स्टॉक मार्केट क्रैश में कौनसे शेयर नीचे जाते हैं?...


play
user

Sa Sha

Journalist since 1986

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब कभी बाजार टूटता है कौन से सेहत नीचे जाते हैं हम इस पर बात करेंगे कुल मिलाकर हाल के दिनों में पारा बाजार में तेजी देखने को मिली है लेकिन बाजार विशेषज्ञों का मानना है कि नए साल में चलती बाजार पर एक करेक्शन देखने को मिलेगा सबसे ज्यादा जिम सेक्टर पर भार पड़ने वाली है उनमें सबसे पहला नाम रियल एस्टेट केंद्र सरकार द्वारा रेरा यानी रियल एस्टेट रेगुलेशन एक्ट लाने के बाद वैसे ही रियल एस्टेट की हालत पतली है बाजार में करेक्शन आने से सबसे ज्यादा इसे सेक्टर पर पड़ेगा माना जा रहा है इसके बाद बैंकिंग हो सकता है बैंक में नॉन परफॉर्मिंग एसेट को लेकर पहले यह हाय तौबा मची हुई है और करेक्शन के बाद माना जा रहा है बैंकिंग सेक्टर में भी क्राफ्ट नीचे जाएगा इसके बाद जो और एक सेक्टर है ऑटोमोबाइल सेक्टर उसे भी झटका लगने वाला है नए साल यानी 2018 की शुरुआत में गाड़ी की जितनी भी होनी हो चुकी होगी जीएसटी के बाद वैसे ही कारों की बिक्री पर असर ना पड़े इसके लिए जीएसटी लागू होने से पहले ही तमाम कार और दुपहिया वाहनों के निर्माताओं ने अच्छी खासी छूट दी थी 12000 से लेकर डेढ़ लाख तक की थी जाहिर जीएसटी लागू होने से पहले तक बाजार में कितनी रौनक बनी थी बन गई लेकिन जीएसटी के बाद गाड़ी की बिक्री कुछ खास नहीं है उस पर वित्त वर्ष के आखिरी तिमाही में कारों की बिक्री लतपत नहीं के बराबर होती है तो ऐसा लगता है कि जब आजा टूटेगा तो इन क्षेत्रों में

jab kabhi bazaar tootata hai kaunsi sehat niche jaate hain hum is par baat karenge kul milakar haal ke dino mein para bazaar mein teji dekhne ko mili hai lekin bazaar vishesagyon ka manana hai ki naye saal mein chalti bazaar par ek correction dekhne ko milega sabse zyada gym sector par bhar padane wali hai unmen sabse pehla naam real estate kendra sarkar dwara rera yani real estate regulation act lane ke baad waise hi real estate ki halat patli hai bazaar mein correction aane se sabse zyada ise sector par padega mana ja raha hai iske baad banking ho sakta hai bank mein non parafarming asset ko lekar pehle yah hi tauba machi hui hai aur correction ke baad mana ja raha hai banking sector mein bhi craft niche jaega iske baad jo aur ek sector hai automobile sector use bhi jhatka lagne vala hai naye saal yani 2018 ki shuruat mein gaadi ki jitni bhi honi ho chuki hogi gst ke baad waise hi kaaron ki bikri par asar na pade iske liye gst laagu hone se pehle hi tamaam car aur duphiya vahanon ke nirmaataon ne achi khasee chhut di thi 12000 se lekar dedh lakh tak ki thi jaahir gst laagu hone se pehle tak bazaar mein kitni raunak bani thi ban gayi lekin gst ke baad gaadi ki bikri kuch khaas nahi hai us par vitt varsh ke aakhiri timaahi mein kaaron ki bikri latpat nahi ke barabar hoti hai toh aisa lagta hai ki jab aajad tootega toh in kshetro mein

जब कभी बाजार टूटता है कौन से सेहत नीचे जाते हैं हम इस पर बात करेंगे कुल मिलाकर हाल के दिनो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  59
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!