मुझे नहीं लगता है की नोटेबंदी के कारन प्रधान मंत्री मोदी ने रिश्वत और काले धन को कम कर दिया है !स्टेटिस्टिक्स क्या है?...


play
user

Vipul Grover

विपुल ग्रोवर, पत्रकार

1:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ठेके गुरप्रीत नोटबंदी की वजह से रिश्वतखोरी कम हुई या नहीं हुई इसके तो कोई आंख में नहीं है हमारे पास परंतु यह तय है कि जो मोदी सरकार ने काले धन की बात की थी वह सरासर झूठ साबित हुई है अगस्त के महीने में आरबीआई ने जो आंकड़े जारी किए उसके मुताबिक 99% 500 और 1000 के नोट जो है आरबीआई को वापस मिल चुके हैं यानी सिर्फ 1% लोग करेंसी है वह अभी वापस नहीं आई है अगर इस को हम कंपेयर करें सरकार ने रोक सुप्रीम कोर्ट में पिछले नवंबर घोषणा की थी मुझे की थी के तकरीबन एक तिहाई जो पैसा है वह वापस नहीं आएगा मतलब वह एक तिहाई पैसा जो है वह काला धन है तो उसे किस-किस को यही कहते हैं कि नोटबंदी के कारण प्रधानमंत्री मोदी कि काले धन को कम होने की 21 उसे मुहिम बताया गया था वह सरासर झूठ निकली

theke gurpreet notebandi ki wajah se rishwat khori kam hui ya nahi hui iske toh koi aankh mein nahi hai hamare paas parantu yah tay hai ki jo modi sarkar ne kaale dhan ki baat ki thi vaah sarasar jhuth saabit hui hai august ke mahine mein RBI ne jo aankade jaari kiye uske mutabik 99 500 aur 1000 ke note jo hai RBI ko wapas mil chuke hain yani sirf 1 log currency hai vaah abhi wapas nahi I hai agar is ko hum compare kare sarkar ne rok supreme court mein pichle november ghoshana ki thi mujhe ki thi ke takareeban ek tihai jo paisa hai vaah wapas nahi aayega matlab vaah ek tihai paisa jo hai vaah kaala dhan hai toh use kis kis ko yahi kehte hain ki notebandi ke karan pradhanmantri modi ki kaale dhan ko kam hone ki 21 use muhim bataya gaya tha vaah sarasar jhuth nikli

ठेके गुरप्रीत नोटबंदी की वजह से रिश्वतखोरी कम हुई या नहीं हुई इसके तो कोई आंख में नहीं है

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  290
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!