आरक्षण के बारे में आपकी क्या राय है ये आरक्षण सही है क्या? एक देश एक कानून एक समान अवसर क्यों नहीं मिल पा र है है?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker

1:14
Play

Likes  107  Dislikes    views  1526
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Saurabh Kumar

Biology student

1:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आरक्षण के बारे में अगर पूछा जाए मुझसे क्यों मैं तो आरक्षण के खिलाफ भाई आरक्षण बिल्कुल भी नहीं होना चाहिए आज के समय में हमारा समाज के प्रत्येक लोग प्रत्येक जाति के प्रत्येक वर्ग के लोग एक सामान्य अवस्था में आ चुके हैं यह मेरा मानना है आप बात रहे कुछ ऐसे जनजाति की बीपी जंगली क्षेत्र के सभी पूर्ण रूप से विकसित नहीं हो चुके हैं सही बात है मैं यह भी मानता हूं कि कुछ ऐसे लोग बचे कुचे हैं जो कि अभी तक विकसित नहीं हो सकते हैं हम लोगों से कंधा से कंधा नहीं मिला सकते अब उनके लिए सिर्फ और सिर्फ आरक्षण होना चाहिए ना कि प्रत्येक नीचे पर की जाती के लिए आरक्षण को अब अर्जुन के नियम में कुछ चेंज करना चाहिए और यह संदेश बहुत ही जल्द करनी चाहिए ठीक है आरक्षण ही लोगों को देना चाहिए जो कि सच में आर्थिक रूप से गरीब हो आर्थिक रूप से उसी चीज की जरूरत हो ना की जाति के आधार पर क्योंकि नीची जाति के बहुत सारे ऐसे लोग हैं हमारे समाज में आपके समाज में आपको देखने के लिए मिल जाएंगे उसकी जाती तो नहीं की है लेकिन वह बहुत ही ऊंचे ऊंचे पद पर है तो क्या उसे आरक्षण की जरूरत है बिल्कुल नहीं है आरक्षण जाति के आधार पर नहीं बल्कि की आर्थिक स्थिति के आधार पर होनी चाहिए यह पूर्ण रूप से मेरी यही राय है

kya aarakshan ke bare mein agar poocha jaaye mujhse kyon main toh aarakshan ke khilaf bhai aarakshan bilkul bhi nahi hona chahiye aaj ke samay mein hamara samaj ke pratyek log pratyek jati ke pratyek varg ke log ek samanya avastha mein aa chuke hain yah mera manana hai aap baat rahe kuch aise janjaati ki BP jungli kshetra ke sabhi purn roop se viksit nahi ho chuke hain sahi baat hai yah bhi manata hoon ki kuch aise log bache kuche hain jo ki abhi tak viksit nahi ho sakte hain hum logo se kandha se kandha nahi mila sakte ab unke liye sirf aur sirf aarakshan hona chahiye na ki pratyek niche par ki jaati ke liye aarakshan ko ab arjun ke niyam mein kuch change karna chahiye aur yah sandesh bahut hi jald karni chahiye theek hai aarakshan hi logo ko dena chahiye jo ki sach mein aarthik roop se garib ho aarthik roop se usi cheez ki zarurat ho na ki jati ke aadhaar par kyonki nichi jati ke bahut saare aise log hain hamare samaj mein aapke samaj mein aapko dekhne ke liye mil jaenge uski jaati toh nahi ki hai lekin vaah bahut hi unche unche pad par hai toh kya use aarakshan ki zarurat hai bilkul nahi hai aarakshan jati ke aadhaar par nahi balki ki aarthik sthiti ke aadhaar par honi chahiye yah purn roop se meri yahi rai hai

क्या आरक्षण के बारे में अगर पूछा जाए मुझसे क्यों मैं तो आरक्षण के खिलाफ भाई आरक्षण बिल्कुल

