BJP ने अभी तक यूनिफार्म सिविल कोड क्यों लागू नहीं की है?...


play
user

Neha S

UPSC कोच

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

BP BP अभी तक यूनिफॉर्म सिविल कोड लाग्यो नहीं कर पाई है जिसका मेन मोस्ट इंपॉर्टेंट रीजन यह है कि केंद्र सरकार नए डिप्रेशन तो मुद्दा तो उठा दिया है लेकिन उनके पास राज्यसभा में सपोर्ट करने के लिए बहुमत नहीं है लोकसभा में पास करा देते हैं तो उत्तर के लिए मृत्यु को पास करने में बहुत प्रॉब्लम के लक्षण की बात चल रही है होने वाले हैं तो उसकी वजह से भी यह भी बता और गोल्ड पर चला गया क्योंकि यह बहुत बड़ा मुद्दा है इसलिए आ जाने से आपका हिंदू पर्सनल लॉ मुस्लिम पर्सनल लॉ हे 77 सारे लोग जो है वह कंवर्ट हो जाएगा एक ही सिविल कोर्ट में एक कॉमन यूनिफॉर्म सिविल कोड नो में कंवर्ट हो जाएगा बाकी सब लोगों को सारी धर्म के लोगों को मनाना बहुत जरूरी है बहुत समझाया बहुत जरूरी है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य हैं सभी धर्मों को संभालता दी जाती है तो एक बार प्लान रिटर्न यह भी है कि क्या होता है

BP BP abhi tak uniform civil code lagyo nahi kar payi hai jiska main most important reason yah hai ki kendra sarkar naye depression toh mudda toh utha diya hai lekin unke paas rajya sabha mein support karne ke liye bahumat nahi hai lok sabha mein paas kara dete hain toh uttar ke liye mrityu ko paas karne mein bahut problem ke lakshan ki baat chal rahi hai hone waale hain toh uski wajah se bhi yah bhi bata aur gold par chala gaya kyonki yah bahut bada mudda hai isliye aa jaane se aapka hindu personal law muslim personal law hai 77 saare log jo hai vaah kanvart ho jaega ek hi civil court mein ek common uniform civil code no mein kanvart ho jaega baki sab logo ko saree dharm ke logo ko manana bahut zaroori hai bahut samjhaya bahut zaroori hai ki bharat ek dharmanirapeksh rajya hain sabhi dharmon ko sambhalata di jaati hai toh ek baar plan return yah bhi hai ki kya hota hai

BP BP अभी तक यूनिफॉर्म सिविल कोड लाग्यो नहीं कर पाई है जिसका मेन मोस्ट इंपॉर्टेंट रीजन यह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  35
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुजरात चुनाव और अभी जीएसटी और नोटबंदी के कारण BJP सिविल कोड नींद आ रही है

gujarat chunav aur abhi gst aur notebandi ke karan BJP civil code neend aa rahi hai

गुजरात चुनाव और अभी जीएसटी और नोटबंदी के कारण BJP सिविल कोड नींद आ रही है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  17
WhatsApp_icon
user

Yk Sahu

Educated Unemployed

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमने तो उम्मीद बनाए रखा था कि bjp आएगा तो यह कॉमन सिविल कोड लागू करेगा लेकिन वह तो लाल या अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा प्रदान करने के लिए 123 वां संविधान संशोधन विधेयक में आए आगे के अंदर तरफ फिर से ST आयोग ST आयोग अब बन गया ओबीसी आयोग और लिंग के बारे में तो आप लोग जानते हो बोल रहे थे कि हम लोग को अगर अल्पसंख्यक घोषित कर दिया जाए क्योंकि हम लोग अलग करने वाले बढ़ रहे हैं बढ़िया चीजें एक तरफ मुस्लिम लोग हैं जो कि मुस्लिम पर्सनल ला रहे हैं खाना खा रहे हैं भारत के चलेगा क्या चलेगा बिना इसी प्रकार के लोग हैं यहां पर इसी प्रकार के नेता है उनको क्या है अपना-अपना सेट चाहिए किसी को बढ़िया अच्छी बात है जाती है मेले का चित्र मिल जाता है किसी जाति के हिसाब से तो फिर उसको क्या करना है तो देना ही है वरना मुझे ही क्या रह जाएगा भारत में चल रहा है काम खत्म हो जाएगा कॉमन सिविल कोड लागू हो जाएगा तो फिर किस समय सिविल कोर्ट में जाने से सब को धूल के समान अधिकार मिल जाएगा किसी के लिए कुछ विशेष अधिकार नहीं रह जाएगा आने को जाने के लिए एयरपोर्ट है ऐसा कौन है सबके लिए एक कानून एक तारा एक को एक नेपाली क्या एक पुलिस विभाग सकती नहीं वही रहेगा कितने लोगों को इसके बारे में नॉलेज

humne toh ummid banaye rakha tha ki bjp aayega toh yah common civil code laagu karega lekin vaah toh laal ya anya pichda varg aayog ko samvaidhanik darja pradan karne ke liye 123 va samvidhan sanshodhan vidhayak mein aaye aage ke andar taraf phir se ST aayog ST aayog ab ban gaya obc aayog aur ling ke bare mein toh aap log jante ho bol rahe the ki hum log ko agar alpsankhyak ghoshit kar diya jaaye kyonki hum log alag karne waale badh rahe hai badhiya cheezen ek taraf muslim log hai jo ki muslim personal la rahe hai khana kha rahe hai bharat ke chalega kya chalega bina isi prakar ke log hai yahan par isi prakar ke neta hai unko kya hai apna apna set chahiye kisi ko badhiya achi baat hai jaati hai mele ka chitra mil jata hai kisi jati ke hisab se toh phir usko kya karna hai toh dena hi hai varna mujhe hi kya reh jaega bharat mein chal raha hai kaam khatam ho jaega common civil code laagu ho jaega toh phir kis samay civil court mein jaane se sab ko dhul ke saman adhikaar mil jaega kisi ke liye kuch vishesh adhikaar nahi reh jaega aane ko jaane ke liye airport hai aisa kaun hai sabke liye ek kanoon ek tara ek ko ek nepali kya ek police vibhag sakti nahi wahi rahega kitne logo ko iske bare mein knowledge

हमने तो उम्मीद बनाए रखा था कि bjp आएगा तो यह कॉमन सिविल कोड लागू करेगा लेकिन वह तो लाल या

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!