हिंदू धर्म से आप क्या समझते हैं?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है हिंदू धर्म से आप क्या समझते हैं तो सबसे पहले आपको यह जानना होगा कि हिंदू जो है यह शब्द क्या है और धर्म क्या है जो धर्म की परिभाषा है हमारे यहां भारत भूमि पर वह अधारेते धर्म हटा दो हम धारण करते हैं वही धर्म है अर्थात हर यह जीवन जीने की एक कला है अर्थात धर्म जीवन को सरल बनाता है जीवन को उपयोगी बनाता है जीवन को आनंदमय बनाता है कुल मिलाकर जीवन के लिए धर्म है ना कि धर्म के लिए जीवन और इस धर्म का ना कोई आज है ना अंत है इसीलिए इसे सनातन धर्म कहा जाता है एक सनातन परंपरा है सनातन धर्म धर्म से भी कहीं आगे एक जीवन जीने की पद्धति है जो जीवन के लिए जीवन को सुचारू शुभम सानंद बनाने के लिए अब बात आती है हिंदू क्या तो जब पहली बार अरेबियन लोग फांसी लोग आज यह हमारे देश की तरफ आए तो इन्होंने सिंधु नदी को देखा और उसका नाम शमा सिंधु तो भाषा विज्ञान में कुछ अक्षर स्थान के साथ बदल जाते हैं जैसे आपने देखा होगा कि अवधी भाषा में आने पर या काजा हो जाता है जो यमुना है लोग जमुना बोलेंगे युद्ध को युद्ध बोलेंगे यज्ञ को जग्गू बोलेंगे तो या कर्जा हो जाता सरयू क्यों सरजू बोलेंगे उसी प्रकार का कहां हो जाता है अरब इयर कंट्री जाल में जाकर तू तो हमारी सिंदूरा दी थी उसको हम लोगों ने हिंदू खाना शुरू किया हिंदू नदी और हिंदू के इस पार की भूत चित्रकूट लोगों ने हिंदुस्तान का अन्य अगर हम लोग बोलते साहब लोग उन लोगों ने हिसार के भूत के चित्र को हिंदुस्तान का और हिंदुस्तान के निवासियों को हिंदू का इस प्रकार की भौगोलिक दृष्टि से हम लोग समझें जो भी सिंबू के इस पार हैं वह सब हिंदुस्तानी है और सभी हिंदुस्तानी हिंदू है किंतु खास बात यह है कि वह लोग जब यहां पर आए तुम लोगों ने स्वयं को हिंदू नहीं माना यहां पहले से रह रहे लोगों को हिंदू माना उनकी नजर में बौद्ध भी हिंदू थे उनकी नजर में चयन भी हिंदू थे उनकी नजर में हिंदू तो हिंदू थे जिन्हें आज आप हिंदी समझते हो अर्थात सनातन धर्म के लोग अब कुल मिलाकर यह समझ में आया कि सनातन धर्म के लोगों को ही हिंदू कहा गया यानी जिन लोगों का यह धर्म है यह नाम उनका अपना दिया हुआ नाम नहीं है बल्कि यह नाम हूं लोगों का दिया हुआ है जो इस धर्म को मिटाने के लिए पीछे पड़े होते और दुनिया भर की पहली बारी चल रही है इस धर्म का खात्मा करने उन लोगों को द्वारा दिया गया यह नाम है हिंदू हिंदू धर्म और कुछ नहीं सनातन धर्म का ही दूसरा नाम है और सनातन धर्म इस पूरी पृथ्वी का सबसे प्राचीनतम धर्म है सबसे प्राचीन जीवन पद्धति है जो जीवन के लिए वसुधैव कुटुंबकम जैसा नारा इसी सनातन संस्कृति की देन है जिसने पूरे वसुधा को पूरी पृथ्वी को अपना कुटुंब माना अपना परिवार माना किंतु इसी पृथ्वी पर कुछ ऊंची मानसिकता के लोग हैं जिन्होंने कुटुंबकम वसुदेव अर्थात अपने ही परिवार को पूरी पृथ्वी माना और अपने परिवार के लिए ही समझता जनों का दोहन शुरू किया तो यह एक फर्जी विकास की जो दौड़ प्रारंभ हुई उसमें धीरे-धीरे दुनिया के हर देश शामिल होते चले गए भंवरी शोषण वालों की परंपरा विकसित हो गई और कहीं ना कहीं सोशल वालों की परंपरा का प्रभाव आज के हिंदू धर्म की मानसिकता पर दिए तो हिंदू धर्म सी नदी के पार के क्षेत्र हिंदुस्तान की जमीन पर जो लोग निवास