पेट की चरबी कैसे कम कर सकते हैं?...


user

Radha Mohan

Yoga & Naturopathy Expert

7:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों ने पेट की चर्बी को कैसे कम कर सकते हैं तो हम यहां पर जानेंगे कि योग और प्राकृतिक तरीके से कैसे हम अपने शरीर पर जो एक्स्ट्रा फैट डिपॉजिट हो गया है तो कैसे यूज कर सकते हैं परंतु इससे पहले हमारा यह जानना बेहद आवश्यक है कि हमारे शरीर में फैट क्यों डिपॉजिट होता है इसके क्या कारण है दोस्तों यदि आप ज्यादा तालाब निलेश फास्ट फूड या जंक फूड का सेवन करते हैं जो बहुत ज्यादा गरिष्ठ होता है जिस तामसिक प्रवृत्ति का होता है फ्रेश नहीं होता है कुछ प्रकार के भोजन का जवाब नियमित सेवन करते हैं धीरे-धीरे धीरे-धीरे आपके शरीर में टॉक्सिन जमा होने लग जाते हैं तो क्षमा इसलिए होते हैं किस प्रकार का भोजन हमारे राजेश में सही प्रकार से इस का पाचन नहीं हो पाता है पेट में एसिड की मात्रा बढ़ती रहती है और ऐसा जब होता है तो एसिड रिफ्लक्स होने लगता है खट्टी डकार आना पेट में जलन होना जब नियमित रूप से लगातार जब इन सब चीजों को कोई व्यक्ति करता रहता है तो पेट से संबंधित बहुत सारे लोग आ जाते हैं अल्सर किसी का तू जाती है पेट में छाले पड़ जाते हैं और पूरी मिला पूरी तरह से मिलाकर जो हमारा डाइजेशन सिस्टम है वह खराब होने लगता है हमारे स्टमक में भोजन का सही प्रकार से पहुंचे नहीं होता है लीवर के द्वारा जो पाचक रसों का भोजन में मिलाया जाता है वह पूरी तरह से इसमें सीक्रेट नहीं हो पाते हैं तो फिर यह बिना पचा हुआ भोजन हमारे हाथों में पहुंच जाता है और वहां पर विश का डाइजेशन नहीं होने से वहां पर यह मल के रूप में पेट की जो अंदर जो आते हैं उनके जो अंदर की जो लहर है उसमें जमा पड़ा रहता है और लगातार जब ऐसा होता है तो हमारे जो ब्लड है वह दूषित होने लगता है मल के निष्कासन की प्रक्रिया हमारी कमजोर हो जाती है तू जो टॉक्सिंस हैं हमारे हाथों से वह ब्लड में घूमने लग जाते हैं मिल जाते हैं तो पूरा शरीर का रक्त दूषित होने से बहुत सारे ऐसे टॉपिक जमा होने लग जाते हैं जैसे कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना जब कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है तमरहाट के लिए और बाकी जितने भी इंटरनल ऑर्गन है उनके लिए नुकसानदायक होता है साथ ही साथ जो आपका फाइट है वह भी से बढ़ता रहता जवाब दो ज्यादा ऑइली चीजें खाते हैं या फिर वह मेरा पैसा फैट वाली चीजें का सेवन करते हैं तो ऐसा लगातार होता रहता है पेट आपको डिपॉजिट होता रहता है क्योंकि मल के निष्कासन की प्रक्रिया कमजोर हो जाती है ब्लड आपका डिफाइन नहीं रह पाता तो सारे जितने बॉक्सिंग सब आपकी बॉडी में धीरे-धीरे जमने लगता है और इसका एक बहुत बड़ा कारण होता है कि आपके शरीर में जो चर्बी है वह बढ़ने लगती है खासतौर से आपका जो पेट है उसकी चर्बी बढ़ जाती है दूसरा यह कि यदि आप चाय कॉफी कोल्ड ड्रिंक पर नियमित रूप से सेवन करते हैं तो इनमें बहुत सारे ऐसे और बोलो तत्व होते हैं जो आपके शरीर में एसिड की मात्रा को बढ़ा रहते हैं आपका डाइजेशन मिस्टेक हो जाता है यदि आप जरा तला भुना के साथ-साथ यदि आप ऐसा भोजन करते हैं जो पैकिंग वाला है जो पेन फूड है जो प्रोसेस ओके आ रहा है या जो नेचुरल नहीं है जो प्रकृति से नहीं बना है परंतु किसी फैक्ट्री में बनकर आ रहा है उस तारीख जितने भी डिब्बाबंद या जो पैकिंग वाली चीजें हैं इससे श्रेणी में आती है इन सब चीजों में बहुत सारे ऐसे हार्मफुल प्रिजर्वेटिव मिले होते हैं जो हमारे शरीर के लिए पूजा नुकसानदायक होते हैं और जब इनका सेवन करता है तो पेट में जाकर इंसेंट की मात्रा बढ़ जाती है इससे डाइजेशन नहीं होता है तो वापस आ जाती है कि हमारे हाथों में पड़ा हुआ जो माल