क्या सारे मुस्लिम को इंडिया से बहार निकला जा सकता है?...


play
user

Gopalkrishna Vishwanath

Retired Engineer

0:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल नहीं उनको इस देश में रहने का उतना ही हक है जितना हिंदुओं को सिखों को और अन्य धर्म के लोगों को याद रखिए कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है आपको अपने मन से ऐसे विचार निकालना चाहिए

bilkul nahi unko is desh mein rehne ka utana hi haq hai jitna hinduon ko Sikhon ko aur anya dharm ke logo ko yaad rakhiye ki bharat ek dharmanirapeksh rajya hai aapko apne man se aise vichar nikalna chahiye

बिल्कुल नहीं उनको इस देश में रहने का उतना ही हक है जितना हिंदुओं को सिखों को और अन्य धर्म

Romanized Version
Likes  106  Dislikes    views  2572
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Mehmood Alum

Law Student

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह हमारे देश का दुर्भाग्य है कि हमारे देश की राजनीति विकास आधारित ना होकर जाति और धर्म आधारित है जिसकी वजह से हमारे देश में आए दिन संप्रदायिक तनाव होते रहते हैं और हमारे देश को भारी नुकसान होता रहता है अच्छा होता अगर हमारे देश की राजनीति विकास शिक्षा स्वास्थ्य और अन्य मूलभूत सुविधाओं के विकास पर हो केंद्रित होती रही बात मुसलमानों को देश से बाहर निकालने की तो ऐसा व्यवहारिक रूप से संभव नहीं है क्योंकि देश में लगभग 20 करोड़ मुसलमान है और याद रखा जाना चाहिए कि जो देश धर्म के नाम पर बड़े आता है वह सदियों पीछे चला जाता है उसके विकास कार्य उसके धर्म आधारित राजनीति की वजह से सफल हो जाते हैं

yah hamare desh ka durbhagya hai ki hamare desh ki raajneeti vikas aadharit na hokar jati aur dharm aadharit hai jiski wajah se hamare desh mein aaye din sampradaayik tanaav hote rehte hain aur hamare desh ko bhari nuksan hota rehta hai accha hota agar hamare desh ki raajneeti vikas shiksha swasthya aur anya mulbhut suvidhaon ke vikas par ho kendrit hoti rahi baat musalmanon ko desh se bahar nikalne ki toh aisa vyavaharik roop se sambhav nahi hai kyonki desh mein lagbhag 20 crore musalman hai aur yaad rakha jana chahiye ki jo desh dharm ke naam par bade aata hai vaah sadiyon peeche chala jata hai uske vikas karya uske dharm aadharit raajneeti ki wajah se safal ho jaate hain

यह हमारे देश का दुर्भाग्य है कि हमारे देश की राजनीति विकास आधारित ना होकर जाति और धर्म आधा

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  254
WhatsApp_icon
user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल बहुत महत्वपूर्ण है कि क्या हिंदुस्तान से मुसलमानों को निकाल देना चाहिए तो दोस्त अगर हम यह कहे कि मुसलमानों को हिंदुस्तान से निकाल देना चाहिए तो क्या गारंटी है कि हिंदू हिंदू से झगड़ा नहीं करेगा क्या गारंटी है कि सिख सिख से झगड़ा नहीं करेगा किसी को बाहर निकालने से किसी को घर में रखने से कुछ फर्क नहीं पड़ता घर का एक परिवार हिंदू की तो बात ही छोड़ दो मुसलमान की तो बात ही छोड़ दो सिर्फ बात ही छोड़ दो किसी धर्म की बात भी छोड़ दो किसी एक घर में अगर विचारों से वह घर में जो इंसान रह रहे हैं उनके विचार एक ना हो तो उनके घर में झगड़ा हो जाता है इसलिए मुसलमानों को बाहर इंडिया से निकालो या इंडिया में रहने दो कोई फर्क नहीं पड़ता फर्क तो तभी पड़ेगा जब हम सबकी विचार एक होंगे और विचार तभी एक होंगे जब हम अच्छाई तो जाने ही जाने साथ में बुराई को भी जाने कि बुरा क्या है अच्छा तो है ही हम जो है सिर्फ अच्छाइयों को देखते देखते देखते देखते और सिर्फ अपनी को यह मेरी कितनी इच्छा है दूसरे की अच्छाइयों को भूल जाते हैं अपनी बुराइयों को भूल जाते हैं दूसरे की अच्छाइयों को भूल जाते हैं तो कहीं ना कहीं कहीं ना कहीं जब जो होना है वह होकर रहना ही है हिंदुस्तान में मुसलमानों को रहने दो सिखों को रहने दो हिंदुओं को रहने दो उसका कोई मतलब नहीं रखता जब झगड़ा होना है तो आपस में झगड़ा भी मुसलमानों में ही शिया और सुन्नियों में आपस में झगड़ा है क्या करा मुसलमानों ने इसलिए हिंदुओं में है झगड़ा है कभी कोई पंडितों में झगड़ा है कभी क्षत्रिय हूं मैं पंडित हूं मैं शूद्र हूं मैं वैश्य हूं मैं तो किस चीज को हट आओगे नामुमकिन है धन्यवाद

