NITI के CEO अमिताभ कांत कहते हैं की 2020 तक फिजिकल बैंक समाप्त हो जाए गा हैं, आप इसके बारे में क्या कहना चाहते हैं?...


user

तरसेम

Ex Soldier, Ex Banker, Ex Administrator Business// Follow Me On Instagram@Tarsem3049

1:13
Play

Likes  5  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
12 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Abhishek Kumar Yadav

Expert In Account & Finance, Motivational Speaker& Life Coach

5:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं विश्व कुमार यादव मोटिवेशनल स्पीकर आने से निपटने की नीति के सीओओ यानिक नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि मैं आपको लिखकर गारंटी देता हूं आपको स्टांप पैड पर यह कभी नहीं होगा 20 साल लग जाएंगे फिर कल बैंक इन को खत्म करने पर उसके एक-दो नहीं कई वजह हैं उसके एक-दो नहीं कई वजह हैं क्योंकि हमारे देश में पिछड़े वर्ग बहुत ज्यादा है जो एनरॉयड यूज़ नहीं करना जानते हैं जो नेट बैंकिंग यूज़ करना नहीं जानते हैं मोबाइल बैंकिंग यूज नहीं करना चाहते हैं उनको फुली डिजिटल ही कैसे कन्वर्ट कर देंगे सभी लोगों को लेकर नहीं बनाया जा सकता है हमारे देश में 45 पर्सेंट आबादी जो है वह बुजुर्ग हैं जिनको नेट बैंकिंग इंटरनेट बैंकिंग रिटेल बैंकिंग के बारे में कोई जानकारी नहीं है आज सारी युवा ही खाली वेबसाइट नहीं जुड़े बुजुर्ग भी जुड़े हुए हैं आधी आबादी को डिजिटल बैंक में शिफ्ट करने के बाद जो है बहुत टेढ़ी खीर है तो अमिका अमिताभ कांत जी के बोल हैं कृपया कल उसे सीरियसली ना लें क्योंकि म्यूजिक यह हवा हवाई बातें हैं ऐसा संभव ही नहीं है अगले 20 सालों तक ऐसा कुछ नहीं होने वाला मैं आपको लिखित रूप में दे सकता हूं हां डिलीट अल्टरनेशन बढ़ जाएंगे लेकिन फिजिकल ट्रांजैक्शन एकदम से बंद नहीं हो जाएंगे मैं एक उदाहरण देता हूं आपको मैं पैसे से अकाउंटेंट हूं हमारे बिजनेस में जो भी माल खरीदे जाते हैं उनका पेमेंट बैंक द्वारा होता है तुम्हें जितने पार्टियों से माल खरीद ता हूं उनका हर फोटो पर मतलब कहने वाले हर 15 दिन पर मैं जो है उनका पेमेंट एक साथ बनाता हूं 15 दिन पर एक साथ में उनका बल अपने पर बनाता हूं और बना करके टाइप करने के लिए मैं बैंक में एक समय में माउंट का चेक बना कर में बैंक में लिप्त करने की वजह क्या होगी ठीक है तो हो रहा है लेकिन नेट कहां हो रहा है बैंक के माध्यम से हो रहा है बैंक के फिजिकल बैंक दैनिक मुझे फिजिकल में जाना पड़ गया वह काम ऑनलाइन नहीं हो पाया मैं चाहूं तो ऑनलाइन कर सकता हूं लेकिन वह हमारे आने का था उसकी कई वजह हैं पहली वजह तो यह है कि कोई भी मालिक अपने कर्मचारी पर पूर्ण रुप से विश्वास नहीं करता इसीलिए उसे नेट बैंकिंग यूज करने का ऑप्शन नहीं देगा ज्यादा कर उसे फिजिकल बैंक यूज करने का ही चेक से पेमेंट करने का ऑप्शन ही उसको बताएगा दूसरी बात है मालिक के पास इतना समय नहीं है और उनके पास एंप्लॉई को इतना समय नहीं है वो खुद नेट बैंकिंग करें खुद सेकने लोगों का पेमेंट प्राप्त करें जहां सैकड़ों पार्टियां हैं उसको सौर भी करने के बहुत सारे काम है तू अभी क्या है मुझे नेट की जानकारी है इंटरनेट बैंकिंग की जानकारी है मोबाइल बैंकिंग की जानकारी है मेरे मालिक को जानकारी है लेकिन मेरे मालिक के पास समय नहीं मेरे को उसके पास समय नहीं है कोई काम करेंगे समय नहीं है मुझे फिजिकल बैंक जाना पड़ रहा है अभी भी बैंक से बहुत सारे पेमेंट जो होते हैं बहुत सारी टैक्स होते हैं आजकल ऑनलाइन जमा होते हैं ऑनलाइन जमा होते हैं तो उसमें भी क्या होते हैं ऑनलाइन पेमेंट चालान जमा हो जाता फिर उनका पेमेंट मुझे किसी दूसरे के अकाउंट में जा ही करना ही पड़ता है तो फिर कल बैंक बहुत महत्व है ग्राम में देख लीजिए ग्रामों में देख लीजिए उनको अच्छे से चेक भरना तक नहीं आता बहुत से लोग हैं आप नेट बैंकिंग यूज करने के मोबाइल बैंकिंग के ऑफिस कल बैंक खत्म करने की बात करते हैं कहां से संभव संभव नहीं है अभी 20 सालों तक तो बिल्कुल संभव नहीं है जब तक पूरी जनरेशन रिप्लेस नहीं हो जाती है तब तक यह पॉसिबल तू उसके बाद भी कहीं ना कहीं फिर कल पेमेंट होता रहेगा तुमसे खत्म नहीं हो जाएगा फिजिकल बैंक तो अभी बिजली समाप्त नहीं होने वाले अब यह है कि गवर्नमेंट पॉसिबली करेगी खत्म करने के लिए गवर्नमेंट को बहुत ज्यादा दिक्कत झेलनी पड़ेगी बहुत ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ेगी अंतर तो हमको फिजिकल बैंक के स्टार्ट करना ही पड़ेगा तो बताने पर देख लिया जाएगा फिलहाल अभी लगभग का सामना करें गवर्नमेंट छ महीने तो मंदी से उबरने वाले नहीं है जैसे एडमिन है साल भर का समय लग सकता है इस मंदी से बाहर आने के लिए मंदिर की मंदिर नहीं है अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए नहीं क्योंकि डीडीपी को तो कोई पांडवान पर पहुंचा चुके हैं लोग पिछले नीति आयोग कुछ छोड़ दिया उनके सीओ को छोड़ दिया उनको हवा हवाई बातें करने दीजिए और हम लोगों को धरातल पर आना चाहिए नमस्कार मेरे लाइक करें