है वह चढ़ता रहता है और हमारा पूरा बॉडी का जो वातावरण है जो यहां का असर है वह पूरा गंदगी भरा हो जाता है तो इस वजह से फैट बढ़ने लगता है तो कम करने के लिए अब यहां पर हम यह बात करते हैं कि प्राकृतिक प्राकृतिक रूप से कैसे कम कर सकते हैं तो हम अपने बॉडी पर जो फैट जमा है पेट पर चर्बी जमी है उसको कम करने के लिए जो समारा सबसे पहला कदम होना चाहिए कि यह इस प्रकार का भोजन है उसको मैं बिल्कुल बंद कर देना कि हमें करना क्या है कि शुद्ध सात्विक और हल्का भोजन का सेवन करना जो प्रकृति से जो भोजन हमें डायरेक्टली मिल रहा है उसका आप अधिक से अधिक सेवन करें खाने में आप यहां फ्रूट और वेजिटेबल की मात्रा बढ़ाएं क्योंकि इनमें जो विटामिन प्रोटीन से या जो भी हमें एनर्जी मिलती है वह नेचुरल फॉर्म में होती और हमारे शरीर को किसी प्रकार कैसे नुकसान नहीं पहुंचता है तो यह सब चीजों का को सेवन करना चाहिए खाने में फाइबर की मात्रा को मंकी फाइबर की मात्रा के बाद बढ़ाते हैं तो आप के इस्तेमाल के निष्कासन की प्रक्रिया तेज होती जिससे बॉडी डिटॉक्स खड़ी रहती है पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए नारियल पानी का सेवन कर सकते हैं नारियल का सेवन करते हैं तो उसे आपकी बॉडी में यदि कोई किसी प्रकार का कोई इंफेक्शन है वह खत्म होता है और आपके बॉडी डिटॉक्सिफाई रहती है जिसके साथ आप मोटे अनाज का सेवन करें दालों का सेवन करें और शुद्ध सात्विक हल्का भोजन लेंगे तो आपका जो फैट धीरे-धीरे कम होता जाएगा खाने की जो एक व्यवस्थित दिनचर्या है उसको अपनाएं शाम को भोजन आप जल्दी करें 7:00 बजे से पहले करें और प्रातकाल जाओ नाश्ता लेते हैं तो वह है अभी नाश्ता ले जितना आप हैवी से हैवी नाश्ता कर सके वह सारी चीजें नाश्ते में खाएं इसके साथ-साथ आपको भोजन जवाब करते हैं तो भोजन करने के बीच में पानी का सेवन नहीं करें और बाद में तुरंत सेवन नहीं करें आपको लंबा खाना खाने के 1 घंटे बाद ही पानी का सेवन करना है और वह भी हल्के गुनगुने पानी का जवाब सेवन करेंगे तो सबका डाइजेशन सिस्टम इंप्रूव बना रहेगा क्यों बात करते हैं कि योग में हम कैसे अभ्यास करें ताकि हम अपने वीडियो कम करें दोस्तों में सबसे पहले हम आंसुओं की बात करते हैं असल में भुजंगासन है ताड़ासन चक्रासन उत्तानपादासन पवनमुक्तासन तो ऐसे ही है कुछ ऐसे आपने जिन का सीधा असर हमारे डाइजेशन सिस्टम पर आता है चमक पर आता है डोमिनल पार्ट्स पर आता है और जब हम नियमित रूप से सही तरीके से अभ्यास करते हैं तो हमारी जो शरीर है वह डिटॉक्सिफाई होता रहता है हमारे सर पर विशेष प्रकार का खिंचाव आने से अंदर के जितने भी इंटरनल ऑर्गन से उनकी मसाज होती है जो डाइजेशन सिस्टम में जितने भी ऑर्गन हैं चाहे वह स्टमक हो लीवर किडनी पैंक्रियाज और कैंसर इलाज अंडरस्टैंड अंडरस्टैंड सभी में एक सकारात्मक प्रभाव पड़ता हूं की मसाज होने से वहां पर जमा है उनके निकलने की प्रक्रिया तेज हो जाती है और जब हम नियमित रूप से अभ्यास करते हैं तो हमारी जो पाचन शक्ति मजबूत बन जाती एसिड की मात्रा कम होती है तो जो भी हम भोजन कर रहे हैं उसके सारे पोषक तत्व हमारे शरीर को मिलते हैं जो एक्स्ट्रा फैट डिपाजिट को धीरे-धीरे बर्न होकर शरीर से बाहर निकल इसके साथ-साथ यदि हम प्राणायाम की बात करें तो पुराना ही मैं आपको सूर्यभेदी प्राणायाम और भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए जो आप इन दोनों प्रणब प्रयास करते हैं तो इससे आपके शरीर में हिट जनरेट होती है और डिपाजिट सेवन होता रहता है वह धीरे-धीरे दूर होता रहता है इसके साथ-साथ अब कपालभाति क्रिया का भी अभ्यास कर सकते हैं कपालभाति के लिए कब वापस करते हैं आपके मस्तिष्क की शुद्धि तो होती ही है साथ ही साथ आपके डाइजेशन की शुरू होता है परंतु