इंसान जिस धर्म में पैदा होता है उसी में अक्सर मरता है जबकि उस को पता नहीं होता की वह धर्म सही है या गलत, आपकी राय?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंसान किस धर्म में पैदा होता है उसी में अक्सर मरता है जबकि उसको पता नहीं होता कि वह धर्म सही है या गलत आप की राय हरिओम इंसान जब भी पैदा होता है कोई बालक जब पैदा होता है तो वह किसी न किसी के घर में पैदा होता उसका कोई माता-पिता होता ही है और अगर माता-पिता किसी धर्म को न मानकर के नास्तिक है तो भी बच्चे का जन्म तो हुआ है लेकिन अक्सर दुनिया में कुछ ही क्षेत्र ऐसे हैं जो किसी भी धर्म को नहीं मानते हैं कुछ लोग धर्म को माने अथवा न माने लेकिन उनके माता-पिता का जो धर्म है उसी परिवेश में पैदा होते हैं उसी में बढ़ते हैं लेकिन वह धार्मिक मान्यताओं को बहुत ज्यादा ना तो तू लेते हैं और ना ही उसमें शरीक होते हैं वह अपने काम से काम रखते हैं और परंपराओं के निर्वाह के लिए थोड़ा बहुत उसमें सम्मिलित हो जाते हैं धर्म सही है या गलत धर्म जिसे कहा गया है वह आप के अंतः करण में स्थित चेतना को जागृत करने का जो विधान है और उसकी जो विधियां है उस विधि और विधान उनको धर्म कहा गया है इसे हम चेतना को या ईश्वर को जान सकें इसके अलावा जो भी हमें बाहर रूप से दिखाई देती है वह सब हमारी परंपराएं हैं कि हमारे मन और मस्तिष्क को केवल प्रदूषित करते हैं जिसके कारण एक न एक हम मैंने आवरण जो है धर्म और परंपरा के नाम पर अपने मन और मस्तिष्क पर चढ़ा लेते हैं लेकिन वहां पर धर्म नहीं होता है और इन परंपराओं को कट्टरता के साथ जब एक दूसरे व्यक्ति पर थोपा जाता है तो वहां पर कटता पैदा होती है संघर्ष पैदा होता है और धर्म बाद में जितनी संघर्ष है वह इस कट्टरता का परिणाम है जबकि मूल रूप से धर्म के व्यवहार में सरलता विनम्रता निर्मलता है धर्म का मूल उद्देश्य मानव अपने आप में जीवन काल में किसी भी प्रकार के अवरोधों से उनका उन्मूलन करता हुआ मुक्त रूप से जीवन जीने की कला को जाने और सीखे जिसे हम मुक्त अवस्था कहते हैं मुक्ति कोई मरने के बाद नहीं होती मैंने के बाद में मुक्ति किसने देखी मुक्त अवस्था तो हमारे मन की अंतः करण में विलय के बाद ही जागृत होती है कृष्ण इसीलिए का अंत में था तो बता क्यों मेरा स्मरण करता हुआ अंत में मेरे को प्राप्त होगा जो जैसा चिंतन करेगा यहां पर यही आया कि हमारी मृत्यु में क्या बसा हुआ है और वही बरतिया जो है हमारी मृत्यु के बाद होंगी और तदनुसार ही हमारा अगले जन्म का जो शरीर मिलेगा उसी के अनुरूप होगा इसलिए धर्म सही है इसकी जिज्ञासा अपने जीवन में अगर आप अपनी अंतर इतना में जागृति चाहते हैं तो अवश्य करें जीवन में मुक्त होना सबसे बड़ी उपलब्धि है या उपलब्धि देने वाले संत समाज है लेकिन यहां पर संत किसको कहा गया है यह समझना आवश्यक होगा संत वही व्यक्ति है जो खत विकारों से रहित होकर के जिसमें त्रिगुणात्मक रजोगुण तमोगुण और सतोगुण का विशेष प्रभाव ना हो वह इन गुणों के अंतर्गत आधीन हो करके बर्ताव न करता हूं वहीं गुरु का स्वामी हूं उसे ही संत कहा गया है दैनिक जीवन में हमारे और संत के आवश्यकताओं में कोई विशेष फर्क नहीं होता है हो सकता है किस देश में फर्क हो लेकिन संत पुरुष ग्रस्त में भी हो सकता है सन्यास में भी हो सकता है बालक भी हो सकता है व्रत भी हो सकता है इस्त्री भी हो सकता है पुरुष भी हो सकता है कोई भी जिसकी वृत्तियों में कट विकार और त्रिगुणात्मक विधाएं ना हो वही व्यक्ति संत की परिभाषा में खरे उतरते हैं और वह जानते हैं कि व्यक्ति का उत्थान किस प्रकार होगा और कैसे होगा संत हमें विवेक की जागृति देते हैं जिस जागृति से हम अपना स्वयं का पुनरुद्धार करते हैं हमें दूसरे का उद्धार करने की आवश्यकता तो तब होती है जब हमारा अपना उद्धार हो गया हो हमारा मन निर्मल हो गया हो हमारा अंतःकरण शुद्ध हुआ हो हमारे मन के अंदर विकृतियां और त्रिगुणात्मक प्रभाव ना हो यह सारी