सौर कुकर में समतल दर्पण का उपयोग क्यों नहीं किया जाता है?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय फ्रेंड गुड मॉर्निंग आपके द्वारा काफी बढ़िया क्वेश्चन किया गया है और मैं आपको बता दूं कि पहले ₹100 पर होता क्या है आपको यह समझने की जरूरत होती है उस समतल दर्पण क्या होती सौर कुकर वह चीज होती है कि जो सूर्य के प्रकाश को एक जॉब करके अपने अंदर जो प्रेशर होती है उसे क्रिएट करने के बाद सौर कुकर के अंदर खाना जल्दी पकता बातें समतल दर्पण के ऊपर समतल दर्पण बेसिकली वह होता है कि जिससे कोई भी लाइट पड़ने के बाद पूरी तरह रिफ्लेक्ट हो जाती है तो जब पूरी लाइट जब रेप लकी हो जाएगी तो ऐसी स्थिति में खाना जल्दी पकने में काफी ज्यादा समस्या होगी क्योंकि जब तक सूर्य के सूर्य का प्रकाश जब आप एक जॉब नहीं करेंगे एनर्जी अब कुकर के अंदर जब पहुंचा नहीं पाएंगे तब तक आपका खाना जल्दी पकड़ा नहीं तो अब इसके लिए बात आती है कि किस तरह के दर्पण का प्रयोग किया जाए तो इसमें होता है कि ज्यादातर इसमें संभव हो तो आप अवतल दर्पण का प्रयोग कीजिए क्योंकि अवतल दर्पण की सतह ही उस तरह की होती है जिसका मतलब ज्यादा एग्जॉशन पावर होती है और इसकी जो रिफ्लेक्शन होती है वह सीधा फोकस के ऊपर होती है जिसके कारण सौर कुकर इसे संचालन करने में काफी ज्यादा सुविधाएं होती है और एनर्जी को ज्यादा स्टोर कर पाती है जिसके कारण खाना जल्दी पक जाता है

hi friend good morning aapke dwara kaafi badhiya question kiya gaya hai aur main aapko bata doon ki pehle Rs par hota kya hai aapko yah samjhne ki zarurat hoti hai us samtal darpan kya hoti sour cooker vaah cheez hoti hai ki jo surya ke prakash ko ek job karke apne andar jo pressure hoti hai use create karne ke baad sour cooker ke andar khana jaldi pakata batein samtal darpan ke upar samtal darpan basically vaah hota hai ki jisse koi bhi light padane ke baad puri tarah reflect ho jaati hai toh jab puri light jab rape lucky ho jayegi toh aisi sthiti me khana jaldi pakne me kaafi zyada samasya hogi kyonki jab tak surya ke surya ka prakash jab aap ek job nahi karenge energy ab cooker ke andar jab pohcha nahi payenge tab tak aapka khana jaldi pakada nahi toh ab iske liye baat aati hai ki kis tarah ke darpan ka prayog kiya jaaye toh isme hota hai ki jyadatar isme sambhav ho toh aap avatal darpan ka prayog kijiye kyonki avatal darpan ki satah hi us tarah ki hoti hai jiska matlab zyada egjashan power hoti hai aur iski jo reflection hoti hai vaah seedha focus ke upar hoti hai jiske karan sour cooker ise sanchalan karne me kaafi zyada suvidhaen hoti hai aur energy ko zyada store kar pati hai jiske karan khana jaldi pak jata hai

हाय फ्रेंड गुड मॉर्निंग आपके द्वारा काफी बढ़िया क्वेश्चन किया गया है और मैं आपको बता दूं क

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  350
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!