करते हैं उनके द्वारा अपनाया जाने वाला उनके द्वारा माना जाने वाला धर्म अर्थात सनातन धर्म की हिंदू धर्म है और इसमें बौद्ध और जैन इश्क सब सम्मिलित है अभी आधुनिक न्याय अन्याय विधान में भी जब आप हिंदू ला पढ़ते हैं शनि मुस्लिम ला अलग है हिंदू को हिंदू ला में सिख बौद्ध जैन सब आते हैं अर्थात न्यायशास्त्र आज भी सिख बौद्ध जैन को हिंदू मानकर ही न्याय करता है उन पर हिंदू ला ही चलता है क्योंकि वह हिंदुस्तान की जमीन पर मुस्लिमों के आने के पहले और यह मुस्लिमों द्वारा दिया गया नाम है हिंदू इसलिए भारत में आज देश तो एक है कि दुनिया एविधान अभी दो हैं हिंदू ला मुस्लिम ला जो कि हमारे भारत की स्त्री हुई राजनीतिक सोच का एक बहुत जबरदस्त उदाहरण है तुष्टीकरण की नीति भारत में इस कदर हावी है कि अल्पसंख्यक की राजनीति करने वाले लोग किसी भी नीच हरकत तक जा सकते हैं और वह तथाकथित हिंदू जो अपने नाम के पीछे हिंदू सरनेम लगाते हैं किंतु राजनीतिक मानसिकता से इतनी दूषित हो चुके हैं उनकी राजनीतिक मानसिकता इतनी सूचित है मुस्लिम तुष्टीकरण में इस हिंदू धर्म का ही लोग करने पर लगे हुए नींद है आप हिंदू धर्म को समझेंगे और इस के उत्थान के लिए इसकी रक्षा के लिए सनातन धर्म को जानेंगे और सनातन धर्म के विचारों को अपनाएंगे

aapka prashna hai hindu dharm se aap kya samajhte hain toh sabse pehle aapko yah janana hoga ki hindu jo hai yah shabd kya hai aur dharm kya hai jo dharm ki paribhasha hai hamare yahan bharat bhoomi par vaah adharete dharm hata do hum dharan karte hain wahi dharm hai arthat har yah jeevan jeene ki ek kala hai arthat dharm jeevan ko saral banata hai jeevan ko upyogi banata hai jeevan ko anandamay banata hai kul milakar jeevan ke liye dharm hai na ki dharm ke liye jeevan aur is dharm ka na koi aaj hai na ant hai isliye ise sanatan dharm kaha jata hai ek sanatan parampara hai sanatan dharm dharm se bhi kahin aage ek jeevan jeene ki paddhatee hai jo jeevan ke liye jeevan ko sucharu subham sanand banane ke liye ab baat aati hai hindu kya toh jab pehli baar arabian log fansi log aaj yah hamare desh ki taraf aaye toh inhone sindhu nadi ko dekha aur uska naam shama sindhu toh bhasha vigyan me kuch akshar sthan ke saath badal jaate hain jaise aapne dekha hoga ki awadhi bhasha me aane par ya kaazaa ho jata hai jo yamuna hai log jamuna bolenge yudh ko yudh bolenge yagya ko jaggu bolenge toh ya karja ho jata sarayu kyon saraju bolenge usi prakar ka kaha ho jata hai arab year country jaal me jaakar tu toh hamari sindura di thi usko hum logo ne hindu khana shuru kiya hindu nadi aur hindu ke is par ki bhoot chitrakoot logo ne Hindustan ka anya agar hum log bolte saheb log un logo ne hisar ke bhoot ke chitra ko Hindustan ka aur Hindustan ke nivasiyon ko hindu ka is prakar ki bhaugolik drishti se hum log samajhe jo bhi simbu ke is par hain vaah sab hindustani hai aur sabhi hindustani hindu hai kintu khas baat yah hai ki vaah log jab yahan par aaye tum logo ne swayam ko hindu nahi mana yahan pehle se reh