन खातेदारी का ज्ञान बैटल ऑफ साउथ इंडियन बैटरी रिलीज करते हैं डैड को मैक्सिमम टॉकिंग करते हैं या हमारे अतीत को विकसित करते हैं इसकी 12 आर्ट अटैक होता है पटेल जी को तो हमने बहुत ज्यादा बदनाम कर रखा है बी आर नॉट विकल्प विकल्प

aaj junk food is jung picture jung food maximum aur baki meeting nahi milti koi game kyonki isme salary milti hai agar aapko mota khane jaate ho ya aap pizza khane jaate what it is made up of madam ji aur kya likhun chote chhote hota hai ya product use hote hain ya activate hote hain best world cup ringtone childhood of bacteria liye baccho ko aaj 8 saal ke baccho ko va have to give the reference to make healthy food option mein hum aaj tak bahut hoti hain agar aap double roti sabzi aur kanbineshan khatedari ka gyaan battle of south indian battery release karte hain dad ko maximum talking karte hain ya hamare ateet ko viksit karte hain iski 12 art attack hota hai patel ji ko toh humne bahut zyada badnaam kar rakha hai be R not vikalp vikalp

आज जंक फूड इस जंग पिक्चर जंग फूड मैक्सिमम और बाकी मीटिंग नहीं मिलती कोई गेम क्योंकि इसमें

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  477
WhatsApp_icon
user

Sushmaa Jaiswal

Nutritionist

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंग फुट में दो तरह की चीजे ज्यादा होती जब उसने शादी होता है तो कहां से सेट ज्यादा होने की वजह से थोड़ा सा हो जाता है अभी जो जितने भी एक ऐसा पदार्थ है जिसको बोलते हैं तन्हा से देश की मां की पायल तो वह एडिक्टिव होता है ऐसी चीज में होता है तो वह एक बार अगर वह स्थान है तो उसका बार-बार खाने के लिए मन होता है और इसीलिए वह मतलब का और उसने दूसरे से बहुत कम होते ही 520 डीडी एमपी की माता का व्रत फूड खाना कम खाना नहीं होता है ज्यादा को हमें वह फूल कम से कम खाना चाहिए मैं यह नहीं कहती कि बिल्कुल करो अगर कर सकते तो बहुत अच्छा है 29 दिन अच्छा खाना खाने को खा लिया तो फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन अगर खाना खाते हैं तो उसका मतलब

jung feet mein do tarah ki chije zyada hoti jab usne shadi hota hai toh kahaan se set zyada hone ki wajah se thoda sa ho jata hai abhi jo jitne bhi ek aisa padarth hai jisko bolte hain tanha se desh ki maa ki payal toh vaah ediktiv hota hai aisi cheez mein hota hai toh vaah ek baar agar vaah sthan hai toh uska baar baar khane ke liye man hota hai aur isliye vaah matlab ka aur usne dusre se bahut kam hote hi 520 DD mp ki mata ka vrat food khana kam khana nahi hota hai zyada ko hamein vaah fool kam se kam khana chahiye main yah nahi kehti ki bilkul karo agar kar sakte toh bahut accha hai 29 din accha khana khane ko kha liya toh fark nahi padega lekin agar khana khate hain toh uska matlab

जंग फुट में दो तरह की चीजे ज्यादा होती जब उसने शादी होता है तो कहां से सेट ज्यादा होने की