namaskar main vishwa kumar yadav Motivational speaker aane se nipatane ki niti ke COO yanik niti aayog ke ceo amitabh kaant ne kaha ki main aapko likhkar guarantee deta hoon aapko STAMP pad par yah kabhi nahi hoga 20 saal lag jaenge phir kal bank in ko khatam karne par uske ek do nahi kai wajah hain uske ek do nahi kai wajah hain kyonki hamare desh me pichade varg bahut zyada hai jo enarayad use nahi karna jante hain jo net banking use karna nahi jante hain mobile banking use nahi karna chahte hain unko fully digital hi kaise convert kar denge sabhi logo ko lekar nahi banaya ja sakta hai hamare desh me 45 percent aabadi jo hai vaah bujurg hain jinako net banking internet banking retail banking ke bare me koi jaankari nahi hai aaj saari yuva hi khaali website nahi jude bujurg bhi jude hue hain aadhi aabadi ko digital bank me shift karne ke baad jo hai bahut tedhi kheer hai toh amika amitabh kaant ji ke bol hain kripya kal use seriously na le kyonki music yah hawa hawai batein hain aisa sambhav hi nahi hai agle 20 salon tak aisa kuch nahi hone vala main aapko likhit roop me de sakta hoon haan delete alternation badh jaenge lekin physical transaction ekdam se band nahi ho jaenge main ek udaharan deta hoon aapko main paise se accountant hoon hamare business me jo bhi maal kharide jaate hain unka payment bank dwara hota hai tumhe jitne partiyon se maal kharid ta hoon unka har photo par matlab kehne waale har 15 din par main jo hai unka payment ek saath banata hoon 15 din par ek saath me unka bal apne par banata hoon aur bana karke type karne ke liye main bank me ek samay me mount ka check bana kar me bank me lipt karne ki wajah kya hogi theek hai toh ho raha hai lekin net kaha ho raha hai bank ke madhyam se ho raha hai bank ke physical bank dainik mujhe physical me jana pad gaya vaah kaam online nahi ho paya main chahu toh online kar sakta hoon lekin vaah hamare aane ka tha uski kai wajah hain pehli wajah toh yah hai ki koi bhi malik apne karmchari par purn roop se vishwas nahi karta isliye use net banking use karne ka option nahi dega zyada kar use physical bank use karne ka hi check se payment karne ka option hi usko batayega dusri baat hai malik ke paas itna samay nahi hai aur unke paas emplai ko itna samay nahi hai vo khud net banking kare khud sekne logo ka payment prapt kare jaha saikadon partyian hain usko sour bhi karne ke bahut saare kaam hai tu abhi kya hai mujhe net ki jaankari hai internet banking ki jaankari hai mobile banking ki jaankari hai mere malik ko jaankari hai lekin mere malik ke paas samay nahi mere ko uske paas samay nahi hai koi kaam karenge samay nahi hai mujhe physical bank jana pad raha hai abhi bhi bank se bahut saare payment jo hote hain bahut saari tax hote hain aajkal online jama hote hain online jama hote hain toh usme bhi kya hote hain online payment chalan jama ho jata phir unka payment mujhe kisi dusre ke account me ja hi karna hi padta hai toh phir kal bank bahut mahatva hai gram me dekh lijiye gramo me dekh lijiye unko acche se check bharna tak nahi aata bahut se log hain aap net banking use karne ke mobile banking ke office kal bank khatam karne ki baat karte hain kaha se sambhav sambhav nahi hai abhi 20 salon tak toh bilkul sambhav nahi hai jab tak puri generation replace nahi ho jaati hai tab tak yah possible tu uske baad bhi kahin na kahin phir kal payment hota rahega tumse khatam nahi ho jaega physical bank toh abhi bijli samapt nahi hone waale ab yah hai ki government possibly karegi khatam karne ke liye government ko bahut zyada dikkat jhelani padegi bahut zyada pareshani jhelani padegi antar toh hamko physical bank ke start karna hi padega toh batane par dekh liya jaega filhal abhi lagbhag ka samana kare government chh mahine toh mandi se ubarane waale nahi hai jaise admin hai saal bhar ka samay lag sakta hai is mandi se bahar aane ke liye mandir ki mandir nahi hai arthavyavastha ko patri par lane ke liye nahi kyonki DDP ko toh koi pandavan par pohcha chuke hain log pichle niti aayog kuch chhod diya unke CO ko chhod diya unko hawa hawai batein karne dijiye aur hum logo ko dharatal par aana chahiye namaskar mere like kare

