मेरी आयु 21 साल है और मैं अभी भी समझ नहीं पा रहा हूँ कि किस क्षेत्र में अपना करियर बनाऊं तो मुझे क्या करना चाहिए?...


play
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:42

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले आपकी ईश्वर की सैर हो चुके जो कि आप बिजली कहां से ली गई है तो आप को ऑफिस में डिसाइड करना पड़ेगी कि आप डिसाइड नहीं कर पाएंगे का एनफील्ड जहां पर जाना है तो चलना बहुत मुश्किल हो जाएगा क्या पता है कि यहां जाना है तो फिर से दर्शन पेट्रोल उसके बजाना शुरू कर दिए बिजनेस के लिए ऑप्शन को सुनना है

sabse pehle aapki ishwar ki sair ho chuke jo ki aap bijli kahaan se li gayi hai toh aap ko office mein decide karna padegi ki aap decide nahi kar payenge ka Enfield jaha par jana hai toh chalna bahut mushkil ho jaega kya pata hai ki yahan jana hai toh phir se darshan petrol uske bajana shuru kar diye business ke liye option ko sunana hai

सबसे पहले आपकी ईश्वर की सैर हो चुके जो कि आप बिजली कहां से ली गई है तो आप को ऑफिस में डिसा

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  284
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

shubham Pandey

Unique Artist (that's all)

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ज्यादा की कोई चिंता की विषय नहीं है इस उमर में अक्सर सबके साथ ही ऐसा होता है कैन डिसाइड नहीं कर पाते क्या करना है क्या नहीं करना है लेकिन उससे पहले लाइफ फॉर सेंट्रल फिलोसोफी तो होगी जिसको मतलब अगर मैं कहता हूं कि हर कोई यूनीक है तो हर कोई आता ही नहीं है पर है तो इंसान ही ना उनके बीच में एक सेल्फी तो होनी चाहिए दो चंचल फिलॉसफी को मैंने कुछ अच्छे डिजाइन किया है मानो हमारी जो जिंदगी है वह एक कांच की तरह है और इसमें पैसे दोस्त यार फिलिंग्स जो है वह पेट्रोल की करें तो इसमें कोई डाउट नहीं है कि बिना पेट्रोल की गाड़ी नहीं चलती लेकिन अगर कोई यह सोच रहा है कि टैंक जिस दिन फूलों का उस दिन ही मैं गाड़ी निकाल लूंगा बाहर तो शायद और टैंक कभी नहीं बढ़ेगा दोस्त क्योंकि इस गाड़ी का नाम जिंदगी है और अगर मान लूंगी केस कोई और टैंक फुल कर भी चुका है बड़ी में के बाद नीतीश ने बहुत मेहनत करते कार्ड फोर्ड की फिर उसने उस में फुल टैंक पेट्रोल किया तो वह सूची सकता है जाहिर सी बात है कि जिस दिन रास्ते पर हर सीखना लगा होगा तो मैं गाड़ी निकाल लूंगा अगर वो ऐसा भी सोचता है तो शायद हो गाड़ी वहीं खड़ी रह जाएगी क्योंकि आप रास्ते में निकलोगे नहीं तो पता कैसे चलेगा कि आपका कौन सा फिल्म लगा है कौन सा लाल है और सबसे बेसिक चील गाड़ी डीजे में भी चलती है और यह 1947 नहीं 2018 है यहां तो हर 50 किलोमीटर पर एक पेट्रोल पंप के नाश्ते में आने वाली जितनी भी समस्याएं हैं उसका समाधान भी होगा दुनिया में कोई ऐसी समस्या नहीं है जिसका मकसद यह है इस गाड़ी से मुझे दुनिया घूमने नक्शा जिसमें टैंक में पेट्रोल भरना भी नहीं है और मकसद सिग्नल का वेट करना कि नहीं

zyada ki koi chinta ki vishay nahi hai is umar mein aksar sabke saath hi aisa hota hai can decide nahi kar paate kya karna hai kya nahi karna hai lekin usse pehle life for central philosophy toh hogi jisko matlab agar main kahata hoon ki har koi unique hai toh har koi aata hi nahi hai par hai toh insaan hi na unke beech mein ek selfie toh honi chahiye do chanchal philosophy ko maine kuch acche design kiya hai maano hamari jo zindagi hai vaah ek kanch ki tarah hai aur isme paise dost yaar feelings jo hai vaah petrol ki kare toh isme koi doubt nahi hai ki bina petrol ki gaadi nahi chalti lekin agar koi yah soch raha hai ki tank jis din fulo ka us din hi main gaadi nikaal lunga bahar toh shayad aur tank kabhi nahi badhega dost kyonki is gaadi ka naam zindagi hai aur agar maan lungi case koi aur tank full kar bhi chuka hai baadi mein ke baad nitish ne bahut mehnat karte card ford ki phir usne us mein full tank petrol kiya toh vaah suchi sakta hai jaahir si baat hai ki jis din raste par har sikhna laga hoga toh main gaadi nikaal lunga agar vo aisa bhi sochta hai toh shayad ho gaadi wahi khadi reh jayegi kyonki aap raste mein nikloge nahi toh pata kaise chalega ki aapka kaun sa film laga hai kaun sa laal hai aur sabse basic chil gaadi DJ mein bhi chalti hai aur yah 1947 nahi 2018 hai yahan toh har 50 kilometre par ek petrol pump ke naste mein aane wali jitni bhi samasyaen hai uska samadhan bhi hoga duniya mein koi aisi samasya nahi hai jiska maksad yah hai is gaadi se mujhe duniya ghoomne naksha jisme tank mein petrol bharna bhi nahi hai aur maksad signal ka wait karna ki nahi

ज्यादा की कोई चिंता की विषय नहीं है इस उमर में अक्सर सबके साथ ही ऐसा होता है कैन डिसाइड नह

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  279
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!