sawaal bahut mahatvapurna hai ki kya Hindustan se musalmanon ko nikaal dena chahiye toh dost agar hum yah kahe ki musalmanon ko Hindustan se nikaal dena chahiye toh kya guarantee hai ki hindu hindu se jhagda nahi karega kya guarantee hai ki sikh sikh se jhagda nahi karega kisi ko bahar nikalne se kisi ko ghar me rakhne se kuch fark nahi padta ghar ka ek parivar hindu ki toh baat hi chhod do musalman ki toh baat hi chhod do sirf baat hi chhod do kisi dharm ki baat bhi chhod do kisi ek ghar me agar vicharon se vaah ghar me jo insaan reh rahe hain unke vichar ek na ho toh unke ghar me jhagda ho jata hai isliye musalmanon ko bahar india se nikalo ya india me rehne do koi fark nahi padta fark toh tabhi padega jab hum sabki vichar ek honge aur vichar tabhi ek honge jab hum acchai toh jaane hi jaane saath me burayi ko bhi jaane ki bura kya hai accha toh hai hi hum jo hai sirf acchhaiyon ko dekhte dekhte dekhte dekhte aur sirf apni ko yah meri kitni iccha hai dusre ki acchhaiyon ko bhool jaate hain apni buraiyon ko bhool jaate hain dusre ki acchhaiyon ko bhool jaate hain toh kahin na kahin kahin na kahin jab jo hona hai vaah hokar rehna hi hai Hindustan me musalmanon ko rehne do Sikhon ko rehne do hinduon ko rehne do uska koi matlab nahi rakhta jab jhagda hona hai toh aapas me jhagda bhi musalmanon me hi shiya aur sunniyon me aapas me jhagda hai kya kara musalmanon ne isliye hinduon me hai jhagda hai kabhi koi pandito me jhagda hai kabhi kshatriya hoon main pandit hoon main shudra hoon main vaiishay hoon main toh kis cheez ko hut aaoge namumkin hai dhanyavad

सवाल बहुत महत्वपूर्ण है कि क्या हिंदुस्तान से मुसलमानों को निकाल देना चाहिए तो दोस्त अगर ह

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  66
WhatsApp_icon
user

Dheeraj Singh

BA & BHM graduate

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आखिर क्यों निकालना है मुस्लिमों को इंडिया से बाहर मुझे तो यही समझ में नहीं आता यह प्रश्न जैन धर्म के कारण है धर्म तो हो गए हैं बहुत पुराने अरुण के मती मत बचे हैं इसलिए मैं अनुग्रह करूंगा मुस्लिम भाइयों हिंदू भावनाओं से कि कट्टरपंथी की विचार भावना को दरकिनार कीजिए वह धर्म बहुत पुराने हो चुके हैं धर्म का मतलब तो उस समय हुआ करता था जो सत्य सत्य और सनातन जो सत्य है समय आते आते ही उसकी व्यवस्था इस तरह से भरने की अंतिम सांसों में बदल गया लेकिन हमें हमारा सबसे पहला जनता ही सबसे बड़ी चीज होती है हम मनुष्य ही एक दूसरे की भावनाओं को समझ सकते हैं एक दूसरे को समझना होगा एक दूसरे की भावना की कदर करनी होगी इसके लिए जो समाज में बुद्धिजीवी लोग अच्छी राजनीतिक लोग कुशल लोग जो हैं इस व्यवस्था को इस व्यवस्था से हमको जो है इस व्यवस्था को दुरुस्त कर सकते हैं एक अच्छी शिक्षा व्यवस्था और विज्ञान ही जो है इस तरह की सोच ओसिया मुझे याद दिला सकता है हमें मिलकर जयराज एक राष्ट्र बनाना है हमें विकास की तरफ देखने हैं हमें विज्ञान की तरफ देखने हमारा काम होना चाहिए प्रकृति का सृजन विकास विकास मिस्त्री की बातें क्यों करनी है कौन हिंदू को मुस्लिम कौन है जी आप पुरानी अंधविश्वासों को पुरानी बातों को बातों को भूल जाओ तो यही सही होगा मेरा कहना है कि क्यों नहीं के कारण जो इतने मात्र एक निजी जाते अगर तुम्हें कोई भी चीज जानी है तो खुद से जानू तुम्हें भगवान ने भगवान ने धरती में जानना है तो खुद उस चीज को जन्म उस चीज को जानो अगर तुम्हें आती ही भी चीज को जान दिखा कर दो खुद से जाने का किसी की बातों में मत पड़ो एक दूसरे से प्रेम करो मिल जुल कर रहो और जो है इस प्रकृति का सृजन करो तभी परमात्मा की प्राप्ति होगी धर्मों की बकवास मत लो