नमस्कार मैं विश्व कुमार यादव मोटिवेशनल स्पीकर आने से निपटने की नीति के सीओओ यानिक नीति आयो

Romanized Version
Likes  119  Dislikes    views  1191
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Chinmaya Behera

Eco.,Fin., Pol.,life.,&career

0:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नीतीश ने थोड़ा गलत एडिक्शन क्या है फिजिकल बैंक 2020 तक खत्म नहीं होगा क्योंकि जब तक हम लोगों को डिजिटल बैंक के बारे में शिक्षा नहीं देते तब तक फिजिकल बैंक का जुर्रत होगा

nitish ne thoda galat addiction kya hai physical bank 2020 tak khatam nahi hoga kyonki jab tak hum logon ko digital bank ke bare mein shiksha nahi dete tab tak physical bank ka jurrat hoga

नीतीश ने थोड़ा गलत एडिक्शन क्या है फिजिकल बैंक 2020 तक खत्म नहीं होगा क्योंकि जब तक हम लोग

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  360
WhatsApp_icon
user

Apurv Kansal

Partner, Apurv Kansal & Co

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि तुम ही हो सकते लेकिन हो जाएगा

kyonki tum hi ho sakte lekin ho jaega

क्योंकि तुम ही हो सकते लेकिन हो जाएगा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
user

Harish Agarwal

Chartered Accountant

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी पसंद आई है कि फिजिकल बैंक समाप्त नहीं हो सकता क्योंकि भारत में एक ही प्रश्न लोग गांव में या कस्बे में निवास करते हैं जाति की ऑनलाइन फैसिलिटी बहुत कम है और ऑनलाइन फैसिलिटी में रोजाना जो फ्रॉड होते हैं जो गबन होते हैं उसको देखते हुए मेरे को नहीं लगता कि 2020 तक पूरा जो है ऑनलाइन अभी से सो पाएगा या फिजिकल या बैंक में डिलीट नहीं करेंगे

meri pasand I hai ki physical bank samapt nahi ho sakta kyonki bharat mein ek hi prashna log gaon mein ya kasbe mein niwas karte hain jati ki online facility bahut kam hai aur online facility mein rojana jo fraud hote hain jo gaban hote hain usko dekhte hue mere ko nahi lagta ki 2020 tak pura jo hai online abhi se so payega ya physical ya bank mein delete nahi karenge