rahe logo ko hindu mana unki nazar me Baudh bhi hindu the unki nazar me chayan bhi hindu the unki nazar me hindu toh hindu the jinhen aaj aap hindi samajhte ho arthat sanatan dharm ke log ab kul milakar yah samajh me aaya ki sanatan dharm ke logo ko hi hindu kaha gaya yani jin logo ka yah dharm hai yah naam unka apna diya hua naam nahi hai balki yah naam hoon logo ka diya hua hai jo is dharm ko mitane ke liye peeche pade hote aur duniya bhar ki pehli baari chal rahi hai is dharm ka khatma karne un logo ko dwara diya gaya yah naam hai hindu hindu dharm aur kuch nahi sanatan dharm ka hi doosra naam hai aur sanatan dharm is puri prithvi ka sabse prachintam dharm hai sabse prachin jeevan paddhatee hai jo jeevan ke liye Vasudhaiva kutumbakam jaisa naara isi sanatan sanskriti ki then hai jisne poore vasudha ko puri prithvi ko apna kutumb mana apna parivar mana kintu isi prithvi par kuch unchi mansikta ke log hain jinhone kutumbakam vasudev arthat apne hi parivar ko puri prithvi mana aur apne parivar ke liye hi samajhata jano ka dohan shuru kiya toh yah ek farji vikas ki jo daudh prarambh hui usme dhire dhire duniya ke har desh shaamil hote chale gaye bhanvari shoshan walon ki parampara viksit ho gayi aur kahin na kahin social walon ki parampara ka prabhav aaj ke hindu dharm ki mansikta par diye toh hindu dharm si nadi ke par ke kshetra Hindustan ki jameen par jo log niwas karte hain unke dwara apnaya jaane vala unke dwara mana jaane vala dharm arthat sanatan dharm ki hindu dharm hai aur isme Baudh aur jain ishq sab sammilit hai abhi aadhunik nyay anyay vidhan me bhi jab aap hindu la padhte hain shani muslim la alag hai hindu ko hindu la me sikh Baudh jain sab aate hain arthat nyayashastra aaj bhi sikh Baudh jain ko hindu maankar hi nyay karta hai un par hindu la hi chalta hai kyonki vaah Hindustan ki jameen par muslimo ke aane ke pehle aur yah muslimo dwara diya gaya naam hai hindu isliye bharat me aaj desh toh ek hai ki duniya evidhan abhi do hain hindu la muslim la jo ki hamare bharat ki stree hui raajnitik soch ka ek bahut jabardast udaharan hai tushtikaran ki niti bharat me is kadar haavi hai ki alpsankhyak ki raajneeti karne waale log kisi bhi neech harkat tak ja sakte hain aur vaah tathakathit hindu jo apne naam ke peeche hindu surname lagate hain kintu raajnitik mansikta se itni dushit ho chuke hain unki raajnitik mansikta itni suchit hai muslim tushtikaran me is hindu dharm ka hi log karne par lage hue neend hai aap hindu dharm ko samjhenge aur is ke utthan ke liye iski raksha ke liye sanatan dharm ko jaanege aur sanatan dharm ke vicharon ko apanaenge

आपका प्रश्न है हिंदू धर्म से आप क्या समझते हैं तो सबसे पहले आपको यह जानना होगा कि हिंदू ज

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  131
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!