सरकार किसी की भी आये, व्यवस्था , खराब ही रहती है, पर किसी 1 पार्टी के लिए लोगो का मोह / भक्ति ख़त्म नहीं हो रहा है, ऐसा क्यों, धर्म को राजनीती में क्यों मिलाया जाता है?...


user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दीपिका में शर्म की बात है कि आज भी हमारे देश में धर्म की राजनीति हो रही है और यह बात आपने बहुत सही बोली की पार्टी कोई भी है देश का भला तो होना ही नहीं है चाहे बीजेपी या कांग्रेस आई एम एक बात बोलना चाहूंगा जो लोग बीजेपी को फॉलो कर रहे हैं वह आज से 10 साल पहले भी फॉलो कर रहे थे आज भी फॉलो कर रहे हैं और आने वाले समय में भी करेंगे क्योंकि उनके दिमाग में बीजेपी वस कांग्रेस का ऐसे बसपा का एक सिम सपा के लोग पार्टी को उनके लोगों से चिकली करते उनको जाति धर्म से जोड़ते हैं कि कोई फर्क नहीं पड़ता कि पार्टी में लाचारी है बस वह पार्टी का है व्यक्ति तुम कर ले चल रहा है और हमारे देश में घोटाले हो रहे देश का भला बिल्कुल नहीं हो रहा तो जब तक देश में धर्म की राजनीति जात की राजनीति खत्म नहीं होगी तब तक देश में नहीं कोई अच्छा रिप्रेजेंटेटिव लेट होगा और ना ही हमारा देश तरक्की कर पाएगा

deepika mein sharm ki baat hai ki aaj bhi hamare desh mein dharm ki raajneeti ho rahi hai aur yah baat aapne bahut sahi boli ki party koi bhi hai desh ka bhala toh hona hi nahi hai chahen bjp ya congress I M ek baat bolna chahunga jo log bjp ko follow kar rahe hain vaah aaj se 10 saal pehle bhi follow kar rahe the aaj bhi follow kar rahe hain aur aane waale samay mein bhi karenge kyonki unke dimag mein bjp vas congress ka aise BSP ka ek sim sapa ke log party ko unke logo se chikli karte unko jati dharm se jodte hain ki koi fark nahi padta ki party mein lachari hai bus vaah party ka hai vyakti tum kar le chal raha hai aur hamare desh mein ghotale ho rahe desh ka bhala bilkul nahi ho raha toh jab tak desh mein dharm ki raajneeti jaat ki raajneeti khatam nahi hogi tab tak desh mein nahi koi accha representative late hoga aur na hi hamara desh tarakki kar payega

दीपिका में शर्म की बात है कि आज भी हमारे देश में धर्म की राजनीति हो रही है और यह बात आपने

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  229
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!