क्या गुजरात उन्नति की प्लान सच है या जूट?...


play
user

Sa Sha

Journalist since 1986

1:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुजरात के विकास के तौर पर कुछ छोटे बड़े उद्योग और सरदार सरोवर का नाम लिया जाता है यह सच है कि गुजरात में कुछ उद्योग लगी है लेकिन जहां तक सरदार सरोवर से लाभ का सवाल है तो किसानों के बजाय उद्योगों को इसका लाभ कहीं ज्यादा मिलता है कपास किसान आत्महत्या कर रहे हैं द्वारका जैसे कई इलाकों में 15 दिनों में एक बार पानी आता है आम आदमी ₹20 प्रति लीटर पानी खरीदकर पीता है वही सरकार उद्योगों को ₹10 प्रति हजार लीटर पानी दे रही है कुल मिलाकर आम जनता को इसका लाभ नहीं मिल रहा है दूसरी तरफ गुजरात के बच्चे कुपोषण के शिकार हैं गुजरात में बेरोजगारी बढ़ी है हालांकि बेरोजगारी तो पूरे देश में बड़ी है लेकिन अगर गुजरात मॉडल की बात कर रही है तो गुजरात में यह समस्या नहीं होनी चाहिए थी तीसरी बार गुजरात का पाटीदार समाज जो मोदी का सबसे बड़ा समर्थक रहा है आज आरक्षण की मांग को लेकर मोदी विरोधी हो गया मोदी इनकी नाक में नकेल डालने में कामयाब नहीं हो पाई हैं और अब यह पाटीदार समाज मोदी और भाजपा के लिए बड़ी चुनौती बन गया है अगर आज मैं वाकई विकास हुआ होता तो इस बार का चुनाव भी गुजरात मॉडल के नाम पर लड़ा जाता है जैसा कि 2014 में किया गया था इस पर चुनाव अभियान में गुजरात मॉडल सीने से नदारत है भाजपा ने इसका कहीं कोई जिक्र नहीं किया क्या सकते है कि गुजरात मॉडल का जो चोर मचाए जा रहा था उसकी सच्चाई सामने आ गई है गुजरात के विकास के नाम पर कुछ उद्योगपति यो का विकास जरूर हुआ है

gujarat ke vikas ke taur par kuch chote bade udyog aur sardar sarovar ka naam liya jata hai yah sach hai ki gujarat mein kuch udyog lagi hai lekin jaha tak sardar sarovar se labh ka sawaal hai toh kisano ke bajay udhyogo ko iska labh kahin zyada milta hai kapaas kisan atmahatya kar rahe hai dwarka jaise kai ilako mein 15 dino mein ek baar paani aata hai aam aadmi Rs prati litre paani kharidkar pita hai wahi sarkar udhyogo ko Rs prati hazaar litre paani de rahi hai kul milakar aam janta ko iska labh nahi mil raha hai dusri taraf gujarat ke bacche kuposhan ke shikaar hai gujarat mein berojgari badhi hai halaki berojgari toh poore desh mein baadi hai lekin agar gujarat model ki baat kar rahi hai toh gujarat mein yah samasya nahi honi chahiye thi teesri baar gujarat ka patidaar samaj jo modi ka sabse bada samarthak raha hai aaj aarakshan ki maang ko lekar modi virodhi ho gaya modi inki nak mein nakel dalne mein kamyab nahi ho payi hai aur ab yah patidaar samaj modi aur bhajpa ke liye baadi chunauti ban gaya hai agar aaj main vaakai vikas hua hota toh is baar ka chunav bhi gujarat model ke naam par lada jata hai jaisa ki 2014 mein kiya gaya tha is par chunav abhiyan mein gujarat model seene se nadarat hai bhajpa ne iska kahin koi jikarr nahi kiya kya sakte hai ki gujarat model ka jo chor machaye ja raha tha uski sacchai saamne aa gayi hai gujarat ke vikas ke naam par kuch udyogpati yo ka vikas zaroor hua hai

गुजरात के विकास के तौर पर कुछ छोटे बड़े उद्योग और सरदार सरोवर का नाम लिया जाता है यह सच है

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

shreypriyavrat

Politics, economy, computers.

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोगों के लिए उन्नति के मापदंड विभिन्न हो सकते हैं पिछले 15 वर्षों के अंतराल में गुजरात के अंदर बुनियादी सुविधाएं जैसे 24 घंटे बिजली उपलब्ध होना लगभग हर क्षेत्र में पीने के पानी की उपलब्धता चौड़ी और सुंदर सड़कें और शांतिपूर्ण माहौल का प्रबंध बीजेपी सरकार ने करवाया है खेती में भी सरकार की कुछ कदमों के कारण आधुनिक तकनीकों के इस्तेमाल से अच्छा काम हुआ है इन सुविधाओं के कारण यहां के नागरिक सुकून से एक दूसरे के साथ मिलकर अपना धंधा एवं व्यवसाय चला पा रहे हैं इसके उपरांत यहां गुजरात के लोग मूल्य तक काफी धर्म और सेवा से जुड़े समाज की बुराइयां जैसे जातिवाद से ऊपर और एक दूसरे की मदद करने वालों में से हैं सरकार के कदमों को मिला दे तो एक आम नागरिक को सुकून के जीवन जी रहा है और शायद यही उन्नति है

logon ke liye unnati ke maapdand vibhinn ho sakte hai pichle 15 varshon ke antaral mein gujarat ke andar buniyadi suvidhaen jaise 24 ghante bijli uplabdh hona lagbhag har kshetra mein peene ke paani ki upalabdhata chaudi aur sundar sadaken aur shantipurna maahaul ka prabandh bjp sarkar ne karvaya hai kheti mein bhi sarkar ki kuch kadmon ke karan aadhunik taknikon ke istemal se accha kaam hua hai in suvidhaon ke karan yahan ke nagarik sukoon se ek dusre ke saath milkar apna dhandha evam vyavasaya chala paa rahe hai iske uprant yahan gujarat ke log mulya tak kaafi dharm aur seva se jude samaj ki buraiyan jaise jaatiwad se upar aur ek dusre ki madad karne walon mein se hai sarkar ke kadmon ko mila de toh ek aam nagarik ko sukoon ke jeevan ji raha hai aur shayad yahi unnati hai

लोगों के लिए उन्नति के मापदंड विभिन्न हो सकते हैं पिछले 15 वर्षों के अंतराल में गुजरात के

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  72
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!