रघुराम राजन नोटेबंदी के पक्ष में क्यों नहीं थे?...


play
user

Sa Sha

Journalist since 1986

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रघुराम राजन नोटबंदी के खिलाफ क्यों थे दरअसल राजन के साथ सरकार के बहुत अच्छे नहीं बन रही थी जब मोदी सरकार बनी थी तभी से रिजर्व बैंक के तत्कालीन गवर्नर रघुराम राजन के साथ संबंध बहुत अच्छे नहीं थे इसका कारण है कि राजन कांग्रेस के राज में गवर्नर बने और मोदी के साथ कई मामलों में धीरे-धीरे राजन के मतभेद उभरने लगे थे नोटबंदी भी इन्ही मे से विदेश से काला धन मोदी नहीं आ सके 55 लाख हर भारतीय के खाते में दिए जाने की जो सबसे बाद मोदी ने दिखाए थे वे उसे पूरा नहीं कर पाए इस कारण मोदी देश के भीतर काला काला धन निकालने के लिए नोटबंदी का प्रस्ताव रिजर्व बैंक के तत्कालीन गवर्नर रघुराम राजन के सामने रखा राजन ने इसका समर्थन नहीं किया यही से सरकार के रिश्ते राजन के साथ खराब होने शुरू हुई और धीरे-धीरे इनके बीच रिश्ते असहज होते हैं सरकार को रघुराम राजन के रिटायर होने तक का इंतजार करना पड़ा और रही बात राजन नोटबंदी के खिलाफ क्यों थे तो इसका खुलासा उन्होंने अपनी किताब आई डू व्हाट आई डू में किया है उन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि नोटबंदी से थोड़े समय के लिए भले ही लाखों पर लंबी अवधि में उसका नुकसान देश को भारी पड़ेगा यह देश के खिलाफ तरनतारन की जगह उर्जित पटेल रिजर्व बैंक के गवर्नर बनाया जाता है उर्जित पटेल के रिश्ते बीजेपी के साथ बहुत अच्छे थे 8 नवंबर को नोटबंदी हो गई और जो आशंका राजन ने जताई थी वही हुआ थोड़े समय के लिए लाभ मिला जनता कुश्ती की काला धन

raghuram rajan notebandi ke khilaf kyon the darasal rajan ke saath sarkar ke bahut acche nahi ban rahi thi jab modi sarkar bani thi tabhi se reserve bank ke tatkalin governor raghuram rajan ke saath sambandh bahut acche nahi the iska karan hai ki rajan congress ke raj mein governor bane aur modi ke saath kai mamlon mein dhire dhire rajan ke matbhed ubharane lage the notebandi bhi inhi mein se videsh se kaala dhan modi nahi aa sake 55 lakh har bharatiya ke khate mein diye jaane ki jo sabse baad modi ne dekhiye the ve use pura nahi kar paye is karan modi desh ke bheetar kaala kaala dhan nikalne ke liye notebandi ka prastaav reserve bank ke tatkalin governor raghuram rajan ke saamne rakha rajan ne iska samarthan nahi kiya yahi se sarkar ke rishte rajan ke saath kharab hone shuru hui aur dhire dhire inke beech rishte asahaj hote hain sarkar ko raghuram rajan ke retire hone tak ka intejar karna pada aur rahi baat rajan notebandi ke khilaf kyon the toh iska khulasa unhone apni kitab I do what I do mein kiya hai unhone saaf shabdon mein kaha hai ki notebandi se thode samay ke liye bhale hi laakhon par lambi awadhi mein uska nuksan desh ko bhari padega yah desh ke khilaf taranataran ki jagah urjit patel reserve bank ke governor banaya jata hai urjit patel ke rishte bjp ke saath bahut acche the 8 november ko notebandi ho gayi aur jo ashanka rajan ne jatai thi wahi hua thode samay ke liye labh mila janta kushti ki kaala dhan

रघुराम राजन नोटबंदी के खिलाफ क्यों थे दरअसल राजन के साथ सरकार के बहुत अच्छे नहीं बन रही थी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  18
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!