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  440
WhatsApp_icon
user

Ashish Lavania

Yoga Trainer

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंग फूड स्वस्थ भोजन से स्वाद में बेहतर क्यों है जी यह बहुत अच्छा क्वेश्चन है जो भी ऐसी चीज होती है जंक फूड ही नहीं लाइफ के अंदर अगर आप सुनाओ अपना चेक करेंगे लाइफ को तो जो चीजें हमारी लाइफ को नुकसान देने वाली है यह परेशानी देने वाली है वह अच्छी दिखते हैं अब किसी भी मेट्रो में ले लीजिए किसी भी मैटर में वह आपको अच्छी ही दिखाई देगी वह आपको खराब दिखाई नहीं देंगे इससे उनकी जमकर अब जब आप कुछ ऐसी चीजों को जो हमें स्वास्थ्य के लिए नुकसान करने वाली है ज्यादा तीखा चटकारे भरा ज्यादा खट्टा हमारी जीत के होते हैं उसको तो चाहिए चटकारा मस्ती हो जाए थोड़ा सा थोड़ा किया था ना उसका पानी है सोना चाहिए पी लेंगे उसे मोमोस खाने महमूद की टेक्नियम मोमोस की चटनी में इतनी मिर्ची होती है और घर में बनाओ तो भी आप यह तो कैसे क्योंकि हमने बनाई है लाल मिर्च का यूज कर आया चलो एडजस्ट कर लेंगे बाहर का तो यही समझ में नहीं आता कि वह उसमें डालते क्या नॉर्मल अच्छे खाने से बेहतर स्वाद होता है और हमेशा रहेगा क्योंकि उसके जो मसाले होते जिस चीज की मना की जाती है वही उसमें डालता है चाहे वह चीज हो जाए उसके अंदर मैगी मसाला कोई सा भी मसाला हो जिस चीज की मना होते वह उसमें डाल नहीं डालना है मैदा ऐसा कौन सा जंतु है जिसमें मैदान यह तो नॉर्मल ही मेला नहीं खानी चाहिए क्योंकि मैं दबा तो मैं चिपक जाती है दिक्कत देती है बट मैदा के बिना का पासवर्ड बता दीजिए कौन सा बिना मैदा का तो जो चीज खराब है वही हमें अच्छी लगेगी क्योंकि इसका स्वाद ही ऐसा है गरम उसे खाएंगे तो इसलिए उसका बेहतर स्वाद होता है क्योंकि वह खराब है बस

jung food swasthya bhojan se swaad mein behtar kyon hai ji yah bahut accha question hai jo bhi aisi cheez hoti hai junk food hi nahi life ke andar agar aap sunao apna check karenge life ko toh jo cheezen hamari life ko nuksan dene wali hai yah pareshani dene wali hai vaah achi dikhte hain ab kisi bhi metro mein le lijiye kisi bhi matter mein vaah aapko achi hi dikhai degi vaah aapko kharab dikhai nahi denge isse unki jamakar ab jab aap kuch aisi chijon ko jo hamein swasthya ke liye nuksan karne wali hai zyada teekha chatkare bhara zyada khatta hamari jeet ke hote hain usko toh chahiye chatkara masti ho jaaye thoda sa thoda kiya tha na uska paani hai sona chahiye p lenge use momos khane mahmood ki tekniyam momos ki chatni mein itni mirchi hoti hai aur ghar mein banao toh bhi aap yah toh kaise kyonki humne banai hai laal mirch ka use kar aaya chalo adjust kar lenge bahar ka toh yahi samajh mein nahi aata ki vaah usme daalte kya normal acche khane se behtar swaad hota hai aur hamesha rahega kyonki uske jo masale hote jis cheez ki mana ki jaati hai wahi usme dalta hai chahen vaah cheez ho jaaye uske andar maggi masala koi sa bhi masala ho jis cheez ki mana hote vaah usme daal nahi dalna hai maida aisa kaun sa jantu hai jisme maidan yah toh normal hi mela nahi khaani chahiye kyonki main daba toh main chipak jaati hai dikkat deti hai but maida ke bina ka password bata dijiye kaun sa bina maida ka toh jo cheez kharab hai wahi hamein achi lagegi kyonki iska swaad hi aisa hai garam use khayenge toh isliye uska behtar swaad hota hai kyonki vaah kharab hai bus

जंग फूड स्वस्थ भोजन से स्वाद में बेहतर क्यों है जी यह बहुत अच्छा क्वेश्चन है जो भी ऐसी चीज

Romanized Version
Likes  184  Dislikes    views  2448
WhatsApp_icon
user

Vijaypratap Singh Rajawat Fit Coach

Health and Fitness Expert

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंक फूड स्वस्थ भोजन से स्वाद इसलिए होते हैं क्योंकि उनके अंदर बहुत सारा केमिकल यूज मेल किया जाता है जिनसे वह अत्यधिक स्वादिष्ट बनाए जाते हैं उसके अंदर गोयल अच्छा यूज में किया जाता है जिससे वह सुहाग बन जाता है उसके अंदर मीठा यूज़ किया जाता है उसके अंदर में उन्हें बहुत सारे आइटम जंक फूड बहुत अच्छे से पढ़ाई किया जाता है उसके अंदर बहुत सारी केमिकल चीजों का उपयोग किया जाता है जिनसे वह स्वाद बनता है और बहुत सारे मसाले बहुत सारे तेल उसके अंदर यूज में लिए जाते हैं जो हमारी बॉडी में जाकर सेट को बढ़ावा देता है और हम अपने स्वास्थ्य को धीरे-धीरे खोने लगते तो हमें जंग फूड को ज्यादा से ज्यादा वह गाना चाहिए स्वस्थ भोजन की और हमें भरना चाहिए जिससे हमारा जीवन स्वस्थ रहें बीमारियों से दूर रहे हैं ज्यादा जानकारी के लिए आप कांटेक्ट कर सकते हैं मेरा कॉलिंग व्हाट्सएप नंबर डबल 7340 7209 में एक हेल्प को छू मेरा नाम विजय प्रताप सिंह थैंक यू