aakhir kyon nikalna hai muslimo ko india se bahar mujhe toh yahi samajh mein nahi aata yah prashna jain dharm ke karan hai dharm toh ho gaye hain bahut purane arun ke mati mat bache hain isliye main anugrah karunga muslim bhaiyo hindu bhavnao se ki kattarapanthi ki vichar bhavna ko darakinar kijiye vaah dharm bahut purane ho chuke hain dharm ka matlab toh us samay hua karta tha jo satya satya aur sanatan jo satya hai samay aate aate hi uski vyavastha is tarah se bharne ki antim shanson mein badal gaya lekin hamein hamara sabse pehla janta hi sabse badi cheez hoti hai hum manushya hi ek dusre ki bhavnao ko samajh sakte hain ek dusre ko samajhna hoga ek dusre ki bhavna ki kadar karni hogi iske liye jo samaj mein buddhijeevi log achi raajnitik log kushal log jo hain is vyavastha ko is vyavastha se hamko jo hai is vyavastha ko durast kar sakte hain ek achi shiksha vyavastha aur vigyan hi jo hai is tarah ki soch osia mujhe yaad dila sakta hai hamein milkar jayaraj ek rashtra banana hai hamein vikas ki taraf dekhne hain hamein vigyan ki taraf dekhne hamara kaam hona chahiye prakriti ka srijan vikas vikas mistiri ki batein kyon karni hai kaun hindu ko muslim kaun hai ji aap purani andhvishvaso ko purani baaton ko baaton ko bhool jao toh yahi sahi hoga mera kehna hai ki kyon nahi ke karan jo itne matra ek niji jaate agar tumhe koi bhi cheez jani hai toh khud se janu tumhe bhagwan ne bhagwan ne dharti mein janana hai toh khud us cheez ko janam us cheez ko jano agar tumhe aati hi bhi cheez ko jaan dikha kar do khud se jaane ka kisi ki baaton mein mat pado ek dusre se prem karo mil jul kar raho aur jo hai is prakriti ka srijan karo tabhi paramatma ki prapti hogi dharmon ki bakwas mat lo

आखिर क्यों निकालना है मुस्लिमों को इंडिया से बाहर मुझे तो यही समझ में नहीं आता यह प्रश्न ज

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  456
WhatsApp_icon
user

Sunil

Kapade.ka.shap

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सारे मुस्लिमों को इंडियन मुस्लिम बनाया जा सकता है लेकिन क्लियर से नहीं निकाला जा सकता है मतलब है शाम संस्कारी हमसे

saare muslimo ko indian muslim banaya ja sakta hai lekin clear se nahi nikaala ja sakta hai matlab hai shaam sanskari humse

सारे मुस्लिमों को इंडियन मुस्लिम बनाया जा सकता है लेकिन क्लियर से नहीं निकाला जा सकता है म

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सारे मुस्लिम्स को निकालना भारत से एक बहुत बड़ा कदम होगा इसके बाद जो हमारा भारतीय देश है वह सिर्फ एक धार्मिक देश बन जाएगा जिसमें सिर्फ हिंदू धर्म के लोग होंगे इसमें हमारे भारत को काफी सारी परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं अभी तक के जो भारत का गौरव है वह यह है कि इसमें सभी धर्म के लोग निवास करते हैं लेकिन फिर इसके बाद काफी सारी मुश्किलें बढ़ जाएंगे और यदि किसी आदमी कोई मुस्लिम नहीं निकल पाया काफी सारे लोगों की मजबूरी होती है जो पैदा यहीं पर हुए काफी टाइम से यहां पर रह रहे हैं तूने निकालने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है

dekhiye saare Muslims ko nikalna bharat se ek bahut bada kadam hoga iske baad jo hamara bharatiya desh hai vaah sirf ek dharmik desh ban jaega jisme sirf hindu dharm ke log honge isme hamare bharat ko kaafi saree pareshaniya jhelani pad sakti hai abhi tak ke jo bharat ka gaurav hai vaah yah hai ki isme sabhi dharm ke log niwas karte hai lekin phir iske baad kaafi saree mushkilen badh jaenge aur yadi kisi aadmi koi muslim nahi nikal paya kaafi saare logo ki majburi hoti hai jo paida yahin par hue kaafi time se yahan par reh rahe hai tune nikalne mein kaafi dikkat ka samana karna pad sakta hai

देखिए सारे मुस्लिम्स को निकालना भारत से एक बहुत बड़ा कदम होगा इसके बाद जो हमारा भारतीय देश

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  233
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!