वस्तुएं जो है हमें सदुपयोग करने के लिए ईश्वर ने दी है लेकिन हमें इनके आधी नहीं रहना है लेकिन हमारे परिवेश और वातावरण में हमें इनके अधीन बना दिया है क्योंकि वह इन परिवेश और अधिकता के कारण अपना लाभ मुझसे उठाना चाहते हैं वह हमें नहीं होना देना चाहते हैं क्योंकि उनकी आकांक्षाएं इच्छाएं तभी पूरी हो सकती हैं जब हम तदनुसार उनके अनुकूल होकर उनके कहे अनुसार चलें यह समाज का प्रवेश है इसलिए जो संस्कार देने की बात कही जाती है वह संस्कार एक लम्हा है जिस तरीके से तांबे या पीतल के बर्तनों में आप कलाई करते हैं तो उस कलाई को प्रशांत भाषा में संस्कार कहा जाता है किस तरीके से औषध मूल औषध में कुछ अन्य औषधियों को मिला करके उनको हम कहते हैं विशुद्ध कर रहे हैं तो संस्कार जो है कहने के लिए भी शुद्धता है लेकिन हम ऐसे संस्कार दे रहे हैं कि मानव जो है हमारे अपने अनुकूल चले चाहे वह राजनीतिक व्यवस्थाएं हो चाहे धार्मिक व्यवस्था हो पारिवारिक व्यवस्थाएं हैं चाहे वह सामाजिक व्यवस्था हैं अपने अनुकूल व्यक्ति को ढालने की जो प्रक्रिया है परिवार का परिवेश में भी सबसे पहले ही होता कि बच्चा को हम अपने अनुकूल व्यवहार में डालना चाहते हैं और उसे हम अपनी पहचान बनाना चाहते हैं कि बच्चा देखो यह हमारा है और यह अपने मां-बाप और परिवार के पूर्वजों की तरह ही व्यवहार कर रहा है यह संस्कार देना है लेकिन इन संस्कारों में बना हुआ व्यक्ति कभी मुक्त नहीं हो सकता क्योंकि वह परिवार के परिवेश में परिवार के लिए ही उसका एक धारा बनता है और वह उसी अनुरूप उतना ही व्यवहार करेगा उसका व्यवहार

insaan kis dharm me paida hota hai usi me aksar marta hai jabki usko pata nahi hota ki vaah dharm sahi hai ya galat aap ki rai hariom insaan jab bhi paida hota hai koi balak jab paida hota hai toh vaah kisi na kisi ke ghar me paida hota uska koi mata pita hota hi hai aur agar mata pita kisi dharm ko na maankar ke nastik hai toh bhi bacche ka janam toh hua hai lekin aksar duniya me kuch hi kshetra aise hain jo kisi bhi dharm ko nahi maante hain kuch log dharm ko maane athva na maane lekin unke mata pita ka jo dharm hai usi parivesh me paida hote hain usi me badhte hain lekin vaah dharmik manyataon ko bahut zyada na toh tu lete hain aur na hi usme sharique hote hain vaah apne kaam se kaam rakhte hain aur paramparaon ke nirvah ke liye thoda bahut usme sammilit ho jaate hain dharm sahi hai ya galat dharm jise kaha gaya hai vaah aap ke antah karan me sthit chetna ko jagrit karne ka jo vidhan hai aur uski jo vidhiyan hai us vidhi aur vidhan unko dharm kaha gaya hai ise hum chetna ko ya ishwar ko jaan sake iske alava jo bhi hamein bahar roop se dikhai deti hai vaah sab hamari paramparayen hain ki hamare man aur mastishk ko keval pradushit karte hain jiske karan ek na ek hum maine aavaran jo hai dharm aur parampara ke naam par apne man aur mastishk par chadha lete hain lekin wahan par dharm nahi hota hai aur in paramparaon ko kattartaa ke saath jab ek dusre vyakti par thopa jata hai toh wahan par katata paida hoti hai sangharsh paida hota hai aur dharm baad me jitni sangharsh hai vaah is kattartaa ka parinam hai jabki mul roop se dharm ke vyavhar me saralata vinamrata nirmalata hai dharm ka mul uddeshya manav apne aap me jeevan kaal me kisi bhi prakar ke avarodhon se unka unmulan karta hua mukt roop se jeevan jeene ki kala ko jaane aur sikhe jise hum mukt avastha kehte hain mukti koi marne ke baad nahi hoti maine ke baad me mukti kisne dekhi mukt avastha toh hamare man ki antah karan me vilay ke baad hi jagrit hoti hai krishna isliye ka