junk food swasth bhojan se swaad isliye hote hain kyonki unke andar bahut saara chemical use male kiya jata hai jinse vaah atyadhik swaadisht banaye jaate hain uske andar goyal accha use mein kiya jata hai jisse vaah suhaag ban jata hai uske andar meetha use kiya jata hai uske andar mein unhe bahut saare item junk food bahut acche se padhai kiya jata hai uske andar bahut saree chemical chijon ka upyog kiya jata hai jinse vaah swaad banta hai aur bahut saare masale bahut saare tel uske andar use mein liye jaate hain jo hamari body mein jaakar set ko badhawa deta hai aur hum apne swasthya ko dhire dhire khone lagte toh hamein jung food ko zyada se zyada vaah gaana chahiye swasth bhojan ki aur hamein bharna chahiye jisse hamara jeevan swasth rahein bimariyon se dur rahe hain zyada jaankari ke liye aap Contact kar sakte hain mera Calling whatsapp number double 7340 7209 mein ek help ko chu mera naam vijay pratap Singh thank you

जंक फूड स्वस्थ भोजन से स्वाद इसलिए होते हैं क्योंकि उनके अंदर बहुत सारा केमिकल यूज मेल किय

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
user

Rajesh Yogi

Yogacharya in Shivyoga Chandigarh

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्वेश्चन है जंक फूड स्वस्थ भोजन के स्वाद से उसका बेहतर स्वाद क्यों है देखो जंक फूड आपको खाने में बड़ा टेस्टी लगता है लेकिन जैसे ही नाम से ही है जंक फूड की उसमें कुछ नहीं होता विटामिन वगैरह कुछ नहीं होता आपको अंदर जाकर काफी नुकसानदायक होता है वह हमारे शरीर के अंग इसलिए जो सात्विक आहार में है हालांकि 7 वी का पूरा टेस्टी कम लगता है जंक फूड ज्यादा टेस्टी लगता है आपकी जीभ के लिए लेकिन काफी चीजें हैं जो जीव को टेस्ट देती है तो अंदर जाकर बॉडी का हमारे स्टाफ का बुरा हाल करती है तो जंक फूड अवॉइड करें अगर आपने अपनी हेल्थ केयर करनी है जितना उसके साथ स्वीकार ले उसी में ही हम अपना अच्छा स्वास्थ्य ले सकते हैं तो प्रयास करें कि जंक फूड का वाइट करें जंक फूड में केवल टेस्ट के सिवाय और कुछ नहीं होता उसके जो पर विटामिन हो सारे नष्ट हो जाते हैं तो प्रयास करें कि आप सात्विक आहार लें धन्यवाद

question hai junk food swasthya bhojan ke swaad se uska behtar swaad kyon hai dekho junk food aapko khane mein bada tasty lagta hai lekin jaise hi naam se hi hai junk food ki usme kuch nahi hota vitamin vagera kuch nahi hota aapko andar jaakar kaafi nukasanadayak hota hai wah hamare sharir ke ang isliye jo Satvik aahaar mein hai halaki 7 va ka pura tasty kam lagta hai junk food zyada tasty lagta hai aapki jeebh ke liye lekin kaafi cheezen hai jo jeev ko test deti hai toh andar jaakar body ka hamare staff ka bura haal karti hai toh junk food avoid karein agar aapne apni health care karni hai jitna uske saath sweekar le usi mein hi hum apna accha swasthya le sakte hai toh prayas karein ki junk food ka white karein junk food mein keval test ke shivaay aur kuch nahi hota uske jo par vitamin ho saare nasht ho jaate hai toh prayas karein ki aap Satvik aahaar le dhanyavad

क्वेश्चन है जंक फूड स्वस्थ भोजन के स्वाद से उसका बेहतर स्वाद क्यों है देखो जंक फूड आपको खा

