कुछ लोगों को अजान की आवाज से हिंदुस्तान में तकलीफ हो रही है क्या ये सही बात है?...


user

Dr.Ravi Atroliya

रिटायर्डडीएसपी

3:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने खुद ही कह दिया कुछ लोगों को अजान की आवाज से तकलीफ हो रही है मेरे भाई भारत का संविधान जब तक लोकतांत्रिक है भारत का संविधान जब हर धर्म के लोगों को अपने धर्म से पूजा पाठ करने की आजादी देता है जब हिंदुस्तान का संविधान हमें अपनी बात बेबाकी से कहने की अधिकार देता है भारत का संविधान जब सबको बराबर का मानता है तो फिर ऐसे कुछ लोगों से क्यों परेशान होना हमारा संवैधानिक अधिकार है हम अपने अंदाज में अपना भजन पूजन करें आज़ान लगाएं अजान अब क्योंकि एक धर्म विशेष की एक पद्धति है लोगों को मस्जिद तक बुलाकर नमाज में बैठने के लिए पर हमारे धर्म की पद्धति है गुरु धर्म की पद्धति को फॉलो कर रहे हैं तो क्या बुरा कर रहे हैं हां उनको जो कुछ लोग हैं उन्हें आप की अजान से परेशानी नहीं है उनको परेशानी इस बात पर है कि लाउडस्पीकर से क्यों अजान की आवाज आती है उसके सीधा सा जवाब है कि जब इतना वसाहत नहीं थी इतना कोलाहल नहीं था आधुनिक यंत्र नहीं थे यानी कि एंपलीफायर लाउडस्पीकर नहीं था तब मस्जिद से बंदा नवाज दे आवाज लगाता था और वह छोटे से गांव कस्बे में उसके बाद पहुंच जाती थी और उस धर्म के लोग नमाज के लिए वहां इकट्ठे हो जाते थे लेकिन आज जहां इतना कोलाहल शहर में है हो चुका है गांव में भी आबादी बढ़ चुकी है लोग दूर दूर रहते हैं तब वह अगर लाउडस्पीकर इस्तेमाल करते हैं इस बात को लेकर जरूर लोगों को आपत्ति होती है कि यह लड़का क्यों कर रहे हैं तो मेरा यह कहना है कि लाउडस्पीकर से अगर किसी को आपत्ति है और मुस्लिम आबादी के उसी सीमित मस्जिद के आसपास के इलाके में तो बात एक अलग है अदर वाइज फिलहाल भारत सरकार ने भी इस पर कहीं कोई प्रतिबंध नहीं लगा रखा है सभी धर्म के लोग लाउडस्पीकर लगाकर अपने धर्म के प्रचार प्रसार में लगे रहते हैं हिंदू धर्म में कर सुंदरकांड रामायण पाठ हनुमान चालीसा का जो भी पाठ होता है लाउडस्पीकर लगाकर होता है भजन गाते गाते माता रानी का जगराता लवली लगाके करते हैं और गुरबाणी अगर चलती गुरुद्वारे से लगा कर चलते हैं तो यह इस पर ध्यान ना दें बस आप बिल्कुल ध्यान आदि कुछ लोगों पर कुछ लोग राष्ट्र नहीं होते संविधान नहीं होते

aapne khud hi keh diya kuch logo ko ajaan ki awaaz se takleef ho rahi hai mere bhai bharat ka samvidhan jab tak loktantrik hai bharat ka samvidhan jab har dharm ke logo ko apne dharm se puja path karne ki azadi deta hai jab Hindustan ka samvidhan hamein apni baat bebaki se kehne ki adhikaar deta hai bharat ka samvidhan jab sabko barabar ka maanta hai toh phir aise kuch logo se kyon pareshan hona hamara samvaidhanik adhikaar hai hum apne andaaz me apna bhajan pujan kare azan lagaye ajaan ab kyonki ek dharm vishesh ki ek paddhatee hai logo ko masjid tak bulakar namaz me baithne ke liye par hamare dharm ki paddhatee hai guru dharm ki paddhatee ko follow kar rahe hain toh kya bura kar rahe hain haan unko jo kuch log hain unhe aap ki ajaan se pareshani nahi hai unko pareshani is baat par hai ki loudspeaker se kyon ajaan ki awaaz aati hai uske seedha sa jawab hai ki jab itna vasahat nahi thi itna kolahal nahi tha aadhunik yantra nahi the yani ki empalifayar loudspeaker nahi tha tab masjid se banda nawaj de awaaz lagaata tha aur vaah chote se gaon kasbe me uske baad pohch jaati thi aur us dharm ke log namaz ke liye wahan ikatthe ho jaate the lekin aaj jaha itna kolahal shehar me hai ho chuka hai gaon me bhi aabadi badh chuki hai log dur dur rehte hain tab vaah agar loudspeaker istemal karte hain is baat ko lekar zaroor logo ko apatti hoti hai ki yah ladka kyon kar rahe hain toh mera yah kehna hai ki loudspeaker se agar kisi ko apatti hai aur muslim aabadi ke usi simit masjid ke aaspass ke ilaake me toh baat ek alag hai other wise filhal bharat sarkar ne bhi is par kahin koi pratibandh nahi laga rakha hai sabhi dharm ke log loudspeaker lagakar apne dharm ke prachar prasaar me lage rehte hain hindu dharm me kar sundarakand ramayana path hanuman chalisa ka jo bhi path hota hai loudspeaker lagakar hota hai bhajan gaate gaate mata rani ka jagrata lovely lagake karte hain aur gurbani agar chalti gurudware se laga kar chalte hain toh yah is par dhyan na de bus aap bilkul dhyan aadi kuch logo par kuch log rashtra nahi hote samvidhan nahi hote

आपने खुद ही कह दिया कुछ लोगों को अजान की आवाज से तकलीफ हो रही है मेरे भाई भारत का संविधान

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  153
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!