कपालभाति को वह लोग नहीं करें जिनके हार्ट डिजीज है या फिर उनका हाई ब्लड प्रेशर है यह इनके पेट में कोई अल्सर की शिकायत है सरकार ने की प्रॉब्लम है तो ऐसे लोगों को कपालभाति क्रिया का अभ्यास नहीं करना चाहिए बाकी विश्वास लोगे वह कपालभाति का अभ्यास कर सकते हैं दोस्तों कुछ क्रियाएं हैं जब हम उन क्रियाओं का अभ्यास करते हैं उसका भी असर पड़ता है कपालभाति के साथ-साथ आप कुंजल क्रिया कर सकते हैं कुंजल क्रिया में जो वमन क्रिया होती है जिससे जिसको बमन और कुंजल क्रिया एक ही होती है तो जवाब इसका अभ्यास करते हैं तो आपके पेट में जो स्टमक में जो एसिड की मात्रा है वह दूर हो जाती है और आपका स्वास्थ्य से मजबूत होता इसके साथ-साथ आप दंड धोती का व्यक्त कर सकते हैं गणपति का जवाब व्यक्त करते हैं तो इससे भी आपका जो स्टमक है उसमें क्लीयरेंस आती है और वहां पर उसके पेड़ से कैसे होता है किस प्रकार आफ नेचुरल प्राकृतिक भोजन का सेवन करके अपनी लाइफ स्टाइल को व्यवस्थित करके और जब आप योगाभ्यास करते हैं तो इससे आपके शरीर में बहुत ज्यादा आश्चर्यजनक परिणाम आपको आते हैं जो आपका एक्स्ट्रा फैट आपको डिपॉजिट हो गया पूरे शरीर में और खासतौर से आपके पेट को जो चर्बी जम गई है उसको आप बिना किसी दवाइयों के और साइड इफेक्ट से दूर कर सकते हैं धन्यवाद

namaskar doston ne pet ki charbi ko kaise kam kar sakte hain toh hum yahan par jaanege ki yog aur prakirtik tarike se kaise hum apne sharir par jo extra fat deposit ho gaya hai toh kaise use kar sakte hain parantu isse pehle hamara yah janana behad aavashyak hai ki hamare sharir me fat kyon deposit hota hai iske kya karan hai doston yadi aap zyada taalab nilesh fast food ya junk food ka seven karte hain jo bahut zyada garishth hota hai jis tamasik pravritti ka hota hai fresh nahi hota hai kuch prakar ke bhojan ka jawab niyamit seven karte hain dhire dhire dhire dhire aapke sharir me toxin jama hone lag jaate hain toh kshama isliye hote hain kis prakar ka bhojan hamare rajesh me sahi prakar se is ka pachan nahi ho pata hai pet me acid ki matra badhti rehti hai aur aisa jab hota hai toh acid riflaks hone lagta hai khatti dakar aana pet me jalan hona jab niyamit roop se lagatar jab in sab chijon ko koi vyakti karta rehta hai toh pet se sambandhit bahut saare log aa jaate hain Ulcer kisi ka tu jaati hai pet me chhale pad jaate hain aur puri mila puri tarah se milakar jo hamara digestion system hai vaah kharab hone lagta hai hamare stomach me bhojan ka sahi prakar se pahuche nahi hota hai liver ke dwara jo paachak rason ka bhojan me milaya jata hai vaah puri tarah se isme secret nahi ho paate hain toh phir yah bina pacha hua bhojan hamare hathon me pohch jata hai aur wahan par wish ka digestion nahi hone se wahan par yah mal ke roop me pet ki jo andar jo aate hain unke jo andar ki jo lahar hai usme jama pada rehta hai aur lagatar jab aisa hota hai toh hamare jo blood hai vaah dushit hone lagta hai mal ke nishkasan ki prakriya hamari kamjor ho jaati hai tu jo taksins hain hamare hathon se vaah blood me ghoomne lag jaate hain mil jaate hain toh pura sharir ka rakt dushit hone se bahut saare aise topic jama hone lag jaate hain jaise cholesterol ka badhana jab cholesterol badhta hai tamarahat ke liye aur baki jitne bhi internal organ hai unke liye nukasanadayak hota hai saath hi saath jo aapka fight hai vaah bhi se badhta rehta