भारत बदल रहा है, लेकिन कैसे?...


play
user

Sa Sha

Journalist since 1986

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां भारत बदल रहा है हर स्तर पर बदल रहा है हर स्तर पर बदलाव कहने का तात्पर्य है कि राष्ट्रीय सामाजिक आर्थिक हर स्तर पर बदल रहा है पर दुख की बात यह है कि यह बदलाव सकारात्मक के बजाय नकारात्मक अधिक है हम आगे पढ़ने के बजाए कि नहीं मामलों में पीछे जा रहे हैं 30 का जो माहौल है उस पर हमारी आजादी सुरक्षा और निजता सब खतरे में है हमारी जेब पर हर पल सरकार की नजर 1 पदों पर सरकारी पहरा पहले ही लग चुका है हालांकि से गुरेज नहीं है पर तैयारी अब जो है वह चिंता का विषय जरूर है बैंक को यह अधिकार दिए जाने वाले हैं कि बैंक चाहे तो हमारे खाते की रकम लौटाने से इंकार कर सकती है इसके लिए एक बिल लाया जा रहा है कोई धर्म से लेकर खान-पान रहन-सहन तक सब कुछ एक वर्ग विशेष द्वारा थोपा जा रहा है फ्रिज परम क्या रखें क्या न रखें यह समझते कर रहा है नफरत की आंधी चल रही है हर कोई एक दूसरे को शक की नजर से देख रहा है क्या बात हिंदू मुस्लिम ईसाई के बीच नफरत के बीज बोए जा रहे हैं देखने नहीं आ रहा है कि काम धंधे कारोबार से ज्यादा सरोकार धर्म और जात पात से हैं हिंसक घटनाएं आम है पीड़ित की मदद को कोई आगे नहीं आता लोग केवल तमाशा बिन नहीं पड़े रहते हिंसक वारदात को अपने कैमरे पर रिकॉर्ड करते हैं और उन्हें सोशल मीडिया पर अपलोड करते हैं भारत ऐसे बदल रहा है या बड़े दुख की बात है

haan bharat badal raha hai har sthar par badal raha hai har sthar par badlav kehne ka tatparya hai ki rashtriya samajik aarthik har sthar par badal raha hai par dukh ki baat yah hai ki yah badlav sakaratmak ke bajay nakaratmak adhik hai hum aage padhne ke bajaye ki nahi mamlon mein peeche ja rahe hai 30 ka jo maahaul hai us par hamari azadi suraksha aur nijata sab khatre mein hai hamari jeb par har pal sarkar ki nazar 1 padon par sarkari pahara pehle hi lag chuka hai halaki se gurez nahi hai par taiyari ab jo hai vaah chinta ka vishay zaroor hai bank ko yah adhikaar diye jaane waale hai ki bank chahen toh hamare khate ki rakam lautane se inkar kar sakti hai iske liye ek bill laya ja raha hai koi dharm se lekar khan pan rahan sahan tak sab kuch ek varg vishesh dwara thopa ja raha hai fridge param kya rakhen kya na rakhen yah samajhte kar raha hai nafrat ki aandhi chal rahi hai har koi ek dusre ko shak ki nazar se dekh raha hai kya baat hindu muslim isai ke beech nafrat ke beej boye ja rahe hai dekhne nahi aa raha hai ki kaam dhande karobaar se zyada sarokar dharm aur jaat pat se hai hinsak ghatnaye aam hai peedit ki madad ko koi aage nahi aata log keval tamasha bin nahi pade rehte hinsak vaardaat ko apne camera par record karte hai aur unhe social media par upload karte hai bharat aise badal raha hai ya bade dukh ki baat hai

हां भारत बदल रहा है हर स्तर पर बदल रहा है हर स्तर पर बदलाव कहने का तात्पर्य है कि राष्ट्री

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  10
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!