Romanized Version
Likes  84  Dislikes    views  1546
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जौनपुर बिल्कुल खाना नहीं चाहिए आपको बैलेंस डाइट खाना चाहिए जहां पर आपको कार प्रोटीन पर सारा कुछ मिलता है जनपद में कुछ नहीं होता आपको जो कहती लेबल है वह भरा देता है तो इसमें कोई फायदा नहीं है जौनपुर खाने से और कोलेस्ट्रॉल लेवल 12 देता है तो आप बिल्कुल उसको आईएमद थैंक यू

jaunpur bilkul khana nahi chahiye aapko balance diet khana chahiye jaha par aapko car protein par saara kuch milta hai janpad mein kuch nahi hota aapko jo kehti lebal hai vaah bhara deta hai toh isme koi fayda nahi hai jaunpur khane se aur cholesterol level 12 deta hai toh aap bilkul usko aiemad thank you

जौनपुर बिल्कुल खाना नहीं चाहिए आपको बैलेंस डाइट खाना चाहिए जहां पर आपको कार प्रोटीन पर सार

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
user

Akash Mishra

Yoga Expert | Author | Naturopathist | Acupressure Specialist |

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है जंक फूड स्वास्थ्य स्वस्थ भोजन से बेहतर स्वाद में बेहतर क्यों है जानती है कि स्वस्थ भोजन जो है वह बिना स्वाद का होता है आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप उसमें भेज उनको कैसे बनाते हैं या कैसे को पकाया जाता है जैसे कि आप अपने घर में भोजन करते हैं ना उसमें बहुत अधिक मिर्च मसालों का प्रयोग होता है ना बहुत उसमें अधिक तेल का प्रयोग होता है सामग्री अंजनपुर में प्रयोग की जाती है वह भी नहीं है प्रयोग होती है लेकिन फिर भी उसका साथ बहुत अच्छा होता है ईमेल जो चीजें जंक फूड में आती हैं अगर आप उनको घर पर बनाते हैं कि मुखपृष्ठ वाला टेस्ट देता है जंतु जो बाहर आ खाते हैं तो उसमें काफी घंटों पुराना या कभी-कभी 1 दिन पुराना है जो चीज उस पर पड़ी होती है हिंसा चीजों से मुझे तो कम मेरा निजी अनुभव यह है कि जब भी कोई चीज भोजन करते हैं तो वह फ्रेश है और वह बिना मिर्च मसाले और कम स्टील का बना है तो वह आदमी भी अच्छा होता है और को खाने के बाद में आपको इरिटेशन नहीं होती है आपको अजीब नहीं लगता है इन कंपैरिजन ऑफ जंक फूड उसमें यह होता है कि यदि आपने कोई ऐसा भोजन किया है योग्य पर बहुत ऑयल है यही ऐसा कुछ है तो वह समस्या बढ़ा सकता है समस्याएं प्रकट कर सकता है आपके लिए तो आशा है आपको मेरा उत्तर अच्छा लगा होगा मेरा नाम आकाश में शहर यूट्यूब चैनल का नाम से यूट्यूब पर है तो कृपया चैनल को जाकर के सब्सक्राइब करें शेयर करें लाइक करें और कमेंट करें धन्यवाद

aapka prashna hai junk food swasthya swasthya bhojan se behtar swaad mein behtar kyon hai jaanti hai ki swasthya bhojan jo hai vaah bina swaad ka hota hai aapke upar nirbhar karta hai ki aap usme bhej unko kaise banate hain ya kaise ko pakaya jata hai jaise ki aap apne ghar mein bhojan karte hain na usme bahut adhik mirch masalo ka prayog hota hai na bahut usme adhik tel ka prayog hota hai samagri anjanapur mein prayog ki jaati hai vaah bhi nahi hai prayog hoti hai lekin phir bhi uska saath bahut accha hota hai email jo cheezen junk food mein aati hain agar aap unko ghar par banate hain ki mukhprishth vala test deta hai jantu jo bahar aa khate hain toh usme kaafi ghanto purana ya kabhi kabhi 1 din purana hai jo cheez us par padi hoti hai hinsa chijon se mujhe toh kam mera niji anubhav yah hai ki jab bhi koi cheez bhojan karte hain toh vaah fresh hai aur vaah bina mirch masale aur kam steel ka bana hai toh vaah aadmi bhi accha hota hai aur ko khane ke baad mein aapko irritation nahi hoti hai aapko ajib nahi lagta hai in kampairijan of junk food usme yah hota hai ki yadi aapne koi aisa bhojan kiya hai yogya par bahut oil hai yahi aisa kuch hai toh vaah samasya badha sakta hai samasyaen prakat kar sakta hai aapke liye toh asha hai aapko mera uttar accha laga hoga mera naam akash mein shehar youtube channel ka naam se youtube par hai toh kripya channel ko jaakar ke subscribe kare share kare like kare aur comment kare dhanyavad

