भारतीय एयरलाइंस हमेशा नुकसान में क्यों होती हैं?...


play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

0:54

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केवल एयर इंडिया ही नहीं लगभग सारी बड़ी सरकारी कंपनियां यह सारी सरकारी कंपनियां घाटे में चलती हैं क्योंकि सरकारी नौकरी में दिक्कत यह है कि कोई किसी को ज्यादा काम करने के लिए प्रोत्साहित नहीं कर सकते हैं या नहीं की ना तो आप उसको एक्ट्रेस सैलरी दे सकते हैं और ना ही उसका टाइम से पहले प्रमोशन होता है जब उसका काम नहीं कर रहा होता है वह तो आप उसको डिमोट भी नहीं कर सकते नौकरी से निकाल भी नहीं सकते हैं इसलिए प्राइवेट कंपनी ज्यादा एफिशिएंट होती है अगर आप देखेंगे बैंकिंग इंडस्ट्री में ही ठीक से थोड़ा काम हो रहा था सरकारी में क्योंकि वहां पर कंपटीशन रहा है शुरूआत से ही अगर देखा जाए तो सरकार को बिजनेस करने की जरूरत नहीं है और एयरलाइंस ने सरकार को प्राइवेट को ही दे देना चाहिए क्योंकि प्राइवेट कंपनियां इंडिगो देखिए कितनी अच्छी चल रही है और सरकार को बिजनेस में घुसने की जरूरत नहीं है सरकार एक रेगुलेटर हे सरकार बिजनेस का इन्वायरमेंट खड़ा करें वह ज्यादा जरूरी है

keval air india hi nahi lagbhag saree badi sarkari companiya yah saree sarkari companiya ghate mein chalti hain kyonki sarkari naukri mein dikkat yah hai ki koi kisi ko zyada kaam karne ke liye protsahit nahi kar sakte hain ya nahi ki na toh aap usko actress salary de sakte hain aur na hi uska time se pehle promotion hota hai jab uska nahi kar raha hota hai vaah toh aap usko demote bhi nahi kar sakte naukri se nikaal bhi nahi sakte hain isliye private company zyada efficient hoti hai agar aap dekhenge banking industry mein hi theek se thoda kaam ho raha tha sarkari mein kyonki wahan par competition raha hai shuruat se hi agar dekha jaaye toh sarkar ko business karne ki zarurat nahi hai aur airlines ne sarkar ko private ko hi de dena chahiye kyonki private companiya indigo dekhiye kitni achi chal rahi hai aur sarkar ko business mein ghusne ki zarurat nahi hai sarkar ek regulator hai sarkar business ka environment khada kare vaah zyada zaroori hai

केवल एयर इंडिया ही नहीं लगभग सारी बड़ी सरकारी कंपनियां यह सारी सरकारी कंपनियां घाटे में चल

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Neha S

UPSC कोच

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गर्ल देखिए भारतीय लाइंस मैसेज भारतीय लेन कोई नहीं बोलूंगी कौन बनेगा ग्राम कांग्रेस की बात करें तो जितने भी बहुत ही बहुत सिंपल है सिंपल करता है आपका आप उसके बाद दूसरा ट्रैक्टर है कोई है कि नाचू डिजास्टर इन सब की वजह से भी जो अभी जो एलियंस का बिजनेस है वह करता है उसका ऑपरेशन और पैसेंजर्स की जो डिमांड है वह बढ़ जाती है

girl dekhiye bharatiya lines massage bharatiya len koi nahi bolungi kaun banega gram congress ki baat kare toh jitne bhi bahut hi bahut simple hai simple karta hai aapka aap uske baad doosra tractor hai koi hai ki nachu disaster in sab ki wajah se bhi jo abhi jo aliens ka business hai vaah karta hai uska operation aur passengers ki jo demand hai vaah badh jaati hai

गर्ल देखिए भारतीय लाइंस मैसेज भारतीय लेन कोई नहीं बोलूंगी कौन बनेगा ग्राम कांग्रेस की बात

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय लाइंस नुकसान में से होती है क्योंकि मैं जानती एयरलाइंस जॉब इंडिया में है वह लो कॉस्ट और बजट Airlines है और कंपटीशन काफी है आपस में Airlines में और कस्टमर जो है वह भी हमेशा जब भी टिकट बुक करते हैं प्राइस देखते ही करते हैं और कोई क्राइटेरिया नहीं होता तो इसके कारण हर एयरलाइंस अपनी प्लाई प्राइस सबसे कम करने की कोशिश करते हैं और आप लोग कॉस्ट एयरलाइन इंडस्ट्री में है तो आप का प्रॉफिट मार्जिन वैसे ही बहुत कम है आपको सिर्फ कस्टमर केयर नंबर बढ़ाना है तो अगर आपके पास फोन नंबर नहीं आ रहा तो आप का प्रॉफिट कम ही रहेगा हमेशा तो यह निवेदन है कि काफी एयरलाइन इंडिया में प्रॉफिट बना नहीं आती क्योंकि कंपटीशन ज्यादा है और वह मार्केट सेगमेंट उनका गलत है लोग ऑस्ट्रेलिया मार्केटिंग मिनट में है वह दूसरी बात है की कॉमेडी लाइंस की तरफ अगर आप दिखे तो एयर इंडिया और इंडियन Airlines के मर्जर के बाद आज का मन एनटीटी बनाई गई थी उसमें एंप्लॉई