मेरी पसंद आई है कि फिजिकल बैंक समाप्त नहीं हो सकता क्योंकि भारत में एक ही प्रश्न लोग गांव

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  759
WhatsApp_icon
user

Janhwee Mall

Teacher (B.com)

2:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नीति आयोग के सीईओ ने यह भी कहा कि मुझे लगता है काफी लंबी उम्र दें ताकि लोगों को साक्षर होना बहुत जरूरी है और आज भी हम अपने हम महिलाओं या पुरुषों का साथ सरदार देखे तो वह सारा और सृष्टि और सेंटिकेरे चाहिए तो जब तक हम कह रहे हैं कि यह हमारी 9095 पर्सेंट जनसंख्या नहीं हो जाती साक्षर तब तक ऑनलाइन न साकार करना मेरे मुझे नहीं लगता है कि यह सारे लोगों के बस की बात हो जाएगी और दूसरा चीज है कि आज भी लेकिन शादी है आपने देखा होगा कि विलेज के जो लोग होते हैं उसमें ज्यादा यह इस चीज को लेकर ऑनलाइन चीजों को लेकर ज्यादा वह एक्टिव नहीं रहते हैं और हमारे यहां गरीब से गरीब एरिया जाए तो उसके लिए भी मुझे नहीं लगता कि ऑनलाइन इतना जल्दी साकार हो सकता है और और भी हम कई चीजें देखे तो यदि हम किसी चीज के बीच को भी तो नहीं समाप्त कर हम एटीएम कार्ड से ट्रांजैक्शन कर देना किस विश्वास से करते हैं कि बैंक में मेरा पैसा आया हमने जमा किया है या हम जो नौकरी करेंगे उसका हमें मूल्य मिलेगा तो हमें नहीं लगता कि यदि नोट खत्म कर देंगे फिर खत्म होने का मतलब वह नोट को कन्वर्ट कर देना या नोट कोई अब खत्म कर देंगे ऐसे में मुझे नहीं लगता किसी बैंक का बेस ही खत्म कर दिया जाएगा वहां पर जितने भी हो रहा है आजकल चीजें वह खत्म कर दी जाएंगी लेकिन हां यह हो सकता है कि उसका रूप कन्वर्ट कर दिया कर दिया जा सकता है तो बहुत पहले से साथ हमारे यहां चल रहा है और जब साथ भी आया था तो यह कल्पना की गई थी लेकिन सांप का विष भी तो मुद्रा ही होती है ना वह बैंक ही होता है वह आधार ही होता है तुम मुझे तो नहीं लगता कि उसे खत्म कर दिया गया और आज भी है आपने देखा होगा कि यह फिर कल बैंक काम कर रहा है हां यदि उन्होंने कहा है तुम मैं यह कह सकती हूं इतना जल्दी 20 तक तो नहीं लेकिन यदि और 40 से 50 आज के दौर की बात की जाए और जो आज जो अमेरिका या अन्य देशों में है तो उसमें कहा जा सकता है कि ज्यादा ईबैंकिंग को बढ़ावा मिल सकता है हो सकता है कि और जितने भी ट्रांजैक्शन वगैरह हो संपूर्ण ऑनलाइन अभी बीच की बात तो नहीं की जा सकती मुझे कल मुझे तो लगता है 25 तक की कोई बात नहीं कर सकते देखा है जो बजट में आ जाता है ना कि यह कॉलेज में एक सैनिक बोर्ड से पढ़ाई होगी तो उसे लागू होने में 5 साल लग जाते हैं 10 साल लग जाते हैं तो ऐसे में मुझे नहीं लगता कि 20 तक हो जाएगा और एकदम से नहीं समाप्त हो सकता है थोड़े से रूप में कन्वर्ट किया जा सकता है बाकी एक को लंबा टाइम लगेगा