आपका प्रश्न है जंक फूड स्वास्थ्य स्वस्थ भोजन से बेहतर स्वाद में बेहतर क्यों है जानती है कि

Romanized Version
Likes  111  Dislikes    views  1106
WhatsApp_icon
user

Dr Babita Tyagi

Yogacharya

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंक फूड आदि थे इसलिए होता है क्योंकि जंग फूड को अक्षर में क्या होता ना कुछ को बनाया जाता है कि इसको हेल्प ध्यान में रखकर नहीं बनाया जाता उसको स्वाद को ही ध्यान में रखकर बनाया जाता है जिससे का टेस्ट दूसरी बात नहीं है कि आप इस तरह का टेस्ट आप अपने अंदर डेवलप कर लेते हैं उसी तरह के टेस्ट आपको अच्छा लगने लगता है आपने देखा होगा बहुत से लोग नमक ज्यादा पसंद करते हैं बहुत से लोग मीठा याद आती शर्म करते हैं तो आप उसे मैं स्पाइसेज बहुत पसंद करते हैं वह से गर्म ठंडा तो इस तरह कैसे उसको डेवलप किया जाता है मिस्र का विवाह का फैमिली बैकग्राउंड है जिससे वह खाना खाया जाता है उसी जगह का टेस्ट आपके में डेवलप हो जाता है ऐसे में योग से जुडी हुई हूं और मुझे बाहर का खाना बिल्कुल भी स्वादिष्ट नहीं लगता है मुझे और घर का बना हुआ और जो है मोटे अनाज से बना हुआ खाना और हरी सब्जियां दालें चालक और सूट यही मुझे सबसे ज्यादा स्वादिष्ट लगते हैं तो यह आपके टेस्ट के उपाय

junk food aadi the isliye hota hai kyonki jung food ko akshar mein kya hota na kuch ko banaya jata hai ki isko help dhyan mein rakhakar nahi banaya jata usko swaad ko hi dhyan mein rakhakar banaya jata hai jisse ka test dusri baat nahi hai ki aap is tarah ka test aap apne andar develop kar lete hain usi tarah ke test aapko accha lagne lagta hai aapne dekha hoga bahut se log namak zyada pasand karte hain bahut se log meetha yaad aati sharm karte hain toh aap use main spices bahut pasand karte hain vaah se garam thanda toh is tarah kaise usko develop kiya jata hai mistra ka vivah ka family background hai jisse vaah khana khaya jata hai usi jagah ka test aapke mein develop ho jata hai aise mein yog se judy hui hoon aur mujhe bahar ka khana bilkul bhi swaadisht nahi lagta hai mujhe aur ghar ka bana hua aur jo hai mote anaaj se bana hua khana aur hari sabjiyan daale chaalak aur suit yahi mujhe sabse zyada swaadisht lagte hain toh yah aapke test ke upay

जंक फूड आदि थे इसलिए होता है क्योंकि जंग फूड को अक्षर में क्या होता ना कुछ को बनाया जाता ह

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  742
WhatsApp_icon
user

Mangal Patel

District Collector

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वच्छ भोजन जो मैं करना भी चाहिए और करते भी हैं जंक फूड साल में इसलिए है तब से होते हैं हमसे क्योंकि ज्यादा से ज्यादा मसालों का और इन तीनों को क्यों किया जाता है इसलिए हमें स्वादिष्ट मसाले कप्लापुर बोर में दिखाते हैं बॉडी हुई शरीर के अंदर जाता है कि सीएल को भी जला देते तो प्रभाव नहीं होता है तो पेट के अंदर के मोटापे के कारण बन जाते हैं ज्यादा होने के कारण लोग करते हैं मोटापा रोग है

swacch bhojan jo main karna bhi chahiye aur karte bhi hain junk food saal mein isliye hai tab se hote hain humse kyonki zyada se zyada masalo ka aur in tatvo ko kyon kiya jata hai isliye humein swaadisht masale kaplapur bore mein dikhate hain body hui sharir ke andar jata hai ki cl ko bhi jala dete toh prabhav nahi hota hai toh pet ke andar ke motape ke kaaran ban jaate hain zyada hone ke kaaran log karte hain motapa rog hai

स्वच्छ भोजन जो मैं करना भी चाहिए और करते भी हैं जंक फूड साल में इसलिए है तब से होते हैं हम

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!