bharatiya lines nuksan mein se hoti hai kyonki main jaanti airlines job india mein hai vaah lo cost aur budget Airlines hai aur competition kaafi hai aapas mein Airlines mein aur customer jo hai vaah bhi hamesha jab bhi ticket book karte hain price dekhte hi karte hain aur koi criteria nahi hota toh iske karan har airlines apni ply price sabse kam karne ki koshish karte hain aur aap log cost airline industry mein hai toh aap ka profit margin waise hi bahut kam hai aapko sirf customer care number badhana hai toh agar aapke paas phone number nahi aa raha toh aap ka profit kam hi rahega hamesha toh yah nivedan hai ki kaafi airline india mein profit bana nahi aati kyonki competition zyada hai aur vaah market Segment unka galat hai log austrailia marketing minute mein hai vaah dusri baat hai ki comedy lines ki taraf agar aap dikhe toh air india aur indian Airlines ke merger ke baad aaj ka man ntt banai gayi thi usme emplai

भारतीय लाइंस नुकसान में से होती है क्योंकि मैं जानती एयरलाइंस जॉब इंडिया में है वह लो कॉस्

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरकारी संगठनों में कभी कबार मुनाफा होता है और Airlines में सबसे कम क्योंकि इन्हें प्रतिष्ठित माना जाता है सबसे पहले Airlines आमतौर पर दुनिया भर में घाटे में चल रही है बड़ी बड़ी रेल लाइन पर काफी आसानी से बंद हो चुकी है अतीत में लाभ बनाने वाली एयरलाइंस जैसे साउथवेस्ट है Indigo बहुत ही कम होती हैं दूसरा दुनिया भर में सरकारी सब्सिडी डोर बेल आउट पर निर्भर हैं तीसरा भारत के Airlines में अधिक गंभीर समस्याएं हैं वायु इंधन महंगा है बड़े हवाई अड्डे ओवरलोडेड है और ट्रेन है किंतु के कीमतों को नीचे द खेलने के लिए एक सस्ता और सुविधाजनक विकल्प प्रदान करती हैं भारत में केवल दो बड़े एयरलाइंस ने पिछले साल लाभ कमाया एयर इंडिया के संबंध में कुछ विशेष मुद्दे हैं दुनियाभर में जवाहर विमान के लिए लगभग 120 कर्मचारी होते हैं एयर इंडिया के पास 256 हैं जेट एयरवेज वेतन लाभ पर केवल 10% राजस्व खर्च करता है जबकि एयर इंडिया 20% खर्च करता है किसी भी सरकारी संगठन की तरह यह पेशेवर प्रबंधन नहीं है यह सिविल सेवको द्वारा चलाया जाता है जो अनावश्यक व्यवसाय का अनुभव और उद्योग ज्ञान वाले कर्मचारी भी हो सकते हैं सरकार के साथ बाकी सब की तरह लाइन पर घोटाला ग्रस्त है बहुत से राजनेता और सरकारी कर्मचारियों को एयर इंडिया द्वारा वित्त पोषित मुक्त या सस्ते हवाई टिकट जो पर जाते हैं एयर इंडिया बहुत लाभ इन मानगो मार्ग पर चलता है और आर्थिक रूप से अधिक राजनीतिक कारणों से रखा जाता है

sarkari sangathano mein kabhi kabar munafa hota hai aur Airlines mein sabse kam kyonki inhen pratishthit mana jata hai sabse pehle Airlines aamtaur par duniya bhar mein ghate mein chal rahi hai badi badi rail line par kaafi aasani se band ho chuki hai ateet mein labh banane wali airlines jaise southwest hai Indigo bahut hi kam hoti hain doosra duniya bhar mein sarkari subsidy door bell out par nirbhar hain teesra bharat ke Airlines mein adhik gambhir samasyaen hain vayu indhan mehnga hai bade hawai adde overloaded hai aur train hai kintu ke kimton ko niche the khelne ke liye ek sasta aur suvidhajanak vikalp pradan karti hain bharat mein keval do bade airlines ne pichle saal labh kamaya air india ke sambandh mein kuch vishesh mudde hain duniyabhar mein jawahar Vimaan ke liye lagbhag 120 karmchari hote hain air india ke paas 256 hain Jet airways vetan labh par keval 10 rajaswa kharch karta hai jabki air india 20 kharch karta hai kisi bhi sarkari sangathan ki tarah yah peshevar prabandhan nahi hai yah civil sevako dwara chalaya jata hai jo anavashyak vyavasaya ka anubhav aur udyog gyaan waale karmchari bhi ho sakte hain sarkar ke saath baki sab ki tarah line par ghotala grast hai bahut se raajneta aur sarkari karmachariyon ko air india dwara vitt poshit mukt ya saste hawai ticket jo par jaate hain air india bahut labh in mango marg par chalta hai aur aarthik roop se adhik raajnitik karanon se rakha jata hai

सरकारी संगठनों में कभी कबार मुनाफा होता है और Airlines में सबसे कम क्योंकि इन्हें प्रतिष्ठ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!