jawab do zyada aili cheezen khate hain ya phir vaah mera paisa fat wali cheezen ka seven karte hain toh aisa lagatar hota rehta hai pet aapko deposit hota rehta hai kyonki mal ke nishkasan ki prakriya kamjor ho jaati hai blood aapka define nahi reh pata toh saare jitne boxing sab aapki body me dhire dhire jamne lagta hai aur iska ek bahut bada karan hota hai ki aapke sharir me jo charbi hai vaah badhne lagti hai khaasataur se aapka jo pet hai uski charbi badh jaati hai doosra yah ki yadi aap chai coffee cold drink par niyamit roop se seven karte hain toh inmein bahut saare aise aur bolo tatva hote hain jo aapke sharir me acid ki matra ko badha rehte hain aapka digestion mistake ho jata hai yadi aap zara tala bhuna ke saath saath yadi aap aisa bhojan karte hain jo packing vala hai jo pen food hai jo process ok aa raha hai ya jo natural nahi hai jo prakriti se nahi bana hai parantu kisi factory me bankar aa raha hai us tarikh jitne bhi dibbaband ya jo packing wali cheezen hain isse shreni me aati hai in sab chijon me bahut saare aise harmful prijarvetiv mile hote hain jo hamare sharir ke liye puja nukasanadayak hote hain aur jab inka seven karta hai toh pet me jaakar insent ki matra badh jaati hai isse digestion nahi hota hai toh wapas aa jaati hai ki hamare hathon me pada hua jo maal hai vaah chadhta rehta hai aur hamara pura body ka jo vatavaran hai jo yahan ka asar hai vaah pura gandagi bhara ho jata hai toh is wajah se fat badhne lagta hai toh kam karne ke liye ab yahan par hum yah baat karte hain ki prakirtik prakirtik roop se kaise kam kar sakte hain toh hum apne body par jo fat jama hai pet par charbi jami hai usko kam karne ke liye jo samara sabse pehla kadam hona chahiye ki yah is prakar ka bhojan hai usko main bilkul band kar dena ki hamein karna kya hai ki shudh Satvik aur halka bhojan ka seven karna jo prakriti se jo bhojan hamein directly mil raha hai uska aap adhik se adhik seven kare khane me aap yahan fruit aur vegetable ki matra badhaye kyonki inmein jo vitamin protein se ya jo bhi hamein energy milti hai vaah natural form me hoti aur hamare sharir ko kisi prakar kaise nuksan nahi pahuchta hai toh yah sab chijon ka ko seven karna chahiye khane me fiber ki matra ko monkey fiber ki matra ke baad badhate hain toh aap ke istemal ke nishkasan ki prakriya tez hoti jisse body detox khadi rehti hai paryapt matra me paani peena chahiye nariyal paani ka seven kar sakte hain nariyal ka seven karte hain toh use aapki body me yadi koi kisi prakar ka koi infection hai vaah khatam hota hai aur aapke body ditaksifai rehti hai jiske saath aap mote anaaj ka seven kare daalon ka seven kare aur shudh Satvik halka bhojan lenge toh aapka jo fat dhire dhire kam hota jaega khane ki jo ek vyavasthit dincharya hai usko apanaen shaam ko bhojan aap jaldi kare 7 00 baje se pehle kare aur pratakal jao nashta lete hain toh vaah hai abhi nashta le jitna aap heavy se heavy nashta kar sake vaah saari cheezen naste me khayen iske saath saath aapko bhojan jawab karte hain toh bhojan karne ke beech me paani ka seven nahi kare aur baad me turant seven nahi kare aapko lamba khana khane ke 1 ghante baad hi paani ka seven karna hai aur