niti aayog ke ceo ne yah bhi kaha ki mujhe lagta hai kaafi lambi umar de taki logo ko sakshar hona bahut zaroori hai aur aaj bhi hum apne hum mahilaon ya purushon ka saath sardar dekhe toh vaah saara aur shrishti aur sentikere chahiye toh jab tak hum keh rahe hain ki yah hamari 9095 percent jansankhya nahi ho jaati sakshar tab tak online na saakar karna mere mujhe nahi lagta hai ki yah saare logo ke bus ki baat ho jayegi aur doosra cheez hai ki aaj bhi lekin shaadi hai aapne dekha hoga ki village ke jo log hote hain usme zyada yah is cheez ko lekar online chijon ko lekar zyada vaah active nahi rehte hain aur hamare yahan garib se garib area jaaye toh uske liye bhi mujhe nahi lagta ki online itna jaldi saakar ho sakta hai aur aur bhi hum kai cheezen dekhe toh yadi hum kisi cheez ke beech ko bhi toh nahi samapt kar hum atm card se transaction kar dena kis vishwas se karte hain ki bank me mera paisa aaya humne jama kiya hai ya hum jo naukri karenge uska hamein mulya milega toh hamein nahi lagta ki yadi note khatam kar denge phir khatam hone ka matlab vaah note ko convert kar dena ya note koi ab khatam kar denge aise me mujhe nahi lagta kisi bank ka base hi khatam kar diya jaega wahan par jitne bhi ho raha hai aajkal cheezen vaah khatam kar di jayegi lekin haan yah ho sakta hai ki uska roop convert kar diya kar diya ja sakta hai toh bahut pehle se saath hamare yahan chal raha hai aur jab saath bhi aaya tha toh yah kalpana ki gayi thi lekin saap ka vish bhi toh mudra hi hoti hai na vaah bank hi hota hai vaah aadhar hi hota hai tum mujhe toh nahi lagta ki use khatam kar diya gaya aur aaj bhi hai aapne dekha hoga ki yah phir kal bank kaam kar raha hai haan yadi unhone kaha hai tum main yah keh sakti hoon itna jaldi 20 tak toh nahi lekin yadi aur 40 se 50 aaj ke daur ki baat ki jaaye aur jo aaj jo america ya anya deshon me hai toh usme kaha ja sakta hai ki zyada ibainking ko badhawa mil sakta hai ho sakta hai ki aur jitne bhi transaction vagera ho sampurna online abhi beech ki baat toh nahi ki ja sakti mujhe kal mujhe toh lagta hai 25 tak ki koi baat nahi kar sakte dekha hai jo budget me aa jata hai na ki yah college me ek sainik board se padhai hogi toh use laagu hone me 5 saal lag jaate hain 10 saal lag jaate hain toh aise me mujhe nahi lagta ki 20 tak ho jaega aur ekdam se nahi samapt ho sakta hai thode se roop me convert kiya ja sakta hai baki ek ko lamba time lagega

नीति आयोग के सीईओ ने यह भी कहा कि मुझे लगता है काफी लंबी उम्र दें ताकि लोगों को साक्षर होन

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
user

Neha S

UPSC कोच

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिलकुल ही जी न्यूज आई है वह बिल्कुल सही है नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया के जू में सस्ती हुई है मैं तो अभी तक काटने के लिए बोला है कि जो डाटा अगर कोई भी काम छोटा और डिजिटल बैंकिंग नहीं करेगा वो सारे बैंक समाप्त हो जाएंगे हम काम कर रहे हैं हम काम कर रहे हैं भारत को डिजिटल कंप्यूटर करने की कोशिश करुंगी भी बोला है कि जीएसटी पेमेंट बैंक पॉइंट ऑफ सेल मशीन दैनिक बेनिफिट ट्रांसफर योजना को भारतीय सरकार जो है बहुत ज्यादा बढ़ा देगी अगले 3 सालों में आने वाली वस्तुओं का छापा की बातें कर रही है हर जगह बिजली हम लोग बातें कर रहे हैं वह सपना साकार होने वाला है यह भी कहा कि प्यार की वैल्यूएशन की दिशा में कदम आगे

ji haan bilkul hi ji news I hai vaah bilkul sahi hai national institute for transafarming india ke zoo mein sasti hui hai main toh abhi tak katne ke liye bola hai ki jo data agar koi bhi kaam chota aur digital banking nahi karega vo saare bank samapt ho jaenge hum kaam kar rahe hain hum kaam kar rahe hain bharat ko digital computer karne ki koshish karungi bhi bola hai ki gst payment bank point of cell machine dainik benefit transfer yojana ko bharatiya sarkar jo hai bahut zyada badha degi agle 3 salon mein aane waali vastuon ka chapa ki batein kar rahi hai har jagah bijli hum log batein kar rahe hain vaah sapna saakar hone vala hai yah bhi kaha ki pyar ki vailyueshan ki disha mein kadam aage

जी हां बिलकुल ही जी न्यूज आई है वह बिल्कुल सही है नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंड

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
user

Raj Shah

Aspiring engineer

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिस तरह से देश प्रगति कर रहा है कि रिलेशन के तरफ तरफ देखा जाए तो यह बात बिल्कुल सही लग रही है कि 2020 तक फिजिकल बैंक समाप्त हो जाएगा

jis tarah se desh pragati kar raha hai ki relation ke taraf taraf dekha jaaye toh yah baat bilkul sahi lag rahi hai ki 2020 tak physical bank samapt ho jaega

