पंचायत कलिंग युद्ध के पश्चात अशोक ने कौन सा धर्म अपना लिया?...


play
user

prabhat sinha

Assistant Professor, Dept Of History

5:07

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसको प्लस ने पंचायत कलिंग युद्ध के पश्चात अशोक ने कौन सा धर्म अपना लिया तो दोस्तों सम्राट अशोक में आप जानते हैं कि सम्राट अशोक भारत के महान शासक और भारत के नहीं बल्कि विश्व के महान शासकों में सम्राट अशोक की गिनती होती है और सम्राट अशोक ने कलिंग युद्ध के पश्चात बौद्ध धर्म को अपना लिया था शिलालेख 13वें में उन्होंने कलिंग का विवरण दिया है अशोक कहते हैं कि राज राज्याभिषेक के नए वर्ष में उस ने कलिंग पर आक्रमण किया और कलिंग युद्ध के भीषण नरसंहार से द्रवित होकर सम्राट अशोक ने युद्ध नीति का त्याग कर दिया उन्होंने भेरी गोस यानी युद्ध नीति के स्थान पर धर्म घोष प्राणी कल्याण की नीति को अपनाया और वही से एक नई भी नवीन युग का प्रारंभ होता है तो सम्राट अशोक ने कलिंग के पश्चात ए जिस धर्म को अपनाया वह बौद्ध धर्म मैं बहुत धर्म था और सम्राट अशोक ने अपने शिलालेखों राजस्थान लेखों में धर्म का प्रचार किया जिसका उद्देश्य अपनी प्रजा को सुख और शांति देना था उसके उपदेशों में दर्शन या अध्यात्म को कोई स्थान नहीं था वह अशोक का धम्म सदाचार उपकार दया आदि गुणों पर जोर देता है जिसका उद्देश्य लोगों के नैतिक स्तर को ऊंचा करना तो इसलिए अशोक का धम्म और अशोक का बोधक इसमें अक्सर कन्फ्यूजन होता ही है लेकिन अशोक में जो अशोक ने धर्म अपनाया था वह बौद्धिक इस बात को हमेशा ध्यान में रखना होगा कि अशोक ने बौद्ध धर्म को ही अपनाया था अशोक का व्यक्तिगत धर्म बौद्ध धर्म था और किस करो में इस तरह का इस तरह का विवाद है कि अशोक का धर्म क्या था और बौद्ध धर्म क्या था तो अशोक अशोक का धम्म सरल व्यावहारिक आचरण प्रधान था इसमें कर्मकांड रूढ़िवादिता दर्शन अध्यात्म के ज्ञान विचारों का समावेश नहीं किया गया था और इसका स्वरूप उपदेश आत्मक नहीं था बल्कि क्रियात्मक था जिसका पालन व्यक्ति के आचरण में किया जाना था और अशोक के धाम में में मानव जीवन की पवित्रता को जो व्यापक रूप दिया गया उसे उस धर्म का स्वरूप भी खो जाता है तो इसीलिए राधा कमल मुखर्जी लिखते हैं कि जिस धर्म को अशोक ने अपने अभिलेखों में प्रस्तुत किया वह बहुत दिया कोई विशिष्ट धर्म नहीं था वह वास्तव में नैतिकता के नियम थे जिनमें सभी धर्मों का सार संगीत है इस तरह से अशोक का धम्म सभी धर्मों का सार है मतलब सभी धर्मों का निचोड़ है वही अशोक ने अशोक का व्यक्तिगत धर्म बौद्ध धर्म था और अशोक ने बौद्ध धर्म का ही प्रचार प्रसार व केवल भारत में बल्कि दूसरे देशों में भी किया था तो दोस्तों अब आप समझ गए कि अशोक ने बौद्ध धर्म को अपनाया था और अशोक ने अपनी जनता के लिए धमका आविष्कार किया था और उनके नैतिक जीवन को सुधारने की बात उसमें कही गई थी धन्यवाद

usko plus ne panchayat kalinga yudh ke pashchat ashok ne kaun sa dharm apna liya toh doston samrat ashok me aap jante hain ki samrat ashok bharat ke mahaan shasak aur bharat ke nahi balki vishwa ke mahaan shaasakon me samrat ashok ki ginti hoti hai aur samrat ashok ne kalinga yudh ke pashchat Baudh dharm ko apna liya tha shilalekh ve me unhone kalinga ka vivran diya hai ashok kehte hain ki raj rajyabhishek ke naye varsh me us ne kalinga par aakraman kiya aur kalinga yudh ke bhishan narasanhar se dravit hokar samrat ashok ne yudh niti ka tyag kar diya unhone bheri gos yani yudh niti ke sthan par dharm ghosh prani kalyan ki niti ko apnaya aur wahi se ek nayi bhi naveen yug ka prarambh hota hai toh samrat ashok ne kalinga ke pashchat a jis dharm ko apnaya vaah Baudh dharm main bahut dharm tha aur samrat ashok ne apne shilalekho rajasthan lekho me dharm ka prachar kiya jiska uddeshya apni praja ko sukh aur shanti dena tha uske upadeshon me darshan ya adhyaatm ko koi sthan nahi tha vaah ashok ka dhamma sadachar upkar daya aadi gunon par jor deta hai jiska uddeshya logo ke naitik sthar ko uncha karna toh isliye ashok ka dhamma aur ashok ka bodhak isme aksar confusion hota hi hai lekin ashok me jo ashok ne dharm apnaya tha vaah baudhik is baat ko hamesha dhyan me rakhna hoga ki ashok ne Baudh dharm ko hi apnaya tha ashok ka vyaktigat dharm Baudh dharm tha aur kis karo me is tarah ka is tarah ka vivaad hai ki ashok ka dharm kya tha aur Baudh dharm kya tha toh ashok ashok ka dhamma saral vyavaharik aacharan pradhan tha isme karmakand rudhivadita darshan adhyaatm ke gyaan vicharon ka samavesh nahi kiya gaya tha aur iska swaroop updesh aatmkatha nahi tha balki kriyatmak tha jiska palan vyakti ke aacharan me kiya jana tha aur ashok ke dhaam me me manav jeevan ki pavitrata ko jo vyapak roop diya gaya use us dharm ka swaroop bhi kho jata hai toh isliye radha kamal mukherjee likhte hain ki jis dharm ko ashok ne apne abhilekho me prastut kiya vaah bahut diya koi vishisht dharm nahi tha vaah vaastav me naitikta ke niyam the jinmein sabhi dharmon ka saar sangeet hai is tarah se ashok ka dhamma sabhi dharmon ka saar hai matlab sabhi dharmon ka nichod hai wahi ashok ne ashok ka vyaktigat dharm Baudh dharm tha aur ashok ne Baudh dharm ka hi prachar prasaar va keval bharat me balki dusre deshon me bhi kiya tha toh doston ab aap samajh gaye ki ashok ne Baudh dharm ko apnaya tha aur ashok ne apni janta ke liye dhamka avishkar kiya tha aur unke naitik jeevan ko sudhaarne ki baat usme kahi gayi thi dhanyavad

उसको प्लस ने पंचायत कलिंग युद्ध के पश्चात अशोक ने कौन सा धर्म अपना लिया तो दोस्तों सम्राट

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  247
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!