ant me tha toh bata kyon mera smaran karta hua ant me mere ko prapt hoga jo jaisa chintan karega yahan par yahi aaya ki hamari mrityu me kya basa hua hai aur wahi baratiya jo hai hamari mrityu ke baad hongi aur tadanusar hi hamara agle janam ka jo sharir milega usi ke anurup hoga isliye dharm sahi hai iski jigyasa apne jeevan me agar aap apni antar itna me jagriti chahte hain toh avashya kare jeevan me mukt hona sabse badi upalabdhi hai ya upalabdhi dene waale sant samaj hai lekin yahan par sant kisko kaha gaya hai yah samajhna aavashyak hoga sant wahi vyakti hai jo khat vikaron se rahit hokar ke jisme trigunatmak rajogun tamogun aur satogun ka vishesh prabhav na ho vaah in gunon ke antargat adhin ho karke bartaav na karta hoon wahi guru ka swami hoon use hi sant kaha gaya hai dainik jeevan me hamare aur sant ke avashayaktaon me koi vishesh fark nahi hota hai ho sakta hai kis desh me fark ho lekin sant purush grast me bhi ho sakta hai sanyas me bhi ho sakta hai balak bhi ho sakta hai vrat bhi ho sakta hai istree bhi ho sakta hai purush bhi ho sakta hai koi bhi jiski vrittiyon me cut vikar aur trigunatmak vidhaen na ho wahi vyakti sant ki paribhasha me khare utarate hain aur vaah jante hain ki vyakti ka utthan kis prakar hoga aur kaise hoga sant hamein vivek ki jagriti dete hain jis jagriti se hum apna swayam ka punruddhar karte hain hamein dusre ka uddhar karne ki avashyakta toh tab hoti hai jab hamara apna uddhar ho gaya ho hamara man nirmal ho gaya ho hamara antahkaran shudh hua ho hamare man ke andar vikritiyan aur trigunatmak prabhav na ho yah saari vastuyen jo hai hamein sadupyog karne ke liye ishwar ne di hai lekin hamein inke aadhi nahi rehna hai lekin hamare parivesh aur vatavaran me hamein inke adheen bana diya hai kyonki vaah in parivesh aur adhikata ke karan apna labh mujhse uthana chahte hain vaah hamein nahi hona dena chahte hain kyonki unki akanchaye ichhaen tabhi puri ho sakti hain jab hum tadanusar unke anukul hokar unke kahe anusaar chalen yah samaj ka pravesh hai isliye jo sanskar dene ki baat kahi jaati hai vaah sanskar ek lamha hai jis tarike se tambe ya pital ke bartano me aap kalaai karte hain toh us kalaai ko prashant bhasha me sanskar kaha jata hai kis tarike se awasadhi mul awasadhi me kuch anya aushadhiyon ko mila karke unko hum kehte hain vishudh kar rahe hain toh sanskar jo hai kehne ke liye bhi shuddhta hai lekin hum aise sanskar de rahe hain ki manav jo hai hamare apne anukul chale chahen vaah raajnitik vyavasthaen ho chahen dharmik vyavastha ho parivarik vyavasthaen hain chahen vaah samajik vyavastha hain apne anukul vyakti ko dhalne ki jo prakriya hai parivar ka parivesh me bhi sabse pehle hi hota ki baccha ko hum apne anukul vyavhar me dalna chahte hain aur use hum apni pehchaan banana chahte hain ki baccha dekho yah hamara hai aur yah apne maa baap aur parivar ke purvajon ki tarah hi vyavhar kar raha hai yah sanskar dena hai lekin in sanskaron me bana hua vyakti kabhi mukt nahi ho sakta kyonki vaah parivar ke parivesh me parivar ke liye hi uska ek dhara banta hai aur vaah usi anurup utana hi vyavhar karega uska vyavhar

इंसान किस धर्म में पैदा होता है उसी में अक्सर मरता है जबकि उसको पता नहीं होता कि वह धर्म स

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  77
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!