जिस तरह से देश प्रगति कर रहा है कि रिलेशन के तरफ तरफ देखा जाए तो यह बात बिल्कुल सही लग रही

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  9
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अमिताभ कांत ने जो एक स्टेटमेंट दिया है कि 2020 तक फिजिकल बैंक समाप्त हो जाएगा यह स्टेटमेंट बिल्कुल सही है और उन्होंने यह स्टेटमेंट कुछ तर्को पर और कुछ सेंड टेक्स्ट को देखते हुए बोला है जैसे आप आपको मैं बता देना चाहता हूं अगर हम पिछले 45 साल का रिकॉर्ड देखें तो भारत में 28 बैंक को लाइसेंस मिला है मतलब पिछले 45 साल में भारत ने 28 CC कल बैंकों को लाइसेंस दिया है लेकिन अगर हम पिछले 18 महीने का रिकॉर्ड देखें तो भारत में 21 पेमेंट बैंक को लाइसेंस दिया है तो आप कुछ समझे कि 45 साल में 28 फिजिकल बैंक का लाइसेंस मिलाएं और सिर्फ और सिर्फ 18 महीनों में 21 पेमेंट बैंक को लाइसेंस मिलाएं ऑफ डिफरेंट समझी इससे यह पता चलता है कि भारत में लोग डिजिटल पेमेंट करना ज्यादा पसंद कर रहे हैं क्योंकि डिजिटल पेमेंट बहुत ज्यादा एफिशिएंट होता है टाइम कंजूरिंग बिल्कुल नहीं होता है और इस को हैंडल करने में तो कोर्स लगती है वह भी बहुत कम होती है और आपको मैं बता देना चाहता हूं दूसरी चीज कि भारत में लोग स्मार्टफोन ज्यादा यूज करने लगे आने वाले कुछ सालों में भारत में हर किसी के पास स्मार्टफोन होगा तो वह स्मार्टफोन से पेमेंट करना ज्यादा पसंद करेंगे डिजिटल पेमेंट ज्यादा पसंद करेंगे इसीलिए फिजिकल बैंक धीरे धीरे समाप्त हो जाएगा और मैं आपको एक चीज और बता देना चाहता हूं जो फिजिकल बैंक होती है उसको जो डाटा को है फिजिकल टाटा को तो हैंडल करना होता है वह बहुत गंदी में होता है इसे पैसा भी ज्यादा खर्च होता टाइम कंज्यूमर कंज्यूमर एक भी होता है इसलिए बिजनेस होते हैं वह सब डिजिटल पेमेंट करना ज्यादा पसंद करते हैं तो इसीलिए कुछ ऐसे ही तर्कों को देखते हुए कंस जी ने बोला कि 2020 तक फिजिकल बैंक समाप्त हो जाएंगी

amitabh kaant ne jo ek statement diya hai ki 2020 tak physical bank samapt ho jaega yah statement bilkul sahi hai aur unhone yah statement kuch tarko par aur kuch send text ko dekhte hue bola hai jaise aap aapko main bata dena chahta hoon agar hum pichhle 45 saal ka record dekhen toh bharat mein 28 bank ko license mila hai matlab pichhle 45 saal mein bharat ne 28 CC kal bankon ko license diya hai lekin agar hum pichhle 18 mahine ka record dekhen toh bharat mein 21 payment bank ko license diya hai toh aap kuch samjhe ki 45 saal mein 28 physical bank ka license milaen aur sirf aur sirf 18 mahinon mein 21 payment bank ko license milaen of different samjhi isse yah pata chalta hai ki bharat mein log digital payment karna zyada pasand kar rahe hain kyonki digital payment bahut zyada efficient hota hai time conjuring bilkul nahi hota hai aur is ko handle karne mein toh course lagti hai vaah bhi bahut kam hoti hai aur aapko main bata dena chahta hoon dusri cheez ki bharat mein log smartphone zyada use karne lage aane waale kuch salon mein bharat mein har kisi ke paas smartphone hoga toh vaah smartphone se payment karna zyada pasand karenge digital payment zyada pasand karenge isliye physical bank dhire dhire samapt ho jaega aur main aapko ek cheez aur bata dena chahta hoon jo physical bank hoti hai usko jo data ko hai physical tata ko toh handle karna hota hai vaah bahut gandi mein hota hai ise paisa bhi zyada kharch hota time consumer consumer ek bhi hota hai isliye business hote hain vaah sab digital payment karna zyada pasand karte hain toh isliye kuch aise hi tarkon ko dekhte hue kans ji ne bola ki 2020 tak physical bank samapt ho jaengi

अमिताभ कांत ने जो एक स्टेटमेंट दिया है कि 2020 तक फिजिकल बैंक समाप्त हो जाएगा यह स्टेटमेंट

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  27
WhatsApp_icon
user

Janak

An Enthusiastic Entrepreneur.