vaah bhi halke gungune paani ka jawab seven karenge toh sabka digestion system improve bana rahega kyon baat karte hain ki yog me hum kaise abhyas kare taki hum apne video kam kare doston me sabse pehle hum ansuon ki baat karte hain asal me bhujangasan hai tadasan chakrasan uttanapadasan pavanamuktasan toh aise hi hai kuch aise aapne jin ka seedha asar hamare digestion system par aata hai chamak par aata hai dominol parts par aata hai aur jab hum niyamit roop se sahi tarike se abhyas karte hain toh hamari jo sharir hai vaah ditaksifai hota rehta hai hamare sir par vishesh prakar ka khinchav aane se andar ke jitne bhi internal organ se unki Massage hoti hai jo digestion system me jitne bhi organ hain chahen vaah stomach ho liver KIDNEY pancreas aur cancer ilaj understand understand sabhi me ek sakaratmak prabhav padta hoon ki Massage hone se wahan par jama hai unke nikalne ki prakriya tez ho jaati hai aur jab hum niyamit roop se abhyas karte hain toh hamari jo pachan shakti majboot ban jaati acid ki matra kam hoti hai toh jo bhi hum bhojan kar rahe hain uske saare poshak tatva hamare sharir ko milte hain jo extra fat deposit ko dhire dhire burn hokar sharir se bahar nikal iske saath saath yadi hum pranayaam ki baat kare toh purana hi main aapko suryabhedi pranayaam aur bhastrika pranayaam ka abhyas karna chahiye jo aap in dono pranab prayas karte hain toh isse aapke sharir me hit generate hoti hai aur deposit seven hota rehta hai vaah dhire dhire dur hota rehta hai iske saath saath ab kapalbhati kriya ka bhi abhyas kar sakte hain kapalbhati ke liye kab wapas karte hain aapke mastishk ki shudhi toh hoti hi hai saath hi saath aapke digestion ki shuru hota hai parantu kapalbhati ko vaah log nahi kare jinke heart disease hai ya phir unka high blood pressure hai yah inke pet me koi Ulcer ki shikayat hai sarkar ne ki problem hai toh aise logo ko kapalbhati kriya ka abhyas nahi karna chahiye baki vishwas loge vaah kapalbhati ka abhyas kar sakte hain doston kuch kriyaen hain jab hum un kriyaon ka abhyas karte hain uska bhi asar padta hai kapalbhati ke saath saath aap kunjal kriya kar sakte hain kunjal kriya me jo waman kriya hoti hai jisse jisko baman aur kunjal kriya ek hi hoti hai toh jawab iska abhyas karte hain toh aapke pet me jo stomach me jo acid ki matra hai vaah dur ho jaati hai aur aapka swasthya se majboot hota iske saath saath aap dand dhoti ka vyakt kar sakte hain ganapati ka jawab vyakt karte hain toh isse bhi aapka jo stomach hai usme clearance aati hai aur wahan par uske ped se kaise hota hai kis prakar of natural prakirtik bhojan ka seven karke apni life style ko vyavasthit karke aur jab aap yogabhayas karte hain toh isse aapke sharir me bahut zyada aashcharyajanak parinam aapko aate hain jo aapka extra fat aapko deposit ho gaya poore sharir me aur khaasataur se aapke pet ko jo charbi jam gayi hai usko aap bina kisi dawaiyo ke aur side effect se dur kar sakte hain dhanyavad

नमस्कार दोस्तों ने पेट की चर्बी को कैसे कम कर सकते हैं तो हम यहां पर जानेंगे कि योग और प्र

Romanized Version
Likes  391  Dislikes    views  3249
KooApp_icon
WhatsApp_icon
19 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!