क्या दिव्यांग प्यार कर सकते हैं?...


user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिलकुल दिव्यांग भी प्यार कर सकते हैं और दिव्यांशी अपना जीवन वैसे ही आप लोगों की तरह ही सकते हैं जैसे बाकी सारे लोग जीते हैं क्योंकि एक कमी आपकी जिंदगी को खत्म नहीं कर सकती है और आज तो समाज में सभी को इज्जत की नजर से देखता है और उतना ही सम्मान मिलता है जितना बाकी लोगों को मिलता है क्योंकि कोई भी व्यक्ति एक कमी की शादी अब पुण्य नहीं है वह दूसरी अपनी सारी चीजों को इतना बड़ा लेता है और आज इतने साधन है कि कोई भी किसी पर आश्रित नहीं है किसी की भी शारीरिक कमी किसी के लिए बोझ नहीं है सभी स्वाभिमान के साथ जी रहे हैं और अपने पैरों पर खड़े हैं इसलिए आप प्यार भी कर सकते हैं और अपना जीवन साथी फुल का शादी नहीं कर सकते हैं राजस्थान में उदयपुर में एक संस्था है नारायण सेवा संस्थान वहां पर हर दिव्यांगों की शादियां होती है और बहुत बड़े पैमाने पर कि प्रोग्राम किया जाता है और कहीं लोगों को वहां पणजी वहां जीवनदान दिया गया है और कई ऐसे लोगों की वहां शादियां हुई है आपस में हिस्सा है बहुत ज्यादा आपको सोचने वाली बात नहीं है आप बिल्कुल प्यार भी कर सकते हो शादी भी कर सकते हैं और अपना जीवन बहुत अच्छी तरह से जैसे बाकी लोग बताते हैं उसी तरह से बिता सकते हैं कि आम आदमी की तरह काम इंसान की तरह बिल्कुल आम जीवन आप भी सकते हैं

ji haan bilkul divyang bhi pyar kar sakte hain aur divyanshi apna jeevan waise hi aap logo ki tarah hi sakte hain jaise baki saare log jeete hain kyonki ek kami aapki zindagi ko khatam nahi kar sakti hai aur aaj toh samaj mein sabhi ko izzat ki nazar se dekhta hai aur utana hi sammaan milta hai jitna baki logo ko milta hai kyonki koi bhi vyakti ek kami ki shadi ab punya nahi hai vaah dusri apni saree chijon ko itna bada leta hai aur aaj itne sadhan hai ki koi bhi kisi par aashrit nahi hai kisi ki bhi sharirik kami kisi ke liye bojh nahi hai sabhi swabhiman ke saath ji rahe hain aur apne pairon par khade hain isliye aap pyar bhi kar sakte hain aur apna jeevan sathi full ka shadi nahi kar sakte hain rajasthan mein udaipur mein ek sanstha hai narayan seva sansthan wahan par har divyango ki shadiyan hoti hai aur bahut bade paimane par ki program kiya jata hai aur kahin logo ko wahan panaji wahan jivanadan diya gaya hai aur kai aise logo ki wahan shadiyan hui hai aapas mein hissa hai bahut zyada aapko sochne wali baat nahi hai aap bilkul pyar bhi kar sakte ho shadi bhi kar sakte hain aur apna jeevan bahut achi tarah se jaise baki log batatey hain usi tarah se bita sakte hain ki aam aadmi ki tarah kaam insaan ki tarah bilkul aam jeevan aap bhi sakte hain

जी हां बिलकुल दिव्यांग भी प्यार कर सकते हैं और दिव्यांशी अपना जीवन वैसे ही आप लोगों की तरह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!