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीसस ट्रीटमेंट दिया है कि 2020 तक फिजिकल बैंक बेसिकली यूज़ करना बंद कर देंगे लोगों को बिल्कुल सही है क्योंकि जैसे कि देखा जाए और जब से डीमोनेटाइजेशन हुआ था लोगों के लोगों के हैंड इन जो होता था वह काफी इन सब सब कुछ डिजिटल ही काम कर किया जाता था काफी सारे ऑनलाइन पेमेंट पोर्टल आ गए थे वह टाइम पर और सब कुछ फोटो डिजिटल ही काम हो रहा था सब ट्रांसफर वगैरह बहुत डिजिटल ही होता था सब कुछ सब के पास स्मार्टफोन जो था और घर बैठे बैठे सारे काम हो रहे थे उनके जो कोई पैसों से पैसे को रिलेटेड था पेमेंट हो या पैसे कलेक्ट करना हो वह सब कुछ ऑनलाइन बैठे बैठे हो रहे थे और आज भी जैसे कि देखा जाए कि काफी सारे ऑनलाइन सिस्टम आ रहे हैं नेट बैंकिंग सिस्टम आ रहे हैं बैंकों ने नेट बैंकिंग सिस्टम ऑन कर दिया है नहीं बैंकों ने आप सिस्टम ऑन कर दिया है ताकि वह मोबाइल पर ही सारी पेमेंट कर दे सारी डिलीट कर दे और काफी सारी जो पॉलिसीस है वह सारे 20 20 तक यह तो पक्का है कि ऑफिस कल बैंक बंद हो जाएगी प्रैक्टिकल ही नहीं प्रेक्टिकली बंद होना मतलब बंद नहीं हो जाएगी बट जो पेमेंट का सिस्टम है जो दिल का जो सिस्टम है जो ट्रांजैक्शन का सिस्टम है कैश फ्लो का जो सिस्टम है वह जरुर सब कुछ डिजिटली हो जाएगा

jesus treatment diya hai ki 2020 tak physical bank basically use karna band kar denge logon ko bilkul sahi hai kyonki jaise ki dekha jaaye aur jab se dimonetaijeshan hua tha logon ke logon ke hand in jo hota tha vaah kafi in sab sab kuch digital hi kaam kar kiya jata tha kafi saare online payment portal aa gaye the vaah time par aur sab kuch photo digital hi kaam ho raha tha sab transfer vagairah bahut digital hi hota tha sab kuch sab ke paas smartphone jo tha aur ghar baithe baithe saare kaam ho rahe the unke jo koi paison se paise ko related tha payment ho ya paise collect karna ho vaah sab kuch online baithe baithe ho rahe the aur aaj bhi jaise ki dekha jaaye ki kafi saare online system aa rahe hain net banking system aa rahe hain bankon ne net banking system on kar diya hai nahi bankon ne aap system on kar diya hai taki vaah mobile par hi saree payment kar de saree delete kar de aur kafi saree jo policies hai vaah saare 20 20 tak yah toh pakka hai ki office kal bank band ho jayegi practical hi nahi prektikali band hona matlab band nahi ho jayegi but jo payment ka system hai jo dil ka jo system hai jo transaction ka system hai cash flow ka jo system hai vaah zaroor sab kuch digitally ho jaega

जीसस ट्रीटमेंट दिया है कि 2020 तक फिजिकल बैंक बेसिकली यूज़ करना बंद कर देंगे लोगों को बिल्