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  468
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीजेपी आरक्षण शब्द मेरे वतन में आता है मैं सोचता हूं लक्षण शब्द के बारे में तो एक ही ख्याल आता है बाबा की आरक्षण की जो पद्धति है भारत में ऐसा क्यों है जरूरी था एक टाइम पर जब आरक्षण लागू किया गया तो उसको बहुत जरूरत है क्योंकि उस पर छोटे वर्ग के लोगों पर ध्यान नहीं दिया जा रहा था जिसके कारण जो एक बहुत बड़ा हिस्सा था पीछे छूट गया था तो भी जरूरी था कि अगर पूरा मोबाइल कंट्री कोड अनलॉक करना है तो वह जो कभी भी तो हिस्सा है वह भी आगे वाले जो समाज में अपना स्थान रखे उसके लिए आरक्षण दिया गया था लेकिन अभी आप देखेंगे तो आज चुके कास्ट मैसेज भेजो कास्ट भेजना समझ में नहीं आता है क्योंकि अगर आप देखें कि शामली में आपको दो व्यक्ति तीन व्यक्ति को आरक्षण से जो मिला है फायदा मिले तो कहीं न कहीं आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी हो जाती है ठीक है उसके बाद ही फिर भी आप आरक्षण ले गए हैं पीढ़ी दर पीढ़ी आरक्षण हेतु से कोई मतलब नहीं देने का चंद का यही मकसद है जो पीछे द वे लोग हैं उनको आगे बढ़ जाए तो वैसे लोग दिल को क्या वचन से जॉब मिल चुके हैं इसके पीछे नहीं रह जाते हैं वैसे लोग को आरक्षण का लाभ नहीं लेना चाहिए दूसरी चीज की ना देखे नेता नेता है आज उनसे नेता बन जाते हैं आप उसके बाद ऑफिस की एक एक पुस्तक तो आराम से अच्छे से चल सकते हैं फिर भी आरक्षण का लाभ ले पी ले पी ले कर देते और वैसे ही सबको मिलना चाहिए अभी तक नहीं मिल पाता यह बहुत जरूरी है कि लोग इसको समझे और बहुत हाईलाइट किया है सब लोग हैं मतलब कि खुश हैं कि समझ नहीं आ रहा छोड़ना नहीं चाह रहे लोगों को प्रेरित करना होगा इस चीज को छोड़ने के लिए ठीक है तो बहुत जरूरी है कि लोग समझे और सही व्यक्ति से पहुंच पाए

bjp aarakshan shabd mere vatan mein aata hai sochta hoon lakshan shabd ke bare mein toh ek hi khayal aata hai baba ki aarakshan ki jo paddhatee hai bharat mein aisa kyon hai zaroori tha ek time par jab aarakshan laagu kiya gaya toh usko bahut zarurat hai kyonki us par chote varg ke logo par dhyan nahi diya ja raha tha jiske karan jo ek bahut bada hissa tha peeche chhut gaya tha toh bhi zaroori tha ki agar pura mobile country code unlock karna hai toh vaah jo kabhi bhi toh hissa hai vaah bhi aage waale jo samaj mein apna sthan rakhe uske liye aarakshan diya gaya tha lekin abhi aap dekhenge toh aaj chuke caste massage bhejo caste bhejna samajh mein nahi aata hai kyonki agar aap dekhen ki shamili mein aapko do vyakti teen vyakti ko aarakshan se jo mila hai fayda mile toh kahin na kahin aapki aarthik sthiti achi ho jaati hai theek hai uske baad hi phir bhi aap aarakshan le gaye hain peedhi dar peedhi aarakshan hetu se koi matlab nahi dene ka chand ka yahi maksad hai jo peeche the ve log hain unko aage badh jaaye toh waise log dil ko kya vachan se job mil chuke hain iske peeche nahi reh jaate hain waise log ko aarakshan ka labh nahi lena chahiye dusri cheez ki na dekhe neta neta hai aaj unse neta ban jaate hain aap uske baad office ki ek ek pustak toh aaram se acche se chal sakte hain phir bhi aarakshan ka labh le p le p le kar dete aur waise hi sabko milna chahiye abhi tak nahi mil pata yah bahut zaroori hai ki log isko samjhe aur bahut highlight kiya hai sab log hain matlab ki khush hain ki samajh nahi aa raha chhodna nahi chah rahe logo ko prerit karna hoga is cheez ko chodne ke liye theek hai toh bahut zaroori hai ki log samjhe aur sahi vyakti se pohch paye

बीजेपी आरक्षण शब्द मेरे वतन में आता है मैं सोचता हूं लक्षण शब्द के बारे में तो एक ही ख्याल

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  270
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!