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एन आई टी आई के सीईओ अमिताभ कांत जी का बिल्कुल सही कहना है कि बहुत जल्द जो वह फिजिकल बैंक से जो है वह समाप्त होने के दौर पर है क्योंकि इस समय अभी तो हमारा चल रहा है वह टेक्नोलॉजी का जमाना चल रहा है सब कुछ डिजिटल हो रहा है जिससे डिजिटल टेक्नोलॉजी की जो मांगे अर्थव्यवस्था में आपके लिए देख सकते हैं कि जैसे बिटकॉइन जो है उसका स्वभाव उसकी जो डिमांड है लगभग आकाश में उड़ते हुए रॉकेट की तरफ बढ़ते जा रही है बढ़ती जा रही है बढ़ते जा रही है कोई रोक ही नहीं है इसीलिए क्योंकि सारे विजय बड़े-बड़े जो कारोबार कारोबार है बिजनेस में आने में उनको बहुत अच्छे से पता है कि डिजिटल बैंकिंग की क्या अहमियत है इसे काम कितना आसान होता है और लगभग जो भी काम का रिश्ता जो है उसको बेहतर जगह पर इस्तेमाल किया जा सकता है तो मेरे हिसाब से यह लगभग और बहुत जल्द संभव है कि जो वह फिजिकल बैंक समाप्त हो जाएंगे अमिताभ कांत जी यह भी कह कह रहे थे कि जो बैंक डिजिटाइजेशन एंड डिजिटल बैंकिंग के तरफ कदम ना बढ़ा कर फिजिकल बैंकिंग पर ही रहेगा उन्हें 2020 तक ही अपना काम बंद करना पड़ेगा बिल्कुल सही बात है जो व्यक्ति संसार में परिवर्तन के साथ नहीं चलता वह हमें अक्सर डूबेगा ही

en I T I ke ceo amitabh kaant ji ka bilkul sahi kehna hai ki bahut jald jo vaah physical bank se jo hai vaah samapt hone ke daur par hai kyonki is samay abhi toh hamara chal raha hai vaah technology ka jamana chal raha hai sab kuch digital ho raha hai jisse digital technology ki jo mange arthavyavastha mein aapke liye dekh sakte hain ki jaise bitcoin jo hai uska swabhav uski jo demand hai lagbhag akash mein udate hue rocket ki taraf badhte ja rahi hai badhti ja rahi hai badhte ja rahi hai koi rok hi nahi hai isliye kyonki saare vijay bade bade jo karobaar karobaar hai business mein aane mein unko bahut acche se pata hai ki digital banking ki kya ahamiyat hai ise kaam kitna aasaan hota hai aur lagbhag jo bhi kaam ka rishta jo hai usko behtar jagah par istemal kiya ja sakta hai toh mere hisab se yah lagbhag aur bahut jald sambhav hai ki jo vaah physical bank samapt ho jaenge amitabh kaant ji yah bhi keh keh rahe the ki jo bank digitisation and digital banking ke taraf kadam na badha kar physical banking par hi rahega unhe 2020 tak hi apna kaam band karna padega bilkul sahi baat hai jo vyakti sansar mein parivartan ke saath nahi chalta vaah hamein aksar dubega hi

एन आई टी आई के सीईओ अमिताभ कांत जी का बिल्कुल सही कहना है कि बहुत जल्द जो वह फिजिकल बैंक स

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  39
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से नाइटी की सीईओ अमिताभ कांत ने जो कहा है वह बिल्कुल सही कहा है लेकिन दे सकते हैं आने वाले सालों में आने वाले दिनों में कि कैसे भारत जितने भी ऑनलाइन बैंकिंग के काम में वह सब ऑनलाइन करेगा और इसे जो भी फिजिकल बैंक जो है या फिर जॉब शहरों में बैंक दिखते वह कम हो जाएगी क्योंकि अभी ऑनलाइन में करना सब कुछ आसान हो चुका है डी मार्ट है जिसके बाद लगभग हर एक चीज़ ऑनलाइन हो चुकी है उन्होंने जो कहा है वह बिल्कुल सही कहा है और हमें देख सकते आने वाले स्तर पर कि कैसे बैंक के बैंक कब जो भी काम होगा वह सब ऑनलाइन हो जाएगा

mere hisab se nighty ki ceo amitabh kaant ne jo kaha hai vaah bilkul sahi kaha hai lekin de sakte hain aane waale salon mein aane waale dino mein ki kaise bharat jitne bhi online banking ke kaam mein vaah sab online karega aur ise jo bhi physical bank jo hai ya phir job shaharon mein bank dikhte vaah kam ho jayegi kyonki abhi online mein karna sab kuch aasaan ho chuka hai d mart hai jiske baad lagbhag har ek cheez online ho chuki hai unhone jo kaha hai vaah bilkul sahi kaha hai aur hamein dekh sakte aane waale sthar par ki kaise bank ke bank kab jo bhi kaam hoga vaah sab online ho jaega

मेरे हिसाब से नाइटी की सीईओ अमिताभ कांत ने जो कहा है वह बिल्कुल सही कहा है